जानिए ‘नर कंकालों’ वाली रूपकुंड झील’ का रहस्य

भारत बहुत सारी रहस्मयी घटनाओं के लिए जाना जाता है. इन्हीं में से एक है यहां की अनोखी झील, जो कि कंकालों से भरी हुई है. यह झील हिमालय की चोटियों में स्थित है, जिसे रूपकुंड झील के नाम से जाना जाता है. इसे खास तौर पर यहां मौजूद कंकालों की वजह से पहचान मिली है. भारत की सबसे ऊंची झीलों में सुमार रूपकुंड झील समुद्र से 5000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है.

इस झील के आस- पास कई कंकाल बिखरे नजर आते हैं इसलिए इसे कंकालों वाली झील भी कहते हैं. क्या है इस झील का राज और कैसे ऐसी स्थिति निर्मित हुई. कंकालों से घिरी इस झील के बारे में आइए जानते हैं.

क्या है इसके पीछे का राज
इस झील के बारे में कई कहानियां बताई जाती हैं, इसी में से एक कहानी है वहां के राजा की. कहा जाता है कि राजा ने एक बार झील के पास बने नंदा देवी मंदिर जाकर दर्शन करने का सोचा. नंदा देवी को पहाड़ों की देवी माना जाता है, जब राजा पहाड़ चढ़ने निकले तो उनके साथ उनके यहां काम करने वाले लोग भी साथ जाने लगे. ऐसा माना जाता है पूरे रास्ते उन्होंने खुब हुड़दंग मचाया जिससे नंदा देवी नाराज हो गईं और उन्होंने उन सब पर क्रोध में बिजली गिरा दी जिससे सभी की मौत हो गई.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में बिगड़ा मौसम का मिजाज, अगले तीन दिन तक बारिश-बर्फबारी के आसार

वहीं कुछ लोग बताते हैं कि यह हड्डियां महामारी की चपेट में आए लोगों की है, जो महामारी की वजह से मारे गए थे और कुछ लोगों का यह भी कहना है कि यह हड्डियां सेना के जवानों की हैं, जिनकी मृत्यु बर्फ के तूफान में फसने से हुई थी.

यह भी पढ़ें -  राशिफल 02-12-2021: आज इस राशि को होगा अपेक्षा से अधिक लाभ

पहली बार इन कंकालों के बारे में 1942 में पता चला था कहा जाता है एक ब्रिटिश फॉरेस्ट गार्ड ने इसके बारे में सबको बताया था. लोगों को लगा कि यह कंकाल जापान के सैनिकों का हो सकता है. ऐसा माना गया कि जो सैनिक दूसरे विश्व युद्ध के दौरान वहां से गुजर रहे थे वह बर्फ की चपेट में फस कर वहीं मर गए होंगे.

कब आए होंगे यह लोग?
कई सालों से वैज्ञानिक इन कंकालों पर रिसर्च कर रहें हैं, रिसर्च से यह पता चलता है कि यह सभी कंकाल एक देश के नहीं हैं. यह भारत और उसके आस- पास के देशों के हैं. कुछ कंकाल को ग्रीस और साउथ ईस्ट का बताया गया है.

यह भी पढ़ें -  बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने फिर साधा अपनी सरकार पर निशाना, 'कब तक सब्र करे देश का नौजवान'

यह सारे कंकाल वहां एक समय पर नहीं आए हैं ऐसा बताया जाता है कि भारत और उसके पास के इलाकों के कंकाल 7वीं से 10वीं शताब्दी में वहां आए थे, ग्रीस और अन्य इलाकों के कंकाल 17वीं से 20वीं शताब्दी में वहां आए थे. अभी तक यह बात साफ नहीं हो पाई है की इन लोगों की मौत कैसे हुई, लेकिन रिसर्च में यह बात साफ हो गई है कि यह किसी महामारी से नहीं मरे. सिर्फ लोगों द्वारा इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि इनकी मृत्यु बर्फ में दबने की वजह से हो सकती है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,157FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

पन्तनगर: सीएम धामी ने किया राकेट इंडिया प्रा.लि. के विस्तार परियोजना का शुभारम्भ

0
पन्तनगर| गुरूवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने रॉकेट इण्डिया प्रा.लि. की नवीनतम विस्तार परियोजना का शुभांरभ किया. उन्होने कहा कि कम्पनी के विस्तार...

देहरादून: सीएम धामी ने किया परेड ग्राउण्ड का निरीक्षण, पीएम मोदी के कार्यक्रम की...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरूवार सायं को भी परेड ग्राउण्ड का स्थलीय निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया. मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को...

रूद्रपुर: सीएम धामी ने किया राष्ट्रीय सरल मेले का शुभारम्भ,

0
गुरूवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने रूद्रपुर गांधी मैदान में राष्ट्रीय सरस मेला-2021 का शुभारम्भ किया. मेले में आये हुए 147 स्वयं सहायता...

Corona In Uttarakhand: बीते 24 घंटे में मिले 17 नए संक्रमित, एक भी मरीज...

0
उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 17 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है. नौ मरीजों को ठीक होने के बाद...

अधीर रंजन चौधरी का सवाल- क्या 4 प्रतिशत पोपुलर वोट के साथ पीएम मोदी...

0
तृणमूल कांग्रेस के यूपीए को लेकर बयान के बाद कांग्रेस और टीएमसी के बीच तकरार बढ़ने लगा है. कांग्रेस के नेताओं ने टीएमसी सुप्रीमो...

चक्रवाती तूफान जवाद के चलते रेलवे ने रद्द की 95 ट्रेनें-दखे लिस्ट

0
भुवनेश्वर| ईस्ट कोस्ट रेलवे ने ओडिशा तट पर चक्रवाती तूफान जवाद की आशंका के मद्देनजर 3 दिनों के लिए 95 ट्रेनों का...

आंवले के ये औषधीय गुण जानकर दंग रह जाएंगे आप

0
आंवला एक बहुत ही साधारण फल है, जो बाजारों में आसानी से मिल जाता है. पुराने समय से ही आंवले का कई तरह से...

नहीं रहे हिट वेब सीरीज ‘मिर्जापुर’ के ‘ललित’ उर्फ ब्रह्मा मिश्रा

0
मुंबई| अमेजन प्राइम वीडियो की हिट वेब सीरीज 'मिर्जापुर' में ललित का किरदार निभाने वाले एक्टर ब्रह्म मिश्रा नहीं रहे. बॉलीवुड अभिनेता दिव्येंदु ने...

प्रशांत किशोर का राहुल गांधी पर कटाक्ष, कहा- कांग्रेस का नेतृत्व किसी व्यक्ति का...

0
राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस का नेतृत्व किसी व्यक्ति का दैवीय अधिकार नहीं...

उत्तराखंड में कोरोना ने बढ़ाई टेंशन: 13,000 पुलिसकर्मियों के हुए टेस्ट, 50 पुलिसकर्मी संक्रमित

0
उत्तराखंड राज्य में कोरोना टेंशन बढ़ा रहा है. अब तक 13000 पुलिसकर्मियों के एंटीजन टेस्ट के बाद 50 पुलिसकर्मी संक्रमित पाए गए हैं. डीजीपी...