साहित्य जगत में शोक की लहर, मशहूर लेखिका मन्नू भंडारी का निधन

हिंदी साहित्य की प्रसिद्ध लेखिका मन्नू भंडारी का निधन हो गया. वह 90 वर्ष की थीं. ‘महाभोज’ और ‘आपका बंटी’ जैसी कालजयी रचनाओं की लेखिका मन्नु भंडारी ने सोमवार की सुबह अंतिम सांस ली.

मन्नु भंडारी के निधन से साहित्य जगत में शोक की लहर व्याप्त है. तमाम साहित्यकारों, पत्रकारों, फिल्मी दुनिया और राजनीति से जुड़े लोगों ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है. सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि देने वाले लोगों का तांता लग गया है.

मन्नु भंडारी के पिता सुख सम्पतराय भी जाने माने लेखक थे. वर्तमान में वह गुडगांव में अपनी बेटी रचना यादव के पास रहती थीं. बताया जा रहा है कि वह लंबे समय से बीमार चल रही थीं. रचना यादव प्रसिद्ध डांसर हैं. पिता राजेंद्र यादव की मृत्यु के बाद हंस पत्रिका का संचालन और प्रबंधन रचना यादव ही कर रही हैं.

यह भी पढ़ें -  कैबिनेट की बैठक में देवस्थानम बोर्ड को भंग करने पर लगी मुहर, कई अन्य फैसले भी किए पारित

मन्नू भंडारी ने हिंदी साहित्य जगत को एक से बढ़कर एक रचनाएं दीं. प्रसिद्ध निर्देशक बासु चटर्जी ने उनकी कहानी ‘यही सच है’ पर 1974 में ‘रजनीगंधा’ फिल्म बनाई गई.

वरिष्ठ पत्रकार और साहित्यकार क्षमा शर्मा ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा कि मन्नु जी अपने समय की सुपर स्टार थीं. अपने समकालीन रचनाकारों में वह एक आदर्श लेखिका थीं.

यह भी पढ़ें -  गांधी का भारत गोडसे का भारत बन रहा है: महबूबा मुफ्ती

क्षमा शर्मा उन्हें याद करती हुई बताती हैं कि मन्नु जी समय से आगे सोचती और लिखती थीं. आज से करीब 50 वर्ष पहले उनका उपन्यास ‘आपका बंटी’ बहुत ही चर्चित हुआ. यह उपन्यास टूटते परिवारों के बीच बच्चों को किस मानसिक यातना से गुजरने की पीड़ा को बहुत ही मार्मिक ढंग से प्रस्तुत करता है.

‘आपका बंटी’ को लेकर 1986 में ‘समय की धारा’ नाम से फिल्म बनी थी. हालांकि इस फिल्म के अंत को लेकर मन्नूजी ने अदालत में मामला भी दर्ज कराया था. मुकदमे का फैसला मन्नूजी के पक्ष में आया था. इस फिल्म के अंत में बंटी की मृत्यु दिखाई गई थी, जोकि उनके उपन्यास से अलग थी.

यह भी पढ़ें -  दिग्विजय सिंह के 'गद्दार' वाले बयान पर सिंधिया का पलटवार, कहा-मैं इस हद तक नहीं गिर सकता

राजनीति पृष्ठभूमि पर लिखा गया उपन्यास ‘महाभोज’ भी काफी चर्चित रहा है. राजकमल प्रकाशन समूह के राधाकृष्ण प्रकाशन से प्रकाशित महाभोज के अबतक बत्तीस संस्करण आ चुके हैं. इसका पहला संस्करण 1979 में प्रकाशित हुआ था.

‘महाभोज’ विद्रोह का राजनीतिक उपन्यास है. यह उपन्यास भ्रष्ट भारतीय राजनीति के नग्न यथार्थ को प्रस्तुत करता है. देश-विदेश की कई भाषाओं में ‘महाभोज’ का अनुवाद हुआ है. ‘महाभोज’ नाटक तो दर्जनों भाषाओं में सैकड़ों बार मंचित हो चुका है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,157FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

अनुपस्थित रहने वाले बीजेपी सांसदों को लेकर नाराज दिखे पीएम मोदी, कहा-खुद में बदलाव...

0
पीएम मोदी संसद में अक्सर अनुपस्थित रहने वाले बीजेपी सांसदों को लेकर नाराज दिखे, उन्होंने आज संसद से गायब रहने वाले सांसदों को फटकार...

नगाालैंड हिंसा: पैतृक गांव पहुंचा शहीद गौतम लाल का पार्थिव शरीर, अंतिम विदाई में...

0
पिछले दिनों नगाालैंड में हुई हिंसा में शहीद हुए उत्तराखंड के गौतम लाल का पार्थिव शरीर आज मंगलवार को उनके पैतृक गांव नौली पहुंच...

गांधी का भारत गोडसे का भारत बन रहा है: महबूबा मुफ्ती

0
मंगलवार को जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP) की नेता महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि गांधी का भारत गोडसे का...

फटाफट समाचार (07-12-2021) सुनिए अब तक की ख़ास खबरें

0
संसद शीतकालीन सत्र के दौरान लोकसभा में राहुल गाँधी ने उठाया किसानों का मुद्दा, कहा "किसानों को मुआवजा के साथ-साथ नौकरी भी दी जाए...

देहरादून: सीएम धामी ने किया बहुद्देशीय खेल सभागार में राष्ट्रीय रैंकिंग टेबल टेनिस प्रतियोगिता...

0
मंगलवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने परेड ग्राउंड, देहरादून स्थित बहुद्देशीय खेल सभागार में राष्ट्रीय रैंकिंग टेबल टेनिस प्रतियोगिता का शुभारम्भ किया. यह...

उत्तराखंड: चमोली में मुख्यमंत्री धामी ने किया शरदोत्सव मेले का शुभारंभ

0
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आज चमोली जिले में हिमवंत कवि चंद्र कुंवर बर्त्वाल खादी ग्रामोद्योग एवं पर्यटन शरदोत्सव मेले का शुभारंभ...

मोदी कैबिनेट ने जारी की पीएम किसान सम्मान निधि योजना की 10वीं किस्त, आप...

0
नई दिल्ली| पीएम किसान सम्मान निधि योजना के लाभार्थियों के लिए बड़ी खुशखबरी है. 10वीं किस्त पाने के लिए सरकार ने योजना के...

भाजपा पर बरसे: ढाई साल बाद अखिलेश-जयंत आए एक मंच पर, गठबंधन कर निकले...

0
पश्चिम उत्तर प्रदेश की जाटलैंड बेल्ट में एक बार फिर से करीब ढाई साल बाद समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने संयुक्त रूप...

यूपी: अखिलेश यादव और जयंत चौधरी ने एक ही मंच पर भाजपा के खिलाफ...

0
समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और रालोद प्रमुख जयंत चौधरी ने एक ही मंच पर भाजपा के खिलाफ जमकर हुंकार भरी. अखिलेश यादव ने...

पीएम मोदी का अखिलेश यादव पर निशाना, बोले- “लाल टोपी वाले यूपी के लिए...

0
पीएम ने कुछ देर पहले ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर को कई योजनाओं के सौगात दिए हैं. वहीं विधानसभा चुनाव के...