रेजांग ला लड़ाई के 59 साल : जानें रेजांग लॉ की शौर्य गाथा

साल 1962 के भारत-चीन युद्द में मिली हार, हर भारतीय को कचोटती है. लेकिन उसी युद्दध में रेजांग ला की लड़ाई में भारत के 120 जवानों ने वीरता की ऐसी मिसाल पेश की थी, जिसे सुनकर हर भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है.

18 नवंबर 1962 को कुमाऊं रेजिमेंट की चार्ली कंपनी ने, उस दिन न केवल 1300 चीनी सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया था. बल्कि चीनी सैनिकों के रेजांग ला पर कब्जा करने के मंसूबे पर पानी फेर दिया. 18 हजार फुट की ऊंचाई पर लड़ी गई लड़ाई का कुलदीप यादव द्वारा लिखी गई किताब Battle of Rezang La में सजीव वर्णन मिलता है.

वीर भारतीय सैनिकों को समर्पित है नया स्मारक
आज ही के दिन रेजांग ला की लड़ाई के 59 साल पूरे हो रहे हैं. उन वीर बहादुर सैनिकों के सम्मान में आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रेजांग ला में नए सिरे से बने युद्ध स्मारक का उद्घाटन किया. स्मारक उन वीर 110 भारतीय सैनिकों को समर्पित है, जिन्होंने रेजांग ला की लड़ाई में देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति दी थी.

यह भी पढ़ें -  तो क्या नॉर्वे को पछाड़ देगा उत्तराखंड, देहरादून से टिहरी के बीच दुनिया की सबसे लंबी हाईवे टनल प्रस्तावित

लड़ाई से पहले क्या हुआ था
किताब के अनुसार कुमाऊं रेजिमेंट की 13 कुमाऊं बटालियन की चार्ली कंपनी को 30 अक्टूबर 1962 को संदेश मिला कि चुशुल एयरफील्ड पर 47 नए जवानों को भेजा गया है. और उन जवानों को लेफ्टिनेंट कर्नल एच.एस.ढींगरा के नेतृत्व में रेजांग ला भेजा जा रहा है. यह इस बात का संकेत था कि स्थिति गंभीर हो रही है. रेजांग ला में मेजर शैतान सिंह पहले से तैनात थे.

जवानों के रेजांग ला पहुंचने के बाद मोर्टार बिछाने का काम भी तुरंत शुरू कर दिया गया था. इस बीच भारतीय सैनिकों ने इस बात का अंदाजा लगाना शुरू कर दिया था कि चीनी किस समय आक्रमण करेंगे. भारतीय सैनिकों ने दो बातों का अनुमान लगाया. उनका कहना था कि नेफा और श्रीजप में जिस तरह चीनियों ने हमला किया था, उसे देखते हुए वह रात में 3-4 बजे के आस-पास हमला करेंगे और भारी संख्या में आएंगे.

यह भी पढ़ें -  देहरादून: सीएम धामी ने किया परेड ग्राउण्ड का निरीक्षण, पीएम मोदी के कार्यक्रम की आयोजन व्यवस्थाओं का लिया जायजा

18 नवंबर को क्या हुआ
रिपोर्ट्स के अनुसार भारतीय सैनिकों का अंदाजा सही निकला. करीब 5000-6000 चीनी सैनिकों ने 3:30 सुबह रेजांग ला पर हमला कर दिया. उस वक्त वहां पर मेजर शैतान सिंह के नेतृत्व में 120 जवानों की चार्ली कंपनी मौजूद थी. आंकड़ों के हिसाब से देखे तो भारतीय सैनिक चीनी सैनिकों के मुकाबले कुछ भी नहीं थे. लेकिन 120 जवानों के साहस के आगे हजारों चीनी सैनिकों के हौसले पस्त हो गए. 18000 फुट की ऊंचाई पर लड़ी गई यह लड़ाई इतनी भयावह थी, चीनी सैनिकों की हिम्मत जवाब दे गई और केवल 120 जवानों ने 1300 चीनियों को मौते के घाट उतार दिया.

चार्ली कंपनी ने बचाया लद्दाख
Battle of Rezang La में कुलदीप यादव लिखते हैं कि चार्ली कंपनी के जवानों की वीरता से न केवल चुशुल एयरपोर्ट को बचाया गया बल्कि चीन के लद्दाख क्षेत्र में आगे बढ़ने के मंसूबों पर भी पानी फिर गया. अगर उस दिन रेजांग ला को भारतीय सैनिकों ने नहीं बचाया होता तो शायद पूरा लद्दाख भारत के हाथ से निकल जाता.

यह भी पढ़ें -  आंवले के ये औषधीय गुण जानकर दंग रह जाएंगे आप

110 जवान हुए शहीद, परमवीर चक्र से लेकर मिले ये मेडल
इस बेमेल लड़ाई में 110 भारतीय जवान शहीद हो गए. उनकी बहादुरी का आलम ये था कि मेजर शैतान सिंह को मरणोपरांत परमवीर चक्र से नवाजा गया. इसके अलावा 8 को वीर चक्र, 4 को सेना मेडल एक जवान को Metioned in Dispatches से नवाजा गया. भारतीय सेना के 5 जवान घायल स्थिति में चीनी सेना द्वारा पकड़े गए. लेकिन बाद में वह भी भागने में सफल रहे. गया. हालांकि दुनिया को इन जवानों की वीरता की सूचना मिलने में 4 महीने लग गए.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,159FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

पीएम मोदी की रैली दून परेड ग्राउंड से आधा किलोमीटर के क्षेत्र में स्कूल-कॉलेज...

0
4 दिसंबर शनिवार को देहरादून के परेड ग्राउंड पर प्रस्तावित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनसभा को देखते हुए शासन ने आधा किलोमीटर की परिधि...

पंजाब: कीरतपुर में पूरी फंसी कंगना, किसानों ने काफिला रोका-की ये मांग

0
चंडीगढ़| हाल ही में कंगना रनौत का कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों को खालिस्तानी बताने वाला ट्वीट एक्ट्रेस को उस समय...

IND vs NZ 2nd Test: मयंक का शतक, पहले दिन का स्कोर 221/4

0
न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन का खेल ख़त्म होने तक टीम इंडिया ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी करते चार विकेट पर...

विधानसभा चुनाव: पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला ने थामा कांग्रेस का दामन, मानसा से कांग्रेस...

0
पंजाब के मशहूर गायक सिद्धू मूसेवाला ने आज कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ली. जानकारी मुताबिक सिद्धू मूसेवाला पंजाब की मनसा विधानसभा सीट से चुनाव...

तो क्या नॉर्वे को पछाड़ देगा उत्तराखंड, देहरादून से टिहरी के बीच दुनिया...

0
देहरादून|... एशिया के सबसे बड़े बांधों में से एक टिहरी बांध के बाद अब टिहरी ज़िला एक और रिकॉर्ड बनाने जा रहा है. ये...

उत्तराखंड: जनसभा को संबोधित करने 16 दिसंबर को दून आयेंगे राहुल गांधी

0
आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियों ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं. कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के जवाब में कांग्रेस...

नेवी चीफ आर हरि कुमार ने कहा- चीन की तरफ से मिलने वाली चुनौतियों...

0
मानव रहित प्रणालियों के रोडमैप पर नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार हमारे पास स्वदेशी मानव रहित हवाई, पानी के भीतर और स्वायत्त प्रणालियों...

पीएम मोदी की रैली को सफल बनाने के लिए भाजपा नेताओं ने झोंकी पूरी...

0
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देहरादून में चार दिसंबर को होने वाली रैली को भव्य बनाने के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी है....

मायावती ने भाजपा, सपा, कांग्रेस पर साधा निशाना, चुनावी वादों को लेकर कही ये...

0
बहुजन समाज पार्टी (बसपा) मुखिया मायावती 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर काफी सक्रिय हैं. इसीलिए वह ट्वीटर के माध्यम से समय-समय...

देहरादून: सीएम धामी ने किया डांडी कांठी क्लब की स्मारिका 2021 ‘दृढ़ संकल्प’ का...

0
शुक्रवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री आवास में डांडी कांठी क्लब की स्मारिका 2021 ‘दृढ़ संकल्प’ का विमोचन किया. मुख्यमंत्री ने कहा...