उत्तराँचल टुडे विशेष: जानें क्‍या होती है कानूनों को वापस लेने की प्रक्रिया

केंद्र सरकार की ओर से लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के करीब एक साल से चल रहे आंदोलन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को इन कानूनों को वापस लेने की घोषणा की. उनके इस फैसले का किसानों के साथ-साथ राजनीतिक गलियारों में भी स्‍वागत किया गया तो इसे किसान आंदोलन के दबाव का नतीजा भी बताया जा रहा है. इन सबसे परे क्‍या आप जानते हैं कि क‍िसी भी कानून को वापस लेने की प्रक्रिया क्‍या होती है?

कृषि कानूनों के संदर्भ में ही देखें तो प्रधानमंत्री ने इसी महीने के आखिर में होने वाले संसद के शीत सत्र में इन्‍हें वापस लेने की संवैधानिक प्रक्रिया पूरी करने की बात कही है. संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरू होने जा रहा है, जो 23 दिसंबर तक चलेगा. ऐसे में सवाल है कि वे संवैधानिक प्रक्रियाएं क्‍या होंगी, जिसका जिक्र पीएम मोदी ने अपने संबोधन में किया है और जिसके तहत संसद से पारित इन तीनों कृषि कानूनों को वापस लिया जाएगा.

यह भी पढ़ें -  विशेष: हीमैन धर्मेंद्र के जीवन के कुछ खास पल- वर्ष 1960 में फिल्म ‘दिल भी तेरा हम भी तेरे’ में किया था डेब्यू

विशेषज्ञों के मुताबिक, कानूनों को वापस लेने की प्रक्रिया वही होती है, जो संसद में विधेयक लाने और फिर इसे पारित कराए जाने की होती है. कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए उसी तरह संसद में संशोधन विधेयक लाना होगा, जैसा कि इस संबंध में विधेयक पूर्व में लाया गया था और इन्‍हें संसद से पारित कर कानून की शक्‍ल दी गई थी. जैसा कि प्रधामनंत्री ने भी कहा, तीनों कानूनों को वापस लेने के लिए विधेयक संसद के आगामी शीत सत्र में लाया जा सकता है.

संसद में विधेयक पेश होते ही संवैधानिक प्रावधानों के तहत इस पर चर्चा कराई जाएगी और फिर इसे वापस लेने के लिए पारित किया जाएगा. हालांकि संसद में यह सबकुछ किस तरह से होगा, यह काफी कुछ सत्‍ता पक्ष व विपक्ष के रवैये पर भी निर्भर करता है. जिस तरह से विपक्ष इन कानूनों को लेकर सरकार के खिलाफ हमलावर रहा है, उसे देखते हुए इसकी उम्‍मीद कम ही की जा रही है कि इन्हें वापस लेने से संबंधित विधेयकों पर संसद में हंगामा नहीं होगा.

यह भी पढ़ें -  हरभजन सिंह अब एक नई पारी खेलने की तैयारी में, आईपीएल के अगले सत्र में संभाल सकते हैं ये बड़ी जिम्मेदारी

संसद में लाने से पहले इन कानूनों में संशोधन से संबंधित एक प्रस्‍ताव विधि मंत्रालय को भेजा जाता है, जहां इससे संबंधित कानूनी पहलुओं का विश्‍लेषण किया जाता है. इसके बाद इसे संसद के पटल पर रखा जाता है. संबंधित मंत्रालय के मंत्री द्वारा इसे संसद में पेश किया जाता है. कानूनों को वापस लेने के संबंध में संसद को अधिकार संविधान के अनुच्‍छेद 245 के तहत दिए गए हैं. इसमें संसद को कानून लाने के साथ-साथ उसे वापस लेने के भी अधिकार दिए गए हैं.

यह भी पढ़ें -  तमिलनाडु: हेलीकॉप्टर हादसे में 14 में से 13 की मौत की पुष्टि, शवों का होगा डीएनए टेस्ट

यहां उल्‍लेखनीय है कि तीनों कृषि कानूनों को अभी लागू नहीं किया गया है. हालांकि संसद से पारित होने और राष्‍ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद ये कानून बन चुके हैं. ऐसे में इसे संसद के माध्‍यम से ही वापस लिया जा सकता है. कानूनों को वापस लेने के संबंध में लाया गया विधेयक भी पारित होने के बाद एक कानून होगा. जानकारों के मुताबिक, सरकार तीनों कानूनों को एक ही विधेयक के जरिये वापस ले सकती है और इसे वापस लेने के कारणों का उल्‍लेख कर सकती है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,157FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

CDS बिपिन रावत: जिनके नाम से कांपते थे दुश्मन, सर्जिकल स्ट्राइक से लेकर इन...

0
नई दिल्ली: तमिलनाडु के ऊटी के पास कुन्नूर में बुधवार को हुए एक हेलीकॉप्टर हादसे में CDS जनरल बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) बुरी...

ब्रेकिंग- नहीं रहे CDS बिपिन रावत, पत्नी का भी निधन, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह...

0
हेलिकॉप्टर क्रैश में CDS बिपिन रावत (Bipin rawat) का निधन हो गया है. जो हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ है, उसमें 14 लोग सवार थे. सीडीएस...

तमिलनाडु: हेलीकॉप्टर हादसे में 14 में से 13 की मौत की पुष्टि, शवों का...

0
तमिलनाडु के नीलगिरी जिले के कुन्नूर की पाहाड़ियों में भारतीय वायु सेना का Mi-17V5 हेलीकॉप्टर बुधवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गया. सूत्रों से...

हेलीकॉप्टर क्रैश केस: सीडीएस बिपिन रावत को लेकर बेचैन है देश की जनता, वहीं...

0
हेलीकॉप्टर क्रैश के बाद देश के पहले सीडीएस बिपिन रावत का हाल जानने के लिए पूरा देश बेचैन है. जनता जानना चाह रही है...

देहरादून: सीएम धामी ने किया राज्य स्तरीय खेल महाकुंभ 2021 का शुभारम्भ

0
बुधवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने महाराणा प्रताप स्पोर्टस कॉलेज, रायपुर, देहरादून में राज्य स्तरीय खेल महाकुंभ 2021 का शुभारंभ किया. इस अवसर पर...

बड़ी खबर: यूजीसी ने पीएचडी दाखिले के लिए बदला नियम, अब पास करनी होगी...

0
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग( यूजीसी) ने पीएचडी दाखिले के लिए नए मानदंड तय किए हैं। यूजीसी के नए नियमों के मुताबिक पीएचडी में दाखिले के...

तमिलनाडु हेलीकॉप्टर क्रैश लाइव अपडेट: जनरल बिपिन रावत अस्पताल में भर्ती, रक्षा मंत्री राजनाथ...

0
तमिलनाडु के कुन्नूर में कोयंबटूर और सुलूर के बीच भारतीय वायु सेना के MI-सीरीज का हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त के बाद केंद्रीय कैबिनेट ने आपातकालीन बैठक बुलाई...

यूपी: कांग्रेस महासचिव प्रियंका ने महिलाओं के लिए किया पार्टी का घोषणा पत्र जारी,...

0
उत्तर प्रदेश विधानसभाना चुनाव कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी एक के बाद एक घोषनाए कर रही है. अब उन्होंने महिलाओं के लिए पार्टी...

भारत में अमीर-गरीब के बीच बढती खाई, अंग्रेजों के राज से भी ज्यादा असमानता...

0
दुनिया की 6 वीं अर्थव्यवस्था होने के बावजूद भारत दुनिया के उन देशों में शामिल हैं, जहां गंभीर असमानता है. विश्व असमानता रिपोर्ट 2022...

CDS Bipin Rawat Helicopter Crash: उत्तराखंड में भी मचा हड़कंप, लोग देवभूमि के बेटे...

0
बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर में सेना का हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया. बताया जा रहा है कि सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी समेत 14...