World television day: मनोरंजन और सूचना के साथ पूरे घर को भी जोड़े रखने में टीवी ने निभाई महत्वपूर्ण भूमिका

आज भले ही मनोरंजन और टेक्नोलॉजी के कितने भी साधन क्यों न उपलब्ध हो लेकिन जो बात टेलीविजन ने शुरू की थी वह आज भी कम नहीं हुई है. 80 के दशक में टेलीविजन हमारे जिंदगी से जुड़ गया था. यही कारण था उस दौर में टीवी तेजी के साथ लोकप्रिय हो गया.

‌पूरे घर के लोग एक साथ बैठकर टीवी पर फिल्में, गाने, सीरियल (धारावाहिक) आदि देखा करते थे. इस टेक्नोलॉजी के युग में टीवी ने भी अपने आप को हाईटेक किया है. ब्लैक एंड व्हाइट से शुरू हुआ ये सफर स्मार्ट टीवी तक पहुंच गया. रविवार के मौके पर चर्चा करेंगे टीवी की.‌

हर साल 21 नवंबर को ‘वर्ल्ड टेलीविजन दिवस’ मनाया जाता है. अब बात को आगे बढ़ाते हैं और टीवी के शुरुआती दिनों को याद करते हैं. हमारे देश में टेलीविजन की समाज में सूचनाओं के आदान-प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका रही है . 70 के दशक में टीवी का भारत में बहुत ही तेजी के साथ उदय हुआ.

80 के दशक में टीवी में शुरू हुए प्रसारणों ने घर-घर में लोगों को दीवाना बना दिया. संचार और वैश्वीकरण में काफी अहम भूमिका निभाई है . बता दें कि टीवी न सिर्फ जनमत को प्रभावित करता है बल्कि बड़े फैसलों पर असर डालता है.

यह भी पढ़ें -  फटाफट समाचार (29 -11 -2021) सुनिए अब तक की ख़ास खबरें

विश्व टेलीविजन दिवस को बढ़ावा देने के लिए लोग कई तरह की गतिविधियों का आयोजन करते हैं. पत्रकार, लेखक और ब्लॉगर्स टेलिविजन की भूमिका पर प्रिंट मीडिया, ब्रोडकास्ट मीडिया और सोशल मीडिया पर भी अपने विचार साझा करते हैं .

15 सितंबर 1959 को भारत में पहली बार टीवी का प्रसारण शुरू हुआ था
भारत में पहली बार टीवी 1950 में आया. चेन्नई के एक इंजीनियरिंग करने वाले स्टूडेंट ने प्रदर्शनी में पहली बार टेलीविजन सबके सामने रखा. अगर देश में प्रसारण की बात करें तो दिल्ली में 15 सितंबर 1959 में प्रायोगिक तौर पर शुरू किया गया था.

टेलीविजन के शुरुआती दिनों में हफ्ते में सिर्फ तीन दिन कार्यक्रम आते थे, वह भी सिर्फ 30-30 मिनट के लिए . लेकिन शुरू से ही यह लोगों का मनोरंजन और ज्ञानवर्द्धन करने लगा. जल्द ही यह लोगों की आदत का हिस्सा बन गया. साल 1982 में भारत में कलर (रंगीन) टेलीविजन आने के बाद इसका प्रभाव और बढ़ गया.

यह भी पढ़ें -  ...तो क्या इतिहास के पन्नों में दर्ज हो जाएगा चाइना बॉर्डर पर बसा ये खूबसूरत गांव

उसके बाद 26 जनवरी 1993 को दूरदर्शन अपना दूसरा चैनल लेकर आया. इसका नाम था मेट्रो चैनल. इसके बाद पहला चैनल डीडी 1 और दूसरा चैनल डीडी 2 के नाम से काफी लोकप्रिय हो गया. लेकिन धीरे-धीरे टेलीविजन का देश में प्रभाव कम होने लगा.

करीब एक दशक से मोबाइल, इंटरनेट लैपटॉप और कंप्यूटर की आई सूचना क्रांति ने देश ही नहीं पूरे विश्व में टेलीविजन की धाक को कम कर दिया. दो दशक पहले लोगों को टेलीविजन देखने का बहुत ही जबरदस्त उत्साह रहता था.

लेकिन धीरे-धीरे मोबाइल के आने पर यह उत्साह लोगों में कम होता गया. आज की अधिकांश युवा पीढ़ी मोबाइल या लैपटॉप पर ही टेलीविजन की भरपाई कर लेती है. कुछ साल पहले तक पूरे देश में घरों के ऊपर टेलीविजन के एंटीना दिखाई पड़ते थे, लेकिन समय के साथ गायब हो चुके हैं .

21 नवंबर 1996 को यूएनओ ने घोषित किया था विश्व टेलीविजन दिवस

यह भी पढ़ें -  Kanpur Test: चौथे दिन स्टंप तक न्यूजीलैंड का स्कोर 4/1, आखिरी दिन 280 रनों की जरूरत

बता दें कि अमेरिकी वैज्ञानिक जॉन लॉगी बेयर्ड ने साल 1927 में टेलीविजन का आविष्कार किया था. लेकिन इसे इलेक्ट्रॉनिक रूप देने में 7 साल का समय लग गया और साल 1934 में टीवी पूरी तरह से तैयार हुआ. इसके बाद 2 साल के अंदर ही कई आधुनिक टीवी के स्टेशन खोल दिए गए.

धीरे -धीरे यह मनोरंजन और सूचना के प्रचार-प्रसार का एक महत्वपूर्ण साधन बन गया 1996 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 नवंबर को विश्व टेलीविजन दिवस यानी ‘वर्ल्ड टेलीविजन डे’ के तौर पर मनाए जाने की घोषणा की थी.

दरअसल, इसी साल 21 नवंबर को पहले विश्व टेलीविजन फोरम की स्थापना की गई थी. इस फोरम की स्थापना के उपलक्ष्य में ही यह दिवस मनाया जाता है. इससे मीडिया को टीवी के महत्व पर चर्चा करने का एक प्लैटफॉर्म मिला.

टेलीविजन जनसंचार का एक ऐसा माध्यम है जिससे मनोरंजन, शिक्षा, खबर और राजनीति से जुड़ी गतिविधियों के बारे में सूचनाएं मिलती हैं. मौजूदा दौर में टेलीविजन सूचना प्रदान करके समाज में अहम भूमिका निभाता है.

शंभू नाथ गौतम

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,152FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

देहरादून: मुख्य सचिव संधु ने की पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन विभाग की समीक्षा, अधिकारियों...

0
देहरादून| सोमवार को मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने सचिवालय में पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन विभाग की समीक्षा की. मुख्य सचिव ने अधिकारियों...

राशिफल 30-11-2021: आज कर्क राशि वालों का आर्थिक पक्ष रहेगा मजबूत, जानिए अन्य का...

0
मेष-: आज आपके पारिवारिक रिश्ते मजबूत होंगे. थोड़ी-सी मेहनत करके आप अपने उद्देश्यों को आसानी से प्राप्त कर लेंगे. वृष-: आज घर का माहौल...

30 नवम्बर 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 30 नवम्बर 2021 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

पराग अग्रवाल होंगे ट्विटर के नए सीईओ, जैक डॉर्सी ने दिया इस्तीफा

0
माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जैक डॉर्सी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय मूल...

उत्तराखंड: सीएम पुष्कर सिंह धामी ने की ‘ओमीक्रोन’पर हाई-लेवल मीटिंग, दिए ये...

0
सोमवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कोविड सैम्पलिंग को बढ़ाने और कान्टैक्ट ट्रेसिंग को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं. कोविड के बढ़ते...

Covid19: उत्तराखंड में मिले 8 नए कोरोना संक्रमित, एक मरीज की मौत

0
उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में आठ नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक मरीज की मौत हुई है. 18 मरीजों को ठीक होने के बाद घर...

देहरादून: मत्स्य पालन कर आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम, प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना...

0
प्रधानमंत्री मत्स्यसम्पदा योजना एक दिवसीय जागरूकता एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम द्वारा आज 29 नवम्बर को IRDT,ऑडिटोरियम, देहरादून...

पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने लॉन्च किया ट्रांजिट कार्ड, जानें कैसे और कहां होगा इस्‍तेमाल

0
देश की सबसे बड़ी ई-वॉलेट कंपनी पेटीएम ने हाल में एक प्रीपेड रुपे कार्ड पेटीएम वॉलेट ट्रांजिट कार्ड पेश किया है. इस कार्ड...

दिल्ली में डेंगू का कहर जारी: अब तक सामने आए 8276 मामले, इस महीने...

0
कोरोना संक्रमण के साथ साथ डेंगू भी खतरे की घंटी बजा रहा है. अगर बात करे दिल्ली की तो इस सीजन में डेंगू के...

उत्तराखंड: देहरादून अनाथालय के नाबालिग के साथ हुआ दुष्कर्म, आरोपी भी नाबालिग

0
राजधानी देहरादून के एक अनाथ आश्रम में एक नाबालिग के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है. यह अनाथालय खुड़बुड़ा पुलिस चौकी इलाके में...