26/11 की 13वीं बरसी: आतंकी हमले के बाद ठहर गई थी सपनों की नगरी मुंबई, आज भी नहीं भरे जख्म

13 साल बाद देश आतंकी हमला भूल नहीं पाया है. सरहद पार से आतंकियों ने महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई को लहूलुहान कर दिया था. सड़कों पर कत्लेआम से देश ही नहीं बल्कि दुनिया सहम गई थी. भारत के इतिहास में यह ऐसा आतंकी हमला था जिसके घाव अभी भी भरे नहीं हैं. इसे 26/11 के नाम से जाना जाता है. साल 2008 की 26 नवंबर की रात देश के करोड़ों लोग कभी नहीं भूल पाएंगे.

आतंकवादियों ने मुंबई को बम और गोलीबारी से दहला दिया था. ये इतिहास का सबसे भीषण और भयावह आतंकी हमला था. इसमें 160 से अधिक लोगों की जान चली गई, जिनमें 18 सुरक्षाकर्मी भी थे. मुंबई आतंकी हमले की 13वीं बरसी पर देश उन वीर सपूतों को श्रद्धांजलि दे रहा है जिन्होंने अपने प्राण न्योछावर कर दिए, लेकिन देश पर कोई आंच नहीं आने दी.

यह भी पढ़ें -  आंवले के ये औषधीय गुण जानकर दंग रह जाएंगे आप

सपनों का यह शहर कभी न सोता है न रुकता है लेकिन उस शाम को मुंबई की रफ्तार थम गई. मुंबई हमेशा की तरह शान से दौड़-भाग रही थी. शहर के लोग जानते भी नहीं थे कि 10 लोग हथियार लेकर अरब सागर से होते हुए उन तक पहुंच रहे हैं. इन 10 आतंकियों के बैग में 10 एके-47, 10 पिस्टल, 80 ग्रेनेड, 2 हजार गोलियां, 24 मैगजीन, विस्फोटक और टाइमर्स रखे थे. मुंबई उतरने के बाद आतंकी दो-दो के ग्रुप में बंट गए और अलग-अलग रास्तों पर चल पड़े. आइए बात करते हैं 26 नवंबर साल 2008 की शाम को मुंबई कैसे ठहर गई थी.

यह भी पढ़ें -  व्हाट्सऐप ने अक्टूबर महीने में बंद किए 20 लाख से ज्यादा भारतीय यूजर्स के अकाउंट, जानिए वजह

मुंबई की सड़कों-होटलों के साथ अस्पतालों, स्टेशन पर आतंकी खुलेआम गोली चलाते रहे-

आतंकियों ने सबसे पहला हमला रात 9 बजकर 43 मिनट पर मुंबई के लियोपॉल्ड कैफे के बाहर किया. आतंकी जिस टैक्सी से आए थे, उसी में उन्होंने टाइम बम लगा दिया था. टैक्सी रुकी ही थी कि बम फट गया. ड्राइवर और टैक्सी में बैठी दो महिलाओं की तुरंत मौत हो गई. जब लोग वहां से भागे, तो दो आतंकियों ने सड़क से ही एके-47 से फायरिंग शुरू कर दी. इस हमले में 9 लोग मारे गए. मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पर हमला हुआ.

इसे दो आतंकियों अजमल कसाब और इस्माइल खान ने अंजाम दिया था. कसाब लोगों पर गोलियां चला रहा था, जबकि इस्माइल का काम वहां से भाग रहे लोगों पर ग्रेनेड फेंकने का था. इस हमले में सबसे ज्यादा 58 लोग मारे गए थे. सीएसटी पर हमले के बाद कसाब और इस्माइल वहां से कामा अस्पताल पहुंचे. अस्पताल के बाहर आतंकियों से मुठभेड़ हुई, जिसमें उस समय के एटीएस चीफ हेमंत करकरे, मुंबई पुलिस के अशोक कामटे और विजय सालसकर शहीद हो गए. उसके बाद आतंकियों ने ताज होटल में इस घटना को अंजाम दिया. ओबेरॉय होटल में भी दो आतंकी ढेर सारे गोला-बारूद के साथ घुसे. बताया जाता है कि हमले के वक्त होटल में 350 लोग मौजूद थे. एनएसजी के कमांडों ने दोनों आतंकियों को मार गिराया. लेकिन तब तक 32 लोगों की जान जा चुकी थी.

यह भी पढ़ें -  अधीर रंजन चौधरी का सवाल- क्या 4 प्रतिशत पोपुलर वोट के साथ पीएम मोदी का सामना कर पाएगी ममता!

–शंभू नाथ गौतम

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,158FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

निलंबित सांसदों के प्रदर्शन के विरोध में भाजपा सांसदों ने निकाला पैदल मार्च

0
गांधी प्रतिमा पर धरना दे रहे विपक्षी दलों के सांसदों के विरोध में शुक्रवार को भाजपा सांसदों ने गांधी प्रतिमा से लेकर बाबा साहेब...

विशेष: भोपाल गैस त्रासदी के 37 बरस-5 हजार से अधिक लोगों ने जहरीली गैस...

0
आज से 37 साल पहले विश्व की भीषणतम औद्योगिक त्रासदी यानी भोपाल गैस कांड ने पूरी दुनिया को झकझोर कर दिया था. इस घटना...

IND vs NZ 2nd Test: टीम इंडिया की पारी शुरू, मयंक-गिल क्रीज पर

0
भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का आज दूसरा और आखिरी मुकाबला है. इस सीरीज का पहला मैच ड्रॉ होने के...

फटाफट समाचार (3-12-2021) सुनिए अब तक की ख़ास खबरें

0
देश में 'ओमिक्रोन' की दस्तक से बढे कोरोना के मामले, बीते 24 घंटो में सामने आये 9,216 नए केस उत्तराखंड राज्य में गुरुवार...

उत्तराखंड में बदला मौसम का मिज़ाज, पहाड़ों में बर्फबारी -मैदानों में रिमझिम बारिश

0
देहरादून| उत्तराखंड में मौसम का मिज़ाज बदल गया है. पहाड़ी इलाकों में बर्फीली हवाएं शुरू हो गई हैं. मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक पहाड़ी...

उत्तराखंड: देहरादून में पीएम मोदी की रैली को लेकर चार दिसंबर को बदले रहेंगे...

0
कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उत्तराखंड दौरा है. देहरादून के परेड ग्राउंड में मोदी रैली में हिस्सा लेंगे. इसको देखते हुए पुलिस ने रूट...

नए साल 2022 से एटीएम से कैश निकालना पड़ेगा महंगा, जानिए डिटेल्स

0
अगले महीने यानी साल 2022 से एटीएम से कैश निकालना महंगा पड़ेगा. जी हां..अब कैश निकालना और महंगा होने वाला है. ग्राहक...

दिल्ली में प्रदूषण: सुनवाई से पहले केंद्र सरकार ने सुप्रीमकोर्ट में दाखिल किया हलफनामा

0
दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट के तेवर सख्त हैं. कागजी समाधानों से प्रदूषण कम न होता देख कोर्ट अपनी नाराजगी जता चुका...

Covid19: देश में ‘ओमिक्रोन’ की दस्तक से बढे कोरोना के मामले, जानें ताजा स्थिति

0
कोरोना के नए वेरिएंट 'ओमिक्रोन' को लेकर देश में दहशत का माहौल पैदा हो गया है तो वहीं देश में पिछले 24 घंटों में...

गैस त्रासदी के 37 साल: भोपाल की जहरीली रात, हवा में ऐसा जहर फैला...

0
आज से 37 साल पहले देश में ऐसी त्रासदी हुई थी जिसने भारत समेत पूरी दुनिया को झकझोर कर दिया था. इस घटना में...