हरक सिंह रावत को बीजेपी से क्यों निकाला! सीएम पुष्कर सिंह धामी ने बताई ये वजह

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव से पहले कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से निष्कासित किए जाने के बाद सोमवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने दावा किया कि वह अपने और परिवार के लिए टिकट का दबाव बना रहे थे. धामी के अनुसार, पार्टी ने तय किया है कि एक परिवार से एक व्यक्ति को ही टिकट दिया जाएगा.

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मदन कौशिक के साथ नई दिल्ली से लौटने के बाद देहरादून में संवाददाताओं से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि पार्टी ने हरक सिंह रावत को कोटद्वार मेडिकल कॉलेज सहित विकास के सभी मुददों पर हमेशा सम्मान दिया. उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी विकासवाद और राष्ट्रवाद पर चलने वाली पार्टी है, वंशवाद से दूर रहने वाली पार्टी है. हम ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास’ के मंत्र को लेकर आगे बढ़ रहे हैं.

यह भी पढ़ें -  लद्दाख में बड़ा हादसा: सेना का वाहन नदी में गिरने से 7 जवानों की मौत

धामी ने कहा कि रावत की बातों से कई बार पार्टी असहज हुई है. उन्होंने कहा कि लेकिन फिर भी…चूंकि हमारी बड़ी पार्टी है… हमारा बड़ा परिवार है, हमने हमेशा उनको साथ लेकर चलने की कोशिश की, लेकिन परिस्थितियां ऐसी हो गई थीं…वह खुद समेत अपने परिवार के और लोगों के लिए टिकट का दबाव बना रहे थे.

उन्होंने कहा कि इसलिए पार्टी ने यह फैसला (उन्हें निष्कासित करने का) किया. हमने तय किया है कि एक परिवार से एक व्यक्ति को ही टिकट दिया जाएगा. किसी भी परिवार को हम दो या तीन टिकट नहीं देंगे, क्योंकि हमारी पार्टी हमेशा इसके खिलाफ रही है.

मुख्यमंत्री ने हालांकि इस बात से इंकार किया कि पार्टी में कहीं कोई फूट है या अन्य विधायक भी भाजपा छोड़ सकते हैं. उन्होंने कहा कि कोई विधायक कहीं नहीं जा रहा है.

यह भी पढ़ें -  आय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व सीएम ओम प्रकाश चौटाला को चार साल की सजा, 50 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया

पूर्व मंत्री रावत के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलों के बीच भाजपा ने रविवार को उन्हें छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया था.

पौड़ी गढवाल जिले की कोटद्वार विधानसभा सीट से विधायक रावत अपनी सीट बदलने के साथ ही अपनी पुत्रवधु अनुकृति के लिए भी भाजपा से टिकट मांग रहे थे. समझा जाता है कि इन मुददों पर भाजपा के राजी न होने पर वह कांग्रेस में शामिल होने की संभावनाएं टटोल रहे थे.

उल्लेखनीय है कि उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री रावत को, अनुशासनहीनता का आरोप लगाते हुए भाजपा ने रविवार को छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया.

उन्हें इससे पहले राज्य मंत्रिमंडल से भी बर्खास्त कर दिया गया था. रावत उत्तराखंड मंत्रिमंडल में वन और श्रम मंत्री थे. रावत उन 10 कांग्रेस विधायकों में शामिल थे, जो वर्ष 2016 में तत्कालीन हरीश रावत सरकार के खिलाफ बगावत कर भाजपा में शामिल हुए थे .

यह भी पढ़ें -  राशिफल 28-05-2022: आज इन राशियों पर रहेगी शनिदेव और हनुमान जी की विशेष कृपा

इधर, दिल्ली में मीडिया से बातचीत में रावत ने इस बात की पुष्टि कि उन्होंने पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व से अपनी पुत्रवधू को लैंसडाउन से टिकट देने पर विचार करने को कहा था. उन्होंने दावा किया उत्तराखंड में अगली सरकार कांग्रेस की बनेगी और वह कांग्रेस के लिए काम करेंगे.

रावत ने यह भी कहा कि उन्हें पार्टी से निष्कासित किए जाने से पहले पार्टी नेतृत्व ने कोई बात नहीं की और उन्हें उनके निष्कासन की जानकारी सोशल मीडिया से मिली. इस प्रकार भाजपा से निकाले जाने पर वह भावुक भी हो गए.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,245FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

पाक पीएम शहबाज शरीफ ने सुनवाई के दौरान खुद को बता डाला मजनूं

0
लाहौर|..... शनिवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कोर्ट में एक मामले की सुनवाई के दौरान खुद को मजनूं बता डाला. पाक पीएम...

राज्यसभा चुनाव: आप ने पद्म श्री संत बलबीर सिंह सिंचवाल और पद्म विक्रमजीत सिंह...

0
पंजाब में आम आदमी पार्टी (AAP) ने पद्म श्री संत बलबीर सिंह सिंचवाल और पद्म विक्रमजीत सिंह साहनी को राज्यसभा के सदस्य के रूप...

बिना नाम के सालों से ट्रेन का बसेरा है ये स्टेशन, ट्रेन रुकने पर...

0
दुनिया में मौजूद हर चीज की एक पहचान होती है. ये पहचान उसके नाम से की जाती है. चाहे इंसान हो या कोई चीज,...

डीजीसीए में इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपये का जुर्माना, जानिए कारण

0
नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने रांची हवाई अड्डे पर एक विशेष बच्चे के मामले को पर्याप्त रूप से संभालने में विफल रहने के लिए...

मुख्यमंत्रियों की जुगलबंदी: चंपावत में सीएम योगी और धामी के रोड शो में दिखाई...

0
आज चंपावत के टनकपुर में दो युवा मुख्यमंत्रियों का साथ उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की जनता को खूब भाया. बता दें कि चंपावत में...

AIIMS Rishikesh: एमबीबीएस के छात्र ने छठवीं मंजिल से छलांग लगाकर दी जान

0
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश के एमबीबीएस छात्र ने मेडिकल कॉलेज की छठवीं मंजिल से छलांग लगा दी. आनन-फानन छात्र को ट्रामा सेंटर...

एक और मौका: यूजीसी ने सीयूईटी की प्रवेश परीक्षा के लिए बढ़ाई आवेदन करने...

0
यह उन विद्यार्थियों के लिए अच्छी खबर है जिन्होंने अभी तक किसी कारणवश सीयूईटी प्रवेश परीक्षा में अप्लाई नहीं किया है. ऐसे विद्यार्थियों के...

Corona Vaccination: देश की कम से कम 88 फीसद व्यस्क आबादी को लग चुकी...

0
केंद्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने शनिवार को जानकारी दी कि देश में 88 फीसद से अधिक व्यस्क आबादी को वैक्सीन...

‘यूपी की तरह उत्तराखंड में भी चलेगा बुल्डोजर’: जनसभा में बोले सीएम धामी

0
चंपावत विधानसभा उपचुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का प्रचार गरमाने के लिए शनिवार को उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंच गए हैं. टनकपुर...

चंपावत विधानसभा उपचुनाव: सीएम पुष्कर धामी के लिए प्रचार करने चंपावत पहुंचे यूपी ...

0
भाजपा के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन चुके चंपावत विधानसभा उपचुनाव में पार्टी को जीत दिलाने के लिए भाजपा ने अब यूपी के मुख्यमंत्री...
%d bloggers like this: