गौरवशाली दिन: देश में छाया गणतंत्र दिवस का उल्लास, लद्दाख से लेकर कन्याकुमारी तक फहराया गया तिरंगा

आज पूरा देश 73वां गणतंत्र दिवस धूमधाम के साथ मना रहा है. लद्दाख से लेकर कन्याकुमारी तक जोश और जज्बा देशवासियों में छाया हुआ है, होना भी चाहिए . इस मौके पर तिरंगा शान से लहरा रहा है. हर जगह भारत माता की जय और वंदे मातरम की गूंज सुनाई दे रही है.

देश के वीर सैनिकों की वीर की गाथाएं गूंज रही हैं. दिल्ली के राजपथ पर 26 जनवरी की परेड के लिए भव्य तरीके से कार्यक्रम आयोजन शुरू हो गए हैं. राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री और गृहमंत्री समेत तीनों सेनाओं के प्रमुख और वीर सैनिक राजपथ पर मौजूद हैं.

राजधानी दिल्ली से लेकर शहरों, कस्बों और गांव तक तिरंगा लहरा रहा है. पूरा देश अपने गणतंत्र दिवस के जश्न में डूबा हुआ है. राजपथ की परेड पर इस बार गणतंत्र दिवस के लिए सिर्फ 12 राज्यों की झांकियों को चुना गया है. इसके अलावा इसमें मंत्रालय से जुड़ी 9 झांकियां शामिल हैं.73वें गणतंत्र दिवस के मौके पर आज भी राजपथ पर देश की आन-बान और शान की शानदार झलक देखने को मिल रही है.

यह भी पढ़ें -  चारधाम यात्रा 2022: केदारनाथ यात्रा के दौरान तीन और यात्रियों की मौत, अब तक 37 श्रद्धालुओं की मौत

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बार इंडिया गेट के स्थान पर नेशनल वॉर मेमोरियल पर शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि दी. राजपथ पर 21 तोपों की सलामी दी गई . इस बार कोरोना गाइडलाइन की वजह से राजपथ पर दर्शकों की संख्या भी काफी कम है. इसके साथ भारत के सभी राज्यों के सभी प्रदेशों में सभी राज्यपाल, मुख्यमंत्री और उपराज्यपाल ने तिरंगा फहराया.

वहीं दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में हाड़ कंपाने वाली ठंड के बीच वीर सैनिकों ने तिरंगा फहराया. इस खास अवसर पर देश की राजधानी दिल्ली के राजपथ पर भव्य कार्यक्रम होता है जिसमें सैन्यकर्मियों की परेड के साथ-साथ अलग-अलग राज्यों की झाकियां निकलती हैं. इस खास अवसर पर राष्ट्रपति इंडिया गेट पर झंडा भी फहराते हैं. आइए जानते हैं देश में गणतंत्र दिवस मनाने की शुरुआत कब से हुई थी.

यह भी पढ़ें -  75वीं विश्व स्वास्थ्य सभा: केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण कमेटी बी के चेयरपर्सन नियुक्त

भारत का संविधान 26 नवंबर 1949 को बनकर तैयार हो गया था
हर देश में अपना गणतंत्र दिवस होता है. जिसमें नागरिकों को लेकर उनके मूल कर्तव्य और अधिकार समाहित रहते हैं. भारत को आजादी के करीब ढाई सालों बाद 26 जनवरी, 1950 को अपना संविधान मिला था. इस संविधान को विश्व का सबसे बड़ा संविधान भी कहा जाता है.

संविधान की रूपरेखा डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने संविधान सभा में पहली बार 1948 को प्रस्तुत की थी. बताया जाता है कि इसके निर्माण में 2 साल, 11 महीने और 18 दिन का वक्त लगा था, जिसे लगभग तीन साल भी कहा जा सकता है. संविधान के जरिए ही भारत को लोकतांत्रिक, संप्रभु और गणतंत्र देश घोषित किया गया था.

भारत का संविधान 26 नवंबर, 1949 को बनकर ही तैयार हो गया था, लेकिन इसे पूर्ण रूप से 26 जनवरी, 1950 को लागू किया गया था. संविधान लागू होने के बाद से ही हर साल इस दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है. संविधान लागू होने के बाद देश के पहले राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने 26 जनवरी, 1950 को 21 तोपों की सलामी के साथ ध्वजारोपण करते हुए देश को पूर्ण राज्य घोषित किया था.

यह भी पढ़ें -  राशिफल 26-05-2022: जानिए क्या कहते है आप के आज के सितारे

तब से आज तक इस देश को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है. 1950 से 1954 के बीच गणतंत्र दिवस परेड का आयोजन कभी किंग्सवे कैंप, कभी लाल किला तो कभी रामलीला मैदान में होता था. 1955 के बाद से गणतंत्र दिवस की परेड रायसीला पहाड़ी से शुरू होकर राजपथ, इंडिया गेट से गुजरते हुए आठ किलोमीटर की दूरी तय करके लाल किले पर खत्म होती है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,241FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

सिर्फ आंकड़ों में है विकास, युवा घूम रहे बेरोजगार: मुख्यमंत्री योगी के बजट पर...

0
योगी सरकार 2.0 ने गुरुवार को अपना पहला बजट पेश किया है. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि...

चुनाव आयोग 2 हजार से अधिक पंजीकृत गैर मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों पर कड़ी...

0
देश में 2,100 ऐसी राजनीतिक पार्टियां हैं जिन्हें पंजीकृत गैरमान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों की सूची में डाला गया है. अब इन दलों पर कड़ी...

डिंपल का पत्ता कटा, जयंत चौधरी होंगे सपा-रालोद के राज्यसभा उम्मीदवार

0
यूपी की राज्यसभा सीटों के लिए समाजवादी पार्टी ने गठबंधन के संयुक्त उम्मीदवार का ऐलान कर दिया है. राष्‍ट्रीय लोकदल के प्रमुख जयंत चौधरी...

ताजमहल को लेकर नया विवाद, नमाज पढ़ने वाले 4 पर्यटक गिरफ्तार

0
ताजमहल परिसर स्थित मस्जिद में सिर्फ शुक्रवार को नमाज पढ़ने की अनुमति है. बुधवार को सीआईएसएफ ने चार युवकों को ताजमहल मस्जिद में नमाज...

2014 में शुरू की नई पारी: नरेंद्र दामोदरदास मोदी का प्रधानमंत्री के रूप में...

0
10 जून, साल 2013 को भारतीय जनता पार्टी की पणजी, गोवा में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हो रही थी. उस दौरान भाजपा के राष्ट्रीय...

Road Accidents In India: सड़क हादसों में उत्तराखंड 23वें नंबर पर, जानिए कौन है...

0
आजकल सड़क हादसों की खबरे आये दिन सुनने को मिल रही है. रोज कही न कही ऐसे मामले दर्ज किये जा रहे हैं. ...

IPL 2022-Eliminator: रजत पाटीदार के आतिशी शतक से लखनऊ सुपर जायंट्स, आरसीबी को मिलेगा...

0
रजत पाटीदार के करियर के पहले शतक से रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग के एलिमिनेटर में लखनऊ सुपर जायंट्स को 14 रन...

दिल्ली के नए उप-राज्यपाल विनय कुमार सक्सेना आज लेंगे शपथ

0
विनय कुमार सक्सेना दिल्ली के 22वें उपराज्यपाल के रूप में आज शपथ लेंगे. मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली के राजपुर रोड स्थित राजनिवास में...

जम्मू-कश्मीर: आतंकियों ने एक बार फिर की कायराना हरकत, टीवी आर्टिस्ट अमरीन भट की...

0
जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने एक बार फिर आम नागरिकों को निशाना बनाया है. आतंकियों ने बडगाम जिले के चादूरा इलाके में टीवी आर्टिस्ट अमरीन...

इन सीटों पर होगा मतदान: निर्वाचन आयोग ने 3 लोकसभा, 7 विधानसभा उपचुनाव की...

0
निर्वाचन आयोग ने बुधवार शाम तीन लोकसभा और सात विधानसभा उप चुनाव की तारीखों का एलान कर दिया है. 3 लोकसभा उपचुनाव में उत्तर...
%d bloggers like this: