Loan Fraud Case: वेणुगोपाल धूत को मिली बड़ी राहत, मुंबई हाईकोर्ट ने दी अंतरिम जमानत

बंबई हाईकोर्ट ने आईसीआईसीआई बैंक-वीडियोकॉन ऋण धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तारी के करीब एक महीने बाद वीडियोकॉन समूह के संस्थापक वेणुगोपाल धूत की अंतरिम जमानत अर्जी शुक्रवार को मंजूर कर ली. न्यायमूर्ति रेवती मोहिते डेरे और न्यायमूर्ति पी के चव्हाण की खंडपीठ ने धूत को एक लाख रुपये की जमानत राशि पर जमानत दी. अदालत ने उन्हें नकद मुचलका भरने और इसके दो हफ्ते बाद जमानत राशि जमा कराने की इजाजत दी.

पीठ ने केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो के उसके आदेश पर रोक लगाने के अनुरोध को भी खारिज कर दिया, ताकि वह सुप्रीमकोर्ट में अपील कर सके. अदालत ने मामले में हस्तक्षेप करने और सह-आरोपियों-आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर को अंतरिम जमानत देने वाले इसी पीठ द्वारा पारित आदेश को वापस लेने की एक वकील द्वारा दायर अर्जी भी खारिज कर दी. पीठ ने वकील पर 25,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया.

धूत ने 10 जनवरी को हाईकोर्ट का रुख किया था, जब इसी पीठ ने कोचर दंपति को जमानत दी थी. कोचर दंपति को 23 दिसंबर 2022 को गिरफ्तार किया गया था. धूत के वकील संदीप लड्डा ने दलील दी थी कि धूत की गिरफ्तारी अवांछित है, क्योंकि उन्होंने जांच में सहयोग किया है. बहरहाल, सीबीआई ने इसका विरोध करते हुए कहा था कि वीडियोकॉन समूह के संस्थापक ने जांच से बचने की कोशिश की थी और उनकी गिरफ्तारी वैध है. हाईकोर्ट ने 13 जनवरी को दलीलें सुनी थी.

अभी न्यायिक हिरासत में बंद धूत ने सीबीआई की प्राथमिकी रद्द करने और उन्हें अंतरिम जमानत पर रिहा किए जाने का अनुरोध किया था. धूत ने सीबीआई द्वारा की गई अपनी गिरफ्तारी को ‘‘मनमानी, अवैध, कानून की उचित प्रक्रिया का पालन किए बिना उठाया गया कदम और दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 41 (ए) का घोर उल्लंघन बताया था, जिसके अनुसार आरोपी को जांच के लिए नोटिस जारी करना अनिवार्य होता है और अत्यंत आवश्यक होने पर ही गिरफ्तारी की जानी चाहिए.’’

हाईकोर्ट ने कोचर दंपति को अंतरिम जमानत देते हुए उन्हें ‘‘लापरवाही से’’ और ‘‘बिना सोचे-समझे’’ गिरफ्तार करने के लिए सीबीआई के प्रति नाखुशी भी जताई थी. सीबीआई ने कोचर दंपति, दीपक कोचर द्वारा संचालित नूपावर रिन्यूएबल्स (एनआरएल), सुप्रीम एनर्जी, वीडियोकॉन इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड तथा वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड को भारतीय दंड संहिता (IPC) की विभिन्न धाराओं और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 2019 के तहत दर्ज प्राथमिकी में आरोपी बनाया है.

एजेंसी का आरोप है कि आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकॉन समूह के संस्थापक वेणुगोपाल धूत द्वारा प्रवर्तित वीडियोकॉन समूह की कंपनियों को बैंकिंग विनियमन अधिनियम, भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के दिशा-निर्देशों और बैंक की ऋण नीति का उल्लंघन करते हुए 3,250 करोड़ रुपये की ऋण सुविधाएं मंजूर की थीं.

प्राथमिकी के अनुसार, इस मंजूरी के एवज में धूत ने सुप्रीम एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड (एसईपीएल) के माध्यम से नूपावर रिन्यूएबल्स में 64 करोड़ रुपये का निवेश किया और 2010 से 2012 के बीच हेरफेर करके पिनेकल एनर्जी ट्रस्ट को एसईपीएल स्थानांतरित की. पिनेकल एनर्जी ट्रस्ट और एनआरएल का प्रबंधन दीपक कोचर के ही पास था.

Related Articles

Latest Articles

राजस्थान: किरोड़ी लाल के इस्तीफे को लेकर चर्चाएं तेज!

0
इस समय राजस्थान के सियासी गलियारे से बड़ी खबर सामने आ रही है. राजस्थान सरकार में कृषि और ग्रामीण विकास मंत्री किरोड़ी लाल...

सीएम धामी ने रुद्रप्रयाग वाहन दुर्घटना पर जताया दुःख, दिए जांच के आदेश

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने जनपद रुद्रप्रयाग में हुई वाहन दुर्घटना पर दुःख व्यक्त किया है. सीएम ने इस दुर्घटना में दिवंगतों की आत्मा...

एनटीए ने यूजीसी नेट परीक्षा के लिए जारी किए प्रवेश पत्र, ऐसे करें डाउनलोड

0
नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की तरफ से यूजीसी नेट परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र जारी कर दिए हैं. जिन्हें उम्मीदवार आधिकारिक साइट ugcnet.ntaonline.in पर जाकर...

शरद पवार ने पीएम मोदी को क्यों कहा- थैंक्यू, जानिए कारण

0
लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद देश में एनडीए की नई सरकार बन गई है. विपक्षी दलों के नेता लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के...

मुख्यमंत्री योगी व सांसद कंगना का एडिट विडिओ बना कर एक्स पर किया वायरल,...

0
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सांसद कंगना रनौत का वीडियो एडिट कर सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर वायरल करने वाले एक यूजर के खिलाफ हजरतगंज...

दिल्ली के जल संकट पर आप की बैठक, हमने हरियाणा से पानी देने की...

0
दिल्ली में पानी का संकट दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है, जिससे कई इलाकों के निवासी गंभीर पानी की कमी का सामना कर रहे...

सीएम धामी के निर्देश के बाद, 13 आईएएस अधिकारियों को दी गई प्रभारी की...

0
लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद उत्तराखंड में योजनाओं को धरातल पर उतारने के लिए पुष्कर सिंह धामी सरकार ने उत्तराखंड के 13 ज़िलों...

दिल्ली के नोएडा सेक्टर 67 में दो कार्यालयों में लगी आग

0
नोएडा के सेक्टर 67 में शनिवार को दो दफ़्तरों में आग लग गई। एएनआई ने एक्स पर एक पोस्ट में बताया कि आग बुझाने...

रुद्रप्रयाग हादसा: संजोने जा रहे थे यादें, एक झपकी ने तहस- नहस कर दी...

0
आज उत्तराखंड में घटित दर्दनाक हादसे में नौ लोगों की जानें चली गई हैं। यह हादसा उन्हीं लोगों के जीवन को चौंका देने वाला...

रुद्रप्रयाग में बड़ा हादसा: 26 यात्रियों समेत टैंपो ट्रैवलर अलकनंदा नदी में गिरा, 10...

0
उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में बड़ा हादसा हुआ है, जहां एक टैंपो ट्रैवलर अलकनंदा नदी में गिर गया। इस हादसे में 10 लोगों की...