सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, चुनावी बॉन्ड योजना पर लगी रोक

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने चुनावी बॉन्ड योजना की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर अपना फैसला सुना दिया. सुप्रीम कोर्ट ने चुनावी बॉन्ड योजना को असंवैधानिक करार देते हुए इस पर रोक लगा दी है. सीजेआई ने एकमत से फैसला देते हुए कहा कि एसबीआई को 12 अप्रैल 2019 से जानकारी सार्वजानिक करनी होगी. एसबीआई ये जानकारी ईसी को देनी होगी और चुनाव आयोग इस जानकारी को साझा करेगा.

प्रधान न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड ने कहा कि दो अलग-अलग लेकिन सर्वसम्मत फैसले हैं. चुनावी बॉन्ड योजना पर रोक लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अनाम चुनावी बॉन्ड संविधान प्रदत्त सूचना के अधिकार, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का उल्लंघन है. सीजेआई चंद्रचूड़ ने कहा कि नागरिकों की निजता के मौलिक अधिकार में राजनीतिक गोपनीयता, संबद्धता का अधिकार भी शामिल है.

दरअसल, पिछले साल नवंबर में सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली 5 जजों की संविधान पीठ ने इस मामले पर सुनवाई की थी. पीठ में न्यायमूर्ति संजीव खन्ना, बी.आर. गवई, जे.बी. पारदीवाला और न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा की खंडपीठ ने लगातार तीन दिनों तक दलीलें सुनने के बाद मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. याचिकाकर्ताओं ने शीर्ष अदालत के समक्ष तर्क दिया था कि चुनावी बॉन्ड योजना अनुच्छेद 19 (1) के तहत नागरिकों के सूचना के मौलिक अधिकार का हनन करती है, यह पिछले दरवाजे से लॉबिंग को सक्षम बनाती है और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देती है। साथ ही, विपक्षी राजनीतिक दलों के लिए समान अवसर को समाप्त करती है.

चुनौती का जवाब देते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने तर्क दिया था कि इस योजना का उद्देश्य चुनावी प्रक्रिया में नकदी को कम करना है. एस-जी मेहता ने जोर देकर कहा कि चुनावी बॉन्ड के जरिए किए गए दान का विवरण केंद्र सरकार तक नहीं जान सकती. उन्होंने एसबीआई के चेयरमैन द्वारा हस्ताक्षरित एक पत्र को रिकॉर्ड पर रखते हुए कहा था कि अदालत के आदेश के बिना विवरण तक नहीं पहुंचा जा सकता.

सुनवाई के दौरान सीजेआई चंद्रचूड़ ने कहा था कि पांच महत्वपूर्ण विचार हैं : ‘1. चुनावी प्रक्रिया में नकदी तत्व को कम करने की जरूरत, 2. अधिकृत बैंकिंग चैनलों के उपयोग को प्रोत्साहित करने की जरूरत, 3. गोपनीयता द्वारा बैंकिंग चैनलों के उपयोग को प्रोत्साहित करना, 4. पारदर्शिता; 5. रिश्‍वत का वैधीकरण.’ इसके अलावा सीजेआई ने टिप्पणी की थी कि यह योजना सत्ता केंद्रों और उस सत्ता के हितैषी लोगों के बीच रिश्‍वत और बदले की भावना का वैधीकरण नहीं बननी चाहिए.

Related Articles

Latest Articles

ये हैं उत्तराखंड के सबसे उम्रदराज मतदाता, उम्र जानकर चौंक जाएंगे

0
लोकसभा चुनाव की मतदाता सूची में अनेक मतदाता शतकवीर होंगे, लेकिन स्वामी परमानंद पुरी एक विशेष मतदाता हैं जिनकी आयु 135 वर्ष है। उनका...

जोशीमठ में मुख्यमंत्री धामी का रोड शो, भाजपा प्रत्याशी अनिल बलूनी के लिए मांगा...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जोशीमठ में भाजपा प्रत्याशी अनिल बलूनी के लिए समर्थन मांगा और जोशीमठ इंटर कॉलेज चौराहा से चमोली टैक्सी स्टैंड...

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2023 का फाइनल रिजल्ट जारी, आदित्य श्रीवास्तव बने टॉपर

0
यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2023 का फाइनल रिजल्ट जारी हो गया है. इसे यूपीएससी की वेबसाइट upsc.gov.in पर जाकर चेक किया जा सकता है....

आज अष्टमी को हुआ महागौरी का हुआ पूजन, घरों और मंदिरों में पूजी गई...

0
नवरात्र के आठवें दिन अष्टमी का पर्व मनाते हुए मंदिर में महागौरी की पूजा और कन्याओं का पूजन किया गया। दून के बाजारों में...

सुप्रीम कोर्ट से योग गुरु रामदेव को राहत नहीं, माफ़ी देने से किया इनकार

0
एलोपैथी (अंग्रेजी दवाओं) के खिलाफ पतंजलि के कथित भ्रामक विज्ञापन मामले में योग गुरु रामदेव को सुप्रीम कोर्ट से मंगलवार को भी राहत नहीं...

लोकसभा चुनाव: बीजेपी ने जारी की उम्मीदवारों की 12वीं लिस्ट

0
देश में लोकसभा चुनाव का शंखनाद हो चुका है. पहले चरण के लिए 19 अप्रैल को मतदान कराया जाना है. ऐसे में मतदान की...

अमित शाह ने कहा गोलीबारी और पथराव गुजरे वक्त की बात, अब आतंकवाद जल्द...

0
मंगलवार को गृह मंत्री अमित शाह ने जम्मू के पलौड़ा में आयोजित जनसभा में उपस्थित जनता को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में...

मौसम का मिजाज रहेगा आज भी बदला, देहरादून समेत छह जिलों में बारिश के...

0
आज मंगलवार को उत्तराखंड के कुछ जिलों में आज भी मौसम का मिजाज बदलता रहेगा। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, देहरादून सहित उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग,...

सीएम ने तिहाड़ से जनता के लिए भेजा संदेश लिखा-‘मेरा नाम अरविंद केजरीवाल है...

0
आज सांसद संजय सिंह ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक महत्वपूर्ण संदेश दिया, जिसमें उन्होंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के लिए जनता को एक साफ़...

उत्तराखंड: चुनाव के चलते शादियों में बढ़ी परेशानी, चार बड़ी गाड़ियों में हो जाता...

0
चुनावी मौसम में वाहनों की कमी के कारण शादी-विवाह समारोहों में उलझनें बढ़ गई हैं। बड़े वाहनों की चुनाव ड्यूटी में जाने के कारण...