Exclusive: मायावती की दलित सियासत में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ‘सेंधमारी’

सत्ता का सुख पाने के लिए हमारे नेता कितने प्रकार के हथकंडे अपनाते हैं कि अभी तक ‘आम वोटर’ भ्रमित होता रहा है . नेताओं के लंबे-चौड़े वायदों का जनता आकलन नहीं कर पाती है . ‌

राजनीतिक पार्टियों और नेताओं में चुनाव के दौरान सत्ता पर काबिज होने के लिए ‘सियासी दांव’ चलने की होड़ लगी रहती है . आज बात होगी बिहार की . इन दिनों राज्य में ‘राजनीति गर्म’ है .

पिछले दिनों जब चुनाव आयोग ने बिहार के विधान सभा चुनाव 29 नवंबर से पहले कराने की घोषणा की तभी से भाजपा, जेडीयू, राष्ट्रीय जनता दल और लोक जनशक्ति पार्टी में लोकलुभावन, प्रलोभन, आश्वासन और जातिगत समीकरण समेत तमाम मुद्दे खंगाले जा रहे हैं .

मौजूदा समय में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं . वे पिछले 15 वर्षों से राज्य की सत्ता संभाले हुए हैं .‌ अब नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव को देखते हुए नया दांव ‘दलित कार्ड’ खेला है .

सीएम नीतीश की जब इस सियासी हथकंडे की गूंज उत्तर प्रदेश तक पहुंची तब दलितों की ‘राजनीतिक ठेकेदार’ बसपा प्रमुख मायावती आग बबूला हो गईं हैं .

हम बात को आगे बढ़ाएं उससे पहले बता दें कि लगभग आठ वर्षों से बसपा प्रमुख खाली बैठी हुईं हैं . मायावती न तो उत्तर प्रदेश न केंद्र की राजनीति में सक्रिय हो पा रही हैं .

यह भी पढ़ें -  पीएफआई पांच साल के लिए बैन, मोदी सरकार ने घोषित किया 'गैरकानूनी संघ'

अब उन्होंने सोचा बिहार विधानसभा चुनाव में क्यों न पार्टी की ‘किस्मत आजमाई जाए . यहां हम आपको बता दें कि मायावती की अभी तक की राजनीति ‘दलितों के इर्द-गिर्द’ ही घूमती रही है .

अब आगे चर्चा करते हैं . जब नीतीश कुमार ने दलित वर्ग को रिझाने के लिए चुनावी हथकंडा अपनाया तब मायावती से रहा नहीं गया . बसपा प्रमुख ने उत्तर प्रदेश से ही मुख्यमंत्री नीतीश पर ताबड़तोड़ हमले कर डालें .

मायावती ने बिहार के दलितों को नीतीश कुमार से बचने के लिए आगाह भी कर डाला . आइए आपको बताते हैं नीतीश कुमार ने बिहार के दलितों को लेकर क्या घोषणा की है .

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बिहार में चुनावी दलित कार्ड यह है—

राज्य विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दलित कार्ड खेल दिया है . सीएम नीतीश ने नए आदेश में कहा है अगर राज्य के किसी अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग से आने वाले लोगों की हत्या हो जाती है तो उसके परिवार के एक सदस्य को ‘सरकारी नौकरी’ हम देंगे .

सियासत के जानकारों का कहना है कि नीतीश कुमार यह नया आदेश चुनाव से पहले दलित आदिवासी समुदाय को लुभाने के लिए किया गया चुनावी हथकंडा है .

यह भी पढ़ें -  राजस्थान संकट पर सचिन पायलट ने तोड़ी चुप्पी, दिया ये बयान

दूसरी ओर रामविलास पासवान और चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी भी दलितों के ऊपर सियासत करती आई है . अब देखना होगा नितीश कुमार का यह नया दांव बहुजन समाजवादी पार्टी पर कितना भारी पड़ता है .


आपको बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पिछड़ा वर्ग यानी ओबीसी समुदाय से आते हैं . अब मुख्यमंत्री को नया सियासी हथकंडा बनाए रखना आसान नहीं होगा क्योंकि राज्य में लोजपा भी दलितों के मुद्दे पर मुखर है .

दूसरी ओर मायावती पूरा प्रयास करेंगी कि राज्य में दलित वोट उनसे बिखरने न पाए . इसके साथ ही नीतीश कुमार को पिछड़ा वर्ग को भी साधने की चुनौती कम नहीं होगी .

मायावती का चुनावी जंग, दलित वर्ग नीतीश कुमार के बहकावे में नहीं आएंगे—

दलितों को प्रलोभन दिए जाने के बाद मायावती ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है . बसपा प्रमुख ने कहा कि बिहार की सरकार प्रलोभन देकर दलित और आदिवासी वोट के जुगाड़ में लगी हुई है .

मायावती ने कहा कि अगर बिहार की नीतीश सरकार को इन वर्गों के हितों की इतनी ही चिंता थी तो उनकी सरकार अब तक ‘क्यों सोई रही’ .

यह भी पढ़ें -  अंकिता भण्डारी के परिजनों को मिलेगी 25 लाख रूपये की आर्थिक सहायता, सीएम धामी ने की घोषणा

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार को इस मामले में यूपी की बसपा सरकार से बहुत कुछ ‘सीखना’ चाहिए था . बसपा प्रमुख ने कहा कि बिहार के दलित मुख्यमंत्री के बहकावे में नहीं आएंगे .‌

उन्होंने कहा कि बिहार में हुए दलितों पर अत्याचार पर अभी तक नीतीश कुमार खामोश बैठे रहे हैं, जब चुनाव का समय है तब वह इस पर राजनीति कर रहे हैं .

मायावती ने कहा कि बिहार सरकार अपने मंसूबे में कभी कामयाब नहीं होगी . बता दें कि मायावती ने बिहार चुनाव में सभी सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का एलान किया है.

हालांकि उत्तर प्रदेश में चार बार सत्ता पाने वाली बसपा बिहार में अभी तक अपनी जड़ें जमाने में कामयाब नहीं रही है. बसपा बिहार में कभी भी दो अंकों में सीटें नहीं जीत सकी जबकि यहां 16 फीसदी दलित मतदाता हैं .

दूसरी ओर बहुजन समाज पार्टी की बिहार में ‘राह इतनी आसान नहीं होगी’ . क्योंकि उसे लोक जनशक्ति पार्टी जो कि दलित पहचान के रूप में भी जानी जाती है, उससे टक्कर लेनी होगी .

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार 

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,243FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

शारदीय नवरात्रि 2022: चौथे दिन कुष्मांडा देवी की होती है पूजा, जानें विधि और...

0
नवरात्रि का पर्व 9 दिनों तक मनाया जाता है. नवरात्रि में हर दिन मां दुर्गा के अलग अलग अवतारों की पूजा की जाती है....

राशिफल 29-09-2022: शारदीय नवरात्रि के दिन चौथे दिन कैसा रहेगा सब का दिन, जानिए

0
मेष- मन प्रसन्न रहेगा, परन्तु बातचीत में संयत रहें. शैक्षिक कार्यों पर ध्यान दें. कठिनाइयां आ सकती हैं. नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा....

29 सितम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 29 सितम्बर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

Ind Vs SA-Ist T20I: टीम इंडिया की धमाकेदार जीत, दक्षिण अफ्रीका को 8 विकेट...

0
तिरुवनंतपुरम| अर्शदीप सिंह (3/32) और दीपक चाहर (2/24) की घातक गेंदबाजी के बाद केएल राहुल और सूर्यकुमार यादव की सूझबूझ भरी पारी के दम...

अंकिता भंडारी हत्याकांड मामला: वकीलों ने किया आरोपियों की पैरवी करने से इनकार

0
कोटद्वार| अंकिता भंडारी हत्याकांड के आरोपी पुलकित आर्य, अंकित और सौरभ भास्कर की कोर्ट में पैरवी करने से कोटद्वार के वकीलों ने इनकार...

रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान होंगे देश के दूसरे सीडीएस, केंद्र सरकार ने दी...

0
केंद्र सरकार ने लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) अनिल चौहान को नया चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त किया है. बिपिन रावत के बाद वह दूसरे सीडीएस...

चार वेरिएंट किए लॉन्च: टाटा मोटर्स ने देश में सबसे सस्ती इलेक्ट्रिक कार...

0
देश में इलेक्ट्रिक कारें तेजी के साथ लॉन्च होती जा रही है. टाटा मोटर्स ने आज अपनी लोकप्रिय हैचबैक टाटा टियागो का EV वेरिएंट...

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को सरकार ने 3 महीने और बढ़ाया, 80 करोड़...

0
केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने बुधवार को बताया कि केंद्रीय कैबिनेट ने अगले 3 महीने के लिए पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना (मुफ्त राशन)...

दिग्विजय सिंह अब कांग्रेस अध्यक्ष पद की दौड़ में, 30 सितम्बर को दाखिल करेंगे...

0
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह अब कांग्रेस अध्यक्ष पद की दौड़ में हैं. सूत्रों ने बताया कि...

मल्लिकार्जुन खड़गे लड़ सकते हैं कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव

0
बेंगलुरु| कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी अगर कहेंगी तो पार्टी के वरिष्ठ नेता एम मल्लिकार्जुन खड़गे भी अखिल पार्टी के अध्यक्ष पद का चुनाव...
%d bloggers like this: