spot_imgspot_img

125वीं पुण्यतिथि विशेष: अल्फ्रेड नोबेल के किए गए आविष्कार डायनामाइट ने ला दी थी क्रांति, इन्हीं के नाम से दिया जाता है दुनिया का सबसे बड़ा पुरस्कार ‘नोबेल’

आज बात करेंगे एक ऐसे महान वैज्ञानिक की जिनका किया गया आविष्कार आज भी दुनिया के कई देशों के लिए कमाई का सबसे बड़ा जरिया बना हुआ है. यही नहीं इनके नाम पर विश्व का सबसे बड़ा पुरस्कार भी दिया जाता है. हालांकि आखिरी समय में इन्हें अपने ही किए गए आविष्कार को लेकर पछतावा था. हम बात कर रहे हैं महान वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की.

अल्फ्रेड की आज पुण्यतिथि है। 125 साल पहले आज ही के दिन 10 दिसंबर 1896 में डायनामाइट की खोज करने वाले वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल का निधन हुआ था. उनके निधन के पांच साल बाद 10 दिसंबर 1901 में पहली बार नोबेल सम्मान दिए गए थे. आज पुण्यतिथि पर आइए अल्फ्रेड के बारे में जानते हैं. अल्फ्रेड नोबेल का जन्म स्वीडन में 21 अक्टूबर 1833 में हुआ. पिता इमानुएल नोबल के दिवालिया होने के बाद 1842 में नोबल सिर्फ 9 साल की उम्र में अपनी मां आंद्रिएता एहल्सेल के साथ नाना के घर सेंट पीटर्सबर्ग चले गए. यहां उन्होंने रसायन विज्ञान और स्वीडिश, रूसी, अंग्रेजी, फ्रेंच और जर्मन भाषाएं सीखीं. अल्फ्रेड नोबेल के नाम आज 355 पेटेंट हैं, लेकिन लोग उन्हें डाइनामाइट की वजह से ज्यादा जानते हैं.

यह भी पढ़ें -  28 जनवरी 2023 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

डाइनामाइट के आविष्कार के बाद कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री में इसका इतना ज्यादा इस्तेमाल होने लगा कि अल्फ्रेड ने 90 जगहों पर डाइनामाइट बनाने की फैक्ट्री खोली. 20 से ज्यादा देशों में ये फैक्ट्रियां थीं. वे लगातार फैक्ट्रियों में घूमते रहते थे. इस वजह से लोग उन्हें ‘यूरोप का सबसे अमीर आवारा’ कहते थे. डायनामाइट के आविष्कार को लेकर इस जुनूनी वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल का दावा था कि यह शांति लाएगा, मेरा डायनामाइट दुनिया में होने वाले हजारों सम्मेलनों से जल्दी शांति ला देगा. नोबेल का यह दावा भले सही न हुआ हो लेकिन डायनामाइट ने माइनिंग के क्षेत्र में जरूर क्रांति ला दी. अपने आखिरी समय में डायनामाइट के आविष्कार को लेकर अल्फ्रेड नोबेल को पश्चाताप भी था.

यह भी पढ़ें -  इजरायल: यरुशलम में एक पूजाघर में आतंकी हमला, 8 की मौत-10 घायल

नोबेल पुरस्कार देने के लिए अल्फ्रेड ने अपनी वसीयत लिखी थी—

बता दें कि डाइनामाइट का गलत इस्तेमाल होता देख अल्फ्रेड को अपने आविष्कार पर दुख हुआ. इसके लिए उन्होंने अपने वसीयत में मानवता को लाभ पहुंचाने वाले लोगों को अपनी संपत्ति में से पुरस्कार देने की इच्छा जताई. 27 नवंबर 1895 को अल्फ्रेड नोबेल ने अपनी आखिरी वसीयत लिखी थी, जिसे 10 दिसंबर 1896 को इटली के सेनरमो शहर में अल्फ्रेड नोबेल की मृत्यु के बाद को खोला गया .उनके वसीयतनामे के मुताबिक उनकी 9200000 डॉलर की संपत्ति से मिलने वाले ब्याज से मानवता और शांति के लिए अद्वितीय काम करने वालों को पुरस्कृत किया जाएगा. 1900 में नोबेल फाउंडेशन की स्थापना हुई और 10 दिसंबर 1901 में पहली बार नोबेल पुरस्कारों की शुरुआत हुई. सर्वप्रथम भौतिकी, रसायन शास्त्र, चिकित्सा, साहित्य व शांति के क्षेत्र में पुरस्कार दिए गए.

यह भी पढ़ें -  टॉलीवुड एक्टर तारक रत्न को पड़ा दिल का दौरा, अस्पताल में चल रहा इलाज

1969 में पुरस्कारों की श्रेणी में अर्थशास्त्र को भी शामिल कर लिया गया. बता दें कि नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले को तकरीबन साढ़े चार करोड़ की राशि दी जाती है. इसके साथ 23 कैरेट सोने से बना 200 ग्राम का पद और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है. पदक के एक ओर अल्फ्रेड नोबेल की तस्वीर और उनके जन्म व मृत्यु की तारीख लिखी होती है. पदक के दूसरी तरफ यूनानी देवी आइसिस का चित्र, रॉयल एकादमी ऑफ साइंस स्टॉकहोम और पुरस्कार पाने वाले व्यक्ति के बारे में जानकारी होती है.

–शंभू नाथ गौतम

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,250FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 29-01-2023: आज सूर्य देव करेंगे इनका कल्याण, पढ़ें दैनिक राशिफल

0
मेष- किसी मित्र के सहयोग से कारोबार के अवसर मिल सकते हैं. माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें. माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते...

29 जनवरी 2023 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 29 जनवरी 2023 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

पीएम मोदी ने 75 रुपए का स्पेशल सिक्का किया जारी, जानें इसके बारे में

0
शनिवार को एनसीसी के 75 सफल वर्षों के उपलक्ष्य में पीएम मोदी ने 75 रुपए का विशेष सिक्का जारी किया है. बताया जा रहा...

एनसीसी दिवस पर बोले पीएम मोदी, भारत के युवाओं के कारण दुनिया हमारी तरफ...

0
शनिवार को पीएम मोदी करियप्पा परेड ग्राउंड में एनसीसी की वार्षिक रैली में शामिल हुए. इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद रहे....

बाटला हाउस एनकाउंटर मामले के आरोपी की एम्स में इलाज के दौरान...

0
बाटला हाउस एनकाउंटर मामले में दोषी ठहराए गए आरोपी की मौत की खबर सामने आई है. इंडियन मुजाहिदीन का आतंकी शहजाद अहमद की एम्स...

उत्तराखंड: धामी सरकार ने दिया था खास तोहफा, महिलायों ने जताया सीएम का आभार

0
शनिवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय स्थित मुख्य सेवक सदन में भाजपा प्रदेश महिला मोर्चा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग...

त्रिपुरा विधानसभा चुनाव: कांग्रेस ने जारी की 17 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट

0
त्रिपुरा में 16 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है. पार्टी ने...

त्रिपुरा विधानसभा चुनाव: बीजेपी ने 48 सीटों पर जारी की अपने उम्मीदवारों की पहली...

0
त्रिपुरा में 16 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने 60 सीटों में से 48 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की पहली...

उत्तराखण्ड की झांकी के कलाकारों ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से राष्ट्रपति भवन में...

0
शनिवार को नई दिल्ली में उत्तराखण्ड सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग के संयुक्त निदेशक एवं झांकी के टीम लीडर के.एस. चौहान के नेतृत्व में...

टॉलीवुड एक्टर तारक रत्न को पड़ा दिल का दौरा, अस्पताल में चल रहा इलाज

0
नंदामुरी परिवार के सदस्य एक्टर तारक रत्न को दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बता दें कि तारक...
%d bloggers like this: