बजट सत्र आज से: मोदी सरकार पेश करेगी अपना आर्थिक सर्वे, पक्ष-विपक्ष की आज संसद में मुलाकात

आज एक बार फिर संसद में हलचल है. पक्ष और विपक्ष दोनों तैयार हैं. शीतकालीन सत्र के बाद आज से बजट सत्र की शुरुआत होने जा रही है. पांच राज्यों उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर के विधानसभा चुनाव के बीच बजट सत्र शुरू हो रहा है. जिसके लिए केंद्र सरकार और विपक्ष ने अपनी-अपनी तैयारी कर रखी है. संसद के बजट सत्र के दौरान कांग्रेस समेत सभी विपक्षी पार्टियां कई मुद्दों पर सरकार को घेरने के लिए तैयार बैठी हैं. दो दिनों से फिर गरमाया पेगासस स्पाईवेयर को लेकर भी संसद में तीखी नोकझोंक देखने को मिल सकती है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगे.

उसके बाद बजट सत्र की शुरुआत राष्ट्रपति के अभिभाषण से होगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज ही साल 2021-22 का आर्थिक सर्वेक्षण पेश करेंगी. इसके बाद मंगलवार 1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद में साल 2022 का बजट पेश करेंगी. संसद के बजट सत्र का पहला चरण 31 जनवरी से 11 फरवरी तक चलेगा. इसके बाद विभिन्न विभागों के बजटीय आवंटन पर विचार के लिए अवकाश रहेगा. बजट सत्र का दूसरा चरण 14 मार्च से आरंभ होगा, जो आठ अप्रैल तक चलेगा। कोविड महामारी की गाइडलाइन को देखते हुए सत्र के पहले चरण के दौरान लोकसभा और राज्यसभा की बैठकें दिन में अलग-अलग समय पर आयोजित होंगी.

यह भी पढ़ें -  ताजमहल निर्माण पर याचिका की सुनवाई से सुप्रीमकोर्ट का इंकार, कहा-किसी इमारत की आयु का पता लगाना कोर्ट का काम नहीं

बजट सत्र के पहले दो दिन शून्यकाल, प्रश्नकाल नहीं होंगे. बजट सत्र से पहले मोदी सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई गई है. आज सरकार अपना आर्थिक सर्वेक्षण (इकोनॉमिक सर्वे) पेश कर रही है. आइए जानते हैं आर्थिक सर्वे क्या होता है.

बजट से एक दिन पहले पेश किए जाने वाला आर्थिक सर्वेक्षण क्या होता है

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: रेल का सफर करने वाले यात्रियों के लिए जरूरी सूचना, 3 महीने के लिए कैंसल हुई ये ट्रेनें

हर साल केंद्र सरकार अपना आर्थिक सर्वेक्षण पेश करती हैं. बजट से एक दिन पहले आने वाला आर्थिक सर्वेक्षण (इकोनॉमिक सर्वे) किसी भी सरकार का पूरे साल के विकास योजनाओं का लेखा-जोखा होता है. जिसके आधार पर यह देखा जाता है कि पिछले एक साल में देश की अर्थव्यवस्था किस तरह की रही. इसके साथ ही कहां पर नुकसान हुआ और कहां पर फायदा हुआ इसका आंकलन भी इसी सर्वे से लगाया जाता है. इकोनॉमिक सर्वे या आर्थिक समीक्षा को वित्त मंत्रालय का महत्वपूर्ण वित्तीय दस्तावेज माना जाता है.

इसे चालू वित्त वर्ष को लेकर केंद्र सरकार की रिपोर्ट के तौर पर भी देखा जाता है. इसमें न सिर्फ पिछले वित्त वर्ष को एनालाइज किया जाता है बल्कि इससे अगले वित्त वर्ष की दिशा को लेकर भी जानकारी मिलती है. बता दें कि देश का पहला इकोनॉमिक सर्वे 1950-51 में पेश किया गया था. वर्ष 1964 तक इसे केंद्रीय बजट के साथ पेश किया जाता था. 1964 से इसे बजट से अलग कर दिया गया. बजट से पहले क्यों पेश की जाती है आर्थिक समीक्षा . इकोनॉमिक सर्वे में चालू वित्त वर्ष के परफॉर्मेंस का रिव्यू किया जाता है. ऐसे में इससे केंद्रीय बजट को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलती है. सर्वे से देश को अगले वित्त वर्ष की प्राथमिकताएं तय करने में मदद मिलता है.

यह भी पढ़ें -  देहरादून: सीएम धामी ने विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर की ये चार घोषणाएं

–शंभू नाथ गौतम

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

लालू प्रसाद यादव का किडनी ट्रांसप्लांट रहा सफल, बेटी ने की किडनी डोनेट

0
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव सिंगापुर में किडनी ट्रांसप्लांट कराने के लिए भर्ती हुए थे।...

सीएमआई आंकड़ों के मुताबिक उत्तराखंड में कम हुई बेरोजगारी दर

0
देश में छत्तीसगढ़ के बाद उत्तराखंड में नवंबर माह में सबसे कम बेरोजगारी दर देखने को मिली। बता दे कि सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन...

उत्तराखंड: रेल का सफर करने वाले यात्रियों के लिए जरूरी सूचना, 3 महीने के...

0
देहरादून| मौसम बदलते ही मैदानी इलाकों में कोहरे का असर दिखने लगा है. सुबह की शुरुआत हल्की धुंध के साथ हो रही है. घने...

बड़ी ख़बर: रामनगर में 26 साल के युवक की हत्या, पुलिस चौकी के पीछे...

0
उत्तराखंड के रामनगर से एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। जहां युवक की हत्या से सनसनी फैल गई है। बता दे कि...

गूगल की सर्जिकल स्ट्राइक, हजारों यूट्यूब चैनल किए बंद

0
वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म यूट्यूब पर आप भी वीडियो देखना पसंद करते हैं तो आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि गूगल ने...

हरिद्वार में पिटबुल डाग का आतंक, नौ साल के बच्‍चे पर किया जानलेवा हमला

0
एक बार फिर ख़तरनाक पिटबुल डाग के आतंक का मामला सामने आया है। यह घटना हरिद्वार के कनखल की मिश्रा गार्डन कालोनी की है...

ताजमहल निर्माण पर याचिका की सुनवाई से सुप्रीमकोर्ट का इंकार, कहा-किसी इमारत की...

0
ताजमहल के निर्माण के बारे में अब तक गलत जानकारी दिए जाने का दावा करने वाली याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने मना...

JNU मामले पर बोले हरियाणा के गृहमंत्री, ऐसी सोच देश के लिए है घातक

0
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी कैंपस की इमारतों पर लिखे गए ब्राह्मण विरोधी नारों को देखते ही देश में आक्रोश का मौहोल है। इतना ही नहीं...

क्या एग्जिट पोल सनसनी हैं या वाकई होते हैं विश्वसनीय, क्या होती है इसकी...

0
हिमाचल प्रदेश और गुजरात में 05 दिसंबर को शाम 06 बजे के बाद जब चुनाव आयोग मतदान खत्म करने की घोषणा के साथ वोटिंग...

बड़ी ख़बर: चमोली में वाहन दुर्घटना, दो की मौत, तीन घायल

0
उत्‍तराखंड में चमोली जिले के गोपेश्वर घिंघराण मोटर मार्ग पर रविवार देर रात एक बड़ा हादसा हो गया। बताया जा रहा है कि यह...
%d bloggers like this: