गंगा दशहरा आज: दान-पुण्य और मोक्ष प्राप्ति के लिए जाना जाता है ‘गंगा पर्व’, स्नान करने घाटों पर उमड़े श्रद्धालु

देश में गंगा दशहरा धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है. इस दिन गंगा में स्नान और दान करने की परंपरा है. आज मां गंगा का दिन है. यह ‘गंगा पर्व’ के रूप में भी मनाया जाता है. ‌पौराणिक मान्यता है कि जीवनदायिनी गंगा आज ही के दिन धरती पर अवतरित हुईं थीं. हरिद्वार, ऋषिकेश, काशी और प्रयागराज आदि स्थानों पर सुबह से ही गंगा में स्नान करने के लिए श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ा हुआ है. इसके लिए उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की सरकारों ने गंगा घाटों पर सुरक्षा व्यवस्था के मजबूत प्रबंध किए हैं. ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा का पर्व मनाया जाता है. माना जाता है कि इस दिन गंगा स्नान करने से जन्म-जन्मांतक के पाप धुल जाते हैं.

इसीलिए इस दिन गंगा स्नान का धार्मिक महत्व काफी बढ़ जाता है. कहा जाता है कि इस दिन गंगा नदी में स्नान करने और दान-पुण्य करने से व्यक्ति को पापों से मुक्ति मिलती है और मोक्ष की प्राप्ति होती है. साथ ही इस दिन मंगल कार्य या फिर पूजा अनुष्ठान करना भी बेहद शुभ माना जाता है. गंगा दशहरा की दशमी तिथि गुरुवार सुबह 8 बजकर 23 मिनट से लेकर शुक्रवार, 10 जून को सुबह 7 बजकर 27 मिनट तक रहेगी. इस बीच शुभ घड़ी में आप किसी भी समय आस्था की डुबकी लगा सकते हैं.

गंगा दशहरा पर आज चार शुभ योगों का बन रहा है महासंयोग

आज गंगा दशहरा पर चार शुभ योग का महासंयोग का निर्माण भी बन रहा है, जो बेहद ही फलदाई माना जाता है. ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक आज वृषभ राशि में सूर्य-बुध की युति से बुधादित्य योग बन रहा है. साथ ही गुरु, चंद्रमा और मंगल का दृष्टि संबंध होने के कारण महालक्ष्मी और गजकेसरी योग का निर्माण हो रहा है. इसके अलावा पूरे दिन रवि योग रहेगा. ऐसे में इन चार शुभ संयोगों में स्नान और दान का महत्व काफी बढ़ गया है‌. इस दिन गंगा नदी के किनारे जाकर पूजा और आरती करनी चाहिए. इस दिन शिवलिंग पर गंगाजल चढ़ाने से बीमारियां दूर होती हैं और उम्र बढ़ती है. वहीं शंख में गंगाजल भरकर भगवान विष्णु का अभिषेक करने से महापुण्य मिलता है. धार्मिक मान्यता के अनुसार, गंगा मां की आराधना करने से दस प्रकार के पापों से मुक्ति मिलती है. गंगा ध्यान एवं स्नान से प्राणी काम, क्रोध, लोभ, मोह, मत्सर, ईर्ष्या, ब्रह्महत्या, छल, कपट, परनिंदा जैसे पापों से मुक्त हो जाता है. गंगा दशहरा के दिन भक्तों को मां गंगा की पूजा-अर्चना के साथ दान-पुण्य भी करना चाहिए. गंगा दशहरा के दिन सत्तू, मटका और हाथ का पंखा दान करने से दोगुना फल की प्राप्ति होती है.

राजा भागीरथ के कठोर तपस्या के बाद मां गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुई थी

पौराणिक कथा के अनुसार राजा भागीरथ ने मां गंगा को पृथ्वी पर लाने के लिए बहुत ही कठोर तपस्या की थी. उसके बाद गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुईं. बता दें कि राजा भागीरथ को अपने पूर्वजों को मुक्ति प्रदान करने के लिए गंगा के जल में तर्पण करना था. लेकिन उस वक्त गंगा माता केवल स्वर्ग में ही निवास करती थीं. मां गंगा को धरती पर लाने के लिए हिमालय की तरफ चले गए और कठोर तपस्या करने लगे. भागीरथ की तपस्या से प्रसन्न होकर गंगा देवी ने धरती पर आने की विनती स्वीकार कर ली. लेकिन उस समय भी एक परेशानी यह थी कि गंगा नदी का वेग बहुत ज्यादा होने के कारण यदि वह धरती पर एक भी कदम रखती तो विनाश हो सकता था. राजा भागीरथ को जब इस बात का पता चला कि भगवान शिव ही केवल गंगा के वेग को संभाल सकते हैं तो फिर वह भोलेनाथ की तपस्या में लीन हो गए.

एक साल तक राजा भागीरथ पैर के अंगूठे के सहारे खड़े होकर ही भगवान शिव की तपस्या करते रहे. तब राजा की तपस्या से खुश होकर भोलेनाथ ने गंगा को धरती पर लाने की उनकी विनती स्वीकार कर ली. इसके बाद भगवान ब्रह्मा ने अपने कमंडल से गंगा की धारा को प्रवाहित किया. तब जाकर गंगा नदी पहली बार पृथ्वी पर अवतरित हुईं. फिर राजा भागीरथ ने अपने पूर्वजों का गंगा जल से तर्पण करके उन्हें मुक्ति दिलाई.

Related Articles

Latest Articles

हल्द्वानी: कपड़े के गोदाम में लगी भीषण आग, लाखों का सामान खाक

0
हल्द्वानी से बड़ी खबर सामने आ रही है. यहां नैनीताल रोड के पास अंबिका बिहार कॉलोनी में मंगलवार को एक कपड़े के गोदाम में...

उत्तरकाशी में खुला कजरिया सेरेमिक्स लिमिटेड का भव्य शोरूम

0
उत्तरकाशी से सटे बड़ेथी में मनेरा- बायपास मोटर मार्ग पर कजरिया सेरेमिक्स लिमिटेड के भव्य शोरूम प्राइम प्लस का मंगलवार को आम जनता...

उत्तराखंड में बदला माैसम, यमुनोत्री धाम समेत आस पास के क्षेत्र में बारिश शुरू

0
उत्तराखंड में आज दोपहर बाद मौसम का रुख काफी बदल गया। यमुनोत्री धाम सहित यमुना घाटी में बारिश की शुरुआत हो गई है। वहीं,...

नैनीताल: गेठिया के जंगल में मिला सड़ा- गला शव, नहीं हो पाई मृतक की...

0
नैनीताल| मंगलवार को गेठिया के जंगल में एक अज्ञात व्यक्ति का सड़ा-गला शव मिलने की सूचना से सनसनी फैल गयी. शव बेहद सड़ा- गला...

जय श्रीराम से गूंजा देहरादून शहर,निकली भव्य शोभायात्रा, जगह-जगह सुंदरकांड पाठ

0
हनुमान जन्मोत्सव के अवसर पर देहरादून में जयश्री राम के जयकारों की गूंज सुनाई दी। शहर ने भव्य शोभायात्रा का आयोजन किया, जिसमें सुंदरकांड...

चैत्र पूर्णिमा पर धरती के सबसे करीब होगा चांद, जानें क्यों कहा जा रहा...

0
हिंदू धर्म में तिथियों और नक्षत्रों का काफी महत्व होता है. तिथियों में भी कुछ तिथियां अतिविशिष्ट मानी जाती हैं. इन तिथियों को लेकर...

अरविंद केजरीवाल की शराब घोटाला मामले में बढ़ी न्यायिक हिरासत, सात मई को होगी...

0
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ शराब घोटाले के आरोप में न्यायिक हिरासत की मुद्दा एक बार फिर से सुर्खियों में है। राजनीतिक...

राजस्थान रॉयल्स ने मुंबई इंडियंस को नौ विकेट से हराया, जमकर बरसे यशस्वी जायसवाल,...

0
राजस्थान रॉयल्स ने अपनी शानदार खेलप्रदर्शन के साथ मुंबई इंडियंस को नौ विकेट से हराकर सीजन की सातवीं जीत हासिल की। इस विजय के...

01 मई से बदलने वाले हैं रुपए-पैसे संबंधी ये नियम

0
वैसे तो हर माह की 1 तारीख रुपए-पैसे संबंधी नियमों के लिए खास होती है. लेकिन 1 मई को आम आदमी से जुड़े कई...

यूपीएससी के सीडीएस 2 फाइनल का रिजल्ट हुआ जारी, जाने पूरा विवरण

0
संघ लोक सेवा आयोग ने यूपीएससी सीडीएस 2 के अंतिम परिणाम घोषित हो चुका हैं, जिसमें संयुक्त रक्षा सेवा परीक्षा (II) 2023 के उम्मीदवारों...