पूर्वोत्तर के शिवाजी: इतिहास के पन्नों में उचित सम्मान पाने से वंचित रहे लचित बरफुकन

आज महान योद्धा अहोम सेनापति लचित बरफुकन की 400वीं जन्म जयंती है। सेनापति लचित बरफुकन असम के एक ऐसे बहादुर योद्धा थे, जिन्होंने सीमित संसाधनों में मुगलों की विशाल सेना को, देशभक्ति और युद्ध कौशल के बल पर हराने का महान कार्य किया। जिस रूप में राजस्थान में महाराणा प्रताप को, महाराष्ट्र में शिवाजी को और पंजाब में गुरु गोबिंद सिंह को याद किया जाता है, उसी रूप में असम में लचित बरफुकन को भी याद किया जाता हैं।

बता दे कि जब भी असम में वीरगाथाओं की चर्चा होती है तो सरइघाट के युद्ध की चर्चा जरूर होती है, इसी युद्ध के महानायक लचित बरफुकन थे । इसी कारण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उन्हें भारत की ‘आत्मनिर्भर सेना का प्रतीक’ कहा है। हालांकि भारतीय इतिहास लेखन की भेदभावपूर्ण नीति के कारण इस योद्धा को इतिहास के पन्नों में स्थान नहीं मिल पाया जिसके वह हकदार थे। परन्तु अब असम और केंद्र सरकार की पहल पर लचित बरफुकन की वीरता, युद्ध कौशल और देशभक्ति की भावना से पूरे देश के लोगों का परिचय कराने के उद्देश्य से कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें -  नहीं रहे देश के जाने माने अर्थशास्त्री और पूर्व केंद्रीय मंत्री वाई. के. अलघ, 83 साल की उम्र में हुआ निधन

भारत के बेहद खूबसूरत, उपजाऊ और महत्वपूर्ण राज्य पर वर्ष 1225 ई से लेकर 1826 तक अहोम साम्राज्य का शासन था। अहोम साम्राज्य की स्थापना म्यांमार के शान प्रांत से आए छोलुंग सुकफा नामक राजा ने की थी। वर्ष 1826 में यांडाबू की संधि के साथ ही अहोम साम्राज्य का शासन समाप्त हुआ और यह क्षेत्र ईस्ट इंडिया कंपनी के अधीन आ गया। उस समय असम की बहुसंख्यक जनता हिंदू थी, इसलिए अहोम राजा ने हिंदू धर्म के सिद्धांतों के अनुरूप ही शासन किया।

बता दे कि जब बख्तियार खिलजी एक विशाल सेना लेकर दिल्ली से निकला तो नालंदा विश्वविद्यालय को नष्ट करते हुए बंगाल को जीता, फिर असम पर आक्रमण किया, परंतु वहां के वीरों से हारकर वह लौट आया। साथ ही वर्ष 1639 में मुगल सेनापति अल्लाह यारखां ने भी असम पर आक्रमण किया। अहोम राजाओं की आपसी फूट के कारण वह पश्चिमी असम पर कब्जा करने में सफल हुआ, लेकिन कुछ ही समय बाद राजा जयध्वज सिंह ने पश्चिमी असम से मुगलों को खदेड़ दिया।
इसके बाद जब औरंगजेब राजा बना तो उसने अपने सेनापति मीर जुमला को विशाल सेना के साथ असम पर आक्रमण करने के लिए भेजा। वर्ष 1662 में मीर जुमला ने वहां के सेनापति को घूस देकर असम को जीत लिया। और वर्ष 1663 ई में अहोम राजाओं और मुगलों के मध्य संधि हुई। संधि की शर्तों के अनुसार अहोम राजा मुगलों को हर वर्ष कुछ लाख रुपये और कई सौ हाथी भेजने को राजी हुए। अहोम राजा की राजकुमारी का विवाह औरंगजेब के बेटे के साथ हुआ और उसका मतांतरण कराते हुए उसका नाम रहमत बानो रखा गया। अहोम साम्राज्य की जनता और राजा जयध्वज के स्वाभिमान को इस संधि से काफी धक्का लगा और वे इस संधि को तोड़कर मुगलों से बदला लेना चाहते थे।

यह भी पढ़ें -  हरिद्वार में गैस सिलिंडर फटने से ढाबे में लगी आग, चार घायल

छत्रपति शिवाजी की सेना की तरह अहोम सैनिक भी गुरिल्ला युद्ध में विशेषज्ञ थे। लाचित बोड़फुकन की युद्ध नीति भी शिवाजी की तरह ही थी। यही कारण है कि लाचित को पूर्वोत्तर का शिवाजी भी कहा जाता है और यह केवल संयोग नहीं है कि औरंगजेब को दोनों से हार का सामना करना पड़ा।

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,250FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 08-12-2022: आज मीन राशि की आय में होगी वृद्धि, पढ़े अपना दैनिक राशिफल

0
मेष-: मन परेशान रहेगा. किसी मित्र के सहयोग से कारोबार का विस्तार हो सकता है. यात्रा पर जा सकते हैं. खर्चों में वृद्धि होगी....

08 दिसम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 08 दिसम्बर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

यूपी: योगी सरकार ने एक बार फिर किया बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, 6 आईपीएस अफसरों...

0
उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से बड़ा प्रशासनिक फेरबदल देखने को मिला है. निकाय चुनाव से पहले यूपी सरकार ने नोटिस जारी करते...

हिमाचल प्रदेश: चुनावी नतीजे से पहले कांग्रेस ने 30 नेताओं को पार्टी से किया...

0
हिमाचल प्रदेश में चुनावी नतीजे आने के एक दिन पहले ही कांग्रेस ने 30 नेताओं की छुट्टी कर दी. इन नेताओं को पार्टी से...

Ind vs Bang: श्रेयस-अक्षर और रोहित के अर्धशतक पर फिरा पानी, बांग्लादेश के हाथों...

0
बांग्लादेश ने 3 मैचों की दूसरे वनडे इंटरनेशनल मैच में भारत को 5 रन से हराकर 3 मैचों की सीरीज में 2-0 की अजेय...

देहरादून: उच्च शिक्षा चिंतन शिविर में शामिल हुए सीएम धामी

0
बुधवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने डी.आई.टी कॉलेज, देहरादून में आयोजित उच्च शिक्षा चिंतन शिविर के अंतर्गत राज्य स्तरीय नैक प्रत्यायन कार्यशाला एवं...

MCD Election Result: एमसीडी में आप के 3, बीजेपी के 10 और कांग्रेस के...

0
दिल्ली नगर निगम चुनाव के नतीजे अब पूरी तरह साफ हो चुके हैं. दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी ने एमसीडी चुनाव में 134...

कल जारी होंगे पुलिस कांस्टेबल भर्ती के एडमिट कार्ड, 18 को होगी परीक्षा

0
उत्तराखंड में पुलिस कांस्टेबल के 1521 पदों पर भर्ती की परीक्षा के लिए लोक सेवा आयोग आठ दिसंबर को एडमिट कार्ड जारी करेगा। बता...

हरिद्वार में गैस सिलिंडर फटने से ढाबे में लगी आग, चार घायल

0
बीते मंगलवार की देर रात हरिद्वार रानीपुर कोतवाली क्षेत्र में ढाबे के पीछे कमरे में गैस सिलिंडर लीक होने के बाद आग लगने से...

बिहार में योगगुरु बाबा रामदेव और बालकृष्ण के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज, पढ़े...

0
बेगूसराय| बिहार में योगगुरु बाबा रामदेव और उनके सहयोगी बालकृष्ण के खिलाफ धोखाधड़ी के एक मामले में समन जारी हुआ है. दरअसल बेगूसराय जिला...
%d bloggers like this: