मकर संक्रांति विशेष: मांगलिक शुभ कार्य और पतंगोत्सव के साथ मौसम परिवर्तन की भी शुरुआत करता है ये पर्व

आज एक ऐसा पवित्र पर्व है जिसको लेकर हमारे देश में प्राचीन समय से कई परंपराएं चली आ रही हैं. इस दिन मांगलिक कार्यों की शुरुआत के साथ मौसम में भी परिवर्तन होना शुरू हो जाता है. इसके साथ यह पर्व स्नान, दान-पुण्य और पतंग उड़ाने की परंपरा के लिए भी जाना जाता है. आज 14 जनवरी है इस दिन हिंदुओं का त्योहार मकर संक्रांति मनाया जाता है.

इस त्योहार को खिचड़ी पर्व भी कहा जाता है. वहीं दक्षिण के राज्यों में पोंगल पर्व भी मनाया जाता है. इस बार मकर संक्रांति को लेकर ज्योतिषियों की अलग-अलग राय है. कोई 14 जनवरी तो कोई 15 जनवरी को इस पर्व को मनाना शुभ मान रहा है. पौष माह की शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को मकर संक्रांति का त्योहार मनाया जाता है. मकर संक्रांति की तिथि सूर्य देव की चाल तय करती है.

जब सूर्य धनु से निकलकर शनि देव की राशि मकर में प्रवेश करते हैं, तो मकर संक्रांति का त्योहार मनाया जाता है. हिंदू धर्म में मकर संक्रांति पर्व का विशेष महत्व माना जाता है. इस दिन किया गया गंगा स्नान, खिचड़ी, गर्म वस्त्र, तिल, चावल, घी, कंबल, गुड़ के दान और भगवान के दर्शन से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है. यह दिन बड़ा पावन माना जाता है क्योंकि इस दिन से खरमास का अंत होता है, जिससे मांगलिक कार्यों की शुरुआत होती है. इस दिन गंगा में स्नान एवं दान पुण्य करना उत्तम माना जाता है. मकर संक्रांति के दिन से मौसम में बदलाव शुरू हो जाता है, सूर्य के प्रकाश में गर्मी और तपन बढ़ने लगती है. इसे शीत ऋतु के समापन और वसंत ऋतु के आगमन का प्रतीक माना जाता है.

इस बार पुण्यकाल 14 जनवरी को सुबह 07 बजकर 15 मिनट से शुरू होकर शाम 05 बजकर 44 मिनट तक रहेगा. तथा महापुण्य काल सुबह 09 बजे से शुरू होकर 10:30 तक रहेगा. मकर संक्रांति पर पुण्य काल 14 जनवरी की रात 08:49 से प्रारंभ होकर 15 जनवरी के दिन दोपहर 12:49 तक समाप्त हो जाएगा.

मकर संक्रांति के दिन पतंग उत्सव को भी त्योहार के रूप में मनाया जाता है

मकर संक्रांति का पर्व केवल दान-पुण्य के लिए नहीं जाना जाता बल्कि इस दिन पतंग उड़ाने की परंपरा भी चली आ रही है. पतंग उड़ाना इस त्योहार की एक तरह से रस्म है. बच्चे हों या युवा हर कोई पतंग उड़ाने के लिए इस दिन बेसब्री से इंतजार करते हैं. सुबह से ही आसमान में हर तरह रंग-बिरंगी पतंगें छा जाती हैं. कई जगहों पर तो पतंगोत्सव का भव्य आयोजन भी किया जाता है और प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाती हैं.

पतंग उड़ाने की परंपरा भगवान श्रीराम ने की थी. पुराणों में उल्लेख है कि मकर संक्रांति पर पहली बार भगवान श्रीराम ने पतंग उड़ाई थी और ये पतंग उड़ते हुए स्वर्गलोक में इंद्र के पास जा पहुंची. इसका उल्लेख तमिल की तन्दनानरामायण में भी मिलता है. भगवान ने इस पतंग पर संदेश लिख कर इंद्रदेव को दिया था. मान्यता है कि संक्रांति पर अपनी मनोकामना यदि पतंग पर लिख कर उड़ाया जाए तो वह ईश्वर तक पहुंचती है और आस पूरी होती है. पतंग उड़ाने की मान्यता का मकर संक्रांति के साथ संबंध है. इसके पीछे अच्छी सेहत का राज है. दरअसल मंकर संक्रांति पर सूरज से मिलने वाली धूप से स्वास्थ्य लाभ होता है. वैज्ञानिक दृष्टि से इस दिन सूर्य की किरण शरीर के लिए अमृत समान है, जो विभिन्न रोगों को दूर करने में सहायक होती है.

Related Articles

Latest Articles

पांचवे चरण के मतदान से पहले चुनाव आयोग ने जब्त किए 8889 करोड़ रुपये

0
लोकसभा चुनाव 2024 के पांचवे चरण का चुनाव में 2 दिन बचे हैं. इस बीच चुनाव आयोग इलेक्शन के दौरान वोटरों को लुभाने के...

स्वाति मालीवाल मामला: बिभव कुमार की याचिका कोर्ट से खारिज, जानें आगे क्या होगा

0
स्वाति मालीवाल मारपीट मामले में लगातार अपडेट सामने आ रहे हैं. शनिवार को इस घटनाक्रम में उस वक्त नया मोड़ आया जब दिल्ली पुलिस...

हल्द्वानी-रामनगर मार्ग पर अज्ञात वाहन और कार की जोरदार भिड़ंत, दो की मौत-तीन घायल

0
हल्द्वानी से बड़े हादसे की खबर सामने आ रही है. शुक्रवार देर रात को हल्द्वानी-रामनगर मार्ग पर अज्ञात वाहन और कार की जोरदार भिड़ंत...

भारतीय टीम टी 20 वर्ल्ड कप के लिए तैयार, टूनामेंट जल्द होगी टीम रवाना

0
आईपीएल 2024 सीजन अब अपने अंतिम चरण में है और अगले रविवार को इसका फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। इस मौजूदा सीजन के समाप्त होते...

दिल्ली: स्वाति मालीवाल की मेडिकल रिपोर्ट आई सामने, दाहिने गाल और बाएं पैर पर...

0
दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सांसद स्वाति मालीवाल की मेडिकल रिपोर्ट में उनके बाएं पैर और दाहिने गाल पर चोट के निशान पाए...

हाईकोर्ट शिफ्टिंग को लेकर कांग्रेस ने भाजपा पर साधा निशाना, कुमाऊं-गढ़वाल के बीच दंगल...

0
उत्तराखंड के कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता और पूर्व राज्यमंत्री डॉ. गणेश उपाध्याय ने हाल ही में एक बयान में कहा है कि हाईकोर्ट के मुद्दे...

सीएम धामी ने चारधाम यात्रा को लेकर की बैठक, अधिकारियों को जनता से फीडबैक से दिए...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वर्चुअल माध्यम से चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए चार धाम ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन व्यवस्था को और अधिक प्रभावी...

उत्तराखंड में बढ़ती गर्मी के साथ ही बढ़ी बिजली की मांग, मैदानी जिलों में...

0
लगातार बढ़ती गर्मी के साथ-साथ बिजली की मांग ने अब एक रिकॉर्ड 5.5 करोड़ के पार पहुंच गई है। इस मौसम में मैदानी जिलों...

हल्द्वानी: 14 साल बाद 41 पार हुआ पारा, बाजारों में कर्फ्यू जैसे हालात

0
कुमाऊं में इस समय मौसम का अलग-अलग मिजाज देखने को मिल रहा है। पहाड़ी जिलों में हल्की बारिश की फुहारों ने मौसम को सुहावना...

यमनोत्री मार्ग पर कई घोड़ो की मौत, श्रद्धालुओं के साथ साथ बेजुबानों के लिए भी...

0
भडेलीगाड यमुनोत्री वैकल्पिक मार्ग पर एक घोड़े की मौत ने वन विभाग की लचर कार्यप्रणाली को उजागर कर दिया है। इस मार्ग की दुर्दशा...