नवाज शरीफ की बेटी मरियम ने की PM मोदी की जमकर तारीफ कहा- मोदी चलकर घर तक आए

नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज ने रविवार को इमरान खान की सरकार पर हमला बोलने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सहारा लिया. मरियम नवाज लाहौर में पीएमएल-एन यानी पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज के युवा सम्मेलन को संबोधित कर रही थीं.

नवाज शरीफ अभी लंदन में रह रहे हैं और मरियम नवाज पीएमएल-एन का नेतृत्व खुद ही कर रही हैं. इस सम्मेलन के संबोधन में मरियम ने कहा, ”नवाज शरीफ का विजन देखो चाइना पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर. नवाज शरीफ का विजन देखो, वाजपेयी और मोदी का घर चलकर आना.”

अपनी पार्टी के युवा सम्मेलन को संबोधित करते हुए मरियम ने कहा, ”नवाज शरीफ की हिम्मत देखो, इमरान खान पनामा लाए लेकिन मेरे पिता झुके नहीं. नवाज शरीफ डटा रहा. पनामा लाने के बाद इस्तीफा देने को कहा. नवाज शरीफ ने ना इस्तीफा दिया और न ही घर गए.

नवाज शरीफ ने अवाम का परचम बुलंद रखा. जब कुछ नहीं चला तो झूठे मुकदमे में फंसाया. ये होता है अवाम की इज्जत को तवज्जो देने वाला प्रधानमंत्री. ये होता है तारीख की धारा मोड़ने वाला प्रधानमंत्री.”

अटल बिहारी वाजपेयी 1999 में पाकिस्तान बस से गए थे. तब नवाज शरीफ ही प्रधानमंत्री थे. 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अचानक से पाकिस्तान चले गए थे. पीएम मोदी तब अफगानिस्तान गए थे और वहीं से लौटते वक्त इस्लामाबाद उतर गए थे. उस दिन नवाज शरीफ का जन्मदिन था.

तब हर कोई हैरान रह गया था. पीएम मोदी नवाज शरीफ के घर गए थे और उनकी मां के लिए साड़ी भी ले गए थे. हालांकि, इस दौरे से दोनों देशों के संबंधों पर कोई फर्क नहीं पड़ा है. बाद में आतंकवादी हमले हुए तो विपक्ष ने पीएम मोदी को निशाने पर लिया और पाकिस्तान दौरे की आलोचना की.

दरअसल, भारत का स्टैंड रहा था कि आतंकवाद और संवाद एक साथ नहीं चल सकता. ये बात भी अटल बिहारी वाजपेयी ने ही की थी.
वाजपेयी के दौरे के बाद पाकिस्तान ने करगिल पर हमला कर दिया था. तब जनरल परवेज मुशर्रफ पाकिस्तान के सेना प्रमुख थे और उन्होंने करगिल पर हमले में अहम भूमिका अदा की थी. इधर प्रधानमंत्री वाजपेयी और नवाज शरीफ में वार्ता चल रही थी और दूसरी तरफ पाकिस्तान करगिल में घुसपैठ कर अहम ठिकानों पर कब्जा कर रहा था.

वाजपेयी की दौरे की भी भारत में विपक्षी पार्टियों ने खूब आलोचना की थी. विपक्ष का कहना था कि सरकार का खुफिया तंत्र ध्वस्त हो गया क्योंकि प्रधानमंत्री वार्ता करने पाकिस्तान जा रहे थे जबकि पाकिस्तान हमले में लगा हुआ था. विपक्ष ने कहा कि वाजपेयी सरकार को इसकी भनक तक नहीं लगी.

मनमोहन सिंह 10 साल प्रधानमंत्री रहे लेकिन उन्होंने पाकिस्तान का कोई भी दौरा नहीं किया. कांग्रेस इस बात को अपनी उपलब्धि के तौर पर गिनाती है. मनमोहन सिंह का जन्म अविभाजित भारत में हुआ था और वो हिस्सा अब पाकिस्तान में है.

रविवार को मरियम, अटल बिहारी वाजपेयी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे को नवाज शरीफ के विजन की सफलता को तौर पर पेश कर रही थीं. पाकिस्तान ने भारत के इन दौरे को लेकर भरोसा तोड़ा और दोनों देशों के बीच बातचीत को लेकर कोई ठोस नतीजे की उम्मीद जाती रही.

अब पाकिस्तान की तरफ से बातचीत का कोई प्रस्ताव भी आता है तो भारत अतीत के अनुभवों को देखते हुए बहुत उत्साह नहीं दिखाता है.

Related Articles

Latest Articles

पांचवे चरण के मतदान से पहले चुनाव आयोग ने जब्त किए 8889 करोड़ रुपये

0
लोकसभा चुनाव 2024 के पांचवे चरण का चुनाव में 2 दिन बचे हैं. इस बीच चुनाव आयोग इलेक्शन के दौरान वोटरों को लुभाने के...

स्वाति मालीवाल मामला: बिभव कुमार की याचिका कोर्ट से खारिज, जानें आगे क्या होगा

0
स्वाति मालीवाल मारपीट मामले में लगातार अपडेट सामने आ रहे हैं. शनिवार को इस घटनाक्रम में उस वक्त नया मोड़ आया जब दिल्ली पुलिस...

हल्द्वानी-रामनगर मार्ग पर अज्ञात वाहन और कार की जोरदार भिड़ंत, दो की मौत-तीन घायल

0
हल्द्वानी से बड़े हादसे की खबर सामने आ रही है. शुक्रवार देर रात को हल्द्वानी-रामनगर मार्ग पर अज्ञात वाहन और कार की जोरदार भिड़ंत...

भारतीय टीम टी 20 वर्ल्ड कप के लिए तैयार, टूनामेंट जल्द होगी टीम रवाना

0
आईपीएल 2024 सीजन अब अपने अंतिम चरण में है और अगले रविवार को इसका फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। इस मौजूदा सीजन के समाप्त होते...

दिल्ली: स्वाति मालीवाल की मेडिकल रिपोर्ट आई सामने, दाहिने गाल और बाएं पैर पर...

0
दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सांसद स्वाति मालीवाल की मेडिकल रिपोर्ट में उनके बाएं पैर और दाहिने गाल पर चोट के निशान पाए...

हाईकोर्ट शिफ्टिंग को लेकर कांग्रेस ने भाजपा पर साधा निशाना, कुमाऊं-गढ़वाल के बीच दंगल...

0
उत्तराखंड के कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता और पूर्व राज्यमंत्री डॉ. गणेश उपाध्याय ने हाल ही में एक बयान में कहा है कि हाईकोर्ट के मुद्दे...

सीएम धामी ने चारधाम यात्रा को लेकर की बैठक, अधिकारियों को जनता से फीडबैक से दिए...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वर्चुअल माध्यम से चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए चार धाम ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन व्यवस्था को और अधिक प्रभावी...

उत्तराखंड में बढ़ती गर्मी के साथ ही बढ़ी बिजली की मांग, मैदानी जिलों में...

0
लगातार बढ़ती गर्मी के साथ-साथ बिजली की मांग ने अब एक रिकॉर्ड 5.5 करोड़ के पार पहुंच गई है। इस मौसम में मैदानी जिलों...

हल्द्वानी: 14 साल बाद 41 पार हुआ पारा, बाजारों में कर्फ्यू जैसे हालात

0
कुमाऊं में इस समय मौसम का अलग-अलग मिजाज देखने को मिल रहा है। पहाड़ी जिलों में हल्की बारिश की फुहारों ने मौसम को सुहावना...

यमनोत्री मार्ग पर कई घोड़ो की मौत, श्रद्धालुओं के साथ साथ बेजुबानों के लिए भी...

0
भडेलीगाड यमुनोत्री वैकल्पिक मार्ग पर एक घोड़े की मौत ने वन विभाग की लचर कार्यप्रणाली को उजागर कर दिया है। इस मार्ग की दुर्दशा...