विश्व गौरैया दिवस: आओ सुने चहचहाहट, घर-आंगन में फिर नन्ही चिड़िया की फुर-फुर उड़ान लौटाएं

घर-आंगन और पेड़ पर नन्ही सी चिड़िया फुर से उड़ जाती, फिर आ जाती. चिड़िया की चहचहाहट के बीच कई यादें आज भी बनी हुई है.

सभी ने बचपन चिरैया के साथ बिताया होगा, इसकी नटखट शरारतों ने लुभाया होगा.

आज विश्व गौरैया दिवस है। इस मौके पर प्यारी नन्ही सी चिड़िया के बारे में चर्चा की जाए.

घर के आंगन में ची ची करने वाली गौरैया अब कम ही नजर आती है, इसकी चहचहाट भी कम होती जा रही है. गौरैया को शुरू से ही मनुष्य से नजदीकी पसंद आई हैं.

इसलिए यह आबादी के पास स्थित घरों में घोंसला बनाकर रहती है. पहले शहरों में मकान खुले होते थे । घरों के आसपास के पेड़ों की संख्या भी ज्यादा थी.

गौरैया आसानी से घर के अंदर घोंसला बना लेती थी. घरों की बाहरी दीवार में बने मोखला भी गौरैया का घर होते थे. समय के साथ मकान बनाने में परिवर्तन आते गए.

अब मकान छोटे और पूरी तरह बंद हो गए हैं. घरों के आसपास पेड़ भी नहीं रहे इस वजह से गौरैया के घोंसले विलुप्त हो गए हैं.

गौरैया की संख्या कम होने का बड़ा कारण यह भी है कि देश भर में वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण के बढ़ते प्रभाव और पर्यावरण में पिछले कुछ वर्षों से हो रहे परिवर्तन की गौरैया तेजी से विलुप्त होती जा रही है. विश्व गौरैया दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य इस चिरैया की रक्षा और संरक्षण करना है.

‌बता दें कि इस वर्ष विश्व गौरैया दिवस की थीम ‘आई लव स्पैरो’ है. विषय इस उम्मीद से प्रेरित है कि अधिक से अधिक लोग उस बंधन का जश्न मनाने के लिए आगे आएंगे जो अतीत में मनुष्यों के साथ रहा है.

साल 2010 से विश्व गौरैया दिवस मनाने की हुई थी शुरुआत

देश और दुनिया भर में तेजी से लुप्त होती जा रही गौरैया को बचाने, और इसके संरक्षण के उद्देश्य से 20 मार्च, साल 2010 में विश्व गौरैया दिवस मनाने की शुरुआत की गई थी.

उसके बाद, हर साल इस दिन को दुनिया भर में गौरैयों और पर्यावरण से प्रभावित अन्य आम पक्षियों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है

भारत में द नेचर फॉरएवर सोसाइटी ने विश्व गौरैया दिवस मनाने के लिए एक अंतरराष्ट्रीय पहल शुरू की.

यह सोसाइटी फ्रांस के इको-सिस एक्शन फाउंडेशन के सहयोग से काम करती है. द नेचर फॉरएवर सोसाइटी की स्थापना एक भारतीय संरक्षणवादी मोहम्मद दिलावर ने की थी, जिन्होंने नासिक में घरेलू गौरैयों की मदद करने के लिए अपना काम शुरू किया था.

बता दें कि भारत के अलावा एशिया महाद्वीप के तमाम बड़े देशों चीन, पाकिस्तान, बांग्लादेश श्रीलंका, नेपाल, म्यामार के अलावा अमेरिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, महाद्वीप के तमाम देशों में भी गौरैया की तमाम प्रजातियां पाई जाती हैं.

लेकिन पर्यावरण में आए बदलाव और इंसानों की बदलती जीवन शैली से गौरैया पूरी दुनिया से तेजी से कम हो रही है. गौरैया संरक्षण के लिए हम अपनी छत पर दाना-पानी रखें, अधिक से अधिक पेड़- पौधे लगाएं, उनके लिए कृत्रिम घोंसलों का निर्माण करें.

दूसरों को गौरैया संरक्षण के प्रति जागरूक करें. आओ एक बार फिर गौरैया को घर आंगन में लाएं इनकी भी सुने, इनके साथ कुछ समय बिताएं.

आज विश्व गौरैया दिवस के अवसर पर आओ हम सभी लोग एक बार फिर से इस नन्ही चिड़िया को याद करें और इसकी एक बार फिर से ची ची की आवाज सुने.

शंभू नाथ गौतम

Related Articles

Latest Articles

चमोली के जोशीमठ के नाम बदलने के प्रस्‍ताव को मंजूरी, नीम करौली बाबा के...

0
देहरादून| केंद्र सरकार ने उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित जोशीमठ का नाम बदलकर उसके प्राचीन नाम ज्योतिर्मठ करने का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया...

ओडिशा: मोहन चरण माझी ने ली सीएम पद की शपथ, समारोह में पीएम मोदी...

0
ओडिशा में पहली बार भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है. ओडिशा के मनोनीत मुख्यमंत्री मोहन चरण माझी ने भुवनेश्वर के जनता मैदान में...

पीएम मोदी पहुंचे सीएम चंद्रबाबू नायडू के शपथ ग्रहण समारोह में, पवन कल्याण से...

0
आज बुधवार को तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। इस अवसर...

देहरादून: सीएस ने सिंचाई विभाग को जल स्रोतों एवं नदियों के पुनर्जीवीकरण के प्रोजेक्ट...

0
सीएस राधा रतूड़ी ने लोक निर्माण, सिंचाई, पशुपालन, स्कूली शिक्षा, कौशल तथा तकनीकी शिक्षा विभाग को 24 घण्टे की डेडलाइन देते हुए अवशेष 383.11...

इटली में तोड़ी गई राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा, लगाये गए खालिस्तानी नारे

0
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इटली दौरे से ठीक पहले एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बुधवार को खालिस्तानी चरमपंथियों ने...

IRDAI ने पॉलिसीधारकों को दी आजादी, कभी भी कैंसिल करा सकते है पॉलिसी

0
देशभर के करोड़ों इंश्योरेंस पॉलिसीधारकों के लिए एक राहत की खबर है. बीमा नियामक संस्था, भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने लोगों...

उत्तरप्रदेश: अखिलेश यादव ने करहल विधानसभा सीट से दिया इस्तीफा

0
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अब केंद्र की राजनीति करने का निर्णय लिया है। उन्होंने करहल विधानसभा सीट की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया...

दक्षिणी कुवैत की एक बिल्‍डिंग में लगी भीषण आग, 4 भारतीय समेत 41 लोगों...

0
दक्षिणी कुवैत की एक बिल्‍ड‍िंग में लगी भीषण आग में 4 भारतीय समेत 35 लोगों की मौत हो गई. इस भीषण अग्‍न‍िकांड में बिल्डिंग...

30 जून के बाद कबाड़ हो जाएंगे इतने कार्ड, नहीं मिलेगा राशन-जरूर करा ले...

0
देश में करोड़ों की संख्या में ऐसे लोग हैं जो वास्तव में फ्री राशन के लिए पात्र ही नहीं है. लेकिन इसके बावजूद भी...

इस साल चारधाम यात्रा में वाहनों के ग्रीन कार्ड का बना रिकॉर्ड, शुरू से...

0
इस बार चारधाम यात्रा में ग्रीन कार्ड बनने का रिकॉर्ड बना है। यह पर्यटन सेक्टर के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है, जो प्राकृतिक संसाधनों...