उत्तराँचल टुडे विशेष: बॉलीवुड डायरेक्टर श्याम बेनेगल ने अपने निर्देशक करियर में सिनेमा को तीन भागों में दर्शकों तक पहुंचाया

हम आपको बता दें कि श्याम बेनेगल ने अपने निर्देशक की पारी में हिंदी सिनेमा को तीन भागों में विभक्त कर दर्शकों तक पहुंचाया. सत्तर और अस्सी के दशक में उन्होंने ‘अंकुर’ और ‘निशांत’ जैसी विद्रोही तेवर वाली फिल्मों का निर्देशन किया. इसके बाद वे ‘कलयुग’ तथा ‘त्रिकाल’ जैसी मध्यमार्गी फिल्मों की ओर लौटे, जिनमें प्रयोगवाद था. उसके बाद ‘मम्मो’, ‘सरदारी बेगम’ और ‘जुबैदा’ जैसी फिल्मों का निर्देशन किया. इन्हें सार्थक लोकप्रिय सिनेमा के नाम से पुकारा गया. बेनेगल ने वर्ष 1974 में फिल्म अंकुर का निर्माण किया था.

उसके बाद निशांत, मंथन, मंडी, सरदारी बेगम, मम्मो, सूरज का सातवां घोड़ा, वेल्कम टू सज्जनपुर, हरी भरी और आरोहण, कलयुग, जुबैदा जैसे कई खास फिल्‍में बनाकर कामयाबी की बुलंदियों को छुआ ‘अंकुर’ के लिए के लिए बेनेगल और शबाना दोनों को राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया था. ‘मंडी’ फिल्‍म बनाकर उन्‍होंने इस बात को साबित कर दिया कि वे इतनी बोल्‍ड फिल्‍म भी बना सकते हैं और सरदारी बेगम में उन्‍होंने समाज से लड़कर संगीत सिखने वाली एक महिला की कहानी पेश की, जिसे समाज स्‍वीकार नहीं करता. इन फिल्मों से वे निरंतर समाज की सोई हुई चेतना जगाने की प्रयास करते रहे. सत्‍यजीत रे के निधन के बाद श्याम बेनेगल ने ही उनकी विरासत को संभाल रखा है.

यह भी पढ़ें -  सोशल मीडिया पर छाए रहे योगी, जानें कैसे

डायरेक्टर बेनेगल ने बॉलीवुड को कई दिग्गज कलाकार भी दिए

श्‍याम बेनेगल ने न सिर्फ समानांतर फिल्‍मों को एक खास पहचान दिलाने में मदद की बल्कि भारतीय सिनेमा को बेहतरीन कलाकार दिए, जिनमें नसीरुद्दीन शाह, ओम पुरी, अमरीश पुरी, अनंत नाग, शबाना आजमी, स्मिता पाटिल और सिनेमेटोग्राफर गोविंद निहलानी प्रमुख हैं. श्‍याम बेनेगल ने 1200 से भी अधिक फिल्मों का सफल निर्देशन किया है. इसके अलावा उन्होंने टेलीविजन के छोटे पर्दे पर भी छाप छोड़ी है जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू द्वारा आजादी से पहले जेल में लिखी गई ‘डिस्कवरी ऑफ इंडिया’ को आधार बनाकर ‘भारत एक खोज’ के नाम से एक ऐसी टेलीविजन सीरीज भी पेश की जिसने भारतीय टेलीविजन के इतिहास में नया आयाम हासिल किया.

यह भी पढ़ें -  राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की सुरक्षा में हुई चूक पर 3 कमांडो बर्खास्त

इसके अलावा धारावाहिक ‘यात्रा’, ‘कथा सागर’ का भी निर्माण किया. नीरा बेनेगल उनकी पत्नी हैं और पुत्री पिया भी एक प्रसिद्ध कॉस्ट्यूम डिजाइनर हैं. भारत सरकार ने कला के क्षेत्र में उनको 1991 में ‘पद्मभूषण’ सम्मान प्रदान किया, 2007 में उन्हे भारतीय सिनेमा के सर्वश्रेष्ठ ‘दादा साहब फाल्के पुरस्कार’ से भी सम्मानित किया गया. अपनी फिल्मों आरोहण, जुनून, मंथन, निशांत और अंकुर को सर्वश्रेष्‍ठ फीचर फिल्‍म के लिए राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार मिला. बता दें कि 5 बार ‘राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार’ जीतने वाले श्याम बेनेगल एकमात्र फिल्म निर्देशक हैं.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,244FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 18-08-2022: आज इन राशियों के पूरे होंगे सभी काम

0
मेष: आज के दिन संतान की तरफ से कोई शुभ समाचार मिल सकता है. सामाजिक कार्यों में सहयोग दें. आर्थिक स्थिति बेहतर होगी. वृष:...

18 अगस्त 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 18 अगस्त 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

मुख्य सचिव ने की उत्तराखण्ड लैंडस्लाइड मिटिगेशन एंड मैनेजमेंट सेंटर की प्रगति की समीक्षा

0
देहरादून| बुधवार को मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने सचिवालय में उत्तराखण्ड लैंडस्लाइड मिटिगेशन एंड मैनेजमेंट सेंटर की प्रगति की समीक्षा की....

सीएम धामी ने कोटद्वार में अग्निवीरो के भर्ती कार्यक्रम में उपस्थित होकर युवाओं का...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी भूषण, सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी एवं महिला बाल विकास मंत्री रेखा आर्य के...

उत्तराखंड में जन्माष्टमी की छुट्टी में हुआ बदलाव, आदेश जारी

0
देहरादून| उत्तराखंड में कृष्ण जन्माष्टमी की छुट्टी अब 19 अगस्त को घोषित की गई है. पहले यह छुट्टी 18 अगस्त को तय की गई...

हल्द्वानी: 38 साल बाद ‘सियाचिन हीरो’ चंद्रशेखर हरबोला पंचतत्व में विलीन, बेटियों ने दी...

0
हल्द्वानी| लांस नायक चंद्रशेखर हरबोला का अंतिम संस्कार पूरे सैनिक सम्मान के साथ आज रानीबाग के चित्रशिला घाट पर किया गया. शहीद लांसनायक चंद्रशेखर...

सीएम धामी ने लांसनायक चन्द्रशेखर हर्बोला के पार्थिव देह पर पुष्पचक्र अर्पित कर दी...

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने 1984 में सियाचिन में ऑपरेशन मेघदूत के दौरान शहीद हुए लांसनायक चन्द्रशेखर हर्बोला के पार्थिव देह पर पुष्पचक्र अर्पित...

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की सुरक्षा में हुई चूक पर 3 कमांडो बर्खास्त

0
भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक के मामले में गृह मंत्रालय ने एक्शन लेते हुए 3 कमांडो को सर्विस...

बढ़ते कोरोना के मामलों को देख डीजीसीए सख्त, एयरलाइन्स को दिए ये निर्देश

0
देश में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए नागर विमानन महानिदेशालय यानी डीजीसीए सख्त हो गया है. डीजीसीए ने एयलाइन्स को निर्देश दिए...

क्या अब 5 साल तक के बच्चों की भी लेनी होगी ट्रेन टिकट! जानिए...

0
कई लोग ट्रेन से यात्रियों के साथ सफर करते हैं. बच्चों के साथ आरामदायक यात्रा के लिए भारतीय रेलवे कई सुविधाएं प्रदान करती है,...
%d bloggers like this: