spot_imgspot_img

उत्तराँचल टुडे विशेष: बॉलीवुड डायरेक्टर श्याम बेनेगल ने अपने निर्देशक करियर में सिनेमा को तीन भागों में दर्शकों तक पहुंचाया

हम आपको बता दें कि श्याम बेनेगल ने अपने निर्देशक की पारी में हिंदी सिनेमा को तीन भागों में विभक्त कर दर्शकों तक पहुंचाया. सत्तर और अस्सी के दशक में उन्होंने ‘अंकुर’ और ‘निशांत’ जैसी विद्रोही तेवर वाली फिल्मों का निर्देशन किया. इसके बाद वे ‘कलयुग’ तथा ‘त्रिकाल’ जैसी मध्यमार्गी फिल्मों की ओर लौटे, जिनमें प्रयोगवाद था. उसके बाद ‘मम्मो’, ‘सरदारी बेगम’ और ‘जुबैदा’ जैसी फिल्मों का निर्देशन किया. इन्हें सार्थक लोकप्रिय सिनेमा के नाम से पुकारा गया. बेनेगल ने वर्ष 1974 में फिल्म अंकुर का निर्माण किया था.

उसके बाद निशांत, मंथन, मंडी, सरदारी बेगम, मम्मो, सूरज का सातवां घोड़ा, वेल्कम टू सज्जनपुर, हरी भरी और आरोहण, कलयुग, जुबैदा जैसे कई खास फिल्‍में बनाकर कामयाबी की बुलंदियों को छुआ ‘अंकुर’ के लिए के लिए बेनेगल और शबाना दोनों को राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया था. ‘मंडी’ फिल्‍म बनाकर उन्‍होंने इस बात को साबित कर दिया कि वे इतनी बोल्‍ड फिल्‍म भी बना सकते हैं और सरदारी बेगम में उन्‍होंने समाज से लड़कर संगीत सिखने वाली एक महिला की कहानी पेश की, जिसे समाज स्‍वीकार नहीं करता. इन फिल्मों से वे निरंतर समाज की सोई हुई चेतना जगाने की प्रयास करते रहे. सत्‍यजीत रे के निधन के बाद श्याम बेनेगल ने ही उनकी विरासत को संभाल रखा है.

यह भी पढ़ें -  म्यूजिक कॉन्सर्ट के दौरान कैलाश खेर पर हुआ हमला, शख्स ने बोतल फेंक कर मारी

डायरेक्टर बेनेगल ने बॉलीवुड को कई दिग्गज कलाकार भी दिए

श्‍याम बेनेगल ने न सिर्फ समानांतर फिल्‍मों को एक खास पहचान दिलाने में मदद की बल्कि भारतीय सिनेमा को बेहतरीन कलाकार दिए, जिनमें नसीरुद्दीन शाह, ओम पुरी, अमरीश पुरी, अनंत नाग, शबाना आजमी, स्मिता पाटिल और सिनेमेटोग्राफर गोविंद निहलानी प्रमुख हैं. श्‍याम बेनेगल ने 1200 से भी अधिक फिल्मों का सफल निर्देशन किया है. इसके अलावा उन्होंने टेलीविजन के छोटे पर्दे पर भी छाप छोड़ी है जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू द्वारा आजादी से पहले जेल में लिखी गई ‘डिस्कवरी ऑफ इंडिया’ को आधार बनाकर ‘भारत एक खोज’ के नाम से एक ऐसी टेलीविजन सीरीज भी पेश की जिसने भारतीय टेलीविजन के इतिहास में नया आयाम हासिल किया.

यह भी पढ़ें -  ऋषभ पंत की कब तक होगी मैदान में वापसी! हेल्थ को लेकर आया ये अपडेट

इसके अलावा धारावाहिक ‘यात्रा’, ‘कथा सागर’ का भी निर्माण किया. नीरा बेनेगल उनकी पत्नी हैं और पुत्री पिया भी एक प्रसिद्ध कॉस्ट्यूम डिजाइनर हैं. भारत सरकार ने कला के क्षेत्र में उनको 1991 में ‘पद्मभूषण’ सम्मान प्रदान किया, 2007 में उन्हे भारतीय सिनेमा के सर्वश्रेष्ठ ‘दादा साहब फाल्के पुरस्कार’ से भी सम्मानित किया गया. अपनी फिल्मों आरोहण, जुनून, मंथन, निशांत और अंकुर को सर्वश्रेष्‍ठ फीचर फिल्‍म के लिए राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार मिला. बता दें कि 5 बार ‘राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार’ जीतने वाले श्याम बेनेगल एकमात्र फिल्म निर्देशक हैं.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 31-01-2023: आज बजरंग बली करेंगे इनका कल्याण, पढ़ें दैनिक राशिफल

0
मेष-: परिवार में सुख-शांति और धार्मिक वातावरण रहेगा. व्यावसायिक गतिविधियों से आपको अच्छा मुनाफा मिल सकता है. आपके दिमाग और दिल में एक...

31 जनवरी 2023 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 31 जनवरी 2023 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

लंबे समय से बाहर चल रहे टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने...

0
चेन्नई| लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सलामी बल्लेबाज मुरली विजय ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की....

उत्तराखंड ने रचा इतिहास, गणतंत्र दिवस की परेड में ‘झांकी मानसखंड’ को मिला...

0
देहरादून| राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस की परेड में उत्तराखंड की झांकी मानसखंड को देशभर में प्रथम स्थान मिलने से राज्य का नाम...

पाकिस्तान आत्मघाती बम विस्फोट: मरने वालों की संख्या बढ़कर 44 हुई, 157 लोगों की...

0
पाकिस्तान के अशांत खैबर पख्तूनख्वा प्रांत स्थित पेशावर में सोमवार (30 जनवरी, 2023) को पेशावर की मस्जिद में आत्मघाती बम विस्फोट हो गया. हमले...

हॉकी विश्व कप में शर्मनाक प्रदर्शन के बाद मुख्य कोच ग्राहम रीड ने दिया...

0
भुवनेश्वर| हॉकी विश्व कप में 48 साल से चल रहे सूखे खत्म करने में नाकाम रही भारतीय टीम के हेड कोच ग्राहम रीड ने...

गोरखनाथ मंदिर हमला करने वाले अहमद मुर्तजा को फांसी की सजा

0
2 अप्रैल 2022 को गोरखनाथ मंदिर में हमला करने के मामले में दोषी ठहराये अहमद मुर्तजा को फांसी की सजा दी गई. गोरखनाथ मंदिर...

उत्तराखंड: विश्वविद्यालयों में लागू होगा समान शैक्षिक कैलेंडर, नैक मूल्यांकन कराना होगा अनिवार्य

0
उत्तराखंड के सभी राजकीय विश्वविद्यालयों में एक जैसा शैक्षणिक कैलेंडर लागू किया जाएगा। बताया जा रहा है कि इसके अंतर्गत विश्वविद्यालय व महाविद्यालयों में...

भारत-चीन सीमा पर आया एवलांच, अलर्ट मोड में आपदा प्रबंधन विभाग

0
उत्‍तराखंड के उच्‍च हिमालयी इलाकों में रविवार से बर्फबारी का सिलसिला जारी है। बताया जा रहा है कि इस बीच चमोली जिले के मलारी...

2024 में कौन होगा नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा सियासी दुश्‍मन, पढ़ें ताजा सर्वे...

0
मिशन 2024 से पहले जनता का मूड पूरी तरह से जाना जा रहा है. एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामों को लेकर सर्वे...
%d bloggers like this: