अमेज़न का ये कदम बन सकता है वोडाफोन-आइडिया के लिए संजीवनी, जानिए क्या है प्लान

मुंबई| अमेरिका की दो बड़ी कंपनी Amazon.com और Verizon Communications वोडाफोन-आइडिया लिमिटेड में हिस्सेदारी खरीद सकती है. मीडिया रिपोर्टस् के मुताबिक, ये डील 400 करोड़ डॉलर यानी 29600 करोड़ रुपये में हो सकती है. आपको बता दें कि वोडाफोन आइडिया को भारत में लगातार भारी घाटा हो रहा है. अप्रैल-जून तिमाही में कंपनी का घाटा बढ़ कर 25,460 करोड़ रुपये हो गया है. मार्च तिमाही में इसका घाटा 11,643 करोड़ रुपये था.

लाइव मिंट की खबर के मुताबिक, वोडाफोन-आइडिया लिमिटेड में हिस्सेदारी खरीदने को लेकर Amazon.com और Verizon Communications की बातचीत काफी आगे बढ़ चुकी है. हालांकि, दोनों कंपनियों ने इस पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस पर सुप्रीम कोर्ट के एजीआर को लेकर फैसले के चलते इस पर बातचीत पर ब्रेक लग गया था. हालांकि, अब फिर से डील पर बातचीत शुरू हो गई है.

क्यों बढ़ रहा है वोडाफोन-आइडिया का घाटा-कंपनी पर लॉकडाउन का असर पड़ा है. स्टोर या दुकानों पर रिचार्जिंग में कमी आई है. इसके साथ लोगों की कमाई घटने की वजह से रिचार्जिंग पर असर पड़ा है. टेलीकॉम कंपनियों पर एजीआर का भारी दबाव है. वोडाफोन आइडिया ने हाल में कहा था अगर सरकार एजीआर वसूलने पर अड़ी रही तो उसे अपना कारोबार बंद करना पड़ेगा.

सुप्रीम कोर्ट ने एजीआर भुगतान के लिए दिए 10 साल-सुप्रीम कोर्ट ने एजीआर के मुद्दे पर टेलीकॉम कंपनियों को बकाया राशि चुकाने के लिए 10 साल दिए हैं. सरकार तो 20 साल भी देने को तैयार थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट का रुख देखते हुए कंपनियों ने 15 साल मांगे थे. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने न सरकार की सुनी और न ही कंपनियों की और 10 साल में बकाया राशि का भुगतान करने का आदेश दे दिया. भले ही एजीआर एक जटिल मुद्दा है, आगे चलकर इसका खामिजाया हम ग्राहकों को ही भुगतना पड़ेगा.
एजीआर यानी एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू. यह सरकार और टेलीकॉम कंपनियों के बीच का फी-शेयरिंग मॉडल है. 1999 में इसे फिक्स लाइसेंस फी मॉडल से रेवेन्यू शेयरिंग फी मॉडल बनाया था. टेलीकॉम कंपनियों को अपनी कुल कमाई का एक हिस्सा सरकार के साथ शेयर करना होता है.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार टेलीकॉम कंपनियों पर 1.69 लाख करोड़ रुपए की वसूली निकली थी. इसमें भी 26 हजार करोड़ रुपए दूरसंचार विभाग को मिल गए हैं. मार्च 2020 में एयरटेल पर करीब 26 हजार करोड़ रुपए बकाया है.

वोडाफोन-आइडिया पर 55 हजार करोड़ और टाटा टेलीसर्विसेस पर करीब 13 हजार करोड़ रुपए बकाया है. जियो पर 195 करोड़ रुपए वसूली निकली थी, अब कुछ बकाया नहीं है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,236FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

UP Bed 2022: यूपी बीएड प्रवेश परीक्षा 2022 के लिए एडमिट कार्ड जारी

0
यूपी बीएड प्रवेश परीक्षा 2022 के लिए एडमिट कार्ड आज 25, जून 2022 को जारी कर दिए हैं. यूपी बीएड परीक्षा के लिए उम्मीदवार...

देहरादून: आपदा के दौरान मीडिया की होती है अहम भूमिका, आपदा प्रबंधन में मीडिया...

0
अधिशासी निदेशक डॉ. पीयूष रौतेला ने बताया कि भू-वैज्ञानिक व भौगोलिक परिस्थितियों के साथ ही मौसम सम्बन्धित विषमता उत्तराखण्ड को कई आपदाओं के प्रति...

गुजरात दंगा: याचिका खारिज के एक दिन बाद तीस्ता सीतलवाड़ एटीएस की हिरासत में,...

0
गुजरात एटीएस ने एक्टिविस्ट तीस्ता सीतलवाड़ को हिरासत में लिया है और उन्हें मुंबई के सांताक्रूज पुलिस स्टेशन ले जाया गया. खबर है कि...

Indw Vs SLw-2nd T20: भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने श्रीलंका को 5 विकेट से...

0
दम्बुल्ला|..... भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने तीन मैचों की सीरीज के दूसरे टी20 मैच में मेजबान श्रीलंका को 5 विकेट से हरा दिया. इसके...

महाराष्ट्र में शह-मात जारी: सरकार और शिवसेना बचाने के लिए उद्धव का मंथन, शिंदे...

0
महाराष्ट्र में शिवसेना पूरी तरह से दो फाड़ में हो चुकी है. एकनाथ शिंदे का बगावती गुट अब शिवसेना पर अपना दावा ठोक रहा...

इमरजेंसी के 47 साल: 21 महीनों तक नागरिकों की आजादी कैद में रही, खत्म...

0
लोकतंत्र के लिए 25 जून एक ऐसी तारीख है जो कभी भुलाई नहीं जा सकती है. आज से 47 साल पहले 25-26 जून की...

महाराष्ट्र सियासी संकट: 16 बागी विधायकों को जारी किया गया अयोग्यता नोटिस, 27 जून...

0
महाराष्ट्र का सियासी ड्रामा फिलहाल थमता नजर नहीं आ रहा है. जहां एक तरफ बागी शिंदे लगातार अपना कुनबा बढ़ा रहे हैं तो दूसरी...

उत्तराखंड में भारी बारिश का अंदेशा, इस दिन रहें सावधान

0
देहरादून| उत्तराखंड में मॉनसून की दस्तक के साथ ही भारी बारिश का अंदेशा जताया जा रहा है. मौसम विभाग ने 29 जून को...

शिवसेना- बालासाहेब ठाकरे’ होगा एकनाथ शिंदे गुट का नाम

0
महाराष्ट्र में सियासी उठापटक के पांचवे दिन शिवसेना के कार्यकर्ता जहां सड़कों पर उतरकर अलग-अलग जगहों पर तोड़फोड़ कर रहे हैं, वहीं मुंबई से...

महाराष्ट्र संकट: मुंबई में किसी अप्रिय घटना को रोकने के लिए धारा 144 लागू

0
महाराष्ट्र में शिवसेना की अंदरुनी कलह अब हिंसा में तब्दील हो गई है. कई जगहों पर शिवसेना कार्यकर्ताओं ने बागी नेताओं के ठिकानों पर...
%d bloggers like this: