अधिकांश सांसद वॉकआउट का ढूंढ रहे बहाना, केंद्र सरकार मानसून सत्र चलाने के लिए अड़ी


मौजूदा समय में देश बीमार है. ‘व्यवस्थापिका और कार्यपालिका डरी हुईं हैं’, लेकिन फिर भी केंद्र की मोदी सरकार संसद के मानसून सत्र को जबरदस्ती चलाना चाह रही है.

सबसे खास बात यह है कि देश भर से मानसून भी अपनी विदाई का आखिरी दिन गिन रहा है. ‘सही मायने में इस मानसून सत्र का समय भी निकल गया है’.‌ आमतौर पर देश में मानसून सत्र जुलाई के महीने में शुरू होता है लेकिन इस बार आधा सितंबर बीतने को है.

देशवासियों को कोरोना महामारी से बचने के लिए भाजपा सरकार खासतौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आए दिन संदेश दे रहे हैं. ‘मोदी सरकार के कई मंत्री और सांसद साथ ही विपक्ष के कई सदस्य बीमार भी हैं, कुछ घबराए हुए हैं’ उसके बावजूद केंद्र संसद सत्र चलाने के लिए अड़ा हुआ है.

‘केंद्र सरकार ने मानसून सत्र में पक्ष और विपक्ष के सांसदों, मंत्रियों के पहुंचने पर नियम इतने कड़े कर दिए हैं कि हर कोई अपने बचाव और संसद की कार्यवाही में वॉकआउट करने के लिए बहाना ढूंढ रहा है’.

कई सांसदों ने तो पहले ही मानसून सत्र में भाग न लेने का एलान कर दिया है. दूसरी ओर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी अपनी चिकित्सा जांच कराने के लिए पुत्र राहुल गांधी के साथ अमेरिका रवाना हो गईं हैं. सोनिया और राहुल गांधी के अमेरिका जाने से कांग्रेस सांसदों की मानसून सत्र में ताकत वैसे भी अधूरी हो गई है.

छह महीने बाद 14 सितंबर से शुरू हो रहा है संसद का मानसून सत्र
यहां हम आपको बता दें कि कोरोना वायरस महामारी संकट के बीच संसद का मानसून सत्र कल 14 सितंबर से शुरू हो रहा है.‌

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में नर्सिंग भर्ती के 1564 पदों पर चयन का रास्ता हुआ साफ

सबसे बड़ी बात यह है कि इस महामारी के बीच देश वैसे ही संकटों से घिरा हुआ है ऐसे में प्रश्न उठता है कि केंद्र की भाजपा सरकार मानसून सत्र में ऐसा कौन सा बिल (विधेयक) या अपनी योजनाओं का क्या गुणगान करने वाली है जिसके बिना केंद्र सरकार का काम नहीं चलेगा.‌

सबसे बड़ी बात यह है कि इस मानसून सत्र का देश की जनता को मौजूदा परिस्थितियों में केंद्र सरकार से कोई बड़ी उम्मीद भी नहीं है. दू

सरी ओर सरकार यह भी मानकर चल रही है कि यह मानसून सत्र विशेष परिस्थितियों में कराया जा रहा है. केंद्र की भाजपा सरकार की इन मानसून सत्र कराने की सबसे बड़ी वजह यह है कि 23 मार्च को बजट सत्र खत्म होने के बाद सरकार ने 11 अध्यादेशों को मंजूरी दी थी.

अब मोदी सरकार की इस मानसून सत्र में प्राथमिकता इन्हीं अध्यादेशों को बिल के रूप में संसद की मंजूरी दिलवाना रहेगी. बता दें कि कोरोना और लॉकडाउन के चलते इस बार दो संसद सत्रों के बीच करीब छह महीनों का अंतर रहा है.


पांच सांसदों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने पर सहमें सदस्य
‘कोरोना महामारी के बीच केंद्र सरकार की जिद है कि हम मानसून सत्र करा कर रहेंगे’ दूसरी ओर सांसदों के ने भी ठान ली है कि हम नहीं आएंगे.

यह भी पढ़ें -  दो दिवसीय प्रवास पर देहरादून पहुंची राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, कई परियोजनाओं का किया शिलान्यास

रविवार दोपहर तक संसद के पांच सदस्यों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद मंत्रियों और पक्ष विपक्ष के संसद सदस्यों में हड़कंप मचा हुआ है. यहां हम आपको बता दें कि अभी कई सांसदों की रिपोर्ट आना बाकी है. जिनका कोरोना टेस्ट अभी चल रहा है. दूसरी ओर तृणमूल कांग्रेस के सात सांसदों ने मानसून सत्र में भाग न लेने का एलान शनिवार को ही कर दिया था.

इनमें राज्यसभा के मुख्य सचेतक सुखेंदु शेखर राय भी शामिल हैं. बेलगावी से भाजपा के सांसद और रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगड़ी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. इसके अलावा केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक को शनिवार को ही पणजी के एक अस्पताल से छुट्टी मिली है.

इसलिए इन दोनों नेताओं के भी संसद सत्र में शामिल होने की संभावना नहीं है. इस बार कोरोना संकट के चलते संसद सत्र में सब कुछ बदला-बदला सा नजर आएगा. संसद सत्र के दौरान कोरोना की गाइडलाइन का पालन किया जाएगा.

लोकसभा हर रोज 4 घंटे बैठेगी ‌. सवालों का जवाब भी लिखित रूप में दिया जाएगा. कई दौर की समीक्षा बैठकों और कोविड-19 को लेकर विस्तृत प्रोटोकॉल बनाने के बावजूद कई सांसद संसद के मानसून सत्र से अनुपस्थित रहेंगे.


संसद सत्र से पहले होने वाली सर्वदलीय बैठक भी हुई नहीं होगी
कोरोना वायरस ने संसद के कामकाज के तरीके पर बड़ा असर डाला है. पिछले दो दशक में ऐसा पहली बार हुआ जब सत्र शुरू होने से पहले सर्वदलीय बैठक नहीं हुई. जबकि नियम है सत्तारूढ़ केंद्र सरकार संसद सत्र से पहले विपक्षी दलों के नेताओं के साथ बैठक बुलाती हैं.

14 सितंबर से संसद का मानसून सत्र शुरू होने जा रहा है, लेकिन इससे एक दिन पहले कोई सर्वदलीय बैठक नहीं हुई. लेकिन सदन की कार्य मंत्रणा समिति के जरिए विपक्ष के साथ सहमति बनाई जाएगी.

यह भी पढ़ें -  दिवंगत जनरल बिपिन रावत की पहली पुण्यतिथि आज, देश कर रहा जांबाज सपूत को नमन

यहां हम आपको बता दें कि मानसून सत्र शुरू होने से पहले राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी अपना कोरोना टेस्ट कराया है.संसद की कार्यवाही के दौरान हर सदस्य को कोरोना के नेगेटिव रिपोर्ट लेकर जाना अनिवार्य है.

इस बार दोनों सदनों में सदन के नेता और विपक्ष के नेता को छोड़कर किसी भी सदस्य के बैठने की सीट तय नहीं की गई है. बता दें कि संसद की कार्यवाही 18 दिनों तक लगातार चलेगी.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,250FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

क्या आप जानते हैं शनिदेव की ये 16 विशेषताएं

0
शनिदेव अत्यंत विशिष्ट देव हैं. वे ग्रह भी है और देवता भी.... उनका प्रताप ऐसा है कि वे राजा को रंक और रंक को...

राशिफल 09-12-2022: आज का दिन इन राशियों पर रहेगा अनुकूल, पढ़े सबका राशिफल

0
मेष-: एक आध्यात्मिक व्यक्ति आशीर्वाद देगा और मन की शांति लाएगा. बिना विशेषज्ञ की सलाह के निवेश करेंगे तो नुकसान हो सकता है. बेवजह...

09 दिसम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 09 दिसम्बर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

दो दिवसीय प्रवास पर देहरादून पहुंची राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, कई परियोजनाओं का किया शिलान्यास

0
गुरुवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू दो दिवसीय प्रवास पर देहरादून पहुंच गई हैं. उनके आगमन के दौरान सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए....

उत्तराखंड: बागेश्वर में दर्दनाक हादसा, तीन महिलाओं समेत चार लोगों की मौत

0
उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में गुरुवार शाम दर्दनाक हादसा हो गया. कनौली-शामा सड़क पर एक कार गहरी खाई में जा गिरी. हादसे में तीन...

मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव: मुलायम सिंह यादव की विरासत संभालेंगी डिंपल यादव, सपा को मिली...

0
समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव की विरासत अब उनकी बहू डिंपल यादव संभालेंगी क्योंकि उन्होंने मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार को...

नैनीताल हाईकोर्ट ने फेसबुक पर लगाया 50 हजार रुपये का जुर्माना, 16 फरवरी तक...

0
बुधवार को नैनीताल हाईकोर्ट ने तय समय में जवाब दाखिल नहीं करने पर फेसबुक पर 50 हजार का जुर्माना लगाया. मुख्य न्यायाधीश विपिन सांघी...

रुद्रप्रयाग: पंचकेदार में सर्वोपरी है मदमहेश्वर धाम, होती है शिव की नाभि की पूजा

0
गढ़वाल के सुरम्य पर्वतांचल में स्थित मदमहेश्वर पंचकेदार में सर्वोपरी है. पंचकेदार में केदारनाथ,मदमहेश्वर, रुद्रनाथ, तुंगनाथ और कल्पेश्वर शामिल हैं। इन पांच केदारों में...

देहरादून: सीएम धामी ने भारत के प्रथम सी.डी.एस जनरल रावत की प्रथम पुण्य तिथि...

0
गुरुवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भारत के प्रथम सी.डी.एस जनरल बिपिन रावत की प्रथम पुण्य तिथि पर बलवीर रोड स्थित भाजपा कार्यालय...

दुःखद: KGF फेम एक्टर कृष्णा जी राव ने 70 साल की उम्र में दुनिया...

0
'केजीएफ' फेम कृष्णा जी राव को लेकर एक दुखद खबर सामने आई है। बता दे कि 70 साल की उम्र में एक्टर कृष्णा जी...
%d bloggers like this: