एनएसए, सीडीएस और सेना प्रमुख की रणनीति के आगे चीन पस्त, एलएसी पर नहीं चल पा रही ‘चालबाजी’

चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना वास्वतिक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर स्थित ऊंची चोटियों पर अपना नियंत्रण कर पीएलए पर रणनीतिक बढ़त बनाए रखना जारी रखी है.

बीते कुछ दिनों में भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख सेक्टर में रणनीतिक रूप से अहम छह नए पहाड़ियों पर अपना नियंत्रण किया है.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक सरकार के शीर्ष सूत्रों ने बताया, ‘भारतीय सेना ने 29 अगस्त से लेकर सितंबर माह के दूसरे सप्ताह तक छह नई चोटियों को अपने अधीन लिया है.

जिन नई चोटियों पर नियंत्रण किया गया है, उनके नाम मगार हिल, गुरुंग हिल, रेकेहेन ला, मोखपाडी और फिंगर 4 के पास की पहाड़ी हैं.’

सूत्रों का कहना है कि एलएसी पर भारतीय सेना के अभियानों पर एनएसए अजीत डोभाल, चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ (सीडीएस) बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे की करीबी नजर है.

इससे पहले की चीन इन पहाड़ियों पर कोई हरकत करता, सेना ने इन चोटियों को अपने नियंत्रण में ले लिया है.

सूत्रों के मुताबिक इन चोटियों पर नियंत्रण हो जाने से इस इलाके में चीन की सेना पर भारतीय सैनिकों की सामरिक रूप से बढ़त बन गई है.

सूत्रों का कहना है कि चीन की नजर इस इलाके में सामरिक रूप से महत्वपूर्ण चोटियों पर कब्जा रहने की रही है.

बीते दिनों में उसने इन ऊंचाइयों को अपने नियंत्रण में लेने का प्रयास भी किया लेकिन भारतीय सैनिकों की मुस्तैदी की वजह से उसकी सभी कोशिशें नाकाम कर दी गईं.

चीन को आगे बढ़ने से रोकने के लिए पैंगोंग त्सो झील के उत्तरी हिस्से से लेकर दक्षिणी क्षेत्र में कम से कम तीन बार फायरिंग की घटनाएं सामने आई हैं.

सेना की ओर से इन पहाड़ियों पर नियंत्रण कर लेने के बाद चीन ने इस इलाके में अपनी एक अतिरिक्त ब्रिगेड की तैनाती की है.

इसमें करीब 3000 सैनिक शामिल हैं. उसने यह तैनाती रेजांग ला एवं रेचेन ला पहाड़ियों के करीब की है.

सूत्रों का कहना है कि सीमा पर चीन की आक्रामकता को देखते हुए भारतीय सेना राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल, चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ (सीडीएस) बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे की निगरानी में आगे बढ़ा रही है.

गत 15 जून की गलवान घाटी की हिंसा के बाद भारत और चीन के रिश्ते काफी तल्ख हो गए हैं.

Related Articles

Latest Articles

पीएम मोदी ने की बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवात रेमल को लेकर समीक्षा...

0
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार शाम बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवात रेमल को लेकर समीक्षा बैठक की. इस दौरान पीएम मोदी ने अधिकारियों...

बेबी केयर सेंटर का मालिक गिरफ्तार, पुलिस एफआईआर में जोड़ सकती है धारा-304

0
रविवार को पूर्वी दिल्ली के विवेक विहार में बच्चों के एक अस्पताल में भीषण आग लगने से 6 नवजात शिशुओं की मौत के मामले...

स्वाति मालीवाल ने आप नेताओं पर गंभीर आरोप लगाए, यूट्यूबर ध्रुव राठी का भी...

0
आम आदमी पार्टी की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल और अरविंद केजरीवाल के निजी सचिव रहे बिभव कुमार के बीच का विवाद थमने का नाम...

मलेशिया मास्टर्स खिताब जीतने से चूकी सिंधु फाइनल में नहीं लांघ पाईं ‘चीनी दीवार’

0
भारत की स्टार महिला शटलर पीवी सिंधु का 2 साल से खिताबी सूखा बदस्तूर जारी है. सिंधु रविवार को मलेशिया मास्टर्स बैडमिंटन टूर्नामेंट में...

हल्द्वानी: लावारिस सांड की एक बाइक से टक्कर, हादसे में युवक की मौत

0
हल्द्वानी| हल्द्वानी से दुखद घटना की खबर सामने आ रही है. यहां एक लावारिस सांड की एक बाइक से टक्कर हो गई. इस हादसे...

क्या है ‘रेमल’ का मतलब! आखिर कौन तय करता है तूफान का नाम

0
चक्रवार्ती तूफान ‘रेमल’ रविवार (26 मई) की रात पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तट से टकरा सकता है. मौसम विभाग ने कहा है कि...

‘रेमल’ चक्रवात भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील, रविवार रात बंगाल-बांग्लादेश के तटों से टकराएगा

0
चक्रवाती तूफान रेमल रविवार की रात पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के समुद्र तटों पर दस्तक दे सकता है. बंगाल की खाड़ी में बना चक्रवाती...

दिल्‍ली: बेबी केयर हॉस्पिटल में आग लगने से 6 किलकारियां हमेशा के लिए खामोश

0
देश की राजधानी दिल्‍ली के विवेक विहार में एक बेबी केयर हॉस्पिटल में आग लगने से 6 किलकारियां हमेशा के लिए खामोश हो गईं....

लोकसभा चुनाव 2024: छठे चरण में 58 सीटों पर मतदान संपन्न, 59.06 फीसदी मतदान...

0
शनिवार को लोकसभा चुनाव के छठे चरण में सात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश की 58 सीटों पर मतदान हो चुका है. आठ राज्यों...

रविवार को भगवान सूर्य देवता को जल चढ़ाने के होते हैं कई फायदे, जानिए...

0
हिंदू धर्म में सूर्य को जल देने की परंपरा बहुत पुरानी है जिसे आज भी निभाते हैं. श्रद्धालु हर रोज सूर्य देवता को अर्घ्य...