विशेष खबर: नेता बनने के लिए पांडेय ने आईपीएस की दूसरी बार छोड़ी नौकरी, इस बार जेडीयू ने दिया धोखा

रिटायरमेंट होने में कुछ समय रह गया था, सोचा कि अब नेतागिरी में हाथ आजमाया जाए. ‘विधायक, मंत्री और मुख्यमंत्रियों के साथ कंधा से कंधा मिलाने के लिए सपने देखने लगे’.

लेकिन इंसान जो सोचता है वह अक्सर होता नहीं है, ‘ऐसा ही बिहार विधानसभा चुनाव आने से कुछ समय पहले तत्कालीन राज्य के पुलिस के सबसे बड़े मुखिया यानी डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने सोचा था कि अब वीआरएस ले लेते हैं आराम से विधानसभा में सरकार के साथ बैठेंगे’.

नेता बनने के लिए गुप्तेश्वर इसकी तैयारी एक वर्ष से कर रहे थे. बिहार मूल के निवासी अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय देश की सुर्खियों में छा गए.

सुशांत केस में गुप्तेश्वर पांडेय ने उद्धव ठाकरे सरकार और महाराष्ट्र पुलिस पर लापरवाही बरतने पर कई बार प्रेस कॉन्फ्रेंस भी कर डाली. अभिनेता की मौत के मामले में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच आरोप-प्रत्यारोप लगातार लगाए जा थे.

इस बीच डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे सीएम नीतीश कुमार का पक्ष बहुत जोर-शोर से उठा रहे थे, पांडेय ने महाराष्ट्र की शिवसेना सरकार के नीतीश सरकार पर हमले को लेकर बिहार सरकार का बचाव भी किया. अपने बयानों से उन्होंने बिहार की राजनीति में काफी सुर्खियां बटोरी.

सुशांत सिंह केस के मामले में गुप्तेश्वर पांडे का इतना मुखर होना पहले ही संकेत दे गया था कि वह जेडीयू के साथ इस बार राजनीतिक पारी की शुरुआत करने वाले हैं. ‘उस समय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी गुप्तेश्वर पांडेेय को टिकट देने के लिए आश्वासन दे दिया था.

उसके बाद गुप्तेश्वर पांडे ने डीजीपी के पद सेे वीआरएस लेकर चुनाव की तैयारी शुरू कर दी थी. लेकिन अब जेडीयू की जारी की गई 115 उम्मीदवारों की लिस्ट में गुप्तेश्वर का नाम नहीं है.

यह भी पढ़ें -  जेडीयू-आरजेडी और कांग्रेस की बैठकें शुरू, भाजपा मौन, सीएम नीतीश कर सकते हैं बड़ा एलान

जेडीयू की लिस्ट में नाम न होने पर बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर अपने आप को ही दिलासा देने में लगे हुए हैं. आपको बता दें कि गुप्तेश्वर पांडेय को आम जनमानस के अलावा सरकार की नजर में अपराध नियंत्रक और कड़क प्रशासक के साथ संवेदनशील पुलिसकर्मी के रूप में भी जाना जाता है.

विधायकी के चक्कर में 11 साल पहले भी पांडेय ने दिया था इस्तीफा, तब बीजेपी ने किया निराश
यह पहली बार उनके साथ नहीं हुआ बल्कि 11 साल पहले भी गुप्तेश्वर पांडेय वीआरएस लेकर भारतीय जनता पार्टी से चुनावी मैदान में उतरना चाहते थे, लेकिन पार्टी ने उन्हें ऐनमौके पर टिकट नहीं दिया.

यह भी पढ़ें -  Covid19: देश में बीते 24 घंटे में मिले कोरोना के 12,751 नए मामले, एक्टिव केस 1.31 लाख से ज्यादा

अब एक बार फिर भाजपा के बाद जेडीयू ने उनके अरमानों पर पानी फेर दिया है. ‘2009 में लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए भी उन्होंने इस्तीफा दिया था. तब वह भाजपा के टिकट पर बिहार की बक्सर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहते थे. लेकिन उनकी उम्मीदों पर पानी तब फिर गया जब पार्टी ने दोबारा लालमुनि चौबे को बक्सर से अपना प्रत्याशी बना दिया’.

उसके बाद निराश गुप्तेश्वर पांडे ने टिकट न मिलने पर उन्होंने इस्तीफा वापस लेने की अर्जी दी जिसे तत्कालीन नीतीश कुमार सरकार ने मंजूर कर लिया. नौ महीनों के बाद वह फिर से पुलिस सेवा में बहाल हो गए थे. पांडेय ने 2009 में जब वीआरएस लिया था तब वो आईजी थे और 2019 में उन्हें बिहार का डीजीपी बनाया गया था.


गुप्तेश्वर पांडेय को इस बार टिकट न देना जेडीयू की मजबूरी रही या सियासी दांव!
इस बार जेडीयू का पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को बक्सर सीट से टिकट दे देना मजदूरी रही या सियासी दांव? ‘पिछले दिनों गुप्तेश्वर पांडेय ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में जेडीयू की सदस्यता भी ली थी. ऐसे में उनके बक्सर सीट से चुनाव लड़ने की अटकलें काफी दिनों से थी’.

गुप्तेश्वर ने अपने विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार भी शुरू कर दिया था. हालांकि इस बार गुप्तेश्वर पांडेय के अरमानों पर पानी इसलिए फिर गया, क्योंकि बक्सर सीट बीजेपी के खाते में चली गई है. बीजेपी ने बक्सर सीट से परशुराम चतुर्वेदी को अपना प्रत्याशी बना दिया.

बक्सर सीट बीजेपी के खाते में चले जाना भले ही गुप्तेश्वर के लिए राजनीतिक तौर पर झटका माना जा रहा. इसके बाद निराश गुप्तेश्वर पांडेय ने अपने दिल को एक बार फिर सांत्वना दी है.

गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा मेरे सेवामुक्त होने के बाद सबको उम्मीद थी कि मैं चुनाव लड़ूंगा, लेकिन मैं इस बार विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ रहा हूं. उन्होंने कहा कि मेरा जीवन संघर्ष में ही बीता है, मैं जीवन भर जनता की सेवा में रहूंगा.

यह भी पढ़ें -  राशिफल 09-08-2022: आज इन राशियों के लिए भाग्यशाली रहेगा मंगलवार

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,244FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

Bihar: 10 अगस्त को नीतीश कुमार लेंगे सीएम पद की शपथ

0
पटना| बुधवार 10 अगस्त शाम 2 बजे नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. तेजस्वी यादव होंगे डिप्टी सीएम. मंगलवार को बिहार के राज्यपाल...

यूजीसी-नेट के दूसरे चरण की परीक्षा स्थगित, अब इस दिन से होगी...

0
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) की राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) को स्थगित कर दिया गया है और अब यह 20 से 30 सितंबर के बीच...

हर घर तिरंगा’ अभियान: आईटीबीपी की महिला जवानों ने 17,000 फीट की ऊंचाई पर...

0
देश 75वें स्वतंत्रता दिवस के उपल्क्षय में आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. साथ में हर घर तिरंगा कैंपेन भी चलाया जा...

जाने-माने पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर रूडी कर्टजन का सड़क दुर्घटना में निधन

0
दक्षिण अफ्रीका के पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर रूडी कर्टजन का मंगलवार को यहां के निकट रिवरडेल शहर में एक कार दुर्घटना में निधन हो गया....

बिहार संकट: नीतीश कुमार ने पेश किया नई सरकार बनाने का दावा, राज्यपाल को...

0
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात कर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. नीतीश अपनी पार्टी जेडीयू...

Bihar Crisis: नई सरकार में नीतीश ही होंगे सीएम, आरजेडी के पास डिप्टी सीएम...

0
बिहार में नीतीश कुमार ने बीजेपी से नाता तोड़कर आरजेडी के साथ सरकार बनाने की पहल की है, बताया जा रहा है कि ...

आरबीआई ने लगाया आठ सहकारी बैंकों पर जुर्माना, एक एनबीएफसी पर ठोकी तगड़ी...

0
रिजर्व बैंक ने नियमों का पालन करने में कोताही बरतने पर आठ सहकारी बैंकों (Co-operative Bank) और एक गैर बैंकिंग वित्‍तीय कंपनी (NBFC) पर...

देहरादून में निकली तिरंगा रैली, सीएम धामी ने किया प्रतिभाग

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को गांधी पार्क देहरादून में हर घर तिरंगा कार्यक्रम के अन्तर्गत आयोजित रैली/प्रभात फेरी में प्रतिभाग किया. शिक्षा...

बिहार में टूटा एनडीए गठबंधन, अलग हुई जेडीयू और बीजेपी की राह

0
बिहार में जेडीयू और बीजेपी का गठबंधन टूट गया है. मंगलवार की सुबह से जारी सियासी हलचल के बीच किसी भी वक्त इस बात...

नोएडा के गालीबाज नेता श्रीकांत त्यागी गिरफ्तार, 3 मददगार भी अरेस्ट

0
नोएडा के गालीबाज नेता श्रीकांत त्यागी को पुलिस ने मेरठ के कंकरखेड़ा की श्रद्धापुरी से से गिरफ्तार कर लिया है. वहीं त्यागी के साथ...
%d bloggers like this: