हैदराबाद निकाय चुनाव: ओवैसी बचा पाएंगे किला ! कौन पड़ेगा भारी-जानिए

बिहार विधानसभा चुनाव में पांच सीटें जीतकर चर्चा में आए असदुद्दीन ओवैसी के गढ़ हैदरबाद में उनकी अग्निपरीक्षा होनी है. ग्रेटर हैदराबाद निकाय चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज हो गई है.

की ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन पुराने हैदराबाद इलाके की सीटों पर किस्मत आजमा रही है, जबकि बीजेपी और टीआरएस ने सभी 150 निगम पार्षद सीटों पर अपने-अपने प्रत्याशी उतारने का ऐलान किया है. 

बीजेपी निकाय चुनाव के जरिए 2023 में होने वाले तेलंगाना विधानसभा चुनाव में अपने सियासी आधार को बढ़ाना चाहती है. यही वजह है बीजेपी ने अपने दिग्गज नेताओं की पूरी फौज उतार रखी है.

टीआरएस भी निकाय चुनाव जीतने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है. इसी के मद्देनजर पार्टी ने तमाम लोकलुभावने वादे भी कर रखे हैं. कांग्रेस अपने सियासी वजूद को बचाए रखने की जद्दोजहद कर रही है.

हैदराबाद नगर निगम का समीकरण

बता दें कि 2016 के ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में टीआरएस ने 150 वार्डों में से 99 वार्ड में जीत दर्ज की थी, जबकि असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM ने 44 जीता था. वहीं, बीजेपी महज तीन ही नगर निगम वार्ड में जीत दर्ज कर सकी थी और कांग्रेस को महज दो वार्डों में ही जीत मिली थी. इस तरह से ग्रेटर हैदराबाद और पुराने हैदराबाद के निगम पर केसीआर और ओवैसी की पार्टी ने कब्जा जमाया था.

बीजेपी ने उस समय महज तीन सीटें जीती थी जब पार्टी के सात विधायक थे. 2018 के विधानसभा में बीजेपी ने हैदराबाद में छह सीटें खो दीं महज एक सीट बचा पाई थी. बीजेपी के राजा सिंह ने जीतकर बीजेपी की लाज बचाई थी. हालांकि, एक साल के बाद हुए लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने तेलंगाना की चार सीटें आदिलाबाद, करीमनगर, निज़ामाबाद और सिकंदराबाद में जीत हासिल की है.

ऐसे में अब उसकी नजर ओवैसी के दुर्ग हैदराबाद इलाके में जीत का परचम फहराने का है. निगम चुनाव में केसीआर के 150 सीटों पर प्रत्याशी उतारने से जरूर ओवैसी की लिए चिंता बढ़ गई है. ऐसे में देखना है कि ओवैसी के अपने दुर्ग में क्या सियासी गुल खिलाते हैं.

 

Related Articles

Latest Articles

मुख्यमंत्री घोषणा के अंतर्गत सीएम धामी ने विभिन्न कार्यों हेतु प्रदान की स्वीकृति

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री घोषणा के क्रम में जनपद उधमसिंह नगर के विधानसभा क्षेत्र खटीमा स्थित शहीद स्थल पर शैड के निर्माण...

देहरादून: मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने दिए जाली प्रमाण-पत्रों के मामलों में कड़ी कार्यवाही...

0
देहरादून| मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने जाली प्रमाण-पत्रों के मामलों में कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए हैं. सीएस ने आम जनता के लिए जन्म-मृत्यु...

अंतरिक्ष से कुछ ऐसा नजर आता है राम सेतु, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने शेयर...

0
यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने हाल ही में भारत और श्रीलंका को जोड़ने वाली श्रृंखला राम सेतु या एडम ब्रिज की एक उच्च-रिज़ॉल्यूशन तस्वीर शेयर...

जिंबाब्वे दौरे के लिए टीम इंडिया का ऐलान, शुभमन गिल को सौंपी गई कमान

0
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने जुलाई में जिंबाब्वे के खिलाफ खेली जाने वाली 5 टी 20 मैचों की सीरीज के लिए भारतीय टीम का...

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को मिली बड़ी जिम्मेदारी राज्यसभा में नेता सदन बनाए गए...

0
केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा को राज्यसभा में नेता सदन बनाया गया है. सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी. चार साल से अधिक समय...

नीट विवाद को लेकर प्रदर्शन कर रहे एनएसयूआई के छात्रों ने की एनटीए को...

0
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के जंतर-मंतर पर छात्र संगठन एनएसयूआई ने नीट परीक्षा में धांधली को लेकर सोमवार को विरोध प्रदर्शन किया. एनएसयूआई के प्रेसिडेंट...

मोदी 3.0 के पहले 15 दिनों में क्या-क्या हुआ! राहुल गांधी ने गिनाया

0
पार्लियामेंट सेशन का आज पहला दिन शुरू हो गया है. विपक्ष कई मुद्दों पर सरकार को घेरने की तैयारी कर रहा है. इसी बीच...

जैसे ही धर्मेंद्र प्रधान शपथ लेने के लिए उठे! विपक्ष चिल्लाने लगा नीट-नीट

0
नीट पेपर लीक पर मचे घमासान के बीच लोकसभा सत्र में भी इस मुद्दे की गूंज सुनाई दी. हुआ ये कि सोमवार को 18वीं...

Tamil Nadu Hooch Case: जेपी नड्डा ने खड़गे को लिखा पत्र, कांग्रेस पार्टी की...

0
तमिलनाडु में अवैध शराब से हुई मौतों को लेकर केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को...

सीएम केजरीवाल को सुप्रीमकोर्ट से फिलहाल राहत नहीं, अगली सुनवाई 26 जून को

0
दिल्ली| सोमवार को सीएम अरविंद केजरीवाल की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. हालांकि, कोर्ट से केजरीवाल को फिलहाल कोई राहत नहीं...