उत्तराखंड: हरीश रावत 2022 चुनाव को देखते हुए मैदानी छोड़ पहाड़ी इलाके की सियासत करेंगे

पिथौरागढ़| उत्तराखंड के सियासी गलियारों में इनदिनों पूर्व सीएम हरीश रावत की पहाड़ वापसी की चर्चाएं तेज हैं. रावत लम्बे समय से मैदानी इलाकों में सियासी पारी खेल रहे हैं. लेकिन 2022 का चुनावी रण करीब आने के साथ ही उनकी वापसी की आहट ने प्रदेश का सियासी पारा भी चढ़ा दिया है.

पूर्व सीएम हरीश रावत की पहचान भले ही एक ठेठ पहाड़ी नेता की हो. बावजूद इसके रावत ने बीते 21 सालों में पहाड़ से सिर्फ धारचूला विधानसभा का उपचुनाव ही लड़ा है. रावत 1999 में अंतिम बार पहाड़ के लोकसभा क्षेत्र अल्मोड़ा से चुनावी अखाड़े में उतरे थे. इसके बाद हुए आम चुनावों में पूर्व सीएम हरिद्वार और नैनीताल सीट पर ही नजर आए. यहां तक की बीते विधानसभा चुनावों में भी उन्होंने पहाड़ के बजाय मैदानी सीटों पर ही भरोसा जताया.

हरीश रावत की पहाड़ चढ़ने की अटकलों के बीच भाजपा भी हमलावर हुई है. बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता सुरेश जोशी कहते हैं कि उन्हें पहाड़ का नेता तभी माना जा सकता है, जब वो अपने पैतृक गांव मोहनारी में स्थाई रूप से निवास करें.

रावत लम्बे अर्से से मैदानी इलाकों में भले ही सियासी पारी तो खेल रहे हो लेकिन खुद को पर्वत पुत्र साबित करने में उन्होंने कोई कसर नहीं छोड़ी है. पहाड़ के काफल से लेकर ककड़ी तक की पार्टियों का वे अक्सर आयोजन करते आ रहे हैं. यहां तक कि पहाड़ी क्षेत्रों का दौरा करने में भी वे नम्बर वन राजनेता साबित हुए हैं. यही नहीं पैतृक गांव मोहनारी भी पूर्व सीएम अक्सर नजर आ ही जाते हैं.

पहाड़ वापसी के सवाल पर पूर्व मुख्यमंत्री रावत कहते हैं कि वापसी उसकी होती है, जो सबकुछ छोड़कर जा चुका हो. लेकिन वो तो अधिकतर समय पहाड़ों में ही गुजारते हैं. यहां तक कि पैतृक गांव भी अक्सर जाते हैं.

बीते विधानसभा चुनावों में हरीश रावत किच्छा और हरिद्वार ग्रामीण से चुनावी अखाड़े में कूदे थे. लेकिन दोनों सीटों पर उन्हें करारी हार मिली थी. तभी से ये सम्भावना जताई जा रही है कि कुछ भी हो जाए रावत विधानसभा चुनावों में तो अब शायद ही मैदान का रूख करेंगे. ऐसे में अगर पूर्व सीएम पहाड़ वापसी करते हैं तो तय है कि पहाड़ के राजनीतिक समीकरण भी काफी हद तक बदलेंगे.

साभार -न्यूज़ 18


Related Articles

Latest Articles

डीआरडीओ ने किया रुद्राएम-2 मिसाइल का सफल फ्लाइट टेस्ट, जानें इसकी सटीकता और ताकत

0
रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने बुधवार की सबसे शानदार मिसाइल रुद्राएम-2 मिसाइल को सू-30 एमकेआई फाइटर जेट से सफल परीक्षण किया गया....

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज के ओएसडी निलंबित, उप राज्यपाल के आदेश पर...

0
पूर्वी दिल्ली के विवेक विहार में जिस बेबी केयर न्यू बोर्न अस्पताल में आग लगने से छह मासूमों की मौत हुई उसका लाइसेंस 31...

ऋषिकेश के रिजॉर्ट में चार साल के बच्चे की मौत, स्विमिंग पूल में डूबने से...

0
ऋषिकेश के लक्ष्मण झूला क्षेत्र स्थित एक रिजॉर्ट में चार साल के बच्चे की संदिग्ध हालातों में मौत हो गई। बच्चा रिजॉर्ट के स्वीमिंग...

राजधानी दिल्ली में गर्मी के टूटे सारे रिकॉर्ड, 52 डिग्री के पार पहुंचा तापमान

0
दिल्ली में गर्मी के सारे रिकॉर्ड बुधवार (29 मई) को टूट गए. पहली बार दिल्ली में पारा 52 डिग्री सेल्सियस के पास पहुंच गया....

दिल्ली में अब मजदूरों को बड़ी राहत, भीषण गर्मी के बीच दोपहर 12 से...

0
दिल्ली में बढ़ती हुई भीषण गर्मी को ध्यान में रखते हुए उप राज्यपाल वीके सक्सेना ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। इस आदेश के...

दिल्ली में पानी की बर्बादी पर कटेगा चालान, सरकार का निर्देश

0
देश की राजधानी दिल्ली में भीषण गर्मी के बीच अब पानी की भी किल्लत हो गई है. पानी की किल्लत को देखते हुए दिल्ली...

केदारनाथ हेली सेवा में टिकट के नाम पर यात्रियों से 1.70 लाख ठगे, वेबसाइट पर...

0
केदारनाथ यात्रा के दौरान हेलिकॉप्टर टिकट के नाम पर ठगी के मामलों में पुलिस ने गुप्तकाशी थाने में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

उत्तराखंड: कैंची धाम, जागेश्वर कही भी वाहन खड़े करने के इंतजाम नहीं, पर्यटक हुए...

0
नैनीताल जिले में पर्यटन की स्थिति बहुत चिंताजनक है। भीमताल, सातताल, और नौकुचियाताल में तेजी से बढ़ती पर्यटन गतिविधियों ने पार्किंग समस्याओं को एक...

रेमल चक्रवात: पूर्वोत्तर में भारी बारिश से तबाही, मिजोरम में लापता लोगों की खोज...

0
चक्रवात रेमल के कारण पूर्वोत्तर भारत के अनेक राज्यों में भारी हानिकारक प्रभाव पड़ रहे हैं। पश्चिम बंगाल में इस तूफान ने 2,140 से...

केजरीवाल को सुप्रीमकोर्ट से लगा बड़ा झटका, 1 जून को करना ही होगा सरेंडर

0
दिल्ली की आबकारी नीति मामले में सीएम अरविंद केजरीवाल को बड़ा झटका लगा है. केजरीवाल की अंतरिम जमानत 7 दिन बढ़ाने की मांग वाली...