उत्तराखंड: हरीश रावत 2022 चुनाव को देखते हुए मैदानी छोड़ पहाड़ी इलाके की सियासत करेंगे

पिथौरागढ़| उत्तराखंड के सियासी गलियारों में इनदिनों पूर्व सीएम हरीश रावत की पहाड़ वापसी की चर्चाएं तेज हैं. रावत लम्बे समय से मैदानी इलाकों में सियासी पारी खेल रहे हैं. लेकिन 2022 का चुनावी रण करीब आने के साथ ही उनकी वापसी की आहट ने प्रदेश का सियासी पारा भी चढ़ा दिया है.

पूर्व सीएम हरीश रावत की पहचान भले ही एक ठेठ पहाड़ी नेता की हो. बावजूद इसके रावत ने बीते 21 सालों में पहाड़ से सिर्फ धारचूला विधानसभा का उपचुनाव ही लड़ा है. रावत 1999 में अंतिम बार पहाड़ के लोकसभा क्षेत्र अल्मोड़ा से चुनावी अखाड़े में उतरे थे. इसके बाद हुए आम चुनावों में पूर्व सीएम हरिद्वार और नैनीताल सीट पर ही नजर आए. यहां तक की बीते विधानसभा चुनावों में भी उन्होंने पहाड़ के बजाय मैदानी सीटों पर ही भरोसा जताया.

हरीश रावत की पहाड़ चढ़ने की अटकलों के बीच भाजपा भी हमलावर हुई है. बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता सुरेश जोशी कहते हैं कि उन्हें पहाड़ का नेता तभी माना जा सकता है, जब वो अपने पैतृक गांव मोहनारी में स्थाई रूप से निवास करें.

रावत लम्बे अर्से से मैदानी इलाकों में भले ही सियासी पारी तो खेल रहे हो लेकिन खुद को पर्वत पुत्र साबित करने में उन्होंने कोई कसर नहीं छोड़ी है. पहाड़ के काफल से लेकर ककड़ी तक की पार्टियों का वे अक्सर आयोजन करते आ रहे हैं. यहां तक कि पहाड़ी क्षेत्रों का दौरा करने में भी वे नम्बर वन राजनेता साबित हुए हैं. यही नहीं पैतृक गांव मोहनारी भी पूर्व सीएम अक्सर नजर आ ही जाते हैं.

पहाड़ वापसी के सवाल पर पूर्व मुख्यमंत्री रावत कहते हैं कि वापसी उसकी होती है, जो सबकुछ छोड़कर जा चुका हो. लेकिन वो तो अधिकतर समय पहाड़ों में ही गुजारते हैं. यहां तक कि पैतृक गांव भी अक्सर जाते हैं.

बीते विधानसभा चुनावों में हरीश रावत किच्छा और हरिद्वार ग्रामीण से चुनावी अखाड़े में कूदे थे. लेकिन दोनों सीटों पर उन्हें करारी हार मिली थी. तभी से ये सम्भावना जताई जा रही है कि कुछ भी हो जाए रावत विधानसभा चुनावों में तो अब शायद ही मैदान का रूख करेंगे. ऐसे में अगर पूर्व सीएम पहाड़ वापसी करते हैं तो तय है कि पहाड़ के राजनीतिक समीकरण भी काफी हद तक बदलेंगे.

यह भी पढ़ें -  दिवंगत जनरल बिपिन रावत की पहली पुण्यतिथि आज, देश कर रहा जांबाज सपूत को नमन

साभार -न्यूज़ 18


Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,250FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

उत्तराखंड: बांज की विलप्त हो रही प्रजातियों पर टूटी नींद,संरक्षण के प्रयास हुए शुरू

0
दुनिया में बांज की कई प्रजातियां विलुप्ति की कगार पर हैं. बांज का महत्व समझते हुए वन विभाग ने इसकी प्रजातियों के संरक्षण के...

इस मंदिर में झूला झूलती हैं देवी दुर्गा, मां की रखवाली में पहरा देते...

0
झुला देवी मंदिर रानीखेत शहर से 7 कि.मी. की दुरी पर स्थित एक लोकप्रिय पवित्र एवम् धार्मिक मंदिर है. यह मंदिर माँ दुर्गा को...

क्या आप जानते हैं शनिदेव की ये 16 विशेषताएं

0
शनिदेव अत्यंत विशिष्ट देव हैं. वे ग्रह भी है और देवता भी.... उनका प्रताप ऐसा है कि वे राजा को रंक और रंक को...

राशिफल 09-12-2022: आज का दिन इन राशियों पर रहेगा अनुकूल, पढ़े सबका राशिफल

0
मेष-: एक आध्यात्मिक व्यक्ति आशीर्वाद देगा और मन की शांति लाएगा. बिना विशेषज्ञ की सलाह के निवेश करेंगे तो नुकसान हो सकता है. बेवजह...

09 दिसम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 09 दिसम्बर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

दो दिवसीय प्रवास पर देहरादून पहुंची राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, कई परियोजनाओं का किया शिलान्यास

0
गुरुवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू दो दिवसीय प्रवास पर देहरादून पहुंच गई हैं. उनके आगमन के दौरान सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए....

उत्तराखंड: बागेश्वर में दर्दनाक हादसा, तीन महिलाओं समेत चार लोगों की मौत

0
उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में गुरुवार शाम दर्दनाक हादसा हो गया. कनौली-शामा सड़क पर एक कार गहरी खाई में जा गिरी. हादसे में तीन...

मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव: मुलायम सिंह यादव की विरासत संभालेंगी डिंपल यादव, सपा को मिली...

0
समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव की विरासत अब उनकी बहू डिंपल यादव संभालेंगी क्योंकि उन्होंने मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार को...

नैनीताल हाईकोर्ट ने फेसबुक पर लगाया 50 हजार रुपये का जुर्माना, 16 फरवरी तक...

0
बुधवार को नैनीताल हाईकोर्ट ने तय समय में जवाब दाखिल नहीं करने पर फेसबुक पर 50 हजार का जुर्माना लगाया. मुख्य न्यायाधीश विपिन सांघी...

रुद्रप्रयाग: पंचकेदार में सर्वोपरी है मदमहेश्वर धाम, होती है शिव की नाभि की पूजा

0
गढ़वाल के सुरम्य पर्वतांचल में स्थित मदमहेश्वर पंचकेदार में सर्वोपरी है. पंचकेदार में केदारनाथ,मदमहेश्वर, रुद्रनाथ, तुंगनाथ और कल्पेश्वर शामिल हैं। इन पांच केदारों में...
%d bloggers like this: