गणतंत्र दिवस 2022: जम्मू-कश्मीर के जांबाज सिपाही बाबू राम अशोक चक्र से सम्मानित

गणतंत्र दिवस के मौके पर बुधवार को जम्मू-कश्मीर पुलिस के एएसआई बाबू राम को श्रीनगर में आतंकवाद रोधी अभियान के दौरान ‘वीरता और अनुकरणीय साहस का प्रदर्शन’ करने के लिए मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया है.

उन्होंने अगस्त 2020 में 3 आतंकवादियों को मार गिराया था. उनकी पत्नी रीना रानी और बेटे माणिक ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से पुरस्कार प्राप्त किया. आज हम आपको उनके आदमय साहस की कहानी बताने जा रहे हैं.

जम्मू-कश्मीर के जांबाज सिपाही बाबू राम आतंकवाद रोधी समूह में सेवा के दौरान 14 मुठभेड़ का हिस्से रहे. जिनमें 28 आतंकियों को ढेर किया गया. 29 अगस्त, 2020 को वो इसी तरह की एक मुठभेड़ के दौरान आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे.

इस दिन शाम के वक्त आतंकियों और सुरक्षाकर्मियों के बीच मुठभेड़ हो गई थी. ये वो समय था, जब एएसआई बाबू राम अपनी टीम के साथ हाईवे से गुजरने वाले लोगों और वाहनों पर नजर बनाए हुए थे. मामला पंथा चौक का है, जिसे श्रीनगर का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: रेल का सफर करने वाले यात्रियों के लिए जरूरी सूचना, 3 महीने के लिए कैंसल हुई ये ट्रेनें

तभी स्कूटी पर आए तीन आतंकियों ने भीड़ में खड़े सीआरपीएफ के एक जवान पर हमला करना शुरू कर दिया. आतंकी जवान से हथियार छीन रहे थे. इसके साथ ही आतंकियों ने नाका पार्टी पर अंधाधुंध गोलियां भी दागीं.

जिससे चारों ओर अफरा-तफरी जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई. आतंकी गोलीबारी करते हुए एक मोहल्ले में आए और एक घर में छिप गए. एएसआई बाबू राम ने अपने साथियों के साथ इनका पीछा किया और जिस घर में ये छिपे हुए थे उसे चारों तरफ से घेर लिया. इस दौरान सबने घर में फंसे लोगों को गोलीबारी के बीच ही सुरक्षित बाहर निकाला गया.

यह भी पढ़ें -  जानें 2023 के लिए बाबा वेंगा की चौंकाने वाली भविष्यवाणियां

सुरक्षाबलों की और टुकड़ियां वहां पहुंच गईं. ऑपरेशन के दौरान ही बाबू राम ने अपनी टीम से कहा कि आतंकियों की घेराबंदी जारी रखें. जिसके बाद आतंकियों से सरेंडर करने को कहा गया. हालांकि उन्होंने ऐसा नहीं किया. तभी बीच ऑपरेशन में एएसआई बाबू राम ने अपने घर फोन लगाया. बेटी ने फोन उठाया तो उन्होंने केवल इतना कहा कि एक ऑपरेशन में जा रहा हूं. तभी पता चला कि घर में कुछ और लोग भी फंसे हुए हैं.

उन्हें निकालने के लिए कोशिशें तेज की गईं. लेकिन इसी दौरान आतंकियों ने बाबू राम पर गोलियां चला दीं. तब भी उन्होंने हार नहीं मानी, वो डटे रहे. उन्होंने लश्कर-ए- तैयबा के कमांडर साकिब बशीर को कुछ ही देर में मार गिराया.

ऑपरेशन के दौरान ही एएसआई बाबू राम काफी घायल हो गए थे, उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया. लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. इस मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए. साकिब बशीर के अलावा उसके दो साथी उमर तारिक और जुबैर अहमद शेख भी ढेर हुए. तीनों ही आतंकी पंपोर के द्रंगबल के रहने वाले थे.

यह भी पढ़ें -  यूपी: शिवपाल सिंह यादव की सुरक्षा में कटौती के बाद अब मंत्री वाला बंगला भी होगा जल्द खाली

साकिब 2018 से ही आतंकी गतिविधियों में सक्रिय था. बाबू राम की बात करें, तो वह पुंछ जिले के सीमावर्ती मेंढर इलाके के एक गांव धारना में 15 मई, साल 1972 को पैदा हुए थे. वह बचपन से ही देश की रक्षा करना चाहते थे. स्कूल की पढ़ाई पूरी होने के बाद वह 1999 में जम्मू कश्मीर पुलिस में कांस्टेबल के तौर पर नियुक्त हुए. अगर वो अपनी जान दांव पर लगाकर ना लड़ते तो आतंकी भयानक साजिशों को अंजाम दे सकते थे.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

उत्तराखंड: रेल का सफर करने वाले यात्रियों के लिए जरूरी सूचना, 3 महीने के...

0
देहरादून| मौसम बदलते ही मैदानी इलाकों में कोहरे का असर दिखने लगा है. सुबह की शुरुआत हल्की धुंध के साथ हो रही है. घने...

बड़ी ख़बर: रामनगर में 26 साल के युवक की हत्या, पुलिस चौकी के पीछे...

0
उत्तराखंड के रामनगर से एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। जहां युवक की हत्या से सनसनी फैल गई है। बता दे कि...

गूगल की सर्जिकल स्ट्राइक, हजारों यूट्यूब चैनल किए बंद

0
वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म यूट्यूब पर आप भी वीडियो देखना पसंद करते हैं तो आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि गूगल ने...

हरिद्वार में पिटबुल डाग का आतंक, नौ साल के बच्‍चे पर किया जानलेवा हमला

0
एक बार फिर ख़तरनाक पिटबुल डाग के आतंक का मामला सामने आया है। यह घटना हरिद्वार के कनखल की मिश्रा गार्डन कालोनी की है...

ताजमहल निर्माण पर याचिका की सुनवाई से सुप्रीमकोर्ट का इंकार, कहा-किसी इमारत की...

0
ताजमहल के निर्माण के बारे में अब तक गलत जानकारी दिए जाने का दावा करने वाली याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने मना...

JNU मामले पर बोले हरियाणा के गृहमंत्री, ऐसी सोच देश के लिए है घातक

0
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी कैंपस की इमारतों पर लिखे गए ब्राह्मण विरोधी नारों को देखते ही देश में आक्रोश का मौहोल है। इतना ही नहीं...

क्या एग्जिट पोल सनसनी हैं या वाकई होते हैं विश्वसनीय, क्या होती है इसकी...

0
हिमाचल प्रदेश और गुजरात में 05 दिसंबर को शाम 06 बजे के बाद जब चुनाव आयोग मतदान खत्म करने की घोषणा के साथ वोटिंग...

बड़ी ख़बर: चमोली में वाहन दुर्घटना, दो की मौत, तीन घायल

0
उत्‍तराखंड में चमोली जिले के गोपेश्वर घिंघराण मोटर मार्ग पर रविवार देर रात एक बड़ा हादसा हो गया। बताया जा रहा है कि यह...

देहरादून: पूर्व सीएम हरीश रावत का बड़ा बयान, ‘पाक कमजोर स्थिति में-पीओके वापस लेने...

0
देहरादून| उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि मौजूदा समय में पाकिस्तान कमजोर स्थिति में है तो ऐसे में हम पीओके (PoK)...

गुजरात चुनाव त्रिकोणीय होने से हुआ दिलचस्प, पाटीदारों के हाथ में है सत्ता की...

0
अहमदाबाद| गुजरात में एक बार फिर सभी की निगाहें कम संख्या वाले पर प्रभावशाली पाटीदार (पटेल) समुदाय पर टिकी हुई हैं. इस समुदाए ने...
%d bloggers like this: