औषधि और मसाला दोनों ही हैं तुलसी! पढ़ें इस पौधे से जुड़ी खास बातें

हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को बेहद पवित्र माना जाता है और इसे देवी का दर्जा हासिल है. यह ऐसा पौधा भी है जिसका धार्मिक व आयुर्वेदिक ग्रंथों में गुणों व उपयोगिता का भरपूर वर्णन मिलता है. घरेलू उपचार के अलावा तुलसी का अनेक दवाओं में प्रयोग किया जाता है. इसके पत्तों में जबर्दस्त प्रतिरोधक क्षमता होती है. विशेष बात यह है कि तुलसी औषधि भी है और मसाला भी. भारतीय समाज और संस्कृति में तुलसी का महत्व इसी बात से पता चल जाता है हर परिवार इसे अपने आंगन या दरवाजे पर लगानाचाहता है. शाम के समय तुलसी के पौधे के नीचे दीया जलाने का प्रचलन हजारों सालों से है. मान्यता है कि ऐसा करने से शाम के समय तुलसी से निकली गंध दीपक से निकली उष्मा से मिलकर वायु को शोधित करती है. ऐसा भी कहा जाता है कि इससे सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है और सुख शांति का वास भी होता है.

तुलसी भारतीय पौधा है. ऐसा कहा गया है कि दक्षिण पूर्व एशिया के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में यह पैदा हुई. लेकिन सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ पंजाब (बठिंडा) कन्फर्म कर चुका है कि तुलसी की उत्पत्ति उत्तर मध्य भारत में हुई है. इस मसले को लेकर कोई किंतु-परंतु नहीं है कि तुलसी हजारों साला पुराना पौधा है. उसका कारण यह है कि भारत के सबसे प्राचीन धार्मिक ग्रंथ वेदों में इसका वर्णन है. अथर्ववेद के एक सूक्त में (1-24) कहा गया है कि ‘सरुपकृत त्वयोषधेसा सरुपमिद कृधि, श्यामा सरुप करणी पृथिव्यां अत्यदभुता. इदम् सुप्रसाधय पुना रुपाणि कल्पय॥’ अर्थात्- श्यामा तुलसी मानव के स्वरूप को बनाती है, शरीर के ऊपर के सफेद धब्बे अथवा अन्य प्रकार के त्वचा संबंधी रोगों को नष्ट करने वाली अत्युत्तम महाऔषधि है. अब यह पौधा संपूर्ण दुनिया में नम मिट्टी में स्वभाविक रूप से मिलता है. पद्मपुराण के अनुसार ‘तुलसी का पत्ता, फूल, फल, मूल, शाखा, छाल, तना और मिट्टी आदि सभी पावन हैं.’

धार्मिक कथाओं में कहा गया है कि देव और दानवों द्वारा किए गए समुद्र मंथन के समय जो अमृत धरती पर मिला, उसी के प्रभाव से ही तुलसी की भी उत्पत्ति हुई. एक अन्य कथा यह है कि भगवान विष्णु एक जलंधर असुर को मारना चाहते थे, लेकिन उसे मार नहीं पा रहे थे. देवताओं ने विष्णुजी को जानकारी दी कि इसकी पत्नी वृंदा कठोर तपस्विनी है और आपको पूजती है. भगवान विष्णु ने उसकी तपस्या भंग कर दी, जिसके बाद जलंधर मारा गया. उस तपस्विनी ने श्राप देकर विष्णु को पत्थर (शालिग्राम) बना दिया. लक्ष्मी की याचना पर वृंदा ने श्राप वापस ले लिया और पति के साथ ही प्राण त्याग दिए. उसकी राख से एक पौधा निकला जो तुलसी कहलाया.

अब तुलसी के गुण सुनिए. भारत के अधिकतर प्राचीन आयुर्वेदिक ग्रंथों में तुलसी की विशेष महत्ता है. चरकसंहिता में वर्णन है कि तुलसी हिचकी, खांसी, विष, श्वांस रोग और पार्श्व शूल (पसलियों में दर्द) को नष्ट करती है. यह पित्त कारक, कफ-वातनाशक तथा शरीर की दुर्गंध दूर करती है. सुश्रुत संहिता में कहा गया है कि तुलसी, कफ, वात, विष विकार, श्वांस-खांसी और दुर्गंध नाशक है. अन्य पौराणिक ग्रंथ भावप्रकाश में कहा गया है कि तुलसी पित्तनाशक, वात-कृमि तथा दुर्गंध नाशक है. पसली का दर्द, अरुचि, खांसी, श्वांस, हिचकी आदि विकारों को जीतने वाली है.

हरियाणा के सोनीपत स्थित सरकारी भगतफूल सिंह महिला विश्वविद्यालय के आयुर्वेद विभाग की प्रमुख डॉ. वीना शर्मा के अनुसार तुलसी औषधि भी है और मसाला भी. अनेकों दवाओं में इसका प्रयोग तो होता ही है साथ ही चाय या काढ़े को स्वास्थ्यवर्धक बनाने के लिए मसाले के रूप में इसका इस्तेमाल होता है. यह एक औषधीय पौधा है जिसमें विटामिन व खनिज प्रचुर मात्रा में हैं. यह यह रक्त शर्करा के स्तर को भी कंट्रोल करती है. तुलसी की पत्तियों के रस को बुखार, ब्रोकाइटिस, खांसी, पाचन संबंधी शिकायतों में देने से राहत मिलती है. कान के दर्द में भी तुलसी के तेल का उपयोग किया जाता है. आयुर्वेद में मधुमेह, मोटापा और तंत्रिका विकार के इलाज में इसका उपयोग किया जाता है. अन्य भाषाओं में तुलसी के नाम- तमिल में तुलशी, तेलुगु में गग्गेर चेट्टु, मलयालम में कृष्णतुलसी, कन्नड़ में एरेड तुलसी, उड़िया में तुलसी, गुजराती में तुलसी, बंगाली में तुलसी, मराठी में तुलंस, इंग्लिश में Holy Basil.









Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,229FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 03-07-2022: आज सूर्य देव की कृपा से इन राशियों का चमकेगा भाग्य

0
मेष- आत्मविश्वास भरपूर रहेगा. माता का सानिध्य मिलेगा. कारोबार में वृद्धि होगी. परिश्रम अधिक रहेगा. स्वास्थ्य का ध्यान रखें. क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा की मन...

3 जुलाई 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 3 जुलाई 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

Ind Vs Eng-5th Test: दूसरे दिन का खेल खत्म, टीम इंडिया का दबदबा-सैकड़े से...

0
मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ अधूरी छूटी सीरीज के पांचवें टेस्ट के दूसरे दिन एजबस्टन में दूसरे दिन बारिश के तीन बार अड़ंगा डालने के...

मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका खारिज, कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में...

0
शनिवार को दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट के मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट (CMM) ने ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका खारिज कर...

प्रशासनिक फेरबदल: योगी सरकार ने फिर 21 आईपीएस अफसरों के किए तबादले, कई जिलों...

0
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने एक बार फिर पुलिस विभाग में बड़े पैमाने पर ट्रांसफर किए हैं. ‌शनिवार को योगी सरकार ने यूपी...

फूटा गुस्सा: जयपुर एनआईए कोर्ट में पुलिस के सामने ही लोगों ने कन्हैयालाल के...

0
5 दिनों पहले राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल टेलर की हत्या के बाद पूरे देश भर में अभी भी गुस्सा बरकरार हैं. एक बार...

बीएसएफ ने दिखाई दरियादिली, अनजाने में भटककर भारतीय क्षेत्र में आए बच्चे को पाक...

0
पाकिस्तान से भारतीय सीमा में घुसपैठ की हमेशा ही खबरे आती रहती है. भारतीय सीमा पर सुरक्षा बल मुस्तैदी से अपनी नजर बनाए रखते...

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर ममता बनर्जी की अहम टिप्पणी, द्रौपदी मुर्मू पर राजी हो...

0
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर अहम टिप्पणी की है. उन्होंने शुक्रवार को कहा कि यदि एनडीए की ओर...

Ind Vs Eng: युवराज के बाद बुमराह पड़े ब्रॉड के पीछे, टेस्ट मैच में...

0
बर्मिंघम|….. जसप्रीत बुमराह ने इंग्लैंड की धरती पर बल्ले से कोहराम मचा दिया है. भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ 5वें टेस्ट में 416 रन...

राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक आज से: हैदराबाद में पीएम मोदी, शाह, नड्डा, सीएम योगी और...

0
पिछले दिनों महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी (महा विकास आघाडी) की सरकार को हटाने के बाद भारतीय जनता पार्टी खेमे में जश्न का...
%d bloggers like this: