त्रियुगीनारायण मंदिर: यही हुआ था शिव-पार्वती का विवाह, जानिए इसकी पौराणिक मान्यतायें

उत्तराखंड को देवभूमि यूं ही नहीं कहा जाता. यहां पग पग पर मन मोहने वाले दृश्य और सदियों पुराने मंदिर हैं जिनका धार्मिक ग्रंथों में भी जिक्र मिलता है, आज भी ये मंदिर तमाम आपदाओं के बाद सीना ताने खड़े देखने को मिल जाते हैं.

उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन तो है ही साथ ही साथ अपनी संस्कृति को नजदीक से देखने और जानने का भी मौका मिलता है. यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ तो चार धाम में गिने जाते हैं मगर इनके अलावा भी कई ऐसे मंदिर हैं जिनकी काफी मान्यता है और जहां दर्शन पूजन करने से मनुष्य जीवन धन्य हो जाता है.

ऐसा ही एक मंदिर है त्रियुगी नारायण मंदिर, जो केदारनाथ क्षेत्र में ही स्थित है. जगतगुरु आदि शंकराचार्य ने इस मंदिर की आधार शिला रखी थी. उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित त्रियुगी नारायण मंदिर के बारे में मान्यता है कि सतयुग में भगवान शिव और पार्वती का विवाह यहीं हुआ था.

ये मंदिर भगवान विष्णु का था और वो यहां वामन अवतार में मौजूद हैं जिनको साक्षी मानकर भगवान शिव और माता पार्वती ने यहां विवाह किया था. मंदिर प्रांगण में यहां एक धूनी जलती दिखती है जिसके बारे में मंदिर में मौजूद पंडितों का कहना है कि ये धूनी वो अग्नि है जिसके इर्द गिर्द भगवान शिव और माता पार्वती ने फेरे लिए थे, तीन युगों (सतयुग,त्रेता,द्वापर) से ये यूं ही निरंतर जल रही है. इसीलिए इस मंदिर का नाम त्रियुगी नारायण रखा गया है.

उत्तराखंड सरकार के पर्यटन विभाग ने इसे डेस्टिनेशन वेडिंग प्लेस के तौर पर अपनी साइट पर प्राथमिकता के साथ रखा है. मंदिर में स्थित धर्मशिला पर बिठाकर ही शादियां करवाई जाती हैं. मान्यता है कि उसी शिला पर बैठकर माता पार्वती और भगवान शिव के विवाह के रस्मों रिवाज हुए है. कोरोना काल से पहले कई टीवी सितारों ने यहां आकर विवाह किया था.

ये मंदिर उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है. सोनप्रयाग से 10 किमी की दूरी पर यह मंदिर स्थित है. इसकी बनावट बिल्कुल केदारनाथ मंदिर जैसी ही है. हिंदू पौराणिक ग्रंथों के अनुसार पर्वतराज हिमावत के यहां पार्वती के रूप में सती का पुनर्जन्म हुआ था.

माता पार्वती ने केदार पर्वत में स्थित पार्वती गुफा में भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी. भगवान शिव ने उनकी तपस्या से खुश होकर उन्हें दर्शन दिए और हिमालय के मंदाकिनी क्षेत्र के भगवान विष्णु के इसी मंदिर में उनका विवाह हुआ. भगवान विष्णु ने माता पार्वती के भाई के रूप में सभी रीति रिवाज निभाए थे जबकि ब्रह्मा जी इस विवाह के पुरोहित बने थे.

मंदिर में घुसते वक्त चार जलकुंड दिखाई पड़ते हैं- रुद्र कुंड, विष्णु कुंड, ब्रह्म कुंड और सरस्वती कुंड. इन सभी में जल सरस्वती कुंड से आता है. मान्यता है कि सभी देवताओं ने विवाह से पहले यहां स्नान किया था. सरस्वती कुंड के जल से सिर्फ आचमन किया जाता है, बाकी कुंड के जल में स्नान करने से संतानहीनता से मुक्ति मिल जाती है ऐसी मान्यता है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,229FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 03-07-2022: आज सूर्य देव की कृपा से इन राशियों का चमकेगा भाग्य

0
मेष- आत्मविश्वास भरपूर रहेगा. माता का सानिध्य मिलेगा. कारोबार में वृद्धि होगी. परिश्रम अधिक रहेगा. स्वास्थ्य का ध्यान रखें. क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा की मन...

3 जुलाई 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 3 जुलाई 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

Ind Vs Eng-5th Test: दूसरे दिन का खेल खत्म, टीम इंडिया का दबदबा-सैकड़े से...

0
मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ अधूरी छूटी सीरीज के पांचवें टेस्ट के दूसरे दिन एजबस्टन में दूसरे दिन बारिश के तीन बार अड़ंगा डालने के...

मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका खारिज, कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में...

0
शनिवार को दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट के मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट (CMM) ने ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका खारिज कर...

प्रशासनिक फेरबदल: योगी सरकार ने फिर 21 आईपीएस अफसरों के किए तबादले, कई जिलों...

0
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने एक बार फिर पुलिस विभाग में बड़े पैमाने पर ट्रांसफर किए हैं. ‌शनिवार को योगी सरकार ने यूपी...

फूटा गुस्सा: जयपुर एनआईए कोर्ट में पुलिस के सामने ही लोगों ने कन्हैयालाल के...

0
5 दिनों पहले राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल टेलर की हत्या के बाद पूरे देश भर में अभी भी गुस्सा बरकरार हैं. एक बार...

बीएसएफ ने दिखाई दरियादिली, अनजाने में भटककर भारतीय क्षेत्र में आए बच्चे को पाक...

0
पाकिस्तान से भारतीय सीमा में घुसपैठ की हमेशा ही खबरे आती रहती है. भारतीय सीमा पर सुरक्षा बल मुस्तैदी से अपनी नजर बनाए रखते...

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर ममता बनर्जी की अहम टिप्पणी, द्रौपदी मुर्मू पर राजी हो...

0
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर अहम टिप्पणी की है. उन्होंने शुक्रवार को कहा कि यदि एनडीए की ओर...

Ind Vs Eng: युवराज के बाद बुमराह पड़े ब्रॉड के पीछे, टेस्ट मैच में...

0
बर्मिंघम|….. जसप्रीत बुमराह ने इंग्लैंड की धरती पर बल्ले से कोहराम मचा दिया है. भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ 5वें टेस्ट में 416 रन...

राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक आज से: हैदराबाद में पीएम मोदी, शाह, नड्डा, सीएम योगी और...

0
पिछले दिनों महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी (महा विकास आघाडी) की सरकार को हटाने के बाद भारतीय जनता पार्टी खेमे में जश्न का...
%d bloggers like this: