चमोली: कैसे हुआ ये हादसा, टूटने पर क्या तबाही लाते हैं ग्लेशियर, जानें सब

उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने की खबर है पानी के तेज बहाव के मद्देनजर कीर्ति नगर, देवप्रयाग, मुनि की रेती इलाकों को अलर्ट पर रहने को कहा गया. पानी के बहाव में कई घरों के बहने की आशंका है.

चमोली प्रशासन ने अधिकारियों को धौलीगंगा नदी के किनारे बसे गांवों में रहने वाले लोगों को बाहर निकालने का निर्देश दिया है, ग्लेशियर फटने का ये हादसा कैसे हुआ इसके पीछे की वजह क्या है, ये जानने की कोशिश करते हैं.

बताया जा रहा है कि चमोली में ग्लेशियर फटने से आई बाढ़ के बाद अलर्ट जारी कर दिया गया है, उत्तराखंड की धौली गंगा नदी में भयंकर बाढ़ आने के बाद से बिजली परियोजना में कार्यरत करीब 150 कर्मचारी लापता बताए जा रहे हैं वहीं अभी इससे आगे और भारी तबाही की आशंका जताई जा रही है.

क्या होते हैं ग्लेशियर
ग्लेशियर पृथ्वी की सतह पर विशाल आकार की गतिशील हिमराशियां हैं, जो अपने भार के कारण पर्वतीय ढलानों का अनुसरण करते हुए नीचे की ओर प्रवाहमान होती रहती हैं.यह हिमराशि सघन होती है और इसकी उत्पत्ति ऐसे बर्फीले इलाकों में होती है,

जहाँ हिमपात की मात्रा हिम के पिघलने की दर से अधिक होती है जिसके फलस्वरूप प्रतिवर्ष बर्फ की एक बड़ी मात्रा अधिशेष के रूप में जमा होती रहती है.

दबाव पड़ता है और वे सघन हिम के रूप में परिवर्तित हो जाती हैं. यही सघन हिमराशि अपने भार के कारण ढालों पर प्रवाहित होती है जिसे हिमनदी कहते हैं. प्रायः यह हिमखंड नीचे आकर पिघलता है और पिघलने पर पानी मे परिवर्तित हो जाता है.

ग्लेशियर से बाढ़ कैसे आती है क्या है कारण?
हिमनदियाँ पृथ्वी के उन बर्फीले भागों में पाई जाती हैं जहाँ हिम पिघलने की दर की अपेक्षा हिमपात अधिक होता है. साधारणत: ग्लेशियर रचना के लिए हिम का सौ से दो सौ फुट मोटी परतों का जमा होना अनिवार्य शर्त है. इतनी मोटाई पर दबाव के कारण बर्फ़ ग्लेशियर में परिवर्तित हो जाती है.

इन हिमस्तरों में बर्फ की अलग-अलग परतें मिलती हैं. प्रत्येक परत एक वर्ष के हिमपात को दर्शाती है. दबाव के कारण नीचे की परत अपने ऊपर वाली परत से अपेक्षाकृत अधिक सघन होती है. इस प्रकार बर्फ़ अधिकाधिक घनी होती जाती है. पहले दानेदार बर्फ ‘नैवे’ की तथा बाद में ठोस हिम की रचना होती है.

तीव्र प्रतिबल के कारण बर्फ़ में दरारें पड़ जाती हैं. कहीं-कहीं ये दरारें दो सौ फुट तक गहरी हो सकती हैं. कुछ ग्‍लेशियर हर साल टूटते हैं, कुछ दो या तीन साल के अंतर पर कुछ कब टूटेंगे, इसका अंदाजा लगा पाना लगभग बेहद मुश्किल होता है.

क्या होगा अब आगे?
चमोली में ग्लेशियर टूटने से भारी तबाही की आशंका जताई जा रही है ग्‍लेशियर की बर्फ धौलीगंगा नदी में बह रही है और आसपास के इलाकों में जान-माल के भारी नुकसान का डर है. ऋषिगंगा पावर प्रॉजेक्‍ट को भी नुकसान की खबर है. अलकनंदा नदी के किनारे रहने वालों को फौरन सुरक्षित स्‍थानों की ओर जाने के निर्देश दिए गए है वहीं भागीरथी नदी का पानी रोक दिया गया है.

यह भी पढ़ें -  एयर स्ट्राइक: इस बार इजराइल ने फिलिस्तीन को जवाब देने के लिए चलाया "ऑपरेशन ब्रेकिंग डॉन" सुर्खियों में

चमोली जिले के पास ग्लेशियर टूटने से आए प्राकृतिक प्रकोप से प्रभावितों के राहत एवं बचाव हेतु राज्य सरकार द्वारा 1070 एवं 9557444486 हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं. भारतीय सेना ने उत्‍तराखंड सरकार और NDRF की मदद के लिए चॉपर और सैनिकों को तैनात किया है, आर्मी हेडक्‍वार्टर्स से भी हालात पर नजर रखी जा रही है. सेना के तमाम जवानों को बाढ़ प्रभावित इलाकों में भेजा जा रहा है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,244FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

Covid19: देश में आज फिर बढ़े कोरोना के मामले, एक्टिव केस 1.28 लाख

0
कोरोना के मामलों में मंगलवार को गिरावट देखने को मिली थी, लेकिन बुधवार को एक बार फिर से कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी...

केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे उत्तराखंड,...

0
मंगलवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी एवं केन्द्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में...

यूपी: आजमगढ़ से आईएसआईएस का एक संदिग्‍ध गिरफ्तार, आरएसएस नेता थे निशाने में

0
यूपी एटीएस ने आजमगढ़ से आतंकी संगठन आईएसआईएस के एक संदिग्‍ध को गिरफ्तार किया है. एटीएस का दावा है कि सबाउद्दीन आजमी राष्ट्रीय स्वयं...

राशिफल 10-08-2022: आज इन राशियों को मिलेगा भाग्योदय से लाभ

0
मेष : किसी अनजान के साथ व्यापार करना महंगा पड़ सकता है. विदेश यात्रा के योग बन रहे हैं. पैसों से जुड़ा लेनदेन करने...

10 अगस्त 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 10 अगस्त 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

Bihar: 10 अगस्त को नीतीश कुमार लेंगे सीएम पद की शपथ

0
पटना| बुधवार 10 अगस्त शाम 2 बजे नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. तेजस्वी यादव होंगे डिप्टी सीएम. मंगलवार को बिहार के राज्यपाल...

यूजीसी-नेट के दूसरे चरण की परीक्षा स्थगित, अब इस दिन से होगी...

0
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) की राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) को स्थगित कर दिया गया है और अब यह 20 से 30 सितंबर के बीच...

हर घर तिरंगा’ अभियान: आईटीबीपी की महिला जवानों ने 17,000 फीट की ऊंचाई पर...

0
देश 75वें स्वतंत्रता दिवस के उपल्क्षय में आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. साथ में हर घर तिरंगा कैंपेन भी चलाया जा...

जाने-माने पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर रूडी कर्टजन का सड़क दुर्घटना में निधन

0
दक्षिण अफ्रीका के पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर रूडी कर्टजन का मंगलवार को यहां के निकट रिवरडेल शहर में एक कार दुर्घटना में निधन हो गया....

बिहार संकट: नीतीश कुमार ने पेश किया नई सरकार बनाने का दावा, राज्यपाल को...

0
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात कर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. नीतीश अपनी पार्टी जेडीयू...
%d bloggers like this: