चैत्र नवरात्रि 2024: तीसरे दिन ऐसे करे मां चंद्रघंटा की पूजा, जानें विधि और कथा

नवरात्रि का तीसरा दिन मां चंद्रघंटा को समर्पित है. इस चैत्र नवरात्रि मां चंद्रघंटा की पूजा 11 अप्रैल 2024 , गुरुवार के दिन की जाएगी. देवी चंद्रघंटा के सिर पर घंटे के आकार का चंद्र है, इसलिए इन्हें ‘चंद्रघंटा’ कहा जाता है.

इनके सभी हाथों में अस्त्र-शस्त्र हैं. देवी दुर्गा के इस स्वरूप की उपासना से साहस में वृद्धि होती है. मान्यता है कि शेर पर सवार मां चंद्रघंटा की पूजा करने से भक्तों के कष्ट खत्म हो जाते हैं. इससे अलावा इनकी उपासना मन की शांति मिलती है.

मां चंद्रघंटा ने असुरों का संहार किया था
मां चंद्रघंटा ने पृथ्वी पर धर्म की रक्षा और असुरों का संहार करने के लिए अवतार लिया था. मां दुर्गा के इस रूप की विशेष मान्यता है.

मां चंद्रघंटा का स्वरूप
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मां चंद्रघंटा को परम शांतिदायक और कल्याणकारी माना गया है. मां चंद्रघंटा के मस्तिष्क पर घंटे के आकार का आधा चंद्र है. इसीलिए इन्हें मां चंद्रघंटा कहा जाता है. मां चंद्रघंटा का रूप रंग स्वर्ण के समान है. मां चंद्रघंटा देवी के दस हाथ हैं. इनके हाथों में शस्त्र-अस्त्र विभूषित हैं और मां चंद्रघंटाकी सवारी सिंह है.

मां चंद्रघंटा की पूजा का महत्व
मान्यता है कि जो भी व्यक्ति नवरात्रि में मां चंद्रघंटा की पूजा विधि पूर्वक करता है उसे अलौकिक ज्ञान की प्राप्ति होती है. वहीं मां चंद्रघंटा की पूजा और उपासना से साहस और निडरता में वृद्धि होती है. हर प्रकार के भय से मुक्ति मिलती है. मां चंद्रघंटा की पूजा करने सौम्यता और विनम्रता में भी वृद्धि होती है. विधि पूर्वक पूजा करने से मां अपने भक्तों को आर्शीवाद प्रदान करती हैं. मां चंद्रघंटा की पूजा करने से रोग से भी मुक्ति मिलती है.

मां चंद्रघंटा पूजा विधि
11 अप्रैल 2024 को शुभ मुहूर्त में मां चंद्रघंटा की पूजा प्रारंभ करनी चाहिए. पूजा आरंभ करने से पूर्व मां चंद्रघंटा को केसर और केवड़ा जल से स्नान कराएं. इसके बाद उन्हें सुनहरे रंग के वस्त्र पहनाएं. इसके बाद मां को कमल और पीले गुलाब की माला चढ़ाएं. इसके उपरांत मिष्ठान, पंचामृत और मिश्री का भोग लगाएं.

मां चंद्रघंटा का मंत्र
या देवी सर्वभूतेषु मां चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमो नम:।।

मां चंद्रघंटा की कथा
पौराणिक कथा के अनुसार जब दैत्यों का आतंक बढ़ने लगा तो मां दुर्गा ने मां चंद्रघंटा का अवतार लिया. असुरों का स्वामी महिषासुर था, जिसका देवताओं से भंयकर युद्ध चल रहा था. महिषासुर देव राज इंद्र का सिंहासन प्राप्त करना चाहता था. उसकी प्रबल इच्छा स्वर्गलोक पर राज करने की थी.

उसकी इस इच्छा को जानकार सभी देवता परेशान हो गए और इस समस्या से निकलने का उपाय जानने के लिए भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश के सामने उपस्थित हुए.

देवताओं की बात को गंभीरता से सुनने के बाद तीनों को ही क्रोध आया. क्रोध के कारण तीनों के मुख से जो ऊर्जा उत्पन्न हुई. उससे एक देवी अवतरित हुईं. जिन्हें भगवान शंकर ने अपना त्रिशूल और भगवान विष्णु ने चक्र प्रदान किया. इसी प्रकार अन्य देवी देवताओं ने भी माता के हाथों में अपने अस्त्र सौंप दिए. देवराज इंद्र ने देवी को एक घंटा दिया. सूर्य ने अपना तेज और तलवार दी, सवारी के लिए सिंह प्रदान किया.

इसके बाद मां चंद्रघंटा महिषासुर के पास पहुंची. मां का ये रूप देखकर महिषासुर को ये आभास हो गया कि उसका काल आ गया है. महिषासुर ने मां पर हमला बोल दिया. इसके बाद देवताओं और असुरों में भंयकर युद्ध छिड़ गया. मां चंद्रघंटा ने महिषासुर का संहार किया. इस प्रकार मां ने देवताओं की रक्षा की.

Related Articles

Latest Articles

हल्द्वानी: कपड़े के गोदाम में लगी भीषण आग, लाखों का सामान खाक

0
हल्द्वानी से बड़ी खबर सामने आ रही है. यहां नैनीताल रोड के पास अंबिका बिहार कॉलोनी में मंगलवार को एक कपड़े के गोदाम में...

उत्तरकाशी में खुला कजरिया सेरेमिक्स लिमिटेड का भव्य शोरूम

0
उत्तरकाशी से सटे बड़ेथी में मनेरा- बायपास मोटर मार्ग पर कजरिया सेरेमिक्स लिमिटेड के भव्य शोरूम प्राइम प्लस का मंगलवार को आम जनता...

उत्तराखंड में बदला माैसम, यमुनोत्री धाम समेत आस पास के क्षेत्र में बारिश शुरू

0
उत्तराखंड में आज दोपहर बाद मौसम का रुख काफी बदल गया। यमुनोत्री धाम सहित यमुना घाटी में बारिश की शुरुआत हो गई है। वहीं,...

नैनीताल: गेठिया के जंगल में मिला सड़ा- गला शव, नहीं हो पाई मृतक की...

0
नैनीताल| मंगलवार को गेठिया के जंगल में एक अज्ञात व्यक्ति का सड़ा-गला शव मिलने की सूचना से सनसनी फैल गयी. शव बेहद सड़ा- गला...

जय श्रीराम से गूंजा देहरादून शहर,निकली भव्य शोभायात्रा, जगह-जगह सुंदरकांड पाठ

0
हनुमान जन्मोत्सव के अवसर पर देहरादून में जयश्री राम के जयकारों की गूंज सुनाई दी। शहर ने भव्य शोभायात्रा का आयोजन किया, जिसमें सुंदरकांड...

चैत्र पूर्णिमा पर धरती के सबसे करीब होगा चांद, जानें क्यों कहा जा रहा...

0
हिंदू धर्म में तिथियों और नक्षत्रों का काफी महत्व होता है. तिथियों में भी कुछ तिथियां अतिविशिष्ट मानी जाती हैं. इन तिथियों को लेकर...

अरविंद केजरीवाल की शराब घोटाला मामले में बढ़ी न्यायिक हिरासत, सात मई को होगी...

0
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ शराब घोटाले के आरोप में न्यायिक हिरासत की मुद्दा एक बार फिर से सुर्खियों में है। राजनीतिक...

राजस्थान रॉयल्स ने मुंबई इंडियंस को नौ विकेट से हराया, जमकर बरसे यशस्वी जायसवाल,...

0
राजस्थान रॉयल्स ने अपनी शानदार खेलप्रदर्शन के साथ मुंबई इंडियंस को नौ विकेट से हराकर सीजन की सातवीं जीत हासिल की। इस विजय के...

01 मई से बदलने वाले हैं रुपए-पैसे संबंधी ये नियम

0
वैसे तो हर माह की 1 तारीख रुपए-पैसे संबंधी नियमों के लिए खास होती है. लेकिन 1 मई को आम आदमी से जुड़े कई...

यूपीएससी के सीडीएस 2 फाइनल का रिजल्ट हुआ जारी, जाने पूरा विवरण

0
संघ लोक सेवा आयोग ने यूपीएससी सीडीएस 2 के अंतिम परिणाम घोषित हो चुका हैं, जिसमें संयुक्त रक्षा सेवा परीक्षा (II) 2023 के उम्मीदवारों...