Holika Dehan 2022: कब है होलिका दहन, तीन विशिष्ट योग के साथ पूजन मुहूर्त-जानें विधि

होलिका दहन को होलिका दीपक और छोटी होली के नाम से भी जाना जाता है, इसे नवन्नेष्टि यज्ञ भी कहा जाता है. होलिका दहन को बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है.

होलिका अज्ञान व अहंकार को निरूपित करती है, जबकि प्रहलाद ईश्वर के प्रति निष्ठा व निश्छलता को दर्शाते हैं. हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि को होलिका दहन किया जाता है. हालांकि इस बार होलिका दहन को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है.

जानें कब है होलिका दहन का शुभ मुहूर्त
इस बार होलिका दहन 17 मार्च 2022, गुरुवार को है. पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन हिरण्याकश्यप ने श्रीहरि भगवान विष्णु के परम भक्त प्रहलाद को आठ दिनों तक कड़ी यातनाएं देने के बाद अपनी बहन होलिका को आदेश दिया था कि वह आग में प्रहलाद को लेकर बैठ जाएं. बता दें होलिका को आग में ना जलने का वरदान प्राप्त था, लेकिन आग में बैठते ही होलिका जलकर राख हो गई और प्रहलाद को एक खरोंच भी नहीं आई.

होलिका दहन 2022 कब है
हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि को होलिका दहन किया जाता है. इस बार होलिका दहन 17 मार्च 2022, गुरुवार को है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार होलिका दहन पूर्णिमा तिथि में भद्रा रहित काल में करना चाहिए. ध्यान रहे यदि प्रदोष काल में भद्रा हो और निशीथ काल से पहले भद्रा समाप्त हो रही हो, तब भद्रा के समाप्त होने पर निशीथ काल से पहले होलिका दहन कर लेना चाहिए. ऐसे में इस बार होलिका दहन 18 मार्च 2022 को रात 12:57 के बाद करें.

होलिका दहन 2022 तिथि और शुभ मुहूर्त
होलिका दहन 2022 – 17 मार्च 2022, गुरुवार
होलिका दहन शुभ मुहूर्त – 17 मार्च 2022, रात्रि 12:57 के बाद
भद्रा मुख – 17 मार्च को रात 1 बजकर 20 मिनट से
भद्रा मुख की समाप्ति – 18 मार्च को मध्य रात्रि 12 बजकर 57 मिनट तक

होलिका दहन पर बनेंगे ये तीन शुभ योग
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस बार गुरु ग्रह की दृष्टि संबंध चंद्रमा से होने के कारण गजकेसरी योग का निर्माण होने वाला है. इसके अलावा इस दिन वरिष्ठ और केदार योग भी बनने वाले हैं.

भद्रा काल में क्यों नहीं करना चाहिए होलिका दहन
शास्त्रों के अनुसार भद्रा काल में कोई भी शुभ कार्य करना वर्जित माना जाता है, क्योंकि भद्रा के स्वामी यमराज होते हैं. पौराणिक कथाओं के अनुसार भद्रा भगवान सूर्यदेव की पुत्री और शनिदेव की बहन हैं, वह भी शनिदेव की तरह क्रोधित स्वभाव की हैं. कहा जाता है कि भद्रा तीनों लोक में भ्रमण करती हैं. इसलिए जब पृथ्वी लोक पर भद्रा विराजमान होती हैं तो शुभ कार्यों की मनाही होती है. पंडितों की मानें तो भद्रा की समाप्ति के साथ पूर्णिमा में होलिका दहन करना चाहिए. इसलिए ऊपर दिए बताए गए समय पर होलिका दहन करें.

होलिका पूजन व दहन विधि
होलाष्टक से ही लोग होलिका दहन की तैयारियां शुरू कर देते हैं. होलिका दहन से पहले इसकी पूजा का भी विधान है. इस दिन सभी कार्यों को करने के बाद स्नान कर लें, इसके बाद होलिका पूजन वाले स्थान पर पूर्व दिशा में मुख करके बैठ जाएं. तथा गाय के गोबर से भगवान प्रहलाद और होलिका की प्रतिमा बनाएं और जल, रोली, अक्षत, फल, फूल, कच्चा सूत, गुड़, साबूत हल्दी, मूंग, गुलाल, बताशे और गेहूं की हरी बालियां एकत्रित कर होलिका की पूजा करें. होलिका की पूजा करने के बाद इसकी परिक्रमा करें. इस दिन भगवान नरसिंह की पूजा अर्चना का भी विधान है.

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,242FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

सीएम धामी के निर्देश पर ताबड़तोड़ कार्रवाई, नैनीताल में 5 रिज़ॉर्ट सील

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी के निर्देशों पर उत्तराखण्ड में विभिन्न गेस्ट हाउस और रिज़ॉर्ट पर प्रशासन की ताबड़तोड़ कार्रवाई शुरू हो गई है. सीएम...

मिजोरम: असम राइफल्स और स्थानीय पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, 167.86 करोड़ रुपये की...

0
मिजोरम में असम राइफल्स और स्थानीय पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. पार्टियों में सप्लाई होने वाले ड्रग्स की एक बड़ी खेप को...

अंकिता मर्डर केस: नालायक बेटे के अपराध ने पिता को एक झटके में ही...

0
उत्तराखंड में पूर्व राज्य मंत्री और भाजपा के कद्दावर नेताओं में शुमार रहे विनोद आर्य को उनके बेटे ने ही जिंदगी भर की मेहनत...

उत्तराखंड में विधानसभा अध्यक्ष ने सीएम से की बड़ी मांग, राजस्व पुलिस व्यवस्था समाप्त...

0
ऋषिकेश में अंकिता भंडारी निर्मम हत्याकांड के बाद उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी भूषण ने प्रदेश में जहाँ कहीं भी राजस्व पुलिस की व्यवस्था...

Ankita Bhandari Murder Case: एम्स ऋषिकेश में हुआ अंकिता भंडारी का पोस्टमार्टम, अस्पताल के...

0
उत्तराखंड में रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी की हत्या के बाद उसके शव का पोस्टमार्टम एम्स ऋषिकेश में हुआ. वहीं एम्स ऋषिकेश के बाहर लोगों की...

देश में एक अक्टूबर से शुरू होगी 5जी सेवाएं, पीएम मोदी भारतीय मोबाइल कांग्रेस...

0
भारत में 5जी सेवाएं आधिकारिक तौर पर 1 अक्टूबर से शुरू होंगी. नेशनल ब्रॉडबैंड मिशन ने शनिवार को ट्वीट कर बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र...

पितृ अमावस्या 2022: 25 सितम्बर पितृ अमावस्या, जानें शुभ मुहूर्त-महत्व

0
25 सितम्बर को पितर आशीर्वाद देकर अपने-अपने धाम को चले जायेंगे, माना जाता है कि इन दिनों पितरों का आह्वान करने से वे हमसे...

अंकिता भंडारी मर्डर केस: मुख्य आरोपी पुलकित आर्य के पिता और भाजपा के नेता...

0
उत्तराखंड की बेटी अंकिता भंडारी की हत्या के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी एक्शन में है. वहीं अंकिता की हत्या के बाद उत्तराखंड में...

अंकिता भंडारी हत्याकांड: पुलकित के करीबियों पर गिरी गाज, भाई को ओबीसी आयोग से...

0
उत्तराखंड स्थित ऋषिकेश में अंकिता भंडारी हत्याकांड मामले में एक्शन लगातार जारी है. पहले पुलिस ने तुरंत एक्शन लेते हुए जांच के बाद 24...

ऋषिकेश: चीला पावर हाउस के पास मिला अंकिता भडारी का शव, जांच के लिए...

0
ऋषिकेश| एसडीआरएफ की टीम को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. चीला शक्ति नहर में चीला पावर हाउस के पास अंकिता भडारी का शव मिला...
%d bloggers like this: