सक्सेस स्टोरी: जानिए “चाय-सुट्टा बार” की कहानी, आईएएस की तैयारी से लेकर 100 करोड़ का बिजनेस बनाने का सफर

आज हम एक ऐसे 26 साल के युवा की बात करने जा रहे हैं जो घर से बुलंद इरादों के साथ आईएएस बनने के लिए निकले थे. लेकिन सिविल सर्विस की तैयारी करने के दौरान एक मित्र के साथ मिलकर अपने आपको बिजनेस में ढाल लिया.

हालांकि इनके माता-पिता चाहते थे कि बेटा सरकारी अफसर बने. बेटा अफसर तो नहीं बन सका लेकिन देश-विदेशों तक अपनी पहचान बना दी. इस स्टोरी को पूरा जानने के लिए हम आपको देश के हृदय स्थल मध्यप्रदेश लिए चलते हैं.

इस राज्य में एक छोटा जिला कटनी है. यह शहर वैसे तो ‘सीमेंट उद्योग’ के लिए जाना जाता है. लेकिन इन दिनों एक युवा की वजह से कटनी सुर्खियों में है. हम बात कर रहे हैं अनुभव दुबे, जो इसी जनपद से आते हैं. ‌माता-पिता ने अनुभव को उच्च शिक्षा की पढ़ाई के लिए कुछ वर्षों पहले कटनी से इंदौर भेजा था. यहां पर उसकी दोस्ती आनंद नायक नाम के युवक से हुई.

दोनों साथ में पढ़ाई करते थे पर कुछ दिनों बाद आनंद पढ़ाई छोड़कर अपने किसी रिश्तेदार के साथ बिजनेस करने लगा. इसके बाद अनुभव को उसके माता-पिता ने आईएएस की तैयारी के लिए दिल्ली भेज दिया. वो चाहते थे कि उनका बेटा आईएएस अफसर बने. समय बीतता गया और दोनों अपनी-अपनी मंजिल को तलाशने में जुट गए. कुछ समय बाद अचानक आनंद नायक का अनुभव के पास दिल्ली में फोन आया और दोनों में काफी देर तक बातचीत हुई.

इसी दौरान आनंद ने उदास मन से बताया कि उसका बिजनेस अच्छा नहीं चल रहा है, हम दोनों को मिलकर कुछ नया काम करना चाहिए. अनुभव के मन में भी कहीं न कहीं बिजनेस का ख्याल पल रहा था और उसने हां बोल दिया और दोनों मिलकर बिजनेस की प्लानिंग करने लगे.

साल 2016 में दोनों ने मिलकर चाय का बिजनेस किया

उसके बाद दोनों दोस्तों ने बहुत सोच विचार करके चाय का बिजनेस शुरू करने की ठान ली. ‌अनुभव और आनंद ने तय किया कि एक चाय शॉप खोलेंगे. जिसका मॉडल और टेस्ट दोनों सबसे अलग हटकर होगा. ‘2016 में तीन लाख की लागत से इन दोस्तों ने इंदौर में चाय की पहली दुकान खोली’.

आनंद ने अपने पहले बिजनेस की बचत से कुछ पैसे लगाए. अनुभव ने बताया कि उन्होंने गर्ल्स होस्टल के साथ में किराए पर एक रूम लिया. कुछ सेकेंड हैंड फर्नीचर खरीदे थोड़े पैसे दोस्तों से उधार लेकर आउटलेट डिजाइन किया. इस दौरान पैसे खत्म हो गए और इनके पास बैनर तक लगाने के लिए पैसे नहीं थे. फिर एक नॉर्मल लकड़ी के बोर्ड पर हाथ से ही चाय की दुकान का नाम लिख दिया ‘चाय सुट्टा बार’.

यहां हम आपको बता दें कि शुरुआत में इनका चाय का बिजनेस रफ्तार नहीं पकड़ सका लेकिन दोनों ने हार नहीं मानी. अनुभव के पिता भी नहीं चाहते थे कि वो दोनों इस काम को करें. लेकिन फिर भी इन्हें विश्वास था कि वह इसे आगे बढ़ाने में कामयाब होंगे.

धीरे-धीरे ग्राहक बढ़ने लगे और उन्हें अच्छी आमदनी होने लगी. चाय सुट्टा बार नाम धीरे-धीरे फेमस हो गया . सबसे खास बात यह रही कि दोनों दोस्तों ने इस चाय के बिजनेस में ‘युवाओं’ पर अधिक फोकस रखा. वे बताते हैं कि आज हमारा सालाना टर्नओवर 100 करोड़ रुपये से ज्यादा का है और देशभर में इनके 165 आउटलेट्स हैं, जो 15 राज्यों में फैले हैं. विदेशों में 5 आउटलेट्स हैं.‌ अब चाय सुट्टा बार रजिस्टर्ड भी हो चुका है.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Latest Articles

गंगोत्री धाम: हाईवे पर अनियंत्रित होकर पलटी मध्य प्रदेश के यात्रियों की बस

0
गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित झाला पुल के निकट एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी जिसमें मध्य प्रदेश से आए यात्रियों की बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई।...

आज मंत्री आतिशी का राजधानी के जल संकट पर अनशन, आप ने इंडिया गठबंधन...

0
दिल्ली की जल मंत्री आतिशी शुक्रवार को हरियाणा से अतिरिक्त पानी की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठने जा रही हैं। आम आदमी...

मोदी का कश्मीर दौरा: परंपरागत पहनावे में प्रधानमंत्री, श्रीनगर में असमिया गमछा संग दिखे...

0
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को योग दिवस के मुख्य समारोह में असमिया गमछा पहनकर एक बार फिर राष्ट्रीय एकता और समृद्धि का...

सीएम धामी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आदि कैलाश में किया योग, बोले योग...

0
पिथौरागढ़| शुक्रवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आदि कैलाश में योगा किया. सीएम धामी ने स्थानीय लोगों और पर्यटकों...

तमिलनाडु: मिलावटी शराब पीने से मरने वालों की संख्या 47 हुई, 15 दिन की...

0
तमिलनाडु में मिलावटी शराब पीने से मरने वालों की संख्या 47 हो गई है. इसी के साथ मिलावटी शराब का ये मुद्दा अब राजनीतिक...

उत्तराखंड: अब मानसून सीजन में नहीं होगी परेशानी, आपदा राहत बचाव कार्यों में लगेंगे...

0
उत्तराखंड में मानसून के सीजन में आपदा से प्रभावित क्षेत्रों में सहायता पहुंचाने के लिए तीन हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल किया जाएगा। यह निर्णय उत्तराखंड...

बीजेपी एक बार फिर पंकजा मुंडे पर कर सकती है भरोसा, राज्यसभा भेजने पर...

0
देश के साथ-साथ महाराष्ट्र की राजनीति भी इस समय चरम पर है. इस सियासत के बीच बीड लोकसभा चुनाव में हार का सामना करने...

दिल्ली: केजरीवाल को हाईकोर्ट से झटका, सुनवाई पूरी होने तक जमानत पर लगी रोक

0
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जमानत देने के ट्रायल कोर्ट के आदेश के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा...

उत्तराखंड में आज भी बरसेंगे मेघा, मौसम को देख हैरान लोगों का है ये...

0
आज उत्तराखंड के पांच जिलों में झोंकेदार हवाओं के साथ आंधी और तेज बारिश की संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र ने उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली,...

अरविंद केजरीवाल को झटका, हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी होने तक जमानत पर रोक

0
दिल्ली शराब नीति से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गुरुवार को निचली अदालत द्वारा सीएम अरविंद केजरीवाल को मिली जमानत पर दिल्ली हाई...