जानिए क्या है टूलकिट मामला और देशद्रोह के इल्ज़ाम में गिरफ्तार दिशा रवि कौन हैं

केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के विरोध में महीनों से जारी किसान आंदोलन में कई चेहरे सुर्खियों में आ रहे हैं, उनमें से ताज़ा नाम दिशा रवि का है. दिल्ली की एक अदालत ने 21 साल की क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा को पांच दिनों की पुलिस कस्टडी में भेजने का आदेश दिया, तो कई सवाल चर्चा में आ गए कि क्यों दिशा को अरेस्ट किया गया, क्या आरोप हैं और आखिर ग्रेटा थनबर्ग की ‘टूलकिट’ मुहिम से जुड़ी दिशा आखिर हैं कौन? आपको ये भी बताएंगे कि यह टूलकिट मामला क्या है.

बीते शनिवार को बेंगलूरु से दिल्ली पुलिस ने जिस दिशा को गिरफ्तार किया, वो अस्ल में ‘फ्राइडे फॉर फ्यूचर’ (FFF) नाम के अभियान की फाउंडर हैं. दिशा पर आरोप है कि उन्होंने सोशल मीडिया पर ‘टूलकिट’ का न केवल प्रसार किया, बल्कि उसे सोशल मीडिया पर फॉरवर्ड भी किया. जानिए ये पूरा माजरा क्या है.


कौन हैं दिशा रवि?
क्लाइमेट चेंज के मुद्दे पर नेताओं को सही ​फैसले लेने के लिए मजबूर करने के लिए एक अंतरराष्ट्रीय मुहिम है कि स्कूल के बच्चे हर शुक्रवार को क्लास अटेंड करने के बजाय विरोध प्रदर्शन करते हैं. इस मुहिम के भारतीय संस्करण FFF की फाउंडर दिशा हैं, जो बेंगलूरु बेस्ड एक्टिविस्ट हैं और अपनी ग्रैजुएशन माउंट कार्मल कॉलेज से पूरी कर चुकी हैं.

पर्यावरण संकट को मुख्यधारा में लाने वाले दुनिया के चार अहम अश्वेत एक्टिविस्टों की लिस्ट में ब्रिटिश मैगज़ीन वोग ने दिशा को एक माना था. न्यूज़ पोर्टलों समेत सोशल मीडिया पर दिशा नियमित रूप से कॉलम लिखती हैं और युवा व किशोर एक्टिविस्टों के लिए क्लाइमेट के मुद्दों पर फोरम का संचालन करती हैं.

एक्टिविस्ट क्यों बनीं दिशा?
खबरों की मानें तो दिशा का परिवार बाढ़ का शिकार हो गया था और उनका घर बुरी तरह चपेट में आया था. यहां से दिशा ने इसके कारण तलाशने शुरू तो किए ही, साथ ही उन्होंने आवाज़ उठाई कि इस तरह की त्रासदियों के लिए राजनेताओं की जवाबदेही तय की जाए. दिशा का मानना है कि बाढ़, भारी बारिश से होने वाली तबाही के लिए सीधे तौर पर राजनीति ज़िम्मेदार है क्योंकि वो ‘ढीले कदम’ ही उठाती रही है. दिशा मानती हैं कि पानी को लेकर जो संकट बने हुए हैं और इनसे लाखों नहीं करोड़ों लोग जूझ रहे हैं, उसके लिए राजनीति को अपनी भूमिका ठीक ढंग से निभाना ही होगी.

आखिर गिरफ्तार क्यों की गईं दिशा?

दिशा पर आरोप है कि​ ट्विटर पर ग्रेटा थनबर्ग ने जो ‘टूलकिट’ शेयर की थी, दिशा ने उसे एडिट किया और सोशल मीडिया पर फॉरवर्ड किया. दिल्ली की एक कोर्ट में पुलिस ने कहा कि भारत की सरकार के खिलाफ एक बड़ी साज़िश में कथित खालिस्तानी मूवमेंट की भूमिका को लेकर दिशा से पूछताछ करना ज़रूरी है.

दिशा का मोबाइल फोन ज़ब्त कर लेने की बात भी पुलिस ने कही. पुलिस के मुताबिक ‘टूलकिट’ केस में दिशा महत्वपूर्ण कड़ी हैं क्योंकि दिशा ने इसे एडिट करने और फॉरवर्ड करने की बात कबूल की है. खबरों के मुताबिक दिशा ने कोर्ट में रोते हुए कहा कि किसान आंदोलन को सपोर्ट करने के मकसद से उन्होंने टूलकिट में सिर्फ दो लाइनें बदली थीं.

कैसे हो रही है टूलकिट जांच?
दिल्ली पुलिस ने सोशल मीडिया पर प्रचारित व प्रसारित टूलकिट से जुड़ी जानकारियों के लिए गूगल से संपर्क किया है. टूलकिट में दो ईमेल आईडी, एक इंस्टाग्राम अकाउंट और एक URL का ज़िक्र बताया गया है, जिनके बारे में पुलिस ने जानकारी चाही है. टूलकिट क्रिएट करने वालों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने 4 फरवरी को राजद्रोह, आपराधिक साज़िश और नफ़रत फैलाने का केस सेक्शन 124-A, 120-A व 153-A के तहत दर्ज किया था.

पुलिस का दावा है कि लाल किले पर 26 जनवरी के दौरान हुए हिंसक प्रदर्शनों में एकदम वही तरीके अपनाए गए, जैसे टूलकिट में बताए गए थे. आपको बताते हैं कि अस्ल में यह टूलकिट है क्या बला!

टूलकिट को कैसे समझा जाए?
किसान आंदोलन के समर्थन में स्वीडन की पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने सोशल मीडिया पर आंदोलन कैसे करना है, इसकी जानकारी को साझा किया और इसे ही टूलकिट के नाम से समझा जा रहा है. टूलकिट में किसान आंदोलन को बढ़ाने के लिए ज़रूरी कदमों, हैशटैग लगाने, प्रचार करने जैसी जानकारियां दी हैं.

टूलकिट में ये भी बताया जाता है कि आंदोलन के खिलाफ पुलिस एक्शन ले तो क्या किया जाए, कोई और मुश्किल आए तो कॉंटैक्ट या रिसोर्स पर्सन कौन हों और सोशल मीडिया पर पोस्ट के वक्त हिदायतें भी टूलकिट में हैं. यही टूलकिट भारत में जारी किसान आंदोलन के संदर्भ में विवादों में घिर गई है.

यह भी पढ़ें -  देहरादून: वरिष्ठ पत्रकार व राज्य आंदोलनकारी योगेश भट्ट बने राज्य सूचना आयुक्त, आदेश जारी

साभार-न्यूज़ 18

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

नौसेना दिवस: ‘मैरीटाइम इनफार्मेशन चार्ट’ का लोकार्पण, राज्यपाल और सीएम धामी हुए शामिल

0
नौसेना दिवस के अवसर पर राजपुर रोड स्थित राष्ट्रीय जल सर्वेक्षण कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल(से.नि.) गुरमीत सिंह ने बतौर मुख्य...

केदारनाथ-बद्रीनाथ धाम की तर्ज पर अब महासू देवता और जागेश्वर धाम को विकसित करेगी...

0
बद्रीनाथ और केदारनाथ की तर्ज पर अब हनोल स्थित महासू देवता और अल्मोड़ा स्थित जागेश्वर मंदिर के विकास के लिए बदरी-केदारनाथ धाम की तर्ज...

पिथौरागढ़: नेपाल की तरफ से पत्थरबाजी की घटना, निर्माण कार्य में लगे मजदूरों...

0
पिथौरागढ़| धारचूला के घटखोला में तटबंध निर्माण के दौरान नेपाल की ओर से पत्थरबाजी की गई. पत्थर फेंकने से वहां अफरा-तफरी मच गई. तटबंध...

Ind Vs Bang 1st ODI: मेहदी हसन ने टीम इंडिया के जबड़े से छीनी...

0
मेहदी हसन मिराज (38) और मुस्‍ताफिजुर रहमान (10) ने आखिरी विकेट के लिए 51 रन की अविजित साझेदारी करके बांग्‍लादेश को रविवार को वनडे...

यूपी: शिवपाल सिंह यादव की सुरक्षा में कटौती के बाद अब मंत्री वाला बंगला...

0
प्रयागराज| प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव की सुरक्षा में कटौती के बाद अब मंत्री वाला बंगला भी जल्द खाली होगा....

उत्तराखंड: अंकिता भंडारी हत्याकांड के तीनों आरोपियों का होगा नार्को टेस्ट, 10 दिन के...

0
उत्तराखंड के बहुचर्चित अंकिता भंडारी हत्याकांड मामले पर पुलिस अगले 10 दिनों के भीतर चार्जशीट दाखिल करने जा रही है. इसके साथ ही अंकिता...

देहरादून: विपिन रावत मौत मामले में दो आरोपी गिरफ्तार

0
देहरादून| चमोली निवासी युवक विपिन रावत के साथ मारपीट के बाद मौत के मामले में बीते दिन परिजनों समेत स्थानीय लोगों ने निजी अस्पताल...

देहरादून: वरिष्ठ पत्रकार व राज्य आंदोलनकारी योगेश भट्ट बने राज्य सूचना आयुक्त, आदेश जारी

0
उत्तराखंड में धामी सरकार ने वरिष्ठ पत्रकार योगेश भट्ट को राज्य सूचना आयुक्त नियुक्त किया है. प्रभारी सचिव एसएन पांडे ने इसके आदेश जारी...

देहरादून: सीएम धामी ने किया 10 इलैक्ट्रिक बसों का शुभारंभ

0
देहरादून| रविवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय से देहरादून स्मार्ट सिटी के अन्तर्गत 10 इलैक्ट्रिक बसों का विस्तारित मार्ग आई.एस.बी.टी....

जानें 2023 के लिए बाबा वेंगा की चौंकाने वाली भविष्यवाणियां

0
नास्त्रेदमस वुमन के नाम से मशहूर बल्गेरियाई फकीर बाबा वेंगा ने 2023 को लेकर कई भविष्यवाणी की हैं. माना जाता है कि बाबा वेंगा...
%d bloggers like this: