रजनीकांत की राजनीति में एंट्री से डीएमके को हो सकता है नुकसान, NDA को फायदा


चेन्नई| देश में बिहार का सियासी रण खत्म हो चुका है. अब तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, असम और केरल में चुनाव की सरगर्मियां बढ़ गई हैं. इन्हीं खबरों के बीच तमिल सिनेमा के थलाइवा माने जाने वाले रजनीकांत ने भी सियासी एंट्री की घोषणा कर दी है.

खास बात यह है कि रजनी तमिलनाडु विधानसभा चुनाव से महज 5 महीने पहले अपनी पार्टी का सियासी डेब्यू कराने जा रहे हैं. इसके अलावा राज्य के दूसरे बड़े खिलाड़ी स्टालिन की पार्टी डीएमके कांग्रेस के साथ सियासी रण में उतर सकती है, हालांकि इसका ऐलान होना बाकी है.

वहीं, सत्तारूढ़ एआईएडीएमके ने भारतीय जनता पार्टी के साथ आगामी चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है. यह बात गौर करने वाली है कि बीजेपी तमिलनाडु की राजनीति में प्रवेश के लिए रास्ता तैयार करने में जुटी है.

पिछले 10 साल से एआईएडीएमके सत्ता में है. ऐसे में उसे आगामी चुनाव में सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ सकता है. जाहिर है ऐसे में अन्नाद्रमुक के खिलाफ पड़ने वाले वोट डीएमके की झोली में जा सकते हैं. लेकिन अगर चुनाव में दूसरे दल मजबूत होंगे, तो सत्ता विरोधी वोट का बंटना तय है. ऐसे में रजनीकांत और कमल हासन की पार्टियां डीएमके को ज्यादा नुकसान पहुंचा सकती हैं. ऐसे में बीजेपी वाले एनडीए को रजनीकांत के एंट्री करने से फायदे की गुंजाइश ज्यादा है.

तमिलनाडु में अपनी जगह बनाने की कोशिश रही बीजेपी के लिए रजनीकांत का चुनाव लड़ना फायदेमंद भी साबित हो सकता है. क्योंकि काफी समय से रजनीकांत प्रशंसकों का एक बड़ा वर्ग बीजेपी का समर्थक नजर आता है. करीब 16 साल पहले भी रजनी के फैन एसोसिएशन ने रामदौस के रजनी के खिलाफ आए बयान के बाद बीजेपी का समर्थन करने की बात कही थी.

तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता और डीएमके के प्रमुख रहे करुणानिधि के निधन के बाद राज्य की राजनीति में खालीपन लगता है. ऐसा माना जाता रहा है कि इनके बाद तमिल इलाकों में रजनी के अलावा किसी और की मान्यता इस कदर नजर नहीं आती है.

हालांकि, सभी पार्टियों का यही मानना होगा कि रजनी के पास प्रशंसकों का एक बड़ा तबका है, जिसका उन्हें चुनाव में फायदा होगा. जबकि, कुछ चुनावी जानकार मानते हैं कि रजनी छोटी पार्टियों के अलावा किसी को बड़ा नुकसान नहीं पहुंचा पाएंगे.

साल 2016 में हुए तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस और कम्युनिस्टी पार्टी ऑफ इंडिया जैसी बड़ी राष्ट्रीय पार्टियां अपना खाता भी नहीं खोल पाईं थीं. जबकि, इस चुनाव में 234 सीटों पर लड़ने वाली एआईएडीएमके ने 135 सीटों पर जीत हासिल की थी. उसकी करीबी प्रतिद्वंद्वी पार्टी डीएमके रही थी. डीएमके ने 180 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जिसमें 88 सीटें अपने नाम की थीं.

साभार-न्यूज़ 18

Related Articles

Latest Articles

मुख्यमंत्री घोषणा के अंतर्गत सीएम धामी ने विभिन्न कार्यों हेतु प्रदान की स्वीकृति

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री घोषणा के क्रम में जनपद उधमसिंह नगर के विधानसभा क्षेत्र खटीमा स्थित शहीद स्थल पर शैड के निर्माण...

देहरादून: मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने दिए जाली प्रमाण-पत्रों के मामलों में कड़ी कार्यवाही...

0
देहरादून| मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने जाली प्रमाण-पत्रों के मामलों में कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए हैं. सीएस ने आम जनता के लिए जन्म-मृत्यु...

अंतरिक्ष से कुछ ऐसा नजर आता है राम सेतु, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने शेयर...

0
यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने हाल ही में भारत और श्रीलंका को जोड़ने वाली श्रृंखला राम सेतु या एडम ब्रिज की एक उच्च-रिज़ॉल्यूशन तस्वीर शेयर...

जिंबाब्वे दौरे के लिए टीम इंडिया का ऐलान, शुभमन गिल को सौंपी गई कमान

0
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने जुलाई में जिंबाब्वे के खिलाफ खेली जाने वाली 5 टी 20 मैचों की सीरीज के लिए भारतीय टीम का...

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को मिली बड़ी जिम्मेदारी राज्यसभा में नेता सदन बनाए गए...

0
केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा को राज्यसभा में नेता सदन बनाया गया है. सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी. चार साल से अधिक समय...

नीट विवाद को लेकर प्रदर्शन कर रहे एनएसयूआई के छात्रों ने की एनटीए को...

0
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के जंतर-मंतर पर छात्र संगठन एनएसयूआई ने नीट परीक्षा में धांधली को लेकर सोमवार को विरोध प्रदर्शन किया. एनएसयूआई के प्रेसिडेंट...

मोदी 3.0 के पहले 15 दिनों में क्या-क्या हुआ! राहुल गांधी ने गिनाया

0
पार्लियामेंट सेशन का आज पहला दिन शुरू हो गया है. विपक्ष कई मुद्दों पर सरकार को घेरने की तैयारी कर रहा है. इसी बीच...

जैसे ही धर्मेंद्र प्रधान शपथ लेने के लिए उठे! विपक्ष चिल्लाने लगा नीट-नीट

0
नीट पेपर लीक पर मचे घमासान के बीच लोकसभा सत्र में भी इस मुद्दे की गूंज सुनाई दी. हुआ ये कि सोमवार को 18वीं...

Tamil Nadu Hooch Case: जेपी नड्डा ने खड़गे को लिखा पत्र, कांग्रेस पार्टी की...

0
तमिलनाडु में अवैध शराब से हुई मौतों को लेकर केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को...

सीएम केजरीवाल को सुप्रीमकोर्ट से फिलहाल राहत नहीं, अगली सुनवाई 26 जून को

0
दिल्ली| सोमवार को सीएम अरविंद केजरीवाल की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. हालांकि, कोर्ट से केजरीवाल को फिलहाल कोई राहत नहीं...