अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के बीच मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि का मामला पहुंचा कोर्ट, जानें मामला

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के बीच मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि का मामला कोर्ट में पहुंच गया है. जन्मभूमि परिसर को लेकर मथुरा की कोर्ट में एक सिविल मुकदमा दायर किया गया है.

इसमें 13.37 एकड़ पर दावा करते हुए स्वामित्व मांगा है और शाही ईदगाह मस्जिद को हटाने की मांग की गई है.

भगवान श्रीकृष्ण विराजमान की सखा रंजना अग्निहोत्री की तरफ से सुप्रीम कोर्ट के वकील विष्णु शंकर जैन ने याचिका दायर की है. याचिका में जमीन को लेकर 1968 के समझौते को गलत बताया.

यह केस भगवान श्रीकृष्ण विराजमान, कटरा केशव देव खेवट, मौजा मथुरा बाजार शहर की ओर से अंतरंग सखी के रूप में अधिवक्ता रंजना अग्निहोत्री और छह अन्य भक्तों ने दाखिल किया है.

याचिका में क्या कहा गया?

यह याचिका ‘भगवान श्रीकृष्ण विराजमान’ और ‘स्थान श्रीकृष्ण जन्मभूमि’ के नाम से दाखिल की गई है.

यह भी पढ़ें -  CWG 2022: निकहत जरीन ने जड़ा गोल्डन पंच, भारत को दिलाया 17वां गोल्ड

याचिका में बताया गया है कि जिस जगह पर शाही मस्जिद ईदगाह खड़ी है, वही जगह असल कारागार है जिसमें भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था.

क्या है 1968 समझौता?
मथुरा में शादी ईदगाह मस्जिद कृष्ण जन्मभूमि से लगी हुई बनी है.

इतिहासकार मानते हैं कि औरंगजेब ने प्राचीन केशवनाथ मंदिर को नष्ट कर दिया था और शाही ईदगाह मस्जिद का निर्माण कराया था.

1935 में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने वाराणसी के हिंदू राजा को जमीन के कानूनी अधिकार सौंप दिए थे जिस पर मस्जिद खड़ी थी.

1951 में श्री कृष्ण जन्मभूमि ट्रस्ट बनाकर यह तय किया गया कि वहां दोबारा भव्य मंदिर का निर्माण होगा और ट्रस्ट उसका प्रबंधन करेगा.

यह भी पढ़ें -  राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मिले सीएम धामी, ऐतिहासिक जीत पर दी बधाई

1958 में श्रीकृष्ण जन्म स्थान सेवा संघ नाम की संस्था का गठन किया गया था कानूनी तौर पर इस संस्था को जमीन पर मालिकाना हक हासिल नहीं था लेकिन इसने ट्रस्ट के लिए तय सारी भूमिकाएं निभानी शुरू कर दीं.

इस संस्था ने 1964 में पूरी जमीन पर नियंत्रण के लिए एक सिविल केस दाखिल किया लेकिन 1968 में खुद ही मुस्लिम पक्ष के साथ समझौता कर लिया.

1968 समझौते के अनुसार, शाही ईदगाह कमिटी और श्री कृष्णभूमि ट्रस्ट के बीच एक समझौता हुआ जिसके अनुसार, जमीन ट्रस्ट के पास रहेगी और मस्जिद के प्रबंधन अधिकार मुस्लिम कमिटी को दिए जाएंगे.

यह ऐक्ट बन सकता है रुकावट
हालांकि इस केस में Place of worship Act 1991 की रुकावट है. इस ऐक्ट के मुताबिक, आजादी के दिन 15 अगस्त 1947 को जो धार्मिक स्थल जिस संप्रदाय का था, उसी का रहेगा.

यह भी पढ़ें -  CWG 2022 Hockey: भारत पुरुष हॉकी टीम का गोल्ड जीतने का सपना टूटा, फाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने 7-0 से दी मात

इस ऐक्ट के तहत सिर्फ रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को छूट दी गई थी.

पिछले साल 9 नवंबर को अयोध्या पर फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे मामलों में काशी मथुरा समेत देश में नई मुकदमेबाजी के लिए दरवाजा बंद कर दिया था.

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अदालतें ऐतिहासिक गलतियां नहीं सुधार सकतीं.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,243FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 09-08-2022: आज इन राशियों के लिए भाग्यशाली रहेगा मंगलवार

0
मेष: विदेशों से व्यवसाय कर रहे लोगों की आय बेहतर होगी. नौकरीपेशा लोगों को ठोड़ी परेशानी हो सकती है. भाई-बहनों के प्रति प्यार बढ़ेगा....

9 अगस्त 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 9 अगस्त 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

केंद्रीय मंत्री नीतिन गडकरी से मिले सीएम धामी, इन मुद्दों पर हुई चर्चा

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केंद्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नीतिन गडकरी से भेंट की. मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्री के...

कॉमनवेल्थ गेम्स में उत्तराखंड के लाल ने देश के लिए जीता गोल्ड, पीएम...

0
सोमवार को भारतीय बैडमिंटन टीम के सदस्य लक्ष्य सेन ने कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को गोल्ड दिलाया. लक्ष्य सेन ने पुरुष एकल के फाइनल...

यूपी: सीएम योगी को मिली बम से उड़ाने की धमकी

0
लखनऊ| यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को बम से उड़ाने की धमकी दी गई है. पुलिस कंट्रोल रूम यूपी 112 के व्हाट्सएप नंबर पर...

CWG 2022 Badminton: डबल में भी भारत को गोल्ड

0
कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के मिक्स्ड डबल्स फाइनल में भारत के सात्विक साइराज रेंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी ने इंग्लैंड की बेन लेन और...

CWG 2022 Hockey: भारत पुरुष हॉकी टीम का गोल्ड जीतने का सपना टूटा, फाइनल...

0
भारतीय पुरुष हॉकी टीम का कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में गोल्ड जीतने का सपना टूट गया. भारत को रविवार को पुरुष हॉकी के फाइनल में...

ब्रेकिंग – कॉमनवेल्थ गेम्स के आखिरी दिन उत्तराखंड के लक्ष्य सेन ने जीता गोल्ड...

0
इंग्लैंड के बर्मिंघम में कॉमनवेल्थ गेम्स में आज आखिरी दिन उत्तराखंड के बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन ने गोल्ड मेडल जीत लिया है। लक्ष्य सेन...

विदाई समारोह: सांसद ने उपराष्ट्रपति के बचपन की कहानी सुनाई तब वेंकैया नायडू के...

0
विदाई या फेयरवेल का समय हमेशा ही खास और भावुक कर देने वाला होता है. वह लोग बहुत ही खुश किस्मत होते हैं जो...

CWG 2022 Badmintion: पीवी सिंधू ने जीता पहला महिला सिंगल्स कॉमनवेल्थ गेम्स गोल्ड मेडल

0
कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के बैडमिंटन महिला सिंगल्स फाइनल में सोमवार को भारत की पीवी सिंधु का मुकाबला कनाडा की मिचेल ली के खिलाफ हुआ....
%d bloggers like this: