चीन को और झटका देने के लिए भारत ने उठाया ये बड़ा कदम


लद्दाख सहित वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर जारी गतिरोध के बीच भारत ने चीन को एक और बड़ा झटका देने की तरफ कदम बढ़ा दिया है. देश में चीन की गतिविधियां सीमित करने के लिए सरकार ने बीजिंग के लिए जारी होने वाले वीजा की अतिरिक्त जांच एवं उसके स्थानीय विश्वविद्यालयों के साथ संपर्कों की नए सिरे से समीक्षा करने का आदेश दिया है. विदेश मंत्रालय को कहा गया है कि वह चीन के कारोबारियों, शिक्षाविदों, उद्यमियों और थिंक टैंक्स को वीजा जारी करने से पहले उसकी सुरक्षा मंजूरी की जरूरत होगी.

इस कदम से चीन की गतिविधियां कम होंगी
टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक नाम उजागर न करने की शर्त पर अधिकारियों ने बताया कि इसी तरह के नियम पाकिस्तान के साथ भी लागू हैं. एक अधिकारी ने कहा कि इस फैसले के बाद भारतीय विश्वविद्यालयों का चीनी संस्थानों के साथ होने वाले करार की गतिविधियों में उल्लेखनीय कमी आनी तय है. अधिकारियों का कहना है कि सरकार भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय एवं अन्य संस्थानों के चीन के आधिकारिक भाषा प्रशिक्षण कार्यालय जिसे हनबान नाम से जाना जाता है, उसके साथ हुए 54 सहमति पत्रों की समीक्षा कर रही है.

चीन के संस्थानों के साथ करार खत्म हो सकते हैं
अधिकारियों का कहना है कि मंडारिन भाषा को छोड़कर चीन के संस्थानों के साथ करारों को खत्म किया जा सकता है. अधिकारियों के मुताबिक इन संस्थानों का इस्तेमाल थिंक टैंक्स, नीतियों का निर्माण करने वालों, राजनीतिक दलों, कॉरपोरेट एवं शिक्षाविदों को प्रभावित करने के लिए किया जाता है. हालांकि, इस घटनाक्रम पर विदेश मंत्रालय की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है.

गलवान घाटी की घटना के बाद रिश्तों में आई तल्खी
बता दें कि गत 14 जून को गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद भारत और चीन के संबंधों में तल्खी आ गई है. लद्दाख सहित पूरे एलएसी पर तनाव का माहौल है. भारत ने इस घटना के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार ठहराया. विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया कि चीन की तरफ से एलएसी पर एकतरफा बदलाव की कोशिश की गई. पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी से चीन के सैनिकों की वापसी हुई है लेकिन पैंगोंग लेक और फिंगर क्षेत्र से चीनी सैनिक पीछे हटने के लिए तैयार नहीं है.

सैन्य स्तर पर बातचीत से नहीं निकला है हल
इन इलाकों में चीन की मंशा को देखते हुए भारत ने अपने सैनिकों की तादाद बढ़ा दी है. भारत ने स्पष्ट रूप से कहा है कि वह अपनी क्षेत्रीय अखंडता एवं संप्रभुता के साथ कोई समझौता नहीं करेगा. पीएम मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जुलाई में लेह का दौरा कर चीन को स्पष्ट संदेश दिया कि विस्तारवादी मानसिकता का दौर खत्म हो चुका है. विस्तारवादी ताकतें या तो खुद खत्म हो गईं या उन्हें समाप्त होने के लिए बाध्य किया गया. सीमा पर शांति और सौहार्द कायम करने के लिए दोनों देशों के बीच सैन्य कमांडर स्तर पर पांच दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन इस विवाद का अभी हल नहीं निकल सका है.

Related Articles

विज्ञापन

Latest Articles

फ्रांस में गर्भपात को संवैधानिक अधिकार बनाने वाले विधेयक को मिली मंजूरी, ऐसा करने...

0
फ्रांस की सरकार ने ऐतिहासिक कदम उठाते हुए देश में गर्भपात को महिलाओं का संवैधानिक अधिकार बनाने को हरी झंडी दे दी है. फ्रांस...

राशिफल 05-03-2024: आज बजरंग बली की कृपा से इन राशियों का होगा कल्याण

0
मेष-: यह अपने टैलेंट, नई खोज करने और अपनी क्षमता का प्रदर्शन करने का समय है. अपने आप पर भरोसा रखें. यह समय आपको...

05 मार्च 2024 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 05 मार्च 2024 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

देहरादून से अयोध्या अमृतसर और वाराणसी के लिए हवाई सेवा, 6 मार्च को होगा...

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी का प्रयास रंग लाया है. देहरादून से देश के तीन प्रमुख शहरों अयोध्या, अमृतसर और वाराणसी के लिए सीधी हवाई...

हरिद्वार: लक्सर में आयोजित लाभार्थी सम्मेलन में सीएम धामी ने किया 68.82 करोड़ की...

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को जनपद हरिद्वार के लक्सर में आयोजित लाभार्थी सम्मेलन के अवसर पर 68.82 करोड़ की विभिन्न योजनाओं का...

लोकसभा चुनाव से पहले गुजरात में कांग्रेस को लगा बड़ा झटका! अर्जुन मोढवाडिया ने...

0
अहमदाबाद| कांग्रेस को लोकसभा चुनाव से पहले गुजरात में फिर बड़ा झटका लगा है. पोरबंदर से विधायक अर्जुन मोढवाडिया ने पार्टी से इस्तीफा दे...

आईपीएल 2024 से पहले सनराइजर्स हैदराबाद ने किया बड़ा बदलाव! पैट कमिंस नए कप्तान

0
आईपीएल 2024 से पहले सनराइजर्स हैदराबाद ने बड़ा बदलाव करते हुए पैट कमिंस को नया कप्तान बना दिया है. फ्रेंचाइज़ी ने पिछले सीज़न यानी...

औली में तीन फीट जमी बर्फ, चारों ओर जन्नत सा नजारा

0
औली की वादियां बर्फबारी के बाद अब सोने जैसी चमक रही हैं। यहां का मौसम खुशनुमा हो गया है और अभी तक तीन फीट...

इसरो प्रमुख एस सोमनाथ कैंसर से पीड़ित, आदित्य-एल1 की लॉन्चिंग के दिन चला पता,...

0
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के प्रमुख एस सोमनाथ कैंसर से पीड़ित हैं. उन्हें इस बात की जानकारी आदित्य-एल1 की लॉन्चिंग के वक्त हुई....

अब उत्तराखंड में भी संपत्ति के नुकसान पर होगी वसूली

0
उत्तराखंड की पुष्कर सिंह धामी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए सरकारी और निजी संपत्ति क्षति वसूली एक्ट को मंजूरी दे दी. सोमवार को...