ड्राइविंग के दौरान इस शर्त पर इस्तेमाल कर सकेंगे मोबाइल फोन, 1अक्टूबर से लागू होंगे कई नियम

शनिवार को सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने कहा कि वाहन चलाते समय मोबाइल फोन्स का इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन यह केवल रूट्स नैविगेशन के लिए ही होना जाना चाहिए.

साथ में यह भी ध्यान देना होगा कि इस दौरान ड्राइविंग से ध्यान न भटके.

यह भी साफ किया गया कि ड्राइविंग के दौरान फोन पर बात करते हुए पकड़े जाने पर 1,000 रुपये से लेकर 5,000 रुपये तक का फाइन लग सकता है.

मंत्रालय ने कहा कि उसने केंद्रीय मोटर वाहन नियमों में संशोधन किया है.

इसके तहत वाहन संबंधी जरूरी डॉक्युमेंट्स जैसे – लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन डॉक्युमेंट्स, फिटनेस सर्टिफिकेट, परमिट्स आदि को सरकार द्वारा संचालित वेब पोर्टल के माध्यम से मेंटेन किया जा सकेगा.

इलेक्ट्रॉनिक पोर्टल के जरिए कमंपाउंडिंग, इम्पाउंडिंग, एंडॉर्समेंट, लाइसेंस का सस्पेंशन व रिवोकेशन, रजिस्ट्रेशन और ई-चालान जारी करने आदि का काम भी हो सकेगा.

1 अक्टूबर से लागे होंगे नये नियम
मोटर वाहन (संशोधन) कानून के तहत इन नियमों को 1 अक्टूबर से लागू कर दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें -  Ind Vs Bang 1st ODI: मेहदी हसन ने टीम इंडिया के जबड़े से छीनी जीत, बांग्‍लादेश की विजयी शुरूआत

पिछले साल ही केंद्र सरकार ने इस कानून में कई संशोधन को लागू किया था, जिसमें परिवहन नियम से लेकर सड़क सुरक्षा आदि शामिल थे.

इन नियमों के उल्लंघन करने पर मोटे जुर्माने का प्रावधान किया गया था.

साथ ही, भ्रष्टाचार को कम करने के लिए टेक्नोलॉजी को भी अपग्रेड किया गया था.

मंत्रालय की तरफ से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया, ‘आईटी सर्विसेज के इस्तेमाल और इलेक्ट्रॉनिक मॉनि​टरिंग से देश में ट्रैफिक नियमों को पालन कराने में मदद मिलेगी.

यह भी पढ़ें -  ताजमहल निर्माण पर याचिका की सुनवाई से सुप्रीमकोर्ट का इंकार, कहा-किसी इमारत की आयु का पता लगाना कोर्ट का काम नहीं

इससे ड्राइवर्स का उत्पीड़न या परेशान करने के मामले कम होंगे.’

ड्राइवर के व्यवहार पर होगी नज़र
पोर्टल पर निरस्त किए गया या डिसक्वॉलिफाईड ड्राईविंग लाइसेंस का क्रमानुसार रिकॉर्ड रखा जाएगा.

इससे अथॉरिटीज को ड्राइवर के व्यवहार को मॉनिटर करने में मदद मिलेगी.

नियमों के मुताबिक, अगर किसी वाहन संबंधी डॉक्युमेंट्स को इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से वेरिफाई कर दिया गया है तो पुलिस अधिकारी इसके फिजिकल कॉपी नहीं मांग सकेंगे.

इसमें वो मामले भी शामिल होंगे, जहां ड्राईवर ने कोई उल्लंघन किया है, जिसमें किसी डॉक्युमेंट को ज़ब्त किया जाना है.

इस तरह की ज़ब्ती को पोर्टल पर इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से किया जाएगा. इसके बाद इस डॉक्युमेंट के विवरण को क्रमानुसार रिकॉर्ड किया जाएगा.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: रेल का सफर करने वाले यात्रियों के लिए जरूरी सूचना, 3 महीने के लिए कैंसल हुई ये ट्रेनें

इस तरह के रिकॉर्ड नियमित अंतराल पर पोर्टल पर ​दर्शाए जाएंगे.

यह भी कहा गया कि किसी डॉक्युमेंट की मांग करने या जांच करने के बाद तारीख और जांच का टाइम स्टैम्प व यूनिफॉर्म में पुलिस अधिकारी की पहचान पत्र का रिकॉर्ड भी पोर्टल पर ही मेंटेन किया जाएगा.

इसमें राज्यों द्वारा अधिकृत अधिकारियों के विवरण भी शामिल होंगे.

इससे वाहनों की बेवजह चेकिंग या जांच करने का बोझ कम होगा और ड्राईवरों को भी परेशान नहीं होना पड़ेगा.

साभार-न्यूज़ 18

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

लालू प्रसाद यादव का किडनी ट्रांसप्लांट रहा सफल, बेटी ने की किडनी डोनेट

0
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव सिंगापुर में किडनी ट्रांसप्लांट कराने के लिए भर्ती हुए थे।...

सीएमआई आंकड़ों के मुताबिक उत्तराखंड में कम हुई बेरोजगारी दर

0
देश में छत्तीसगढ़ के बाद उत्तराखंड में नवंबर माह में सबसे कम बेरोजगारी दर देखने को मिली। बता दे कि सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन...

उत्तराखंड: रेल का सफर करने वाले यात्रियों के लिए जरूरी सूचना, 3 महीने के...

0
देहरादून| मौसम बदलते ही मैदानी इलाकों में कोहरे का असर दिखने लगा है. सुबह की शुरुआत हल्की धुंध के साथ हो रही है. घने...

बड़ी ख़बर: रामनगर में 26 साल के युवक की हत्या, पुलिस चौकी के पीछे...

0
उत्तराखंड के रामनगर से एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। जहां युवक की हत्या से सनसनी फैल गई है। बता दे कि...

गूगल की सर्जिकल स्ट्राइक, हजारों यूट्यूब चैनल किए बंद

0
वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म यूट्यूब पर आप भी वीडियो देखना पसंद करते हैं तो आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि गूगल ने...

हरिद्वार में पिटबुल डाग का आतंक, नौ साल के बच्‍चे पर किया जानलेवा हमला

0
एक बार फिर ख़तरनाक पिटबुल डाग के आतंक का मामला सामने आया है। यह घटना हरिद्वार के कनखल की मिश्रा गार्डन कालोनी की है...

ताजमहल निर्माण पर याचिका की सुनवाई से सुप्रीमकोर्ट का इंकार, कहा-किसी इमारत की...

0
ताजमहल के निर्माण के बारे में अब तक गलत जानकारी दिए जाने का दावा करने वाली याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने मना...

JNU मामले पर बोले हरियाणा के गृहमंत्री, ऐसी सोच देश के लिए है घातक

0
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी कैंपस की इमारतों पर लिखे गए ब्राह्मण विरोधी नारों को देखते ही देश में आक्रोश का मौहोल है। इतना ही नहीं...

क्या एग्जिट पोल सनसनी हैं या वाकई होते हैं विश्वसनीय, क्या होती है इसकी...

0
हिमाचल प्रदेश और गुजरात में 05 दिसंबर को शाम 06 बजे के बाद जब चुनाव आयोग मतदान खत्म करने की घोषणा के साथ वोटिंग...

बड़ी ख़बर: चमोली में वाहन दुर्घटना, दो की मौत, तीन घायल

0
उत्‍तराखंड में चमोली जिले के गोपेश्वर घिंघराण मोटर मार्ग पर रविवार देर रात एक बड़ा हादसा हो गया। बताया जा रहा है कि यह...
%d bloggers like this: