पंजाब की आग से दिल्ली में बढ़ा प्रदूषण तो जावेडकर-केजरीवाल में भड़क गई चिंगारी

एक बहुत ही विश्व प्रसिद्ध कहावत है, फ्रांस जल रहा था और नीरो बांसुरी बजा रहा था. इसी तर्ज पर पंजाब से लगी आग का धुआं राजधानी दिल्ली में प्रदूषण फैलता है.

बता दें कि ‘पंजाब में मौजूदा समय में कांग्रेस की सरकार है, इसको हम यह भी कह सकते हैं कि कांग्रेस की लगाई आग में भाजपा और आम आदमी पार्टी झुलस जाती है’. उसके बाद पंजाब सरकार आराम से बांसुरी बजाती है.

आग का मतलब है पराली जलाना. वैसे पंजाब के साथ हरियाणा और पश्चिम उत्तर प्रदेश में भी किसानों द्वारा पराली जलाई जाती है, जिससे दिल्ली में प्रदूषण और बढ़ जाता है. पराली जलाने की घटनाएं अधिकांश सर्दी के शुरू होने पर सामने आती है. इस बार भी ऐसे ही हो रहा है. सर्दी शुरू होते ही पराली जलाने से दिल्ली का प्रदूषण स्तर काफी बढ़ गया है.

पिछले कुछ दिनों से दिल्ली और एनसीआर के इलाकों में धुंध हो रही है, जिसकी वजह से राजधानी दिल्ली की जनता का दम घुटने लगा है.

अब इसी मुद्दे पर केंद्र और दिल्ली सरकार में फिर बयानबाजी शुरू हो गई है. गुरुवार को केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावेडकर और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर आमने सामने आ गए हैं.

राजधानी में बढ़ते प्रदूषण से हालात बिगड़ने पर पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावेडकर ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जिम्मेदार ठहरा दिया. आइए आपको बताते हैं जावेडकर ने क्या कहा जिस पर अरविंद केजरीवाल ने भी पलटकर जवाब दिया.

यह भी पढ़ें -  JNU मामले पर बोले हरियाणा के गृहमंत्री, ऐसी सोच देश के लिए है घातक

राजधानी में प्रदूषण स्तर बढ़ने के लिए पराली के साथ दिल्ली की समस्याएं भी जिम्मेदार
गुरुवार सुबह ‘केंद्रीय पर्यावरण मंत्री जावेडकर ने कहां की पराली के साथ दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार भी जिम्मेदार हैं, केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राजधानी में पराली की वजह से सिर्फ चार फीसदी प्रदूषण होता है, बाकी प्रदूषण यहां की ही लोकल समस्याओं के कारण होता है’.

जावेडकर ने बताया कि दिल्ली में बायोमास जलती है, ये सभी मिलकर राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण संकट में योगदान करते हैं. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार इससे निपटने में नाकामयाब रही है. जावेडकर के इस बयान के बाद आम आदमी पार्टी के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल भी केंद्र से आर-पार की लड़ाई में उतर आए.

सीएम केजरीवाल ने जावेडकर पर पलटवार करते हुए कहा कि बार-बार इनकार करने से कुछ नहीं होगा. अगर पराली जलने से सिर्फ चार फीसदी प्रदूषण हो रहा है तो फिर अचानक रात में ही कैसे प्रदूषण फैल गया? उससे पहले तो हवा साफ थी.

उन्होंने कहा कि यही कहानी हर साल होती है, कुछ ही दिनों में दिल्ली में प्रदूषण को लेकर ऐसा कोई उछाल नहीं हुआ है. दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने अपने ट्वीट में लिखा कि इस बात को मानना होगा कि हर साल उत्तर भारत में पराली जलने के कारण प्रदूषण फैलता है और इसे हमें साथ में मिलकर लड़ना होगा.

यह भी पढ़ें -  दिल्ली नगर निगम चुनाव: मनोज तिवारी का आप पर आरोप, मतदाता सूची से काटे गए बीजेपी समर्थित 450 वोटरों के नाम

उन्होंने कहा कि राजनीति और एक दूसरे पर आरोप लगाने से कुछ नहीं होगा, लोगों को नुकसान हो रहा है.

पिछले साल भी दिल्ली में प्रदूषण बढ़ने पर भाजपा और आम आदमी पार्टी में ठन गई थी
पिछले साल 2019 के आखिरी महीनों में दिल्ली में बढ़े प्रदूषण ने हाहाकार मचा दिया था. राजधानी के लोगों का दम घुटने पर राजनीति भी खूब हुई. मामला संसद से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया था.

वहीं सप्रीम कोर्ट ने सभी राजनीतिक दलों पर तल्ख टिप्पणी करते हुए फटकार लगाई थी और राजधानी में बढ़ते प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए सख्त दिशा निर्देश जारी किए थे. उसी दौरान प्रदूषण को लेकर दिल्ली में चल रही राजनीतिक जंग के बीच संसद में चर्चा छिड़ी तो एकमत से सदस्यों ने किसानों का बचाव करते हुए ठीकरा प्रबंधन पर फोड़ा, जबकि भाजपा ने पूरी तरह दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार को कठघरे में खड़ा किया था.

यहां हम आपको बता दें कि हर साल की तरह इस साल भी दिल्ली में धुंध की समस्या शुरू हो गई है. दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी यूपी के इलाकों में अब पराली जलना शुरू हो गई है, जिसके कारण धुंध इकट्ठी हो रही है. पंजाब में सबसे अधिक पराली जलाई जा रही है.

यह भी पढ़ें -  क्या एग्जिट पोल सनसनी हैं या वाकई होते हैं विश्वसनीय, क्या होती है इसकी प्रक्रिया, जानिए

दिल्ली में प्रदूषण की भयावह स्थिति के लिए कौन जिम्‍मेदार. दरअसल दिल्ली में प्रदूषण की भयावह स्थिति के लिए पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जलने वाली पराली को जिम्मेदार माना जाता रहा है, वैज्ञानिकों ने भी पराली को जिम्मेदार माना है. दिल्ली सरकार की ओर से भी यही तर्क दिया जाता है.

दिल्ली सरकार ने प्रदूषण को रोकने के लिए निर्माण कार्यों के लिए गाइडलाइंस जारी की है. जेनरेटर के इस्तेमाल पर भी रोक लगा दी है. धूल न उड़े, इसके लिए पानी के निरंतर छिड़काव के निर्देश दिए गए हैं. दिल्ली सरकार के ये तमाम प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं.

राजधानी की हवा बहुत खराब स्तर पर पहुंच गई है. सही मायने में दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण की समस्या को रोकने के लिए सभी राजनीतिक दलों को एक दूसरे पर कीचड़ उछालने से अच्छा होता कि इस पर गंभीरता से विचार किया जाता.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

लालू प्रसाद यादव का किडनी ट्रांसप्लांट रहा सफल, बेटी ने की किडनी डोनेट

0
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव सिंगापुर में किडनी ट्रांसप्लांट कराने के लिए भर्ती हुए थे।...

सीएमआई आंकड़ों के मुताबिक उत्तराखंड में कम हुई बेरोजगारी दर

0
देश में छत्तीसगढ़ के बाद उत्तराखंड में नवंबर माह में सबसे कम बेरोजगारी दर देखने को मिली। बता दे कि सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन...

उत्तराखंड: रेल का सफर करने वाले यात्रियों के लिए जरूरी सूचना, 3 महीने के...

0
देहरादून| मौसम बदलते ही मैदानी इलाकों में कोहरे का असर दिखने लगा है. सुबह की शुरुआत हल्की धुंध के साथ हो रही है. घने...

बड़ी ख़बर: रामनगर में 26 साल के युवक की हत्या, पुलिस चौकी के पीछे...

0
उत्तराखंड के रामनगर से एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। जहां युवक की हत्या से सनसनी फैल गई है। बता दे कि...

गूगल की सर्जिकल स्ट्राइक, हजारों यूट्यूब चैनल किए बंद

0
वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म यूट्यूब पर आप भी वीडियो देखना पसंद करते हैं तो आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि गूगल ने...

हरिद्वार में पिटबुल डाग का आतंक, नौ साल के बच्‍चे पर किया जानलेवा हमला

0
एक बार फिर ख़तरनाक पिटबुल डाग के आतंक का मामला सामने आया है। यह घटना हरिद्वार के कनखल की मिश्रा गार्डन कालोनी की है...

ताजमहल निर्माण पर याचिका की सुनवाई से सुप्रीमकोर्ट का इंकार, कहा-किसी इमारत की...

0
ताजमहल के निर्माण के बारे में अब तक गलत जानकारी दिए जाने का दावा करने वाली याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने मना...

JNU मामले पर बोले हरियाणा के गृहमंत्री, ऐसी सोच देश के लिए है घातक

0
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी कैंपस की इमारतों पर लिखे गए ब्राह्मण विरोधी नारों को देखते ही देश में आक्रोश का मौहोल है। इतना ही नहीं...

क्या एग्जिट पोल सनसनी हैं या वाकई होते हैं विश्वसनीय, क्या होती है इसकी...

0
हिमाचल प्रदेश और गुजरात में 05 दिसंबर को शाम 06 बजे के बाद जब चुनाव आयोग मतदान खत्म करने की घोषणा के साथ वोटिंग...

बड़ी ख़बर: चमोली में वाहन दुर्घटना, दो की मौत, तीन घायल

0
उत्‍तराखंड में चमोली जिले के गोपेश्वर घिंघराण मोटर मार्ग पर रविवार देर रात एक बड़ा हादसा हो गया। बताया जा रहा है कि यह...
%d bloggers like this: