‘अखंड भारत’ पर मोहन भागवत ने दिया ये बड़ा बयान…

हैदराबाद| ‘अखंड भारत’ को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत ने बड़ा बयान दिया है. आरएसएस प्रमुख ने गुरुवार को ‘अखंड भारत’ (अविभाजित भारत) पर जोर देते हुए कहा कि यह अवधारणा हिंदुस्तान से अलग होने वाले पाकिस्तान जैसे देशों के लिए लाभकारी होगी. संस्कृत के एक पुस्तक के विमोचन मौके पर भागवत ने कहा कि ‘अखंड भारत’ का सपना हिंदू धर्म से साकार हो सकता है.

यह उपनिवेशवाद नहीं-आरएसएस प्रमुख

उन्होंने कहा, ‘हम पाकिस्तान एवं अफगानिस्तान जैसे देशों को अपना मानते हैं. एक समय वे हमारे साथ थे. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे किस धर्म का पालन करते हैं और वे क्या खाते हैं. यह उपनिवेशवाद नहीं है. भारत वसुधैव कुटुम्बकम (पूरा विश्व एक परिवार है) की अवधारणा में विश्वास करता है.’

‘हम आज भी उन्हें अपना मानते हैं’
समारोह में भागवत से पूछा गया कि क्या भारत से अलग होने के बाद पाकिस्तान और गंधार (अफगानिस्तान) में शांति हो पाई. इस पर उन्होंने कहा, ‘चूंकि वे जीवन की ऊर्जा (भारत) से अलग हुए. हम आज भी उन्हें पहले की तरह अपना मानकर अपनाने के लिए तैयार हैं.’ आरएसएस प्रमुख ने कहा कि ‘अखंड भारत’ संभव है. कुछ लोगों ने देश के बंटवारे से छह महीने पहले विभाजन पर आशंका जाहिर की थी. ‘जवाहललाल नेहरू ने इसे मूर्खों का सपना कहते हुए’ खारिज किया. इसी तरह से कुछ भी हो सकता है.’ भागवत के मुताबिक ब्रिटिश संसद में लॉर्ड वेभेल ने कहा था कि ‘ईश्वर ने भारत का निर्माण किया है और इसे कौन विभाजित करने जा रहा है.’

‘किसी पर उपनिवेशवाद थोपना नहीं’

भागवत ने आगे कहा कि ‘अखंड भारत’ की बात करना किसी पर उपनिवेशवाद थोपना नहीं है. उन्होंने कहा, ‘जब हम एकजुट होने की बात करते हैं तो हम ताकत की बात नहीं करते. यह लोगों के जुड़ने की बात होती है. लोग ‘सनातन धर्म’ से जुड़ते हैं जिसे हिंदू धर्म कहा जाता है.’ आरएसएस प्रमुख शुक्रवार को अदीलाबाद में एक कार्यक्रम को संबोधित करने वाले हैं.

भारत से जुड़कर सुलझेंगी समस्याएं-भागवत
उन्होंने कहा, ‘इन देशों ने वह सब कुछ किया, जो वह कर सकते थे, लेकिन उन्हें कोई समाधान नहीं मिला. इसका एक मात्र समाधान (भारत के साथ) फिर से जुड़ना है और इससे उनकी सभी समस्याएं सुलझ जाएंगी.’आरएसएस प्रमुख ने कहा कि लेकिन पुन: एकीकरण मानवीय धर्म के जरिए किया जाना चाहिए जो उनके अनुसार ‘हिंदू धर्म’ कहा जा जाता है. उन्होंने कहा कि वसुधैव कुटुम्बकम् के जरिए भारत दुनिया में फिर से खुशहाली और शांति ला सकता है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,244FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 18-08-2022: आज इन राशियों के पूरे होंगे सभी काम

0
मेष: आज के दिन संतान की तरफ से कोई शुभ समाचार मिल सकता है. सामाजिक कार्यों में सहयोग दें. आर्थिक स्थिति बेहतर होगी. वृष:...

18 अगस्त 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 18 अगस्त 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

मुख्य सचिव ने की उत्तराखण्ड लैंडस्लाइड मिटिगेशन एंड मैनेजमेंट सेंटर की प्रगति की समीक्षा

0
देहरादून| बुधवार को मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने सचिवालय में उत्तराखण्ड लैंडस्लाइड मिटिगेशन एंड मैनेजमेंट सेंटर की प्रगति की समीक्षा की....

सीएम धामी ने कोटद्वार में अग्निवीरो के भर्ती कार्यक्रम में उपस्थित होकर युवाओं का...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी भूषण, सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी एवं महिला बाल विकास मंत्री रेखा आर्य के...

उत्तराखंड में जन्माष्टमी की छुट्टी में हुआ बदलाव, आदेश जारी

0
देहरादून| उत्तराखंड में कृष्ण जन्माष्टमी की छुट्टी अब 19 अगस्त को घोषित की गई है. पहले यह छुट्टी 18 अगस्त को तय की गई...

हल्द्वानी: 38 साल बाद ‘सियाचिन हीरो’ चंद्रशेखर हरबोला पंचतत्व में विलीन, बेटियों ने दी...

0
हल्द्वानी| लांस नायक चंद्रशेखर हरबोला का अंतिम संस्कार पूरे सैनिक सम्मान के साथ आज रानीबाग के चित्रशिला घाट पर किया गया. शहीद लांसनायक चंद्रशेखर...

सीएम धामी ने लांसनायक चन्द्रशेखर हर्बोला के पार्थिव देह पर पुष्पचक्र अर्पित कर दी...

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने 1984 में सियाचिन में ऑपरेशन मेघदूत के दौरान शहीद हुए लांसनायक चन्द्रशेखर हर्बोला के पार्थिव देह पर पुष्पचक्र अर्पित...

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की सुरक्षा में हुई चूक पर 3 कमांडो बर्खास्त

0
भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक के मामले में गृह मंत्रालय ने एक्शन लेते हुए 3 कमांडो को सर्विस...

बढ़ते कोरोना के मामलों को देख डीजीसीए सख्त, एयरलाइन्स को दिए ये निर्देश

0
देश में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए नागर विमानन महानिदेशालय यानी डीजीसीए सख्त हो गया है. डीजीसीए ने एयलाइन्स को निर्देश दिए...

क्या अब 5 साल तक के बच्चों की भी लेनी होगी ट्रेन टिकट! जानिए...

0
कई लोग ट्रेन से यात्रियों के साथ सफर करते हैं. बच्चों के साथ आरामदायक यात्रा के लिए भारतीय रेलवे कई सुविधाएं प्रदान करती है,...
%d bloggers like this: