सियासत की तीसरी पारी: दीदी की छांव में शत्रुघ्न की संसद में एंट्री, 3 साल से खामोश बिहारी बाबू फिर भाजपा के सामने

हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता और भाजपा के पूर्व केंद्रीय मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा के लिए 32 साल के सियासी सफर में आज खास दिन है. 3 साल से सियासी मैदान में ‘खामोश’ बैठे बिहारी बाबू ने एक बार फिर से लोकतंत्र के सबसे बड़े मंदिर संसद में ‘एंट्री’ की है. शत्रुघ्न साल 2019 से अपने राजनीतिक करियर के सबसे खराब दौर में थे.

2019 के लोकसभा चुनाव में बिहारी बाबू कांग्रेस की टिकट पर पटना साहिब से चुनाव हार गए थे. उसी साल उनकी पत्नी पूनम सिन्हा भी सपा के टिकट पर लखनऊ से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से चुनाव हार गई थीं. उसके बाद साल 2020 बिहार विधानसभा चुनाव में शत्रुघ्न के पुत्र भी पटना से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव हार गए थे. आज अभिनेता और नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने पिछले 3 सालों से मिली हार की भरपाई कर ली है.

अब बिहारी बाबू भाजपा की धुर विरोधी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की छांव में टीएमसी के लोकसभा सांसद बन गए हैं . पूर्व भाजपा के केंद्रीय मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा ने आज से अपनी सियासत की तीसरी पारी शुरू कर दी है. केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में स्वास्थ्य और जहाजरानी मंत्री रहे शत्रुघ्न ने मोदी युग आने के बाद 6 अप्रैल, साल 2019 को भाजपा को अलविदा कह दिया और कांग्रेस में शामिल हो गए‌‌.

यह भी पढ़ें -  महाराष्ट्र संकट: शिवसेना विधायकों की बगावत के बीच बिस्वा सरमा का उद्धव ठाकरे को ऑफर, कहा-आप छुट्टी मनाने आएं असम

2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर पटना साहिब से लोकसभा चुनाव लड़े थे लेकिन भाजपा के पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने उन्हें हरा दिया था. ‌शत्रुघ्न सिन्हा 1992 में भाजपा में शामिल हुए थे, दो बार लोकसभा सदस्य बने. 3 वर्षों से बिहारी बाबू सियासत में सक्रिय नहीं थे. पिछले दिनों बिहारी बाबू पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए. ममता ने शत्रुघ्न सिन्हा को बंगाल की आसनसोल लोकसभा के उपचुनाव सीट से टीएमसी का उम्मीदवार बनाया.

बता दें कि पश्चिम बंगाल के आसनसोल लोकसभा सीट के आज घोषित किए गए नतीजों में शत्रुघ्न सिन्हा चुनाव जीतकर टीएमसी के सांसद बन गए हैं. उन्होंने भाजपा की अग्निमित्रा पॉल को 2 लाख 64 हजार 913 वोट से हराया. ये सीट पिछले साल पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के इस्तीफे के बाद खाली हुई थी. सुप्रियो बीजेपी छोड़कर टीएमसी में शामिल हो गए थे.

अब एक बार फिर संसद में लोकसभा सदस्य के रूप में शत्रुघ्न सिन्हा मोदी सरकार के सामने होंगे. बता दें कि देश की एक लोकसभा और चार विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों के नतीजे आ चुके हैं. चारों राज्यों में बीजेपी प्रत्याशियों को हार का सामना करना पड़ा है.

यह भी पढ़ें -  Presidential Election 2022: पीएम मोदी, अमित शाह की मौजूदगी में द्रोपदी मुर्मू ने दाखिल किया नामांकन

पश्चिम बंगाल के आसनसोल लोकसभा सीट से शत्रुघ्न सिन्हा और बालीगंज विधानसभा सीट से बाबुल सुप्रियो की जीत हुई है. वहीं बिहार के बोचहां सीट से राजद के प्रत्याशी अमर पासवान ने जीत हासिल की है. महाराष्ट्र के कोल्हापुर उत्तरी विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी जयश्री जाधव को जीत हुई है.

छत्तीसगढ़ की खैरागढ़ विधानसभा सीट पर भी कांग्रेस की यशोदा वर्मा विजयी हुईं हैं. इन उपचुनाव में भाजपा खाली हाथ रही है. बता दें कि चार राज्यों की 5 सीटों पर उपचुनाव के लिए 12 अप्रैल को मतदान हुआ था.

साल 1992 में शत्रुघ्न सिन्हा ने भाजपा के साथ शुरू किया था अपना सियासी सफर
बता दें कि 1991 में लाल कृष्ण आडवाणी ने गांधी नगर और दिल्ली, दो सीटों से चुनाव लड़े और जीते भी. बाद में आडवाणी ने दिल्ली सीट छोड़ दी और वहां से 1992 में उपचुनावों में शत्रुघ्न सिन्हा को मौका मिला. शत्रुघ्न के सामने बॉलीवुड के सुपरस्टार राजेश खन्ना चुनाव मैदान में थे. लेकिन उस लोकसभा उपचुनाव में राजेश खन्ना ने शत्रुघ्न सिन्हा को हरा दिया था. ‌

कुछ ही दिनों में वह अटल बिहारी वाजपेयी और आडवाणी जैसे नेताओं के करीबी हो गए और इसका फायदा उन्हें कई मौकों पर मिला. 1996 में बीजेपी ने शत्रु को राज्यसभा को भेजा. एक कार्यकाल पूरा होने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा को दोबारा राज्यसभा भेजा गया.

यह भी पढ़ें -  नई नियुक्ति: दिनकर गुप्ता एनआईए महानिदेशक और स्वागत दास गृह मंत्रालय में विशेष सचिव होंगे

अटल बिहारी वाजपेयी के विश्वस्त लोगों में शामिल रहे शत्रुघ्न को 2002 में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री बनाया गया. 2003 में उन्हें जहाजरानी मंत्री भी बनाया गया था. 2009 में लाल कृष्ण आडवाणी ने उन्हें बिहार की पटना साहिब सीट से उतारा जहां से शत्रुघ्न ने जबरदस्त जीत हासिल की. इसके बाद 2014 में उन्हें फिर से इसी सीट से टिकट दिया गया. यहां से उन्हें जीत मिली. चुनाव जीतने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा को उम्मीद थी कि वह मंत्री बनेंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

यहीं से शत्रुघ्न सिन्हा की नाराजगी शुरू हो गई. धीरे-धीरे बिहारी बाबू की भाजपा के प्रति दूरियां और बढ़ती चली गई. उसके बाद साल 2019 में शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस में शामिल हो गए. करीब 3 साल रहने के बाद कांग्रेस पार्टी में रहने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने अब फिर से टीएमसी से अपनी सियासी पारी शुरू की है.

शंभूनाथ गौतम

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,237FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 25-06-2022: आज इन राशियों पर रहेगी हनुमान जी और शनि देव की विशेष...

0
मेष- मन प्रसन्न रहेगा. घर-परिवार में धार्मिक कार्य हो सकते हैं. भवन की मरम्मत एवं साज-सज्जा के कार्यों पर खर्च बढ़ेंगे. कुटुम्ब की किसी...

25 जून 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 25 जून 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

महाराष्ट्र संकट: शिवसेना विधायकों की बगावत के बीच बिस्वा सरमा का उद्धव ठाकरे को...

0
एकनाथ शिंदे समेत नाराज शिवसेना विधायक अपने समर्थकों के साथ गुवाहाटी में डेरा डाले हुए हैं. हालांकि, असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा को...

सीएम धामी का दिल्ली दौरा: केंद्रीय गृह मंत्री से की शिष्टाचार भेंट, इन मुद्दों...

0
शुक्रवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केंद्रीय गृह व सहकारिता मंत्री अमित शाह से शिष्टाचार भेंट की. सीएम ने केंद्रीय...

सीएम धामी ने केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से की शिष्टाचार भेंट, इन...

0
शुक्रवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से शिष्टाचार भेंट की. सीएम ने जमरानी...

रिटायर्ड आईएएस अधिकारी परमेश्वरन अय्यर नीति आयोग के नए सीईओ होंगे

0
रिटायर्ड आईएएस ऑफिसर परमेश्वरन अय्यर को नीति आयोग के नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) नियुक्त किया गया है. कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग ने उनकी...

शुक्रवार व शनिवार को जनपदों के भ्रमण पर रहेंगे सीएम धामी, विभिन्न विकास योजनाओं...

0
सीएम धामी शुक्रवार और शनिवार को जनपदों के भ्रमण/प्रवास पर रहेंगे. इस दौरान सीएम जनपदों में संचालित विकास योजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण के...

पीएम मोदी की तानाशाही का युवक भुगत रहे हैं खामियाजा- राहुल गांधी

0
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने फिर से एक बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा है. उन्होंने ट्वीट किया, “एक तरफ़ देश...

महाराष्ट्र सियासी संकट पर तेजस्वी यादव बोले, बीजेपी दवाब बनाती है-डराती है या खरीदती...

0
महाराष्ट्र में सियासी समीकरण लगातार बदल रहा है. उद्धव ठाकरे की सरकार खतरे में आ गई है. इसकी चर्चा देश भर में हो रही...

निलंबित आईएएस अधिकारी रामविलास यादव को राहत नहीं, सरकार को 19 जुलाई...

0
नैनीताल हाईकोर्ट ने आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के आरोप में निलंबित और गिरफ्तार अपर सचिव समाज कल्याण विभाग रामविलास यादव की गिरफ्तारी...
%d bloggers like this: