अकाली दल एनडीए से अलग हुई या पंजाब चुनावों के लिए भाजपा से किया समझौता !

एनडीए का सबसे पुराना घटक दल शिरोमणि अकाली दल भाजपा सरकार के खिलाफ विरोध में उतरना सियासी पंडितों को भी समझ नहीं आया.‌ अकाली दल कोटे की हरसिमरत कौर बादल ने गुरुवार को केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया.

सबसे बड़ी बात यह रही कि उनका इस्तीफा केंद्र सरकार की सलाह पर राष्ट्रपति ने आनन-फानन में स्वीकार भी कर लिया.‌ कौर के ‘अचानक दिए गए इस्तीफे’ पर कांग्रेस समेत विपक्षी दलों को गले नहीं उतरा.

ऐसे ही पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सरकार ने भी अकाली दल को किसानों के नाम पर सियासत करने के आरोप लगाए हैं. ‘अमरिंदर सिंह ने अकाली दल से पूछा है कि अभी तक पंजाब में किसान सड़कों पर आंदोलन कर रहे थे, तब आप कहां थे’. बता दें कि मोदी सरकार के मानसून सत्र में कृषि संबंधी विधेयकों के लोकसभा में पारित कराने के विरोध में हरसिमरत कौर ने मंत्री पद छोड़ दिया.

‘अकाली दल को हरसिमरत कौर का इस्तीफा दिलाने के पीछे पंजाब में डेढ़ वर्ष बाद यानी 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए सियासी दांव माना जा रहा है’. ‘अकाली दल भाजपा से अलग नहीं हुई है बल्कि पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए दोनों दलों ने समझौता किया है’.

बता दें कि पंजाब में लाखों की संख्या में किसान पिछले कई दिनों से भाजपा सरकार के कृषि विधेयक कानून के विरोध में सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन करने में जुटे हुए हैं.

‘पंजाब में किसानों के बीच अकाली दल की खिसकती जमीन के बीच शिरोमणि अकाली दल के मुखिया सुखबीर सिंह बादल ने हरसिमरत कौर को मोदी कैबिनेट से अलग कर यह बताने का प्रयास किया है कि सबसे बड़े हम ही हैं किसानों के रहनुमा’.

अकाली दल की तरफ से मोदी सरकार में हरसिमरत कौर बादल ही एकमात्र कैबिनेट मंत्री थीं. पंजाब में अकाली दल का राजनीतिक प्रभाव भारतीय जनता पार्टी से ज्यादा है और पंजाब की सियासत किसानों के मुद्दे पर ही सत्ता पर पहुंचने के लिए राजनीतिक दलों में सबसे मुख्य मुद्दा मानी जाती है.‌

यह भी पढ़ें -  मिसाइल तकनीक की क्षेत्र में भारत ने लगाई एक और छलांग, वर्टिकल लॉन्च शॉर्ट रेंज मिसाइल का किया सफल परीक्षण

गुरुवार को जब भाजपा सरकार ने लोकसभा से कृषि विधेयक पारित करवाया तब उसी दौरान लोकसभा में अकाली दल प्रमुख सुखबीर बादल ने कहा कि मोदी सरकार से उनकी पार्टी की मंत्री इस्तीफा दे देंगी.

इसके तुरंत बाद केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर ने इस्तीफे का एलान कर दिया. ‘कौर के इस्तीफे के बाद भाजपा सरकार ने जैसे पहले ही तैयारी कर रखी हो’. अकाली दल ने मोदी सरकार से बाहर आने का एलान तो कर दिया, लेकिन एनडीए से बाहर निकलने का फैसला पार्टी ने अभी नहीं लिया है.


हरसिमरत कौर इस्तीफे का दांव नहीं चलतीं तो पंजाब में कांग्रेस को हो रहा था फायदा

पंजाब-हरियाणा के किसानों का इस बिल को लेकर केंद्र सरकार के प्रति जबरदस्त आक्रोश बना हुआ है. कृषि विधेयक के खिलाफ पंजाब के किसान सड़क पर हैं. किसान इतने आंदोलित हैं कि उन्होंने चेतावनी दी है कि जो भी सांसद इन बिलों के साथ होगा, उसे राज्य में घुसने नहीं दिया जाएगा.

पंजाब में कांग्रेस इस मुद्दे पर किसानों और किसान संगठनों का सहयोग हासिल करने के मामले में अकाली दल को काफी पीछे छोड़ चुकी है.

यह भी पढ़ें -  गुजरात दंगा: याचिका खारिज के एक दिन बाद तीस्ता सीतलवाड़ एटीएस की हिरासत में, जानिए पूरा मामला

केंद्र की भाजपा सरकार के कृषि विधेयकों का अगर अकाली दल विरोध नहीं करती तो जाहिर है कि पंजाब में कांग्रेस की कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार को सबसे ज्यादा फायदा होता ? ‘हरसिमरत के इस्तीफे को अकाली दल की मजबूरी से भी जोड़कर देखा जा रहा है, क्योंकि किसानों से जुड़े बिलों के विरोध के चलते आने वाले चुनावों में किसानों का वोटबैंक सीधे कांग्रेस के खाते में जा सकता था’.

दरअसल, अकाली दल ने यह फैसला ऐसे समय में लिया है, जब पंजाब और हरियाणा के किसानों में कृषि से जुड़े इन विधेयकों के खिलाफ जबरदस्त गुस्सा है. कृषि बिल को लेकर किसान संगठनों के द्वारा कहा जा रहा है कि किसानों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य ही आमदनी का एकमात्र जरिया है, अध्यादेश इसे भी खत्म कर देगा. यहां हम आपको बता दें कि पंजाब में किसान तीन महीने से इन अध्यादेशों का पुरजोर विरोध कर रहे हैं.

कांग्रेस ने अकाली दल और भाजपा से मिलीभगत के आरोप लगाए
कांग्रेस ने हरसिमरत कौर के इस्तीफे के बाद कहा कि यह अकाली दल और भाजपा की मिलीभगत है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि अकाली दल को प्रतीकात्मक दिखावे से आगे बढ़कर सच के साथ खड़े होना चाहिए, जब किसान विरोधी अध्यादेश मंत्रिमंडल में पारित हुए तो हरसिमरत ने विरोध क्यों नहीं किया? ‘सुरजेवाला ने कहा कि हरसिमरत पंजाब के किसानों से अगर इतना ही लगाव है तो लोकसभा से इस्तीफा क्यों नहीं देती हैं’.

‘यही नहीं सुरजेवाला ने कहा कि अकाली दल मोदी सरकार से अपना समर्थन वापस क्यों नहीं लेता है’. रणदीप सुरजेवाला ने हरसिमरत कौर के इस्तीफे को ‘नाटक’ करार दिया है.

यह भी पढ़ें -  नॉर्वे की राजधानी ओस्लो में फायरिंग, दो की मौत-कई घायल

बता दें कि विरोध के बीच किसानों से जुड़े दो बिल लोकसभा में पास हो गए. कांग्रेस के सदस्यों ने इसका विरोध करते हुए सदन से वॉकआउट कर गए. उसके बाद कांग्रेसियों ने विधेयक के खिलाफ संसद भवन में धरना दिया. कांग्रेस सांसदों का कहना है कि यह काला कानून है.

कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि मोदी सरकार किसान विरोधी सरकार है, समय-समय पर वह ऐसे काले कानून लाकर जनता के पेट पर लात मारती रहती है.

चौधरी ने कहा कि कांग्रेस भाजपा सरकार के इस बिल का विरोध करती रहेगी. उन्होंने कहा कि पूरे देश में किसान सड़कों पर हैं और भाजपा को किसानों की कोई परवाह नहीं.

गौरतलब है कि मोदी सरकार ने जो दो बिल पास किए हैं वे इस प्रकार हैं, कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक और कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक लोकसभा से पारित करा लिया है, अब इसे राज्यसभा में पास होना बाकी रह गया है.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार


Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,236FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

UP Bed 2022: यूपी बीएड प्रवेश परीक्षा 2022 के लिए एडमिट कार्ड जारी

0
यूपी बीएड प्रवेश परीक्षा 2022 के लिए एडमिट कार्ड आज 25, जून 2022 को जारी कर दिए हैं. यूपी बीएड परीक्षा के लिए उम्मीदवार...

देहरादून: आपदा के दौरान मीडिया की होती है अहम भूमिका, आपदा प्रबंधन में मीडिया...

0
अधिशासी निदेशक डॉ. पीयूष रौतेला ने बताया कि भू-वैज्ञानिक व भौगोलिक परिस्थितियों के साथ ही मौसम सम्बन्धित विषमता उत्तराखण्ड को कई आपदाओं के प्रति...

गुजरात दंगा: याचिका खारिज के एक दिन बाद तीस्ता सीतलवाड़ एटीएस की हिरासत में,...

0
गुजरात एटीएस ने एक्टिविस्ट तीस्ता सीतलवाड़ को हिरासत में लिया है और उन्हें मुंबई के सांताक्रूज पुलिस स्टेशन ले जाया गया. खबर है कि...

Indw Vs SLw-2nd T20: भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने श्रीलंका को 5 विकेट से...

0
दम्बुल्ला|..... भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने तीन मैचों की सीरीज के दूसरे टी20 मैच में मेजबान श्रीलंका को 5 विकेट से हरा दिया. इसके...

महाराष्ट्र में शह-मात जारी: सरकार और शिवसेना बचाने के लिए उद्धव का मंथन, शिंदे...

0
महाराष्ट्र में शिवसेना पूरी तरह से दो फाड़ में हो चुकी है. एकनाथ शिंदे का बगावती गुट अब शिवसेना पर अपना दावा ठोक रहा...

इमरजेंसी के 47 साल: 21 महीनों तक नागरिकों की आजादी कैद में रही, खत्म...

0
लोकतंत्र के लिए 25 जून एक ऐसी तारीख है जो कभी भुलाई नहीं जा सकती है. आज से 47 साल पहले 25-26 जून की...

महाराष्ट्र सियासी संकट: 16 बागी विधायकों को जारी किया गया अयोग्यता नोटिस, 27 जून...

0
महाराष्ट्र का सियासी ड्रामा फिलहाल थमता नजर नहीं आ रहा है. जहां एक तरफ बागी शिंदे लगातार अपना कुनबा बढ़ा रहे हैं तो दूसरी...

उत्तराखंड में भारी बारिश का अंदेशा, इस दिन रहें सावधान

0
देहरादून| उत्तराखंड में मॉनसून की दस्तक के साथ ही भारी बारिश का अंदेशा जताया जा रहा है. मौसम विभाग ने 29 जून को...

शिवसेना- बालासाहेब ठाकरे’ होगा एकनाथ शिंदे गुट का नाम

0
महाराष्ट्र में सियासी उठापटक के पांचवे दिन शिवसेना के कार्यकर्ता जहां सड़कों पर उतरकर अलग-अलग जगहों पर तोड़फोड़ कर रहे हैं, वहीं मुंबई से...

महाराष्ट्र संकट: मुंबई में किसी अप्रिय घटना को रोकने के लिए धारा 144 लागू

0
महाराष्ट्र में शिवसेना की अंदरुनी कलह अब हिंसा में तब्दील हो गई है. कई जगहों पर शिवसेना कार्यकर्ताओं ने बागी नेताओं के ठिकानों पर...
%d bloggers like this: