उत्तराखंड चुनाव 2022: उत्तराखंड चुनावों में ‘भूतिया गांव’ का कनेक्शन, चौंकाती है कहानी

वैसे तो उत्तराखंड में आज सोमवार, राज्य को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के राजनीतिक दलों के वादों के बीच वहां की जनता वोटिंग कर रही है. लेकिन राज्य के करीब 1100 गांव ऐसे हैं, जहां पर 98-99 फीसदी लोग वोट नहीं कर पाएंगे. इसकी वजह यह नहीं है कि वहां वोटिंग की व्यवस्था की दिक्कत है. समस्या बेहद अलग और डरावनी है.

असल में ये गांव निर्जन हो चुके हैं. जहां वोट डालने के लिए कोई मौजूद ही नहीं है या इक्का-दुक्का लोग बचे हुए है. इसलिए इन गावों को स्थानीय लोग ‘भुतिया गांव’ कहते हैं. हालात इतने बदतर है कि मौजूदा सरकार ने 2017 में एक पलायन आयोग का गठन कर दिया. और उसकी 2018 में आई रिपोर्ट में यह बात समाने आई की 2011 की जनगणना के बाद 734 गांव निर्जन हो चुके हैं.

क्यों कहलाते हैं ‘भूतिया गांव’
सामाजिक कार्यकर्ता और पलायन एक चिंतन के कोऑर्डिनेटर रतन सिंह असवाल ने मीडिया को बताया कि ताजा आंकड़ों के अनुसार राज्य में करीब 1100 गांव खाली हैं. यानी यहां पर कोई नहीं रहता है. इसीलिए इन्हें भूतिया गांव कहा जाता है. यहां पर वोटर लिस्ट में लोगों के नाम हैं पर वोट डालने वाले नहीं हैं या बहुत कम लोग बचे हैं.

इस बार विधानसभा चुनाव में कई प्रत्याशियों ने ऐसे वोटरों को बुलाने का काम किया है. लेकिन बहुत लोग आए नहीं है. हमारे आकलन के अनुसार ऐसे गांवों में के 98-99 फीसदी वोटर, वोट नहीं डालेंगे. क्योंकि वह यहां नहीं आएंगे. हालांकि यह आंकड़ा पंचायत चुनावों में 15-20 फीसदी बढ़ जाता है. क्योंकि ऐसे वोटरों को पंचायत चुनावों के प्रत्याशी अपने खर्चे पर गांव लाते हैं. इसलिए थोड़ी वोटिंग बढ़ जाती है.

गांवों के खाली होने की वजह शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं का अभाव है. चिंता की बात यह है कि चुनावों में निर्जन गांव कोई मुद्दा ही नहीं है. सभी राजनीतिक दल फ्री योजनाओं के वादे के जरिए वोटरों को लुभाने की कोशिश कर रही हैं. माइग्रेशन, एजुकेशन, स्वास्थ्य सुविधाएं, पाने का पानी, चकबंदी, खेतों को बचाने के लिए जानवरों जैसे मुद्दे गायब है. अगर इन मुद्दों को हल किया जाय तो गांव का आदमी क्यों घर छोड़ कर जाएगा.

क्या कहती है पलायन आयोग की रिपोर्ट
उत्तराखंड ग्रामीण विकास एवं पलायन आयोग की अप्रैल 2018 में जारी रिपोर्ट के अनुसार साल 2001 और 2011 की जनगणना के आंकड़ों की तुलना करने पर अल्मोड़ा और पौड़ी गढ़वाल जनपद में नकारात्मक जनसंख्या वृद्धि दर्ज की गई.

इन 10 वर्षों के दौरान 6,338 ग्राम पंचायतों से कुल 3,83,726 लोगों ने अस्थायी और 3,946 ग्राम पंचायतों से 1,18,981 लोगों ने स्थायी रूप से पलायन किया. सभी जिलों में 26 से 35 आयु वर्ग के युवाओं ने सबसे अधिक पलायन किया. इनका औसत 42.25 फीसदी है.

रिपोर्ट के अनुसार पलायन की सबसे बड़ी वजह रोजगार है. इसकी वजह से 50.16 फीसदी लोग पलायन कर गए. इसके बाद अच्छी शिक्षा के लिए करीब 15 फीसदी, स्वास्थ्य सेवाओं में कमी के कारण 8.83 फीसदी लोगों ने पलायन किया. जंगली जानवरों से तंग आकर पलायन और कृषि उत्पादन में कमी होना भी पलायन की एक बड़ी वजह रहा है.

2011 की जनगणना से पहले उत्तराखंड में कुल 16,793 गांवों में से 1,048 गांव निर्जन पाए गए थे. लेकिन आयोग ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट दी तो बताया कि जनगणना के बाद राज्य में 734 अन्य गांव निर्जन हो चुके हैं, जबकि 565 गांव ऐसे पाए गए, जहां एक दशक के दौरान आबादी में 50 फीसदी से अधिक कमी आई थी.

राज्य सरकार ने 2020 में पलायन को रोकने के लिए मुख्यमंत्री पलायन रोकथाम योजना शुरू की . इसके तहत राज्य के प्रभावित कुल 474 गांवों को पहचान कर उसमें रिवर्स पलायन करने का लक्ष्य रखा गया है. हालांकि स्थानीय हालात बताते हैं कि अभी बहुत कुछ करना बाकी है.

साभार-टाइम्स नाउ

Related Articles

Latest Articles

अब बॉर्नविटा को हेल्थ ड्रिंक की कैटेगरी क्यों नहीं रखा जा सकता है! ...

0
भारत में कई पीढ़ियां बॉर्नविटा को 'हेल्थ ड्रिंक' समझकर पीते-पीते बढ़ी हुई हैं. इसका कारण है देश में जब से बॉर्नविटा लॉन्च हुआ है...

रामलला के ललाट पर 500 साल बाद ‘सूर्य तिलक’, भक्तों ने किए दिव्य दर्शन

0
देशभर में आज धूमधाम से रामनवी का पर्व मनाया जा रहा है. इस बार रामनवमी के मौके पर अयोध्या में खास आयोजन किया जा...

राहुल गांधी ने अमेठी से स्मृति ईरानी के खिलाफ चुनाव लड़ने को लेकर किया...

0
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने यूपी की अमेठी सीट से बीजेपी की नेता और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ चुनाव...

चुनाव आयोग की सम्राट चौधरी, चंद्रबाबू नायडू समेत इन नेताओं के ऊपर कार्रवाई, सोशल...

0
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स ने मंगलवार को जानकारी दी कि भारत चुनाव आयोग ने कुछ नेताओं, राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों के पोस्ट रोकने के...

चैत्र नवरात्रि 2024: आज है रामनवमी व्रत, जानें शुभ मुहूर्त-पूजा विधि

0
हिंदी पंचांग के अनुसार, चैत्र नवरात्रि के अंतिम दिन रामनवमी मनाई जाती है. रामनवमी 17 अप्रैल यानी बुधवार को है. नवरात्रि की नवमी तिथि...

नवमी पर मां सिद्धिदात्री की पूजा-आराधना के साथ शारदीय नवरात्र का होता है समापन

0
आज राम नवमी है. देशभर में मां के मंदिरों में भक्त दर्शन कर आशीर्वाद ले रहे हैं. नवरात्र के आखिरी दिन मां अपने भक्तों...

IPL 2024 KKR Vs RR: जोस बटलर के शतक के दम पर राजस्थान ने...

0
राजस्थान रॉयल्स ने आईपीएल 2024 में अपनी छठवीं जीत हासिल कर ली है. राजस्थान ने रोमांचक मुकाबले में कोलकाता को 2 विकेट से हराया....

राशिफल 17-04-2024: आज रामनवमी के दिन क्या कहते हैं आपके सितारे, जानिए

0
मेष:आज धक्कों के लिए बाहर देखो! अगर चीजें ठीक नहीं चल रही हैं, तो मदद मांगें. देरी से चोट लगती है. आप काम पर...

17 अप्रैल 2024 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 17 अप्रैल 2024 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

परीक्षा पास करने के बाद किसे मिलता है कौन सा पद! जानिए कौन बनता...

0
मंगलवार को संघ लोक सेवा आयोग ने सिविल सर्विस 2023 परीक्षा के परिणामों का ऐलान कर दिया है. यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा 2023 तीन...