कांग्रेस बदनाम हुई सियासी बाजार में ! बात वहीं अटकी रह गई


देश में सबसे लंबे समय तक सत्ता का सिंहासन संभालने वाली कांग्रेस पार्टी पर अभी तक सिमटता जनाधार और दिशाहीन होती जा रही राजनीति और कमजोर नेतृत्व के आरोप लग रहे थे लेकिन फिर भी पार्टी को उम्मीद थी जल्द ही इस समस्या का समाधान कर लिया जाएगा. इतिहास साक्षी रहा है कि कांग्रेस अपने ‘अधिवेशनों’ (कार्यसमिति या कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक) में पार्टी के अंदरूनी विवाद-कलह, समझौते के साथ आगे की दिशा भी तय करती रही है.

लेकिन सोमवार को वर्किंग कमेटी की बैठक में जिस प्रकार से कांग्रेस की पुरानी और नई पीढ़ी नेताओं के बीच ‘विश्वासघात’ का गुबार फूटा वह उन लोगों के लिए बहुत पीड़ादायक रहा जो कि आज भी इस पार्टी को लेकर कहते हैं, ‘हम तो आज भी पक्के कांग्रेसी हैं’.

यहां आपको बता दें कि वर्किंग कमेटी की बैठक बुलाने का कांग्रेस का मुख्य उद्देश्य था कि पार्टी नेतृत्व पर बदलाव और चर्चा की जाए. लेकिन सोमवार को कार्यसमिति की बैठक में राहुल गांधी ने तल्ख तेवरों के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर भाजपा की मिलीभगत के गंभीर आरोप लगाने के बाद बात बढ़ती चली गई.

राहुल के तल्ख आरोप वरिष्ठ नेताओं को नागवार गुजरे और बगावत शुरू हो गई. सात घंटे चली कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में छह घंटे तक पार्टी में घमासान चलता रहा और नए अध्यक्ष पद पर चर्चा को लेकर बुलाई गई वर्किंग कमेटी की बैठक अपने उद्देश्यों से भटक गई. इस बार कांग्रेसी नेताओं ने आपसी फूट को इतना अधिक सार्वजनिक कर दिया कि ‘राजनीति के बाजार’ में कांग्रेस बदनाम हो गई. कांग्रेस में आस्था रखने वाले कार्यकर्ताओं ने कहा कि पार्टी में ‘यह क्या हो रहा है’.

सोमवार शाम होते-होते जब पार्टी को एहसास हुआ कि कार्यसमिति की बैठक में कांग्रेसियों के झगड़े का जनता में खराब संदेश चला गया है तब आनन-फानन में सुलह-सफाई के दौर शुरू हो गए. बाद में राहुल गांधी, गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल ने अपने-अपने बयान वापस लेने शुरू कर दिए और ‘जो हुआ सो हुआ’ कहकर खेद जताते हुए पार्टी में एकजुटता का संदेश देने की कोशिश की, लेकिन जब तक बहुत देर हो चुकी थी. मामला इतना गर्म था कि संभव ही नहीं था कि पार्टी अपने नए लीडरशिप पर चर्चा करें.

यह भी पढ़ें -  श्रद्धा मर्डर मामला: आफताब की गाड़ी पर 'हिंदू सेना' का हमला, लहराई तलवार, दो लोग गिरफ्तार

आखिर में थक हार कर कई वरिष्ठ नेताओं ने सोनिया गांधी को ही अंतरिम अध्यक्ष बने रहने का अनुरोध किया और मीटिंग का समापन भी कर दिया. दूसरी ओर वर्किंग कमेटी की बैठक को लेकर टकटकी लगाए बैठी भाजपा को एक और देश के सामने कांग्रेस की कमजोरियों को उजागर करने का मौका मिल गया.


वर्किंग कमेटी में कांग्रेसी नेताओं के बीच उठा भूचाल अभी खत्म नहीं हुआ
सोमवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी में नेताओं के बीच उठा भूचाल अभी खत्म नहीं हुआ है. यह मामला आने वाले दिनों में और बढ़ सकता है. कांग्रेस नेताओं ने भले ही रात जैसे-तैसे गुजार ली हो. लेकिन सुबह से ही एक बार फिर बयान आने शुरू हो गए हैं. राहुल गांधी के भाजपा से मिलीभगत के आरोपों से आहत कपिल सिब्बल ने मंगलवार को एक और ट्वीट करके पार्टी में चिंगारी फिर बढ़ा दी है.

दूसरी और अभी कुछ दिनों पहले कांग्रेस से निष्कासित संजय झा ने भी नेताओं के बीच हुई खींचतान को पार्टी के अंत की शुरुआत बता दी है. बता दें कि कपिल सिब्बल के आज के ट्वीट पर सियासी पंडितों में कई तरह के कयासबाजियों का दौर शुरू हो गया है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा, यह किसी पद की बात नहीं है. यह मेरे देश की बात है जो सबसे ज्यादा जरूरी है.

भले ही सोमवार को राहुल गांधी ने अपनी तल्ख टिप्पणी पर खेद जताया हो लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, मनीष तिवारी ने भी गांधी परिवार को साफ संदेश दे दिया है कि अब वह ऐसी बयानबाजी सुनने के लिए तैयार नहीं है. इन नेताओं के असंतोष के कारण ही सोनिया गांधी को दोबारा अंतरिम अध्यक्ष पद संभालने की मजबूरी भी कही जा सकती है. बहरहाल कांग्रेस नेताओं में उठा तूफान शांत हो गया है, इसके आसार बहुत कम है.


कांग्रेसी नेताओं में हुई सार्वजनिक कलह पर भाजपा को मिला मौका
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह कांग्रेस पार्टी को पनपने के लिए कोई मौका छोड़ना नहीं चाहते हैं. जब कांग्रेस वर्किंग कमेटी में भाजपा का नाम उछाला जाए तब बीजेपी नेताओं ने इसे अपनी साख खराब होने पर कांग्रेस पार्टी को आड़े हाथों लिया. कांग्रेस की गुटबाजी पर बीजेपी नेताओं की ओर से प्रतिक्रियाओं का दौर आना शुरू हो गया है.

यह भी पढ़ें -  'राहुल गांधी को मैंने बहुत सालों पहले छोड़ दिया है', ये क्या बोल गए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष !

फिलहाल इस मामले में पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की ओर से अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है लेकिन ऐसी उम्मीद की जा रही है कि दोनों नेता आने वाले दिनों में कोई सार्वजनिक बयान देते हैं तो कांग्रेस पार्टी में नेताओं के बीच उठे भूचाल को जनता को जरूर बताएंगे.

दूसरी ओर सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं पर भाजपा से साठगांठ का आरोप लगाने के बयान को लेकर भाजपा नेताओं ने राहुल गांधी पर निशाना साधा है. भाजपा के महासचिव भूपेंद्र यादव ने कहा कि राहुल पर भाजपा का ऐसा जुनून सवार है कि उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं पर भी भाजपा से साठगांठ का आरोप लगा दिया है.

यह भी पढ़ें -  देहरादून: जौलीग्रांट एयरपोर्ट से बड़ी खबर, विदेशी नागरिक से सेटेलाइट फोन बरामद

वर्षों तक कांग्रेस पार्टी में रहे और पिछले साल भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए टॉम वडक्कन ने कांग्रेसी नेताओं की गुटबाजी पर कहा कि ‘शीशा चटक गया है’. शीशा चटकने के बाद उसे जोड़ने का कोई तरीका नहीं है, आपको उसे फेंकना ही होता है. उन्होंने कहा कि जिन नेताओं ने सोनिया गांधी को पत्र लिखा है, वे राहुल से ज्यादा कांग्रेस के लिए समर्पित हैं.


शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,249FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

सच्चे और अच्छे मन से लोगों की सेवा से बड़ी कोई सेवा नहीं होती:...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को राजपुर रोड़ देहरादून स्थित होटल में देहरादून ऑब्सेटेट्रिक्स एवं गाईन सोसाइटी द्वारा आयोजित ’नारी स्वास्थ्य जन आंदोलन...

एयर इंडिया और विस्तार के विलय पर बनी सहमति, मार्च 2024 तक पूरी हो...

0
विमानन क्षेत्र में बड़े स्तर पर एकीकरण की तैयारी है. इसके तहत विस्तार का एयर इंडिया के साथ विलय होगा. सौदे के बाद सिंगापुर...

बिहार: पटना में एक हैरान कर देने वाली घटना, चोर चुरा ले गए 20...

0
बिहार की राजधानी पटना से एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है. यहां चोरों ने एक घर में लगे मोबाइल टावर को...

हरियाणा में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने किया ‘अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव’ का उद्घाटन

0
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु आज हरियाणा दौरे पर कुरूक्षेत्र पहुंची। जहां राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय और सीएम मनोहर लाल द्वारा उनका स्वागत किया गया। बता दे...

अमेजन ने भारतीय को दिया बड़ा झटका! दस हजार से ज्यादा कर्मचारियों को निकालने...

0
दुनियाभर की सबसे मशहूर ई-कॉमर्स वेबसाइट अमेजन ने भी ट्विटर और फेसबुक की तरह अपने कर्मचारियों की छंटनी कर दी है. कंपनी की ओर...

हिंदू एकता मंच के कार्यक्रम में हंगामा, श्रद्धा की हत्या के खिलाफ आयोजित सभा...

0
हाल ही में दिल्ली में हुए श्रद्धा हत्या काण्ड को लेकर दिल्ली और देश की जनता काफ़ी भड़की हुई है। इसी के चलते दिल्ली...

NEET UG Counselling 2022: आज से शुरू होगा मॉप-अप राउंड च्‍वॉइस फिलिंग, यहां करें...

0
आज 29 नवंबर को मेडिकल काउंसलिंग कमेटी (MCC) द्वारा नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट अंडरग्रेजुएट (NEET UG) काउंसलिंग के मॉप-अप राउंड के लिए च्‍वॉइस-फिलिंग...

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने रावण से की पीएम मोदी की तुलना, बीजेपी हुई...

0
बीजेपी पर अटैक करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने पीएम नरेंद्र मोदी को लेकर विवादित बयान दिया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी नगरपालिका...

समय पर मैक्रोनी तैयार न होने पर महिला ने किया फूड कंपनी पर 40...

0
फ्लोरिडा की रहने वाली अमांडा रमीरेज ने क्राफ्ट हेंज (Kraft Heinz) नाम की फूड कंपनी पर 40 करोड़ रुपये से अधिक का मुकदमा दर्ज...

अंकिता भंडारी हत्याकांड: तीनों आरोपियों का करवाया जा सकता है नार्कों टेस्ट

0
देहरादून| उत्तराखंड के बहुचर्चित अंकिता भंडारी हत्याकांड के आरोपियों का नार्कों टेस्ट करवाया जा सकता है. यह बात सूबे के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर...
%d bloggers like this: