spot_imgspot_img

इस वर्ष पितृ पक्ष और नवरात्र में एक माह का अंतर, 19 वर्षों बाद बन रहा ऐसा संयोग

इस वर्ष पितृ पक्ष और नवरात्र के बीच में अधिकमास पड़ने के कारण दोनों में एक महीने का अंतर होगा. आश्विन मास में अधिकमास (मलमास) लगना और एक महीने के अंतर पर दुर्गा पूजा आरंभ होना ऐसा संयोग करीब 19 वर्षों बाद बन रहा है. 

हर वर्ष पितृ पक्ष के समापन के अगले दिन से नवरात्र का आरंभ हो जाता था. पितृ अमावस्या के अगले दिन से प्रतिपदा के साथ शारदीय नवरात्र का आरंभ हो जाता है, लेकिन इस साल ऐसा नहीं होगा.

इस बार पितृ पक्ष समाप्त होते ही अधिकमास लग जाएगा. अधिकमास लगने से नवरात्र और पितृपक्ष के बीच एक महीने का अंतर आ जाएगा. चतुर्मास जो हमेशा चार माह का होता है, इस बार पांच माह का होगा. 

भारतीय प्राच्य विद्या सोसायटी के अध्यक्ष और ज्योतिषाचार्य प्रतीक मिश्रपुरी का कहना है कि अधिकमास पूरे वर्ष में किसी भी माह के बाद या पहले आ सकता है. इस बार अधिकमास अश्विन मास के बाद आ रहा है. यानी इस वर्ष दो अश्विन मास होंगे. ये मास पितृ पक्ष के बाद प्रारंभ होगा और 30 दिनों तक रहेगा.

यह भी पढ़ें -  Union Budget 2023: ये रही बजट से जुड़ी शुरुआती 10 बड़ी बातें, जानें अबतक के बड़े ऐलान

हर बार पितृ पक्ष के बाद नवरात्र प्रारंभ होते हैं परंतु इस बार अधिकमास आने के कारण नवरात्र देर से शुरू होंगे. ऐसा 19 साल बाद ऐसा संयोग बन रहा है. प्रतीक ने बताया कि कुछ विद्वानों का यह भी कहना है की ये संयोग 165 वर्षों के बन रहा है.

क्या होता है अधिकमास 
ज्योतिषाचार्य प्रतीक मिश्रपुरी ने बताया कि हमारे सभी व्रत, आस्था मेले, मुहूर्त ग्रहों पर आधारित होते हैं. सूर्य चंद्र के द्वारा हिंदी माह का निर्माण होता है. 30 तिथियों का माह होता है, जिसमें 15 दिनों बाद अमावस्या और 15 दिनों बाद बाद पूर्णिमा होती है. इन माह में पूरे वर्ष ये तिथियां घटती बढ़ती रहती हैं.

तीन वर्षों के उपरांत ये घटी-बढ़ी तिथियां एक पूरे माह का निर्माण करती हैं. विशेष ये होता है की इस माह में संक्रांति नहीं होती. इस कारण लोग इसे मलमास भी कहते हैं. मलमास में विवाह, मुंडन, गृह प्रवेश जैसे कोई भी शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं.

मांगलिक कार्यों के लिए करना होगा इंतजार
क्योंकि पितृ पक्ष में कोई मुहूर्त नहीं होता है. अधिकमास में भी कोई मुहूर्त नहीं होगा. जो लोग नवरात्रि में नई दुकान, घर, वाहन या कोई भी नया कार्य प्रारंभ करने की सोच रहे हैं. उन्हें अभी और इंतजार करना होगा.

तीन बार बना था ऐसा संयोग
सबसे पहले वर्ष 1942 में ऐसा संयोग बना था. इसके बाद वर्ष 1982 और फिर वर्ष 2001 में भी दो अश्विन मास आए थे. इस अश्विन मास के दो महीने होंगे. अश्विन माह 3 सितंबर से 31 अक्तूबर तक रहेगा. यानी इसकी अवधि दो माह रहेगी.

यह भी पढ़ें -  Union Budget 2023: नए टैक्स रिजिम के तहत टैक्स स्लैब में बड़ा बदलाव, 7 लाख रुपये के इनकम पर कोई टैक्स नहीं

इन दो माह में बीच की अवधि वाला एक माह का समय अधिकमास रहेगा. पितृमोक्ष अमावस्या के बाद 18 सितंबर से 16 अक्तूबर तक पुरुषोत्तम मास रहेगा. इस कारण 17 अक्तूबर से शारदीय नवरात्रि पर्व शुरू होगा.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,250FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

Ind Vs Nz: भारतीय गेंदबाजों के आगे निकला न्यूजीलैंड का दम, 66 रन पर...

0
टीम इंडिया ने बुधवार (एक फरवरी, 2023) को न्यूजीलैंड को तीसरे टी-20 में करारी मात दी. टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल और...

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तीनों फॉर्मेट में सबसे कम उम्र में सैकड़ा जड़ने वाले खिलाड़ी...

0
अहमदाबाद| टी20 फॉर्मेट में बल्लेबाजी की आलोचना करने वालों को अपने करियर के सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में चल रहे युवा बल्लेबाज शुभमन गिल ने अहमदाबाद...

बजट 2023: शानदार बजट पेश करने के लिए सीएम धामी ने निर्मला सीतारमण को...

0
सीएम पुष्कर सिंह धामी ने केंद्रीय बजट 2023 -24 हेतु केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को बधाई देते हुए कहा है कि पीएम मोदी...

बजट में मोदी सरकार ने देश को दिया बड़ा तोहफा, देश में खुलेंगे 50...

0
बुधवार को सदन में केंद्रीय बजट भाषण के दौरान, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी को घोषणा की कि देश...

वित्तीय वर्ष 2023-24 का बजट पेश, इनकम टैक्स में क्या बदला क्या नही जानिए

0
केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्तीय वर्ष 2023-24 का बजट पेश कर दिया।यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट है।...

वित्तीय वर्ष 2023-24 का बजट पेश जानिए गरीब वर्ग के लिए क्या है खास

0
केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्तीय वर्ष 2023-24 का बजट पेश कर दिया। सरकार ने अलग-अलग वर्गों के लिए कई बड़े एलान किए...

जम्मू-कश्मीर: गुलमर्ग स्कीइंग रिजॉर्ट के पास भारी हिमस्खलन, 2 विदेशी टूरिस्ट की मौत

0
जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले के गुलमर्ग में लोकप्रिय स्की रिसॉर्ट में बुधवार को आए हिमस्खलन के बाद दो विदेशी स्कीयर मारे गए, जबकि कई...

आम बजट 2023-24 पेश होते ही राजनीतिक हलचल किसी ने की तारीफ तो कोई दिखा...

0
बता दें कि केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने देश का आम बजट पेश कर दिया है। इस बार के बजट में महिलाओं,युवाओं और...

मोदी सरकार ने बजट 2023 के लिए दिया ‘सप्तर्षि’ सूत्र, जानें- क्या हैं ‘पीएम...

0
बजट भाषण में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार (एक फरवरी, 2023) को कुछ खास शब्दों का इस्तेमाल किया. उन्होंने इस दौरान पीएम...

उत्तराखंड: कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी के बिगड़े बोल, कहा- इंदिरा-राजीव की हत्या शहादत...

0
देहरादून| उत्तराखंड के बीजेपी सरकार में मंत्री गणेश जोशी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की हत्या को शहादत नहीं बल्कि ‘दुर्घटना’...
%d bloggers like this: