इस वर्ष पितृ पक्ष और नवरात्र में एक माह का अंतर, 19 वर्षों बाद बन रहा ऐसा संयोग

इस वर्ष पितृ पक्ष और नवरात्र के बीच में अधिकमास पड़ने के कारण दोनों में एक महीने का अंतर होगा. आश्विन मास में अधिकमास (मलमास) लगना और एक महीने के अंतर पर दुर्गा पूजा आरंभ होना ऐसा संयोग करीब 19 वर्षों बाद बन रहा है. 

हर वर्ष पितृ पक्ष के समापन के अगले दिन से नवरात्र का आरंभ हो जाता था. पितृ अमावस्या के अगले दिन से प्रतिपदा के साथ शारदीय नवरात्र का आरंभ हो जाता है, लेकिन इस साल ऐसा नहीं होगा.

इस बार पितृ पक्ष समाप्त होते ही अधिकमास लग जाएगा. अधिकमास लगने से नवरात्र और पितृपक्ष के बीच एक महीने का अंतर आ जाएगा. चतुर्मास जो हमेशा चार माह का होता है, इस बार पांच माह का होगा. 

भारतीय प्राच्य विद्या सोसायटी के अध्यक्ष और ज्योतिषाचार्य प्रतीक मिश्रपुरी का कहना है कि अधिकमास पूरे वर्ष में किसी भी माह के बाद या पहले आ सकता है. इस बार अधिकमास अश्विन मास के बाद आ रहा है. यानी इस वर्ष दो अश्विन मास होंगे. ये मास पितृ पक्ष के बाद प्रारंभ होगा और 30 दिनों तक रहेगा.

यह भी पढ़ें -  उत्तरकाशी एवलॉन्च: एवरेस्ट विजेता पर्वतारोही सविता कंसवाल की मौत

हर बार पितृ पक्ष के बाद नवरात्र प्रारंभ होते हैं परंतु इस बार अधिकमास आने के कारण नवरात्र देर से शुरू होंगे. ऐसा 19 साल बाद ऐसा संयोग बन रहा है. प्रतीक ने बताया कि कुछ विद्वानों का यह भी कहना है की ये संयोग 165 वर्षों के बन रहा है.

क्या होता है अधिकमास 
ज्योतिषाचार्य प्रतीक मिश्रपुरी ने बताया कि हमारे सभी व्रत, आस्था मेले, मुहूर्त ग्रहों पर आधारित होते हैं. सूर्य चंद्र के द्वारा हिंदी माह का निर्माण होता है. 30 तिथियों का माह होता है, जिसमें 15 दिनों बाद अमावस्या और 15 दिनों बाद बाद पूर्णिमा होती है. इन माह में पूरे वर्ष ये तिथियां घटती बढ़ती रहती हैं.

तीन वर्षों के उपरांत ये घटी-बढ़ी तिथियां एक पूरे माह का निर्माण करती हैं. विशेष ये होता है की इस माह में संक्रांति नहीं होती. इस कारण लोग इसे मलमास भी कहते हैं. मलमास में विवाह, मुंडन, गृह प्रवेश जैसे कोई भी शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं.

मांगलिक कार्यों के लिए करना होगा इंतजार
क्योंकि पितृ पक्ष में कोई मुहूर्त नहीं होता है. अधिकमास में भी कोई मुहूर्त नहीं होगा. जो लोग नवरात्रि में नई दुकान, घर, वाहन या कोई भी नया कार्य प्रारंभ करने की सोच रहे हैं. उन्हें अभी और इंतजार करना होगा.

तीन बार बना था ऐसा संयोग
सबसे पहले वर्ष 1942 में ऐसा संयोग बना था. इसके बाद वर्ष 1982 और फिर वर्ष 2001 में भी दो अश्विन मास आए थे. इस अश्विन मास के दो महीने होंगे. अश्विन माह 3 सितंबर से 31 अक्तूबर तक रहेगा. यानी इसकी अवधि दो माह रहेगी.

यह भी पढ़ें -  अरुणाचल प्रदेश: तवांग में भारतीय सेना का एक चीता हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, एक पायलट की मौत

इन दो माह में बीच की अवधि वाला एक माह का समय अधिकमास रहेगा. पितृमोक्ष अमावस्या के बाद 18 सितंबर से 16 अक्तूबर तक पुरुषोत्तम मास रहेगा. इस कारण 17 अक्तूबर से शारदीय नवरात्रि पर्व शुरू होगा.

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,248FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

उत्तरकाशी एवलॉन्च: अब तक 16 शव बरामद, रेस्क्यू ऑपरेशन में मौसम बना बाधा

0
उत्तरकाशी जिले के द्रौपदी डांडा-टू में एवलॉन्च हादसे के बाद क्रेवास में फंसे पर्वतारोहियों तक गुरूवार को भी रेस्क्यू टीम नहीं पहुंच पाई....

फ्रांस की लेखिका एनी एर्नेक्स को मिलेगा इस साल का लिटरेचर के लिए नोबेल...

0
पहले चिकित्सा फिर भौतिक उसके बाद केमिस्ट्री के लिए नोबेल पुरस्कार के नामों का एलान किया जा चुका है. ‌ आज इसी कड़ी में...

वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रैन की रफ्तार पर भैसों ने लगाई ब्रेक, अगला हिस्सा हुआ...

0
वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन गुरुवार को हादसे का शिकार होने से बच गई. मुंबई सेंट्रल से गांधीनगर के बीच चलने वाली यह ट्रेन गुरुवार...

अंबानी परिवार को फोन पर धमकी देने वाला युवक दरभंगा से गिरफ्तार

0
अंबानी परिवार को फोन पर धमकी दिए जाने के मामले में मुंबई पुलिस ने बिहार के दरभंगा से एक व्यक्ति को हिरासत में लिया...

यूपी के उपमुख्यमंत्री ने राजभर को बताया ‘सच्चा दोस्त’, दूरियां हो रही कम

0
लखनऊ| सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर और उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा के बीच दूरियां कम होती हुई नजर...

बिहार सियासत से बड़ी खबर, राजद प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे सकते...

0
पटना| इस समय बिहार की सियासत से बड़ी खबर है कि राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं....

थाईलैंड: बच्चों के देखभाल केंद्र में सामूहिक गोलीबारी, 31 लोगों की मौत

0
हाल फिलहाल दुनिया भर के कई देशों में के दिनों में गोलबारी की घटनाओं में वृद्धि देखी जा रही है. अमेरिका में ऐसे कई...

भारत जोड़ो यात्रा का 29वां दिन: राहुल को मां सोनिया गांधी का मिला साथ,...

0
पिछले महीने कांग्रेस ने 7 सितंबर से कन्याकुमारी से कश्मीर तक 'भारत जोड़ो यात्रा' शुरुआत की थी. इस यात्रा का नेतृत्व अभी तक केरल...

राशिफल 06-10-2022: क्या कहते है आप के आज के सितारे, जानिए

0
मेष- मन अशान्त रहेगा. नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा. स्थान परिवर्तन की सम्भावना बन रही है. अतिउत्साही होने से बचें. पिता के स्वास्थ्‍य...

06 अक्टूबर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 06 अक्टूबर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...
%d bloggers like this: