जन्मदिवस विशेष: सत्ता में हों या विपक्ष में आदर्शों-उसूलों से नहीं किया समझौता, राजनीति के सिद्धांतों पर रहे ‘अटल’

आज 25 दिसंबर है. ‌यह तारीख देश के एक ऐसे राजनेता की याद दिलाती है जिन्होंने अपने पूरे राजनीतिक करियर में सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं किया. ‌

चाहे सत्ता में रहे हों या नहीं हमेशा वे अपने आदर्श और उसूलों पर टिके रहे. यह नेता अपने दल में ही नहीं बल्कि विरोधी दलों में भी खूब लोकप्रिय रहे. ‌

हम बात कर रहे हैं पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न और भाजपा के संस्थापक सदस्यों में से एक अटल बिहारी वाजपेयी जी की. आज देश और विदेश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में शुमार रहे अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन है. अटल जी का जन्मदिवस पूरे देश में हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जा रहा है.

भाजपा भी अटल जी के जन्म दिवस पर देशभर कई कार्यक्रम आयोजित कर रही है.अटल बिहारी वाजपेयी की आज 97वीं जयंती है.

इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत तमाम भाजपा नेताओं ने अटल जी को श्रद्धांजलि दी. राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने राजधानी दिल्ली स्थित ‘सदैव अटल’ स्मृति स्थल पर पुष्प अर्पित किए. स्मृति स्थल पर प्रार्थना सभा आयोजित की गई.

इसके साथ ही सोशल मीडिया पर लोग कवि और राजनेता को याद करते हुए उनकी कविताओं के माध्यम से श्रद्धांजलि दे रहे हैं. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एक ऐसे नेता रहे जो सभी राजनीतिक दलों और धर्मों में लोकप्रिय थे.

यह भी पढ़ें -  Ind Vs SA 2 T20I: टीम इंडिया ने दक्षिण अफ्रीका को 16 रन से हराया, एक और सीरीज पर किया कब्जा

अटल जी ने राजनीति के सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं किया. राजनेता कवि, समाज प्रेमी, शिक्षक, पत्रकार में भी सफल रहे. संसदीय जीवन हो या उनकी कविताओं को सुनने के लिए लोग उतावले रहते थे.

अटल बिहारी वाजपेयी तीन बार प्रधानमंत्री रहे. अपने कार्यकाल में देश के राष्ट्रीय हितों को बहुत ऊंचाइयां प्रदान की. कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी अटल जी ने उदारवादी रवैया अपनाया. उनका सुशासन का सिद्धांत भी प्रसिद्ध है.

इसी वजह से वाजपेयी के सम्मान में ही हर साल 25 दिसंबर को सुशासन दिवस के रूप में मनाया जाता है. इस दिवस को मनाना का उद्देश्य भारतवासियों को सरकार की लोगों के प्रति जिम्मेदारियों के लिए जागरूकता फैलाना है.

25 दिसंबर 1924 को अटल बिहारी वाजपेयी का ग्वालियर में हुआ था जन्म
अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को, मध्य प्रदेश के ग्वालियर में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था. उनके पिता कृष्ण बिहारी वाजपोयी स्कूल में अध्यापक थे. उनकी शुरुआती शिक्षा ग्वालियर के सरस्वती शिशु मंदिर में और उसके बाद में उज्जैन के बारनगर के एंग्लोवर्नाकुलर मिडिल स्कूल में हुई थी.

ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज से उन्होंने हिंदी, संस्कृत और अंग्रेजी में बीए, और कानपुर के डीएवी कॉलेज से राजनीति शास्त्र में एमए की डिग्री हासिल की. 1939 में ही वे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े.

आजादी के बाद उन्हें पंडित दीन दयाल उपाध्याय और फिर श्यामा प्रसाद मुखर्जी जैसे नेताओं के साथ काम करने का मौक मिला. वे हमेशा ही अपने वाककौशल से अपने विरोधियों तक को प्रभावित करते रहे. वे संयुक्त राष्ट्र में हिंदी में भाषण देने वाले दुनिया के सबसे पहले व्यक्ति भी बने.

यह भी पढ़ें -  01 अक्टूबर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

अटल बिहारी वाजपेयी ने तीन बार प्रधानमंत्री पद की संभाली कमान
बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी तीन बार प्रधानमंत्री रहे. सबसे पहले 1996 में 13 दिन के लिए प्रधानमंत्री बने थे और उसके बाद 1998 में उन्होंने केंद्र में 13 महीनों की सरकार चलाई थी. 1999 में वह तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने और 2004 में एनडीए की हार तक इस पद पर बने रहे.

उनके कार्यकाल में भारत ने परमाणु परीक्षण कर यह क्षमता हासिल की थी. प्रधानमंत्री रहते हुए थे वाजपेयी ने पड़ोसी पाकिस्तान से भी अच्छे संबंध बनाए. बात 2004 की है. सब कुछ सही चल रहा था. केंद्र में राजग की सरकार थी. अटल जी प्रधानमंत्री थे. देश ही नहीं पूरे विश्व में अटल जी का डंका बज रहा था. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अटल जी की कूटनीति की बदौलत ही एक शानदार छवि बन चुकी थी.

अभी लोकसभा चुनाव का कार्यकाल पूरा होने में लगभग छह माह बचे हुए थे. उसी दौरान भाजपा के कुछ शीर्ष नेताओं ने अटल जी से कहा कि देश में इस समय ‘फील गुड फैक्टर’ है समय से पहले चुनाव करा लिया जाए. लेकिन अटल बिहारी वाजपेयी देश में समय से पहले चुनाव कराने के पक्षधर नहीं थे. जब भाजपा के नेताओं का अधिक दबाव उन पर पड़ा तो वह भी रोक नहीं सके.

यह भी पढ़ें -  फोन को प्लेन में क्यों रखा जाता है ‘फ्लाइट मोड’! जानिए इसके पीछे का कारण

2004 के चुनाव में राजग की अप्रत्याशित हार के बाद उभर नहीं पाए अटल जी
2004 के लोकसभा चुनाव में राजग ने मिलकर चुनाव लड़ा. लेकिन इन चुनावों में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. भाजपा के केंद्र में सरकार न बना पाने पर देशभर के राजनीतिक पंडित भी समझ नहीं सके थे.

केंद्र की सत्ता पर यूपीए सरकार काबिज हो गई. राजग के सत्ता न पाने पर मानो अटल जी को गहरा सदमा लग गया हो.

यह लोकसभा चुनाव अटल जी के लिए आखिरी चुनाव साबित हुए. धीरे धीरे अटल जी बीमारी के गिरफ्त में आते चले गए. आखिरकार अटल जी ने अपने आप को सक्रिय राजनीति से खुद को अलग कर लिया. देश और दुनिया में अपने भाषणों से लोकप्रिय हुए अटल जी अचानक ही नेपथ्य में चले गए.

बता दें कि कि 16 अगस्त 2018 को देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में शुमार रहे अटल बिहारी वाजपेयी जी का दिल्ली के एम्स में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था. अटल जी को उनके राजनीति के आदर्श-उसूल, भाषा शैली, उदारवादी नेता के रूप में हमेशा याद रखा जाएगा.

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,243FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

Ind Vs SA 2 T20I: टीम इंडिया ने दक्षिण अफ्रीका को 16 रन से...

0
रविवार टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका को गुवाहाटी में खेले गए दूसरे टी20 मैच में 16 रन से हराकर 3 मैचों की सीरीज में...

महाराष्ट्र: सीएम एकनाथ शिंदे को मिली जान से मारने की धमकी, आत्मघाती धमाके की...

0
महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की जान को बड़ा खतरा बताया जा रहा है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को आत्मघाती...

रामपुर तिराहा गोलीकांड: सीएम धामी ने शहीद राज्य आंदोलनकारियों को दी श्रद्धांजलि

0
रविवार को सीएम धामी ने शहीद स्थल रामपुर तिराहा मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश में उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलकारी शहीदों की पुण्य स्मृति में आयोजित कार्यक्रम में...

पार्टी की मौजूदा व्यवस्था में बदलाव नहीं ला सकते हैं मल्लिकार्जुन खड़गे: शशि थरूर

0
कांग्रेस के अध्यक्ष चुनाव से पहले शशि थरूर ने रविवार को बताया कि मल्लिकार्जुन खड़गे जैसे नेता पार्टी की मौजूदा व्यवस्था में बदलाव क्यों...

सपा के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव की स्थिति गंभीर, गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल...

0
समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव की स्थिति गंभीर हो गई है. सांस लेने में दिक्कत होने की वजह से उन्हें गुरुग्राम...

फोन को प्लेन में क्यों रखा जाता है ‘फ्लाइट मोड’! जानिए इसके पीछे का...

0
जब भी हम प्लाइट से ट्रेवल करते हैं तो यात्रा शुरू करने से पहले फ्लाइट अटेंडेंट की तरफ से कुछ दिशा-निर्देश दिए जाते हैं....

कुछ दिन पहले दिया था विवादित बयान: बिहार की नीतीश सरकार में कृषि मंत्री...

0
लगातार अपने बयानों से सुर्खियों में रहने वाले बिहार की नीतीश कुमार सरकार में कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे...

सिद्धू मोसेवाला हत्याकांड: लॉरेन्स गैंग का दीपक टीनू पुलिस हिरासत से फरार

0
पंजाब पुलिस की हिरासत से सिद्धू मोसेवाला हत्याकांड का एक शूटर और लॉरेन्स बिश्नोई गैंग का गैंगस्टर फरार हो गया है. पुलिस हिरासत से...

Road Safety World Series Final: सचिन तेंदुलकर की इंडिया लीजेंड्स ने दूसरी बार जीता...

0
इंडिया लीजेंड्स ने रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज 2022 के फाइनल मैच में श्रीलंका लीजेंड्स को 33 रनों से हराकर दूसरी बार खिताब पर कब्जा...

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 2.5 रही तीव्रता

0
उत्तरकाशी| उत्तराखंड स्थित उत्तरकाशी में जनपद मुख्यालय में रविवार सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए. भूकंप के झटकों के बाद लोग घरों के...
%d bloggers like this: