स्वस्थ जीना है तो गेहूं छोड़ो!

अमेरिका के एक हृदय रोग विशेषज्ञ हैं डॉ विलियम डेविस. 2011 में उन्होंने एक पुस्तक लिखी थी जिसका नाम था Wheat belly गेंहू की तौंद यह पुस्तक अब फूड हेबिट पर लिखी गई सर्वाधिक चर्चित पुस्तक बन गई है. पूरे अमेरिका में इन दिनों गेहूं को त्यागने का अभियान चल रहा है. कल यह अभियान यूरोप होते हुये भारत भी आएगा.यह पुस्तक ऑनलाइन भी उपलब्ध है और कोई फ़्री में पढ़ना चाहे तो भी मिल सकती है.

चौंकाने वाली बात यह है कि डॉ डेविस का कहना है कि पूरी दुनिया को अगर मोटापे, डायबिटिज और हृदय रोगों से स्थाई मुक्ति चाहिए तो उन्हें पुराने भारतीयों की तरह मक्का, बाजरा, जौ, चना, ज्वार या इन सबका मिक्स (सामेल) अनाज ही खाना चाहिये गेंहू नहीं. जबकि यहां भारत का हाल यह है कि 1980 के बाद से लगातार सुबह शाम गेहूं खा खाकर हम मोटापे और डायबिटिज के मामले में दुनिया की राजधानी बन चुके हैं.

गेहूं मूलतः भारत की फसल नहीं है. यह मध्य एशिया और अमेरिका की फसल मानी जाती है. आक्रांता बाबर के भारत आने के साथ यह अनाज भारत आया था.उससे पहले भारत में जौ की रोटी बहुत लोकप्रिय थी. मौसम अनुसार मक्का, बाजरा, ज्वार आदि.भारतीयों के #मांगलिककार्यों में भी यज्ञवेदी या मन्दिरों में जौ अथवा चावल (अक्षत) ही चढ़ाए जाते रहे हैं. #प्राचीनग्रंथों में भी इन्हीं दोनों अनाजों का अधिकतम जगहों पर उल्लेख है.

ब्रह्मपुरी (जयपुर) निवासी प्रशासनिक अधिकारी की बेटी रही विजयकांता भट्ट (81 वर्षीय) अम्मा जी कहती हैं कि 1980-85 तक भी आम भारतीय घरों में #बेजड़ (मिक्स अनाज) की रोटी या जौ की रोटी का प्रचलन था जो धीरे धीरे खत्म हो गया. 1980 के पहले आम तौर पर घरों में मेहमान आने या दामाद के आने पर ही गेहूं की रोटी बनती थी और उस पर घी लगाया जाता था, अन्यथा जौ ही मुख्य अनाज था. आज घरवाले उसी बेजड़ की रोटी को चोखी धाणी में खाकर हजारों रुपए खर्च कर देते हैं.

हम अक्सर अपने ही परिवारों में बुजुर्गों के लम्बी दूरी पैदल चल सकने, तैरने, दौड़ने, सुदीर्घ जीने, स्वस्थ रहने के किस्से सुनते हैं. वे सब #मोटा_अनाज ही खाते थे, गेहूं नहीं. एक पीढ़ी पहले किसी का मोटा होना आश्चर्य की बात होती थी, आज 77 प्रतिशत भारतीय ओवरवेट हैं और यह तब है जब इतने ही प्रतिशत भारतीय कुपोषित भी हैं.फ़िर भी 35 पार का हर दूसरा भारतीय अपनी तोंद घटाना चाहता है.

गेंहू की लोच ही उसे आधुनिक भारत में लोकप्रिय बनाये हुये है क्योंकि इसकी रोटी कम समय और कम आग में आसानी से बन जाती है. पर यह अनाज उतनी #आसानीसेपचता_नहीं है. समय आ गया है कि भारतीयों को अपनी रसोई में 80-90 प्रतिशत अनाज जौ, ज्वार, बाजरे आदि को रखना चाहिये और 10-20 प्रतिशत गेंहू को.

हाल ही में कोरोना ने जिन एक लाख लोगों को भारत में लीला है उनमें से डायबिटीज वाले लोगों का प्रतिशत 70 के करीब है. #वाकईगेहूंत्यागनाहीपड़ेगा.

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,248FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

फ्रांस की लेखिका एनी एर्नेक्स को मिलेगा इस साल का लिटरेचर के लिए नोबेल...

0
पहले चिकित्सा फिर भौतिक उसके बाद केमिस्ट्री के लिए नोबेल पुरस्कार के नामों का एलान किया जा चुका है. ‌ आज इसी कड़ी में...

वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रैन की रफ्तार पर भैसों ने लगाई ब्रेक, अगला हिस्सा हुआ...

0
वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन गुरुवार को हादसे का शिकार होने से बच गई. मुंबई सेंट्रल से गांधीनगर के बीच चलने वाली यह ट्रेन गुरुवार...

अंबानी परिवार को फोन पर धमकी देने वाला युवक दरभंगा से गिरफ्तार

0
अंबानी परिवार को फोन पर धमकी दिए जाने के मामले में मुंबई पुलिस ने बिहार के दरभंगा से एक व्यक्ति को हिरासत में लिया...

यूपी के उपमुख्यमंत्री ने राजभर को बताया ‘सच्चा दोस्त’, दूरियां हो रही कम

0
लखनऊ| सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर और उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा के बीच दूरियां कम होती हुई नजर...

बिहार सियासत से बड़ी खबर, राजद प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे सकते...

0
पटना| इस समय बिहार की सियासत से बड़ी खबर है कि राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं....

थाईलैंड: बच्चों के देखभाल केंद्र में सामूहिक गोलीबारी, 31 लोगों की मौत

0
हाल फिलहाल दुनिया भर के कई देशों में के दिनों में गोलबारी की घटनाओं में वृद्धि देखी जा रही है. अमेरिका में ऐसे कई...

भारत जोड़ो यात्रा का 29वां दिन: राहुल को मां सोनिया गांधी का मिला साथ,...

0
पिछले महीने कांग्रेस ने 7 सितंबर से कन्याकुमारी से कश्मीर तक 'भारत जोड़ो यात्रा' शुरुआत की थी. इस यात्रा का नेतृत्व अभी तक केरल...

राशिफल 06-10-2022: क्या कहते है आप के आज के सितारे, जानिए

0
मेष- मन अशान्त रहेगा. नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा. स्थान परिवर्तन की सम्भावना बन रही है. अतिउत्साही होने से बचें. पिता के स्वास्थ्‍य...

06 अक्टूबर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 06 अक्टूबर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

लालकुआं: बाइक व पिकअप की भिड़ंत में भाई बहन की दर्दनाक मौत

0
बुधवार को नैनीताल जिले की लालकुआं तहसील के हल्दूचौड़ में बड़ा हादसा हो गया. यहां बाइक व पिकअप की भिड़ंत में भाई बहन की...
%d bloggers like this: