एनआईए की चार्ज शीट में बड़ा खुलासा- सेना में सिख जवानों को उकसा रहा एसएफजे

नई दिल्ली| राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने अमेरिका स्थित अलगाववादी संगठन ‘सिख फॉर जस्टिस’ को लेकर बड़ा खुलासा किया है. जांच एजेंसी की ओर से दायर आरोपपत्र में कहा गया है कि एसएफजे ने अपने खालिस्तानी एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए ‘सोची समझी साजिश’ की है और वह भारत के खिलाफ विद्रोह के लिए सेना में काम करने वाले सिख जवानों को उकसाने की कोशिश कर रहा है. यही नहीं, वह कश्मीरी युवकों को भी कट्टरता की तरफ ढेकल रहा है.

एनआईए की चार्जशीट में 16 लोगों के नाम
रिपोर्टों के मुताबिक एनआईए ने अपनी चार्जशीट में एसएफजे के लीडर गुरपतवंत सिंह पन्नून, खालिस्तान टाइगर फोर्स के प्रमुख हरदीप सिंह निज्जर एवं बब्बर खालसा इंटरनेशनल के प्रमुख परमजीत सिंह उर्फ पम्मा सहित 16 लोगों को आरोपी बनाया है. जांच एजेंसी का कहना है कि एसएफजे कश्मीरी युवकों को भी कट्टरता की तरफ ढकेलने की कोशिश करने के साथ साथ कश्मीर को भारत से अलग करने के लिए अपना समर्थन दे रहा है.

किसान आंदोलन का गलत इस्तेमाल कर सकता है एसएफजे
जांच एजेंसी ने यह चार्जशीट ऐसे समय फाइल की है जब देश में नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन कर रहे हैं. ऐसी आशंका जताई जा रही है कि पाकिस्तान के बाहर से संचालित हो रहे एसएफजे एवं अन्य खालिस्तानी संगठन विभाजन के अपने एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए किसान आंदोलन से उपजे आक्रोश का गलत इस्तेमाल कर सकते हैं. बता दें कि पन्नून, निज्जर और परमजीत ‘पम्मा’ को गत जुलाई में गैर-कानूनी गतिविधियां रोधक कानून (यूएपीए) के तहत पहले ही ‘आतंकवादी’ घोषित किया जा चुका है.

भारत के खिलाफ सोशल मीडिया मंचों का कर रहा इस्तेमाल
पन्नून न्यूयॉर्क में, निज्जर कनाडा और ‘पम्मा’ ब्रिटेन में रहता है. यूएपीए के तहत एसएफजे को ‘गैर-कानूनी संस्था’ के रूप में प्रतिबंधित किया गया है. एनआईए ने इस संस्था को ‘खालिस्तानी आतंकवादी संगठन का एक प्रमुख संगठन’ बताया है. एनआईए के सूत्रों का कहना है कि एसफजे फेसबुक, ट्विटर, वाट्सएप एवं यूट्यूब जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों पर भारत के खिलाफ अभियान चलाता रहा है. उसने अपने ‘रेफरंडम 2020’ एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए भारतीय मोबाइल नंबर्स का इस्तेमाल किया है.

अलग-अलग देशों में हैं इनके कार्यालय
‘रेफरेंडम 2020’ केस में एनआईए ने बुधवार को अपनी चार्जशीट विशेष अदालत में दायर की. इसमें एसएफजे के सदस्यों और सहित विदेश स्थित 16 लोगों के नाम हैं. एनआईए ने अपनी जांच में पाया है कि अलगाववादी गुट एसएफजे का गठन ‘मानवाधिकार के लिए काम करने वाले समूह’ की आड़ में हुआ और इसके कार्यालय अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में हैं. जबकि इसका प्रमुख आतंकवादी संगठन खालिस्तान पाकिस्तान से संचालित हो रहा है.

Related Articles

Latest Articles

आज मंत्री आतिशी का राजधानी के जल संकट पर अनशन, आप ने इंडिया गठबंधन...

0
दिल्ली की जल मंत्री आतिशी शुक्रवार को हरियाणा से अतिरिक्त पानी की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठने जा रही हैं। आम आदमी...

मोदी का कश्मीर दौरा: परंपरागत पहनावे में प्रधानमंत्री, श्रीनगर में असमिया गमछा संग दिखे...

0
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को योग दिवस के मुख्य समारोह में असमिया गमछा पहनकर एक बार फिर राष्ट्रीय एकता और समृद्धि का...

सीएम धामी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आदि कैलाश में किया योग, बोले योग...

0
पिथौरागढ़| शुक्रवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आदि कैलाश में योगा किया. सीएम धामी ने स्थानीय लोगों और पर्यटकों...

तमिलनाडु: मिलावटी शराब पीने से मरने वालों की संख्या 47 हुई, 15 दिन की...

0
तमिलनाडु में मिलावटी शराब पीने से मरने वालों की संख्या 47 हो गई है. इसी के साथ मिलावटी शराब का ये मुद्दा अब राजनीतिक...

उत्तराखंड: अब मानसून सीजन में नहीं होगी परेशानी, आपदा राहत बचाव कार्यों में लगेंगे...

0
उत्तराखंड में मानसून के सीजन में आपदा से प्रभावित क्षेत्रों में सहायता पहुंचाने के लिए तीन हेलीकॉप्टरों का इस्तेमाल किया जाएगा। यह निर्णय उत्तराखंड...

बीजेपी एक बार फिर पंकजा मुंडे पर कर सकती है भरोसा, राज्यसभा भेजने पर...

0
देश के साथ-साथ महाराष्ट्र की राजनीति भी इस समय चरम पर है. इस सियासत के बीच बीड लोकसभा चुनाव में हार का सामना करने...

दिल्ली: केजरीवाल को हाईकोर्ट से झटका, सुनवाई पूरी होने तक जमानत पर लगी रोक

0
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जमानत देने के ट्रायल कोर्ट के आदेश के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा...

उत्तराखंड में आज भी बरसेंगे मेघा, मौसम को देख हैरान लोगों का है ये...

0
आज उत्तराखंड के पांच जिलों में झोंकेदार हवाओं के साथ आंधी और तेज बारिश की संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र ने उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली,...

अरविंद केजरीवाल को झटका, हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी होने तक जमानत पर रोक

0
दिल्ली शराब नीति से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गुरुवार को निचली अदालत द्वारा सीएम अरविंद केजरीवाल को मिली जमानत पर दिल्ली हाई...

देवभूमि में ऋषिकेश से हरिद्वार तक हर्ष से मनाया गया योग उत्सव

0
आज उत्तराखंड के देवभूमि में केदारनाथ से लेकर हरिद्वार और योग नगरी ऋषिकेश तक योग की महत्ता का उल्लासपूर्ण प्रदर्शन हुआ। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह...