डब्लूएचओ ने कहा- दुनिया के किसी देश में फिलहाल हर्ड इम्यूनिटी नहीं, सिर्फ वैक्सीन से उम्मीद बाकी


लंदन|……विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंगलवार को कहा कि फिलहाल दुनिया के किसी देश में भी कोरोना संक्रमण के खिलाफ हर्ड इम्यूनिटी उत्पन्न नहीं हुई है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने उन देशों के दावे को सिरे से खारिज कर दिया जो कि कोरोना के घटते मामलों के मद्देनज़र अपने यहां लोगों में हर्ड इम्यूनिटी (सामूहिक रोग प्रतिरोधक क्षमता) पैदा होने का दावा कर रहे थे. संगठन से स्पष्ट कर दिया कि हालत अब भी बुरे हैं और कोई भी देश ऐसा नहीं, जहां हर्ड इम्यूनिटी उत्पन्न होने जैसी स्थिति नज़र आई हो. इसके आलावा विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि 20 से लेकर 40 साल के युवा कोरोना का संक्रमण दुनिया भर में फैला रहे हैं, उन्हें सतर्कता बरतने की जरूरत है.

डब्लूएचओ के मुताबिक, सिर्फ अकेले अमेरिका में कोरोना संक्रमण के मामले एक करोड़ 15 लाख तक पहुंचने की आंशका है और इतना ही नहीं इस दौरान चार लाख लोगों की मौत की आशंका भी है. बता दें कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के कुछ वैज्ञानिकों ने दावा किया था कि ब्रिटेन में लोगों के बीच हर्ड इम्यूनिटी विकसित हो रही है. पहले ऑक्सफोर्ड की स्टडी में दावा किया गया था कि ब्रिटेन के लोगों में आम सर्दी-जुकाम जैसे मौसमी संक्रमण की वजह से पहले ही सामूहिक तौर पर हर्ड इम्यूनिटी का स्तर इतना है कि वे घातक कोरोना वायरस के फिर से पनपने पर उसका सामना कर सकते हैं.

हालांकि डब्लूएचओ ने कहा कि हर्ड इम्यूनिटी विशेष तौर पर वैक्सीनेशन के माध्यम से हासिल की जाती है. अधिकतर वैज्ञानिकों का मानना है कि वायरस के प्रसार को रोकने के लिए कम से कम 70 प्रतिशत आबादी में घातक वायरस को शिकस्त देने वाली एंटीबॉडीज होनी चाहिए. लेकिन, कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि अगर आधी आबादी में भी कोरोना वायरस से लड़ने वाली रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) हो तो एक रक्षात्मक प्रभाव उत्पन्न हो सकता है.हर्ड इम्यूनिटी नहीं अब सिर्फ वैक्सीन का सहारा डब्लूएचओ के आपातकालीन मामलों के प्रमुख डॉक्टर माइकल रेयान ने मंगलवार को एक संवाददाता सम्मेलन में इस सिद्धांत को खारिज करते हुए कहा कि हमें हर्ड इम्यूनिटी हासिल करने की उम्मीद में नहीं रहना चाहिए. उन्होंने कहा कि वैश्विक आबादी के रूप में, अभी हम उस स्थिति के कहीं आसपास भी नहीं हैं जो वायरस के प्रसार को रोकने के लिए जरूरी है.

उन्होंने आगे कहा कि हर्ड इम्यूनिटी कोई समाधान नहीं है और न ही यह ऐसा कोई समाधान है जिसकी तरफ हमें देखना चाहिए. आज तक हुए अधिकतर अध्ययनों में यही बात सामने आई है कि केवल 10 से 20 प्रतिशत आबादी में ही संबंधित एंटीबॉडीज हैं, जो लोगों को हर्ड इम्यूनिटी पैदा करने में सहायक हो सकते हैं. लेकिन, इतनी कम एंटीबॉडीज की दर से हर्ड इम्यूनिटी को नहीं पाया जा सकता. डब्ल्यूएचओ महानिदेशक के वरिष्ठ सलाहकार डॉ. ब्रूस एलवार्ड ने कहा कि किसी कोरोना वायरस वैक्सीन के साथ व्यापक वैक्सीनेशन का उद्देश्य विश्व की 50 प्रतिशत से काफी अधिक आबादी को इसके दायरे में लाने का होगा.

हर्ड इम्यूनिटी का सामान्य भाषा में मतलब है कि अगर कोई संक्रामक बीमारी फैली है तो उसके खिलाफ आबादी के निश्चित हिस्से में बीमारी के प्रति इम्यूनिटी पैदा हो जाए. इस तरह संक्रामक रोगों का फैलना रुकता है, क्योंकि काफी लोग इसके प्रति इम्यून हो चुके होते हैं. इम्यून हुए लोग वे हैं जो कि संक्रमित होने के बाद ठीक हो गए और उनके शरीर में एक निश्चित मात्रा में रोग से लड़ने के लिए एंटीबॉडी मौजूद हैं. इससे कम्युनिटी ट्रांसमिशन की चेन टूट जाती है.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,251FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

बड़ी खबर: उत्तराखंड में हर साल बढ़ेगा यात्री किराया और मालभाड़ा, एसटीए की बैठक...

0
देहरादून| प्रदेश में अब हर साल एक अप्रैल को यात्री किराया और मालभाड़ा बढ़ जाएगा. राज्य परिवहन प्राधिकरण (एसटीए) की बैठक में इसे सैद्धांतिक...

ऋचा चड्ढा को सपोर्ट करना ब्यूटी ब्रांड मामाअर्थ को पड़ा भारी, बॉयकॉट के बाद...

0
भारतीय सेना पर बॉलीवुड एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा की टिप्पणी के समर्थन में उतरा ब्यूटी प्रोडक्ट कंपनी मामाअर्थ (Mamaearth) अब लोगों के निशाने पर...

GATE Jam 2023: गेट जैम परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्रों की सूची हुई अपडेट,...

0
आईआईटी की ओर से फरवरी में आयोजित की जाने वाली आईआईटी गेट जैम परीक्षा के लिए परीक्षा केंद्रों की सूची अपडेट की गई है....

अंतरिक्ष में ISRO की एक और उड़ान, श्रीहरि कोटा से 8 नैनो सैटेलाइट समेत...

0
ISRO ने एकर बार फिर इतिहास रचा। बता दें, श्रीहरि कोटा से ओशनसैट-3 समेत 8 नैनो सैटेलाइट को लॉन्च किया गया है। इसी के...

UP News: लोहा गलाने की भट्टी में गिरने से मैनेजर की मौत

0
उत्तरप्रदेश में स्थित हापुड़ जिले से एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। जहां लोहा गलाने वाली फैक्ट्री की भट्टी में गिरने से...

दिल्ली: सत्येंद्र जैन को कोर्ट से लगा बड़ा झटका, नहीं मिलेगा धार्मिक मान्यताओं के...

0
मनी लॉन्ड्रिंग केस में जेल के अंदर दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन को दिल्ली की एक कोर्ट ने झटका मिला है. राउज एवेन्यू...

रहस्यों से भरा है हैदराबाद का गोलकोंडा किला, जानें इसकी अनोखी खूबियों के बारे...

0
प्राचीन काल से ही भारत किलों और स्मारकों का देश माना जाता है, ऐसा इसलिए क्योंकि हमारे देश में अंग्रेजों से पहले अलग-अलग इलाकों...

फिल्म इंडस्ट्री के जाने माने अभिनेता विक्रम गोखले का निधन, 77 साल की उम्र...

0
सिनेमा जगत से एक दुखद खबर सामने आई है. टेलीविजन और फिल्म इंडस्ट्री के जाने माने अभिनेता विक्रम गोखले का निधन हो गया है....

रामेश्वरम: मछुआरों ने लगाया श्रीलंकाई सेना पर हमले का आरोप, जैसे तैसे बचायी जान

0
रामेश्वरम के भारतीय मछुआरों ने श्रीलंकाई नौसेना पर आरोप लगाते हुए कहा की, आज श्रीलंकाई नौसेना ने तड़के उनकी नाव पर हमला किया। आरोप...

पेटीएम को लगा तगड़ा झटका! आरबीआई ने खारिज किया पेमेंट एग्रीगेटर लाइसेंस का आवेदन

0
भारतीय रिजर्व बैंक ने पेटीएम पेमेंट सर्विस (पीएसएसएल) द्वारा पेमेंट एग्रीगेटर लाइसेंस प्राप्त करने के लिए किए आवेदन को खारिज कर दिया है. इसे...
%d bloggers like this: