मस्तिष्क से जुड़ी एक ऐसी बीमारी जो ‘याददाश्त’ को कमजोर करती है, बुजुर्ग सबसे ज्यादा प्रभावित

आज एक ऐसी बीमारी के बारे में बात करेंगे जो बढ़ती आयु के साथ बुजुर्गों को अपनी चपेट में ले लेती है. ‌यह है ‘भूलने’ की बीमारी. यानी याददाश्त कमजोर हो जाना. इसे मेडिकल की भाषा में ‘अल्जाइमर’ कहते हैं. हर साल 21 सितंबर को ‘विश्व अल्जाइमर डे’ मनाया जाता है.

यह एक मानसिक बीमारी है जिससे न सिर्फ मरीज की याददाश्त कमजोर हो जाती है बल्कि उसके दिमाग पर भी इसका असर पड़ता है और रोजमर्रा के कार्यों को करने में भी परेशानी महसूस होती है. मस्तिष्क में प्रोटीन की संरचना में गड़बड़ी होने के कारण इस बीमारी का खतरा बढ़ जाता है.

जिसमें व्यक्ति धीरे-धीरे अपनी याददाश्त खोने लगता है. इस बीमारी में व्यक्ति छोटी से छोटी बात को भी याद नहीं रख पाता . भारत अल्जाइमर रोग के मामले में दुनिया भर में तीसरे नंबर पर है. यह एक ऐसी बीमारी है जिसका स्थायी इलाज नहीं है.

दवाइयों और व्यायाम से मरीज की भूलने की शक्ति को कम किया जा सकता है. जब तक मरीज जिंदा रहता है तब तक उन्हें दवाइयां व व्यायाम करना पड़ता है. इससे मरीज करीब 20 से 25 साल आसानी से जी सकता है. अल्जाइमर के मरीजों को दवाई के साथ-साथ थेरपी भी दी जाती है लेकिन उनकी देखभाल बेहद जरूरी होती है.

यह भी पढ़ें -  26 सितम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

अब युवाओं में भी इस बीमारी को देखा गया है. इस दिवस को मनाने का उद्देश्य दुनिया में अल्जाइमर को लेकर जागरूकता बढ़ाना है. अल्जाइमर में दिमाग में होने वाली नर्व सेल्स के बीच होने वाला कनेक्शन कमजोर हो जाता है. धीरे-धीरे यह रोग दिमाग के विकार का रूप लेता है और याददाश्त को खत्म करता है.

व्यक्ति सोचना भी बंद कर देता है और रोजाना के कामकाज करने में भी कठिनाई आने लगती है. अल्जाइमर मुख्य रूप से ‘डिमेंशिया’ का ही एक रूप है. इससे पीड़ित लोगों को भूलने की आदत हो जाती है. इस वजह से वे 1-2 मिनट पहले हुई बात को भी भूल जाते हैं.

यह भी पढ़ें -  कल से शारदीय नवरात्र, इस बार नवरात्रि में बन रहे कई शुभ योग-9 दिनों तक की जाती है मां दुर्गा के स्वरूपों की उपासना

डॉक्टरों की मानें तो पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अल्जाइमर बीमारी का खतरा अधिक रहता है. डॉक्टरों के पास अल्जाइमर के इलाज के लिए आने वाले हर 10 मरीज में से 6 महिलाएं होती हैं.

अल्जाइमर से लोगों को होने वाली परेशानी, कारण और बचाव इस प्रकार हैं
बता दें कि अल्जाइमर मरीजों को लोगों को पहचानने और काम करने में परेशानी होती है. सोचने की शक्ति कम होना, चीजों को सुलझा न पाना, भूल जाना, आंखों की रोशनी कमजोर होना, मूड स्विंग्‍स, डिप्रेशन, थकान और कमजोरी का होना है.

इस बीमारी के यह हैं कारण, हाई ब्‍लड प्रेशर, डायबिटीज, स्‍मोकिंग, कोलेस्‍ट्रॉल, हाइपरकोलेस्‍ट्रोलेमिया सिर पर चोट लगना, दुर्घटना होना, अनुवांशिक कारण आदि हैं. अल्जाइमर से बचाव के यह कारण हैं. मेंटल गेम खेलना, हेल्‍दी डाइट, एक्‍सरसाइज और योग, लोगों से बात करना, तनाव कम करना, म्‍यूजिक सुनना, परिवार के साथ वक्‍त बिताना और समय-समय पर डॉक्टर से परामर्श लेते रहना.

यह भी पढ़ें -  राशिफल 27-09-2022: आज वृश्चिक को कारोबार में मिलेंगे लाभ के अवसर, जानिए अन्य का हाल

इस भूलने की बीमारी पर नियंत्रण पाने के लिए जरूरी है कि शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने के साथ ही मानसिक रूप से अपने को स्वस्थ रखें. नकारात्मक विचारों को मन पर प्रभावी न होने दें और सकारात्मक विचारों से मन को प्रसन्न बनाएं. बता दें कि अल्‍जाइमर का इलाज पहली बार 1901 में एक जर्मन महिला का किया गया था.

इस बीमारी का इलाज जर्मन मनोचिकित्‍सक डॉ. अलोइस अल्‍जाइमर ने किया था. उन्‍हीं के नाम पर इस बीमारी का नाम रखा गया था. जब अल्‍जाइमर डिजीज ने 21 सितंबर 1994 को अपनी 10वीं एनिवर्सरी सेलिब्रेट की तब इस डे को विश्‍व स्‍तर पर हर साल मनाने की घोषणा की गई. तभी से हर देश में कई जागरूकता अभियान और आयोजन आयोजित किए जाते हैं. वर्ल्‍ड अल्‍जाइमर डे को साल 2012 से हर वर्ष विश्‍वस्‍तर पर मनाया जा रहा है.

Related Articles

Advertisement

Advertisement

Stay Connected

58,944FansLike
3,243FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 27-09-2022: आज वृश्चिक को कारोबार में मिलेंगे लाभ के अवसर, जानिए अन्य...

0
मेष-: मन परेशान हो सकता है. मानसिक शान्ति बनाये रखने के लिए प्रयास करें. परिवार के स्वास्थ्य का ध्यान रखें. पिता का साथ...

27 सितम्बर 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 27 सितम्बर 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

शारदीय नवरात्रि का दूसरा दिन: ऐसे करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा, जानें विधि और...

0
26 सितम्बर 2022 से चैत्र नवरात्रि की शुरुआत हो गई है. नवरात्रि के दौरान मां के 9 रूपों की पूजा- अर्चना की जाती है....

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने ‘समूह ग’ की 23 परीक्षाओं के लिए अतिरिक्त परीक्षा...

0
उत्तराखंड में बेरोजगार युवाओं के लिए अच्छी खबर है. उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की ओर से सोमवार को 'समूह ग' 23 परीक्षाओं के लिए...

सीएम धामी ने दिए मानसखण्ड कॉरिडोर के काम में तेजी लाने के निर्देश

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में लोक निर्माण विभाग, एनएच और बीआरओ के प्रदेश में निर्माणाधीन और प्रस्तावित कार्यों की समीक्षा की. मुख्यमंत्री...

सीएम धामी का सख्त फैसला: उत्तराखंड में होटल, रिजॉर्ट और होमस्टे में अब नहीं...

0
उत्तराखंड की बेटी अंकिता भंडारी की हत्या के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी एक्टिव मोड में है. वहीं दूसरी ओर अंकिता भंडारी मर्डर केस...

मध्य रूस के एक स्कूल में जबरदस्त गोलीबारी, 13 लोगों की मौत-कई घायल

0
सोमवार को मध्य रूस के एक स्कूल में जबरदस्त गोलीबारी हुई, जिसमें कई छात्र घायल हुए. वहीं जिस शख्स ने फायरिंग की उसने खुद...

नंदा गौरा योजना की 80 हजार लाभार्थी बालिकाओं को सीएम धामी ने हस्तांतरित की...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्य सेवक सदन, मुख्यमंत्री आवास, देहरादून में महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में...

अशोक गहलोत के कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने पर भी खड़ा हुआ संकट

0
फिलहाल जैसे राजस्थान में सियासी माहौल बयां कर रहे हैं उससे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने का भी संकट...

राजस्थान कांग्रेस में घमासान, अध्यक्ष पद के चुनाव से पहले गहलोत-पायलट के गुट ने...

0
राजनीति के मैदान में भी उलटफेर होना आम हो चला है. अब पार्टी के विधायक या सांसद क्या अच्छा है, क्या बुरा, स्वयं फैसला...
%d bloggers like this: