चमोली: दुर्मीताल में खुदाई के दौरान मिली ब्रिटिश कालीन नाव

चमोली| उत्तराखंड ऐतिहासिक धरोहरों का खजाना है. आध्यात्म के साथ-साथ इतिहास में रुचि रखने वाले लोगों के यहां बहुत कुछ है. इतिहास का ऐसा ही एक खजाना चमोली जिले के दुर्मीताल में मिला है, जिसे देख लोग हैरान हैं. यहां दुर्मीताल में खुदाई के दौरान करीब 50 साल पुरानी नाव मिली है.

कुछ लोग इसे ब्रिटिश काल की नाव भी कह रहे हैं. बताया जा रहा है कि जिस क्षेत्र में नाव मिली है, वो जगह ब्रिटिश काल में नौकायन के लिए मशहूर थी. स्थानीय ग्रामीण प्रशासन से दुर्मीताल के पुनर्निर्माण की मांग कर रहे हैं. यहां नाव मिलने की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है. दुर्मीताल चमोली जिले की निजमूला घाटी में स्थित है.

बताया जाता है कि अंग्रेजी शासनकाल के दौरान निजमूला घाटी के तकरीबन पांच किमी क्षेत्र में दुर्मीताल फैला हुआ था. ब्रिटिश हुकूमत के दौरान इस जगह की शान देखने लायक होती थी. बताया जाता है कि उस दौरान यहां अंग्रेज अफसर नौकायन का लुत्फ उठाने आते थे. आजादी के बाद भी ये ताल घाटी के एक दर्जन से ज्यादा गांवों के लिए रोजगार का प्रमुख जरिया बना रहा.

यह भी पढ़ें -  29 जून 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

यहां बड़ी तादाद में पर्यटक आते थे, लेकिन साल 1971 में आई आपदा में दुर्मीताल बाढ़ की भेंट चढ़ गया. उस दौरान यहां रखीं ज्यादातर नावें बाढ़ की भेंट चढ़ गईं, कुछ मलबे में दब गई थीं. जिससे घाटी की ग्रामीणों का रोजगार छिन गया.

काम की तलाश में ग्रामीण पलायन करने लगे. पलायन रोकने के लिए यहां के ग्रामीण लंबे अर्से से दुर्मीताल के पुनर्निर्माण की मांग कर रहे थे, लेकिन ना तो सरकार ने इस तरफ ध्यान दिया और ना ही संबंधित विभागों ने. सरकारी स्तर पर कोई सुनवाई नहीं हुई तो ग्रामीणों ने खुद ही दुर्मीताल की हालत सुधारने का बीड़ा उठा लिया. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर घाटी के एक दर्जन से ज्यादा गांवों के लोग दुर्मीताल में इकट्ठे हुए और ताल के पुनर्निर्माण का संकल्प लिया.

दुर्मीताल में जोर-शोर से खुदाई शुरू हुई. खास बात ये रही कि पहले ही दिन खुदाई में यहां मलबे से ब्रिटिश काल की नाव निकल आई. जैसे ही ये खबर क्षेत्र में फैली नाव देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी. ईराणी गांव के प्रधान मोहन सिंह नेगी बताते हैं कि दुर्मीताल में अंग्रेजों की कई नावें थीं, जिन्हें रखने के लिए यहां एक किश्ती घर भी बनाया गया था. लेकिन 1971 में आई बाढ़ में किश्ती घर बह गया.

यह भी पढ़ें -  ​​​​​​​अब एक्सप्रेस वे पर टोल टैक्स से मिलेगा छुटकारा: सरकार ला रही है नया कॉन्सेप्ट

यहां रखीं ज्यादातर नावें बाढ़ की भेंट चढ़ गईं, कुछ मलबे में दब गई थीं. अब दुर्मीताल को दोबारा सजाने-संवारने के लिए स्थानीय ग्रामीण खुद आगे आए हैं. यहां ईरानी, पाणा, झींझी, पगना, दुर्मी, गौना, निजमूला, थोलि और ब्यारा समेत कई गांवों के ग्रामीण दुर्मीताल को संवारने में जुटे हैं, ताकि दुर्मीताल को उसका खोया हुआ रुतबा वापस मिल सके.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,230FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

30 जून 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 30 जून 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

महाराष्ट्र: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने पद से दिया इस्तीफा

0
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के बाद आदेश दिया था...

सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला, महाराष्ट्र में कल ही होगा फ्लोर टेस्ट

0
बुधवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के फ्लोर टेस्ट कराने के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है. सुप्रीम...

केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मिले प्रेमचंद अग्रवाल, जीएसटी क्षतिपूर्ति की अवधि...

0
केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में चंडीगढ़ में 47वीं जीएसटी कॉउंसिल की दो दिवसीय बैठक आयोजित हुई. इस बैठक में उत्तराखंड के...

महाराष्ट्र सियासी संकट: राज्यपाल ने दिए फ्लोर टेस्ट के आदेश, अब सुप्रीम कोर्ट के...

0
महाराष्ट्र में जारी सियासी संकट के बीच आज बहुत ही अहम दिन है. भाजपा के फ्लोर टेस्ट कराने की मांग पर शिवसेना ने सुप्रीम...

राष्ट्रपति चुनाव के बाद उपराष्ट्रपति चुनाव का भी बजा बिगुल, चुनाव आयोग ने किया...

0
देश में राष्ट्रपति चुनाव के बाद अब उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए भी बिगुल बज चुका है. चुनाव आयोग ने बुधवार को उपराष्ट्रपति चुवाव के...

देहरादून: मुख्य सचिव ने की केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों की समीक्षा, अधिकारियों को दिए ये...

0
बुधवार को मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने सचिवालय में केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों की समीक्षा की. मुख्य सचिव ने अधिकारियों को निर्देश दिए...

उत्तराखंड: सोनप्रयाग में बड़ा हादसा, भारी बारिश की वजह से वाहन पर गिरा बोल्डर-एक...

0
उत्तराखंड के सोनप्रयाग में बुधवार को बड़ा हादसा हो गया. भारी बारिश की वजह से बोल्डर और मलबा एक वाहन पर गिर गया. हादसे...

सीएम धामी ने की आपदा प्रबंधन की समीक्षा, अधिकारियों को दिए ये निर्देश

0
बुधवार को सीएम धामी ने सचिवालय में आपदा प्रबंधन की समीक्षा करते हुए कहा कि रेस्पोंस टाईम कम से कम होना चाहिए. आपदा की...

टीम इंडिया को लगा बड़ा झटका, इंग्लैंड के साथ पांचवा टेस्ट नहीं खेलेंगे रोहित...

0
इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट से पहले टीम इंडिया को बड़ा झटका लगा है. सूत्रों के मुताबिक, कोरोना से उबरने में जुटे रोहित शर्मा...
%d bloggers like this: